समर्थक

Friday, January 08, 2010

“निःसंदेह दम तोड़ देगी हमारी गरिमा.....” (चर्चा मंच)

"चर्चा मंच" अंक-23

चर्चाकारः डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"

प्रविष्टियों के शीर्षक और चित्रों के साथ

आज का "चर्चा मंच" सजाते हैं-

निःसंदेह दम तोड़ देगी हमारी गरिमा.....

(फैशन का भौंडा प्रदर्शन)

अब मैं अनुपस्थित इच्छाओं की एक चमकीली राख हूँ
(खाक में तो मिल ही जाना है?)

स्वामी भविष्यवक्ता नन्द महराज का प्रादुर्भाव हुआ

(कब तक बनाओगे….)

कौआ
(कुछ ज्ञान ले लो भाई….)

हाथ सेक रहे हैं चिताओं पर !!!
(सरदी के मौसम में ठीक ही तो कर रहे हैं)
शिल्पकार

कुछ और वालपेपर .......

(इक बंगला बने न्यारा…..)

खादी की बंदूकें -
(खाकी की देन)
खुल्ला खेल फ़र्रुखाबादी (164) : आयोजक उडनतश्तरी
(ज्ञान बढ़ाने की आजादी)
तिथि और समय के साथ भूकम्‍प की भविष्‍यवाणी करता मेरा एक और तुक्‍का भी सही निकला .. भूकम्‍प क्षेत्र निर्धारण में मात्र 12 डिग्री की खामी हुई !!

मेरा फोटो(विश्वास करें……)

क्या आप जानना चाहेंगे ---आप मिस्टर एक्स हैं की नहीं ?

My Photo(फिल्मों मे देखा है…)

रोचक है नैनीताल की चप्पू वाली नावों का इतिहास

(विरासत हैं नैनीताल की)

तेरे इश्क में

(गुम-सुम हैं)

जम्बू द्वीप के अखंड देश के प्रखंड में विकराली दल का राज्य, चीतों का आक्रमण तथा अमात्य पर कार्रवाई के आदेश -
(अन्धेर नगरी……..)
बिल्डिंग रिलेशनशिप्स !

(राखी के तार…)

कुछ ख्याल -
मेरा फोटो(वियोग शृंगार में पारंगत..)
बने एक सवेरा -
(सुख का या………….)
प्रिय क्या हो जो हम बिछड़ें तो

(मिल जायेंगे किसी मोड़ पर….)

वीर बहुटी
उनके जाते ही घर मे उदासी सी छा गयी। उनके जाने पर मन म...
(आज फिर ऐसी घड़ी भी आ गयी)
My Photo
चलूँ, बुलावा आया है
(सैर कर दुनिया की गाफिल…….)
इजिप्ट की ममी और इंडियन ममी
(एक माता दूसरी ममी)मेरा फोटो

नया ठौर

९० पार के नौजवान -

(कौन कहता है कि बुड्ढे इश्क नही करते….)

अमृत-छकना, चना-चबैना [चटकारा-3]

nggshow.php(चना बहुत मँहगा है….)
साहस की ब्लॉगिंग

(लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नही)

the_brave_suffer_little_the_coward_much

Albelakhatri.com

कमबख्त टिप्पणी इत्ती लम्बी हो गई कि पोस्ट बन गई, मुझको अवधियाजी मुआफ करना, गलती म्हारे सै होगई -


(लगे रहो………भाई)
-- ५० * तापमान ?? बा बा रे ....ऐसा पहली बार हुआ है, १७, १८ सालों में ...

A homeless man bundles up trying to stay warm as he makes his ...(आगे-आगे देखिए होता है क्या…….)

तरुणाई क्या फिर आनी है ..
(टी.वी. का कल्चर ही ऐसा है…)
आज के लिए इतना ही..!

26 comments:

  1. चित्रमय सुंदर चर्चा -आभार

    ReplyDelete
  2. वाह, बहुत उम्दा चर्चा...यहीं से एक एक करके सब जगह फेरा मार लिए...आभार आपका.

    ReplyDelete
  3. शुक्रिया साहब ! अच्छी प्रस्तुति ! !

    ReplyDelete
  4. वाह..चित्रमयी प्रस्तुती...!!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर विस्तृत चर्चा ....!!

    ReplyDelete
  6. बहुत बढिया .. निर्मला कपिला जी के ब्‍लॉग का लिंक नहीं बना है !!

    ReplyDelete
  7. निर्मला कपिला जी के ब्‍लॉग का लिंक बना दिया है!

    ReplyDelete
  8. बच्चा ये नेक काम किया दरबार में भक्त ही भक्त नज़र आ रहे हैं
    वो सुकुल भी आ जाए तो ठीक है

    ReplyDelete
  9. बढिया फ़ोटू सहित चर्चा

    ReplyDelete
  10. बहुत ही गजब की चर्चा शाश्त्रीजी.

    रामराम.

    ReplyDelete
  11. चित्रमय चर्चा अच्छी लगी

    ReplyDelete
  12. चलिए चर्चा मंच में सबकी मंच मंच पता चल गयी!!!

    ReplyDelete
  13. is baar to bilkul naye andaz mein bahut hi sundar charcha ki...........bahut badhiya.

    ReplyDelete
  14. ाज की चर्चा कमाल की लगी । धन्यवाद और शुभकामनायें

    ReplyDelete
  15. बहुत ही बेहतरीन चर्चा शास्त्री जी !

    ReplyDelete
  16. वाह्! शास्त्री जी, चर्चा का ये अन्दाज भी बढिया रहा......

    ReplyDelete
  17. चित्रमय सुंदर चर्चा -आभार

    ReplyDelete
  18. बहुत अच्छी चर्चा।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin