समर्थक

Tuesday, January 19, 2010

“हर कोई ब्लॉग सजाने लगा है” (चर्चा मंच)

"चर्चा मंच" अंक-34


चर्चाकारः डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"


आइए आज का "चर्चा मंच" सजाते हैं-

हर कोई ब्लॉग सजाने लगा है !!!!

हवाएं बदल रही हैं ,
रुख अपना,या कि,
मौसम का ही
मिज़ाज,गरमाने लगा है॥


जिन्हें कोफ्त होती थी,
हमारे पसीने की बू से,
हमें अब गले लगाते उन्हें,
इत्र का मजा आने लगा है ॥

शीर्षक से धोखा मत खा जाना जी
आपको इस पोस्ट पर लगे वाक्य की त्रुटियाँ खोजनी हैं-

महिला कवियित्री को मिला "प्रियदर्शिनी" पुरुस्कार
……"महिला कवियित्री सुश्री सरोज वाला को अपनी कविता "श्रृंगार-बर्षा" के लिए इस बर्ष का "प्रियदर्शिनी" पुरुस्कार दिया गया!"
क्या आप दिखा सकते हैं?

मिलिए हिन्दी के सबसे बड़े ब्लागर समीर लाल से - कनाडा में रहने के बाद भी मेरा दिल हिन्दुस्तान में बसता ह-

समीर लाल से मीडिया मंच के एडिटर लतिकेश शर्मा की ख़ास मुलाक़ात

ब्लॉग लिखनेवालों के बीच यु तो कई नाम लोकप्रिय है ,लेकिन एक ऐसा नाम है, जिनसे ब्लॉग लिखनेवाला शायद ही कोई शख्स वाकिफ़ ना हो . हम बात कर रहे 'उड़नतश्तरी' नाम से ब्लॉग लिखने वाले समीर लाल की . समीर रहते तो कनाडा में हैं ,लेकिन उनका दिल हिंदुस्तान में बसता है . मीडिया मंच की टीम अपने पाठकों को समीर लाल से मिलवाना चाहती थी . लेकिन इस रास्ते में कनाडा की दूरी आड़े आ रही थी . ऐसे में हमने समीर लाल के लिए मेल के ज़रिये सवाल लिख कर भेज दिए और उन्होंने उसका ज़वाब लिख कर हमें वापस मेल कर दिया ……………………….

सवाल- -कनाडा में आप ख़ाली समय किस तरह से बिताते है.

जवाब - खाली समय में घूमना फिरना, अलग अलग शहरों में जाना, मित्रों के साथ दावतें और मुलाकातें, परिवार के साथ समय गुजारना. फिर कुछ न कुछ नया कोर्स करते रहना और अपने ज्ञान में वृद्धि करते रहने का चस्का लगा हुआ है, तो वो जारी रहता है. बहुत सारे कोर्स कर डाले इन सालों में और बहुत कुछ सीखा कम्प्यूटर के बारे में.कुछ पत्रिकाओं के लिए तकनिकि लेखन भी करता हूँ. फिर बाकी समय ब्लॉग पर बिताना बहुत पसंद आता……………………….

सवाल -आप अपने परिवार के मेम्बेर्स के बारे में कुछ बताये .

ज़वाब -मैं, मेरी पत्नी, और एक बहु, दो बेटे. बड़े बेटे की पिछले साल ही शादी की है भारत जाकर. वो अपनी पत्नी के साथ इंग्लैण्ड में नौकरी कर रहा है और छोटा बेटा अमरीका में कम्प्यूटर सलाहकारी कर रहा है. हफ्ते दो हफ्ते में आ जाता है एक बार शनिवार इतवार के लिए……………………

आज ताऊ की कलम से निकली है एक कविता

का मजा लीजिए-


“कवि चोर करेलवी कैसे कहलायेंगे”

कवि सम्मेलन में उदघोषक बोला
अभी तक आपने सुना झुमरू देहलवी को
अब सुनिये चोर करेलवी को
चोर करेलवी मंच पर आये और बोले
"प्रभुजी मोरे अवगुण चित ना धरो"
जनता चिल्लाई...बंद करो..बंद करो.. माल चोरी का है...
साफ़ साफ़ रैदास जी का है

चोर करेलवी बोले
आपने बिल्कुल दुरुस्त फ़रमाया
ये रचना बिल्कुल रैदास जी की है.
रैदास जी अनपढ थे.
उनकी सारी रचनाओं को कलम बंद करने का काम
मेरे परदादा के ताऊ के ताऊ
और उनके परदादा के बडे ताऊजी किया करते थे
मुझे पूरा हक है इसे सुनाने का

अरे कई मदनलाल तो दूसरों की रचना
यूं की यूं की पूरी पेल देते है
और आप लोग आराम से झेल लेते हैं.
अरे भाईयों हम तो अपना नाम सार्थक कर रहे हैं
चोरी की रचना नही सुनायेंगे तो चोर करेलवी कैसे कहलायेंगे? ..........


सोनिया का त्याग मजबूरी थी और ज्योति बाबू का त्याग आदर्श


अब सबसे बड़ा सवाल ये है कि ज्योति बसु को इतिहास किस तरह से याद करेगा। क्योंकि पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री रहे ज्योति बसु के व्यक्तित्व बहुत सारे आयाम हैं। इनमें से किसी एक को केंद्र में रखकर ज्योति बसु का ख़ाका तैयार करना आसान नहीं है। ज्योति बसु के व्यक्तित्व, प्रशासन और पार्टी में में नेतृत्व क्षमता का आंकलन करना सहज नहीं है। लेकिन इतना तो तय है कि इतिहास के पन्नों में वो प्रधानमंत्री की कुर्सी ठुकरानेवाले पहले और आख़िरी राजनेता के तौर पर याद किए जाएंगे। वैसे प्रधानमंत्री की कुर्सी तो सोनिया गांधी ने भी ठुकराई। लेकिन उसकी तुलना ज्योति बसु से नहीं की जा सकती। क्योंकि सोनिया गांधी के…….

अब आप मिलिए सुमन जी से!
इनका कमेंट nice. इनकी पहचान है-

लो क सं घ र्ष !: अब पछताए क्या होत.......

By Suman

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री आसिफ अली जरदारी ने अमरीका से शिकायत की है कि एक तरफ अमरीका आतंकवाद के विरूद्ध जंग में उसे अपना सहयोगी मानता है तो वही दूसरी तरफ उसके शहरियों पर ड्रोन हमले भी होते रहते हैं जिसके कारण आम जनता में अमरीका व पाकिस्तानी सरकार के विरूद्ध क्रोध व कुण्ठा बढ़ती है परिणाम स्वरूप आतंकियों का जनसमर्थन बढ़ता है।
वाह जरदारी साहब मीठा-मीठा हक कड़वा-कड़वा थू......

संवेदना संसार

लोकधर्म (भाग -१) - ईश्वर की अपार अनुकम्पा से कुछ दिनों पूर्व आचार्य रामचंद्र शुक्ल लिखित अप्रतिम कृति " गोस्वामी तुलसीदास " पढने का सौभाग्य मिला.पुस्तक की प्रस्तावना में डाक्..



ANALYSE YOUR FUTURE

२०१० में कन्या राशी - कन्या राशी -इस राशि पर शनि का प्रभाव व संचार पुरे वर्ष रहेगा जिस वजह से गृह क्लेश,आर्थिक परेशानिया व खर्चो में कमी लगी रहेगी | राशी स्वामी के वर्षारंभ में ..

उल्टा चश्मा

क्या आप जानते है की इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन के द्वारा वोटो में हेर फेर किया जा सकता है - जी हा भाई लोग, इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन के द्वारा वोटो में हेर फेर किया जा सकता है/ इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन में उपयोग की जाने वाली चिप को बनाते समये उसमे ..

शब्दों का दंगल

“क्या आप मेरी मदद करेंगे?” - *सम्मानित ब्लॉगर मित्रों! क्या आप मेरे लिए मोबाइल नम्बर-09049142729 पर एक फोन कॉल कर सकते हैं? यह नम्बर साहित्य-चोर श्री पारीक मदनलाल/मदनलाल पण्डिया का ...

इयत्ता

महंगाई को लेकर भूतियाये लालू - आलोक नंदन लालू यादव महंगाई को लेकर भूतियाये हुये हैं। 28 जनवरी को चक्का जाम आंदोलन का आह्वान करते फिर रहे हैं। (यदि बिहार में इसी तरह से ठंड रही तो उनका यह ..

Albelakhatri.com

नि:शुल्क रजिस्ट्रेशन करवा के हिन्दी ब्लोगर्स नये पाठक व नयी लोकप्रियता प्राप्त करें -


प्रिय ब्लोगर साथियो ! हिन्दी ब्लोगिंग को आगे बढ़ाने व हिन्दी ब्लोगर्स को नये पाठक तथा लोकप्रियता के नये आयाम देने के लिए सतत समर्पित www.albelakhatr..

गत्‍यात्‍मक चिंतन

जल्‍द अपने बच्‍चों को 'रंग बिरंगी' सब्‍जी खिलाएं .. अब मौसम समाप्‍त होने वाला है !! - हम सभी जानते हैं कि मनुष्‍य के जीवन में स्‍वास्‍थ्‍य का महत्‍वपूर्ण स्‍थान है और इसे बनाए रखने के लिए भारत के हर प्रदेश की हमारी थाली सक्षम है।...

मनोरमा

किनारा लगाते रहे -


मैं भी हँसता रहा वो हँसाते रहे दिल की आपस में दूरी बढ़ाते रहे न तो पीने को पानी न आँखों में है इसलिए आँसुओं से नहाते रहे जब जरूरत पड़ी साथ मुझको लिया वक्त ..

ताऊजी डॉट कॉम

फ़र्रुखाबादी विजेता ( 174) : श्री देवेंद्र -

नमस्कार बहनों और भाईयो. रामप्यारी पहेली कमेटी की तरफ़ से मैं समीरलाल "समीर" यानि कि "उडनतश्तरी" फ़र्रुखाबादी सवाल का जवाब देने के लिये आचार्यश्री यानि कि ह..

Science Bloggers' Association

हमारी सेना भी नहीं है किसी से कम। टेली प्रेजेंस सिस्टम की तैनाती से बढ़ेगा दम-खम। - जिस तरह से विज्ञान में रोज नई नई खोजे हो रही हैं तो उनका उपयोग काफी हद तक सफल साबित हो रहा है। और हमारे देश भारतवर्ष की सेनाये भी विज्ञान की इन नई-नई खोजोa ..

GULDASTE - E - SHAYARI


- पानी से तस्वीर नहीं बनती, ख्वाबों से तक़दीर नहीं बनती, चाहो किसीको तो सच्चे दिल से, ये अनमोल सी ज़िन्दगी फिर कभी नहीं मिलती !...

नीरज

किताबों की दुनिया - 22 - दोस्तों पिछली बार किताबों की दुनिया में आपकी मुलाकात *नासिर काज़मी* साहब की किताब से करवाई थी, उस किताब की खुमारी उतारने नहीं बल्कि बढाने के लिए मैं आपके स..

नन्हा मन

नन्हे मुन्नों की कहानियां - बडों के लिए - (१) कुर्सी - नन्ही-मुन्नी कहानियां उन छोटी-छोटी कहानियों का संग्रह है जिन्हें पहले बिना सोचे सुनाया गया और फ़िर लिखा गया । इसका श्रेय जाता है मेरे चार साल के बेटे शुभम क..

Vyom ke Paar...व्योम के पार

राग खमाज में ठुमरी[पंडित उपेन्द्र भट] और मिस्र का लोक नृत्य - -------

उल्टा चश्मा

क्या आप जानते है की इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन के द्वारा वोटो में हेर फेर किया जा सकता है - जी हा भाई लोग, इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन के द्वारा वोटो में हेर फेर किया जा सकता है/ इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन में उपयोग की जाने वाली चिप को बनाते समये उसमे ..

चौराहा

तेरे लब कहां हैं, ओढ़ ले मेरी मुस्कान -

* * *

मैंने दीं अश्कों से नम शामें / तुमने खिलखिलाहटों से भरी सुबहें / मैं काला हुआ, चीखता ही रहा / तुम गुलाबी रहीं, कभी ना मद्धम हुईं / नादां था, हरदम ..

ताऊ डॉट इन

ताऊ पहेली - 57 विजेता श्री उडनतश्तरी - प्रिय भाईयो और बहणों, भतीजों और भतीजियों आप सबको घणी रामराम ! हम आपकी सेवा में हाजिर हैं ताऊ पहेली 57 का जवाब लेकर. कल की ताऊ पहेली का सही उत्तर है अडालज क...

शब्दों का सफर

तहसीलदार के इलाक़ाई ताल्लुक़ात - [image: tehsil_l] *ज़रूर देखे-**फ़सल के फ़ैसले का फ़ासला* सं बंध या रिश्ता जैसे शब्दों की अर्थवत्ता बहुत व्यापक है। संबंध जहां भारोपीय मूल का शब्द है वहीं...

उपस्थित

बस की लय को पकड़ते हुए - ये बस दो रेगिस्तानी जिला मुख्यालयों को जोडती है जो दिन में शहर और रात में गाँव हो जाते है.सुबह ये शहर का सपना लिए जगते हैं और रात को सन्नाटा लिए सो जातें ...

कबाड़खाना

साल २०१०: वित्तीय साम्राज्यवादी खून-ख़राबा बढ़ेगा- त्रिनेत्र जोशी - पिछली कड़ी में वरिष्ठ कवि आलोक धन्वा की बातें पढ़कर काफी हलचल मची. नीरज पासवान जी ने तो मुझे भी लपेटे में ले लिया और लिखा- 'आलोक धन्वा जी ने हिंदी के महान ...

लिखो यहाँ वहां

और बुक हो गये उसके घोड़े-5 - पिछले से जारी यह फिरचेन ला का बेस है। हम संभवत: तेरह साढ़े- तेरह हजार फुट की उंचाई पर होंगे इस वक्त। सेरिचेन ला का बेस भी यही है। यही से दक्षिण पश्चिम दिश..

संवेदना संसार

लोकधर्म (भाग -१)

- ईश्वर की अपार अनुकम्पा से कुछ दिनों पूर्व आचार्य रामचंद्र शुक्ल लिखित अप्रतिम कृति " गोस्वामी तुलसीदास " पढने का सौभाग्य मिला.पुस्तक की प्रस्तावना में डाक्..

लहरें

यूँ जिंदगी गुज़ार रहा हूँ तेरे बगैर - मुझे मालूम भी नहीं चला कब बाइक चलाना मेरे लिए बोलने या बात करने का पर्याय हो गया। जब मेरे शब्द मुझे बहुत परेशान करने लगते हैं, जब मुझे किसी से बात करने का बह..

अमीर धरती गरीब लोग

बिके हुये लोग मीडिया को बिकाऊ कह रहे हैं,हद हो गई बेशर्मी की और बर्दाश्त की भी!अब किसी ने कुछ कहा तो मुंह-तोड़ जवाब दिया जायेगा!


- पिछ्ले कुछ समय से देखने मे आ रहा था कि नक्सलियों के प्रायोजित कार्यक्रम के तहत दिल्ली और अन्य महानगरों से तथाकथित समाजसेवी,मानवाधिकारवादी और पत्रकार यंहा आ..

यही है वह जगह

राष्ट्रमण्डल खेल : कैसा इन्फ़्रास्ट्रक्चर ? किसके लिए ? : सुनील - पिछले भाग से आगे : यह कहा जा रहा है कि राष्ट्रमंडल खेलों के लिए जो इन्फ्रास्ट्रक्चर बन रहा है, वह बाद में भी काम आएगा। लेकिन किनके लिए ? निजी कारों को दौड़ा..

सच्चा शरणम्

सौन्दर्य लहरी - 2 - ’सौन्दर्य-लहरी’ संस्कृत के स्तोत्र-साहित्य का गौरव-ग्रंथ व अनुपम काव्योपलब्धि है । आचार्य शंकर की चमत्कृत करने वाली मेधा का दूसरा आयाम है यह काव्य । निर्गु..

स्वप्नलोक

शीत तुझे जाना ही होगा - शीत तुझे जाना ही होगा आज समय की यही माँग है बसंत को लाना ही होगा शीत तुझे जाना ही होगा खुश होकर जा या कि रूठकर चाहे रो ले फूट फूटकर साथ रहेगा किन्तु छूट..

दिशाएं

ये कैसी जिन्दगी है........

- अपनी आवाज भी मुझ को, सुनाई नही देती। ये कैसी जिन्दगी है जिन्दगी, दिखाई नही देती। नशा है जाम का जिस मे बहक चल रहे है सब, होश मे मुझको यहाँ जिन्दगी दिखाई नही..

अनामदास का चिट्ठा

पॉलिश जैसी स्याह क़िस्मत -

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के चौदह नंबर प्लेटफार्म पर सैकड़ों जूतों को स्कैन करता बारह साल का एक लड़का मेरे सामने रुका, "पॉलिश, साहब?" मेरे चेहरे और जूतों की र..

प्राइमरी का मास्टर

कौन इन्कार कर सकता है...... कि यह आवश्यक है ? पर..... -

कौन इन्कार कर सकता है...... कि बच्चों के समूह के साथ काम करते समय एक तरह के विशेष अनुशासन की आवश्यकता सदैव ही पड़ती है। आमतौर परअनुशासन बनाये रखने के नाम प..

देशनामा

ब्लॉगर बिरादरी !!! मुझे शेरसिंह से बचाओ...खुशदीप -

ले आया भईया मैं जान पर खेल कर सबूत...सुबह जो मैंने ब्रेकिंग न्यूज़ दी थी...उसका सबूत आप तक लाने के लिए बस ये समझ लीजिए मुझे *शेरसिंह *के मुंह में हाथ देना ..

आज का जोक- ए.टी.एम् मशीन !

हम हिन्दुस्तानियों के लिए शायद यह खबर बहुत मामूली सी थी , इसलिए किसी ने इसे तबज्जो देना तो दूर, इस पर गौर करना भी मुनासिब नहीं समझा !…. ..

केवल कवियों के लिए--( कविता)

कविता जब श्‍याम रंग में उतरी,

कैसी थी वो सुकन्‍या सी क्वाँरी,

वो तन से कितना छरहरी बन जाती थी।

और कैसे छुई-मुई सी निरखती लगती थी।

…..
कार्टून : यहाँ देखती है बहनजी अपनी शकल !!

अदा

हम बोलें क्या तुमसे के क्या बात थी ..


एक पुरानी ग़ज़ल :

हम बोलें क्या तुमसे के क्या बात थी
अजी रहने दो बातें बिन बात की
सहर ने शफ़क़ से ठिठोली करी है
शिकायत अंधेरों को इस बात की…….

तू कवि है तेरे घाव कैसे भर पाएंगे

तू कवि है तेरे घाव कैसे भर पाएंगे

टूटे रिश्ते बिखरे सम्बंध मांग रहे हैं जीवन की परिभाषा

उनके आकुल होठ नहीं समझते मेरे नयनों की भाषा

स्याह रात की खामोश उदासी लगती सदा आंसू झेलती
उसकी पीड़ा से छोटा लगता विंध्याचल का आंचल
जब भूख देती है दलीलें तो दर्द कैसे समझ पाएगा
तेरे आगे मर रहा है राष्ट्र तेरा तू कैसे सह पाएगा
अनजानी आशंकाएं, काटें और बाधाएं
ये सब मिलकर
मुश्किल तेरा जीना कर जाएंगे
तू कवि है तेरे घाव कैसे भर पाएंगे...

गठरी

"सर्दी में तुम आ जाओ---"

सर्दी में तुम आ जाओ लेकर कुछ गरमी ।
आँखों में कुछ शर्म,नमक जितनी बेशर्मी ॥
लाना वो मुस्कान मुझे व्याकुल जो कर दे ।
वही महकता बदन वही हाथों की नरमी ॥….



अब आज की चर्चा को

समाप्त करने की

आज्ञा दीजिए!

कल फिर कुछ चिट्ठों की

चर्चा लेकर आपकी सेवा में

उपस्थित हूँगा!

20 comments:

  1. इन लिंक्स के जरिए ब्लाग की दुनिया की उम्दा पोस्ट्स तक पहुँचा जा सकता है। एक उम्दा पुल आप रोज बनाते है। आभार !

    ReplyDelete
  2. सुंदर चर्चा के लिए-आभार

    ReplyDelete
  3. वाह बढिया .. धन्‍यवाद !!

    ReplyDelete
  4. सुन्दर सजावट के साथ बहुत बढ़िया चर्चा

    ReplyDelete
  5. कई अन्जानी पोस्ट्स तक पहुँचाया आपने
    आभार

    बी एस पाबला

    ReplyDelete
  6. बहुत जबरदस्त चर्चा..ढेर लिंक मिल गये...बहुत आभार. नियमित जारी रहें.

    ReplyDelete
  7. सुंदर चिट्ठा चर्चा...बधाई शास्त्री जी!!

    ReplyDelete
  8. शाश्त्रीजी बहुत धन्यवाद, आपकी चर्चा तो चर्चा के साथ साथ पूरा अग्रि्गेटर का भी काम करती है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. बहुत बढ़िया प्रस्तुति है.!
    बहुत सी पोस्टों को समेट लिया है आज चर्चा में.
    आभार.

    ReplyDelete
  10. bahut mehanat se post banayi hai .......sundar charcha.

    ReplyDelete
  11. सुंदर चिट्ठा चर्चा...बधाई शास्त्री जी!!

    ReplyDelete
  12. सार्थक चर्चा , आभार

    ReplyDelete
  13. सभी ख़ूबसूरत लिंक सज गए हैं यहाँ . करीने से की गयी चर्चा .
    आभार .

    ReplyDelete
  14. आपकी चर्चा के माध्यम से समीरजी का interview पढ़ पाया !! आभार!!

    ReplyDelete
  15. चर्चा सजाने और उसे महत्त्वपूर्ण बनाने में मयंक जी सबसे अलग हैं!

    ReplyDelete
  16. Abhi kuchh samajhataa naheen
    sabhee ko saadar namaskaar karane aayaa hoon

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin