समर्थक

Friday, January 29, 2010

“एकल चर्चा” (चर्चा मंच)

पेश है आज का पर्चा! पढ़़िए बबली की चर्चा!!

"चर्चा मंच" अंक-44

चर्चाकारः डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"

आज के "चर्चा मंच" को सजाते हैं- एक ऐसी ब्लॉगारा के ब्लॉग से

जिस पर अंकित शायरी की चार पंक्तियों पर

कम से कम चालीस टिप्पणियाँ आती है।
My Photo

Urmi Chakraborty

(बबली)

About Me

मैं बहुत ही दिलचस्प और हँसमुख लड़की हूँ और नए लोगों से दोस्ती करना पसंद करती हूँ!

Interests

Favourite Films

Favourite Music

Favourite Books

My Blogs

GULDASTE - E – SHAYARI,


KHANA MASALA,

KAVITAYEN,

UNIQUE AND INTERESTING,

AMAZING
GULDASTE - E - SHAYARI

प्रस्तुत है इस ब्लॉग की पहली और अद्यतन पोस्ट!
इनकी पहली पोस्ट Tuesday, April 14, 2009 को

प्रकाशित हुई थी, देखिए-

Tuesday, April 14, 2009



काश ऐसा हो के तुमको तुमसे चुरा लूँ,
वक्त को रोककर वक्त से एक दिन चुरा लूँ,
तुम पास हो तो इस रात से एक रात चुरा लूँ,
तुम साथ हो तो ये जहाँ चुरा लूँ !



Posted by Babli at 9:33 PM 6 comments Links to this post





थक गए हम उनका इंतज़ार करते करते,
रोये हज़ार बार ख़ुद से टकरार करते करते,
दो लफ्ज़ उनकी जुबां से न निकले और,
टूट गए हम एक तरफा प्यार करते करते !


Posted by Babli at 9:26 PM 5 comments Links to this post





ज़माने से नहीं, तन्हाई से डरते हैं,
प्यार से नहीं, रुसवाई से डरते हैं,
मिलने की उमंग बहुत होती है दिल में लेकिन,
मिलने के बाद तेरी जुदाई से डरते हैं !


Posted by Babli at 9:12 PM 2 comments Links to this post
Labels: ओटी
इनकी अद्यतन पोस्ट प्रकाशित हुई
Monday, January 25, 2010 को,

इसकी झलक भी देखिए-

Monday, January 25, 2010





वीरों ने जो किया वतन के लिए कुर्बान,
आज हम फिर से याद करें उनकी बलिदान,
लाखों कुर्बानियों से मिली हमें आज़ादी,
आओ मिलकर हम रोके देश की बर्बादी !


Posted by Babli at 11:18 PM 39 comments

आज की चर्चा को यहीं पर विराम देते हैं!

18 comments:

  1. बढ़िया रहा परिचय.

    ReplyDelete
  2. एकल चर्चा में आने के लिए बबली जी को बधाई...

    शास्त्री जी का आभार...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन। लाजवाब।

    ReplyDelete
  4. बहुत बडिया। बबली जी को शुभकामनायें

    ReplyDelete
  5. शास्त्री जी बहुत बढिया चर्चा-आभार

    ReplyDelete
  6. बहुत बहुत बधाई बबली जी को...........

    आपको धन्यवाद.......

    ReplyDelete
  7. बहुत बढिया!
    बबली जी को बधाई और आपको धन्यवाद्!!!

    ReplyDelete
  8. बबली जी के बारे में जानना अच्छा लगा.

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. बहुत बहुत बधाई बबली जी....

    ReplyDelete
  10. अनवर भाई और बेनामी!
    खुलकर सामने आओ ना!
    तुम्हारी आई.पी. मेरे पास आ गई है!
    अगले अंक में क्या तुम्हारा राज उडेल दूँ?

    ReplyDelete
  11. babli ji ko badhayi aur aapka dhanyawaad itni sundar charcha ke liye.

    ReplyDelete
  12. बहुत बहुत धन्यवाद शास्त्री जी मेरी चर्चा करने के लिए!

    ReplyDelete
  13. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  14. बेहद अच्छा प्रयास !
    एकल चर्चा अच्छी रही । आभार ।

    ReplyDelete
  15. बढिया चर्चा रही ।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin