समर्थक

Tuesday, March 16, 2010

“नव संवत्‍सर की मंगलकामनाएँ!” (चर्चा मंच)

"चर्चा मंच" अंक-90

चर्चाकारः डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
आइए आज का "चर्चा मंच" सजाते हैं-
सुबीर संवाद सेवा
 नव संवत्‍सर की मंगलकामनाएँ और चैत्र नवरात्रि के अवसर पर सुनिये लता जी के स्‍वर में पंडित नरेंद्र शर्मा जी के आठ गीत जिन्‍हें संगीतबद्ध किया है पंडित ह्रदयनाथ मंगेशकर ने । - आज से नया संवत्‍सर प्रारंभ हो रहा है । नया संवत्‍सर और साथ में चैत्र नवरात्रि भी आज से ही प्रारंभ हो रही हैं । इन दिनों काफी अपने परिचितों एवं मित्रों के...
काव्य मंजूषा

समय.......गीत....ये समा समा है ये प्यार का - याद है मुझे, जब मैं छोटी बच्ची थी, झूठी दुनिया की भीड़ में, भोली-भाली सच्ची थी, तब भी सुबह होती थी शाम होती थी, तब भी उम्र यूँ ही तमाम होती थी, लगता थ..
ताऊ डॉट इन

बैशाखनंदन सम्मान पुरस्कारों की स्थापना : ताऊ रामपुरिया - माननीय ब्लागर बंधुओं, आप सभी को *गुडी पडवा (नव वर्ष) *की हार्दिक शुभकामनाएं. नववर्ष के शुभारंभ के पावन अवसर पर हास्य व्यंग के लिये आज *ताऊ डाट इन* की तरफ...
शब्दों का सफर
क्या हैं गुड़ी पड़वा और नवसंवत्सर - * * *नववर्ष शुभ हो * स नातन भारतीय संस्कृति में *चैत्र शुक्ल प्रतिपदा* से नववर्ष माना जाता है। इसे *संवत्सर प्रतिपदा* भी कहते हैं। मान्यता है कि इसी...
Science Bloggers' Association

दो प्राकृतिक काल मानों में समायोजन का नतीजा लीप इयर, अधिक मास और क्षय मास - चौदह मार्च को पाई दिवस था। इस अवसर पर इस विषय पर हिन्दी में एक मात्र पोस्ट आई। अच्छा लगा। पाई का वास्तविक मान क्या है? कोई नहीं जानता। यह किसी भी वृत्त और उस...
कर्मनाशा

एक पक्षी के साथ सुबह - ** आज की सुबह एक पक्षी के साथ हुई। अपनी बैठक का परदा जब धीरे से सरकाया तो खिड़की के बाहर गमले का निरीक्षण करते हुए एक पाखी को पाया। रूप - रंग का क्या करूं ...
साहित्य योग
ये नहीं है मेरी बरेली........ - ये नहीं है मेरी बरेली जहाँ हाथ में धर्मं का है छूरा मन में अंधविश्वास की छाया आदमी-आदमी को मार रहा ना कोई मोह ना कोई माया मानवता के हो गए टुकड़े टुकड़े हर टुक...
SPANDAN


अहसास - > गीली सीली सी रेत में > छापते पांवों के छापों में > अक्सर यूँ गुमां होता है > तू मेरे साथ साथ चलता है > .. > सुबह की पीली धूप जब > मेरे गालों पर पड़ती ...

भारतीय नागरिक - Indian Citizen
हरियाणा में एसटीएफ भंग - पिछली कई पोस्ट में मैंने पुलिस कर्मियों के भ्रष्टाचार के ऊपर और अपराधीकरण के बारे में लिखा था. भारतीय पुलिस के लिये जस्टिस श्रीमन ए०एन०मुल्ला ’संगठित अपराध...
शब्दों का दंगल
“मेरी पौत्री का जन्म-दिन” - *कल 14 मार्च को मेरी पौत्री प्राची का 7वाँ जन्म-दिन था! ”अमर भारती” ब्लॉग पर पोस्ट लगाई थी! लेकिन न जाने वो कैसे उड़ गई! उसी के आग्रह पर यह पोस्ट यह...
Gyan Darpan ज्ञान दर्पण

ऑटो स्क्रिप्ट इंस्टालर - ज्ञान दर्पण के पाठकों में से कई लोगों के अक्सर फ़ोन आते रहते है कि उन्होंने कहीं से वेब होस्टिंग पैकेज लिया और अब वर्डप्रेस स्क्रिप्ट या अन्य स्क्रिप्ट सर्...
डॉ.कविता'किरण'(कवयित्री)

मेरी आँखों में अगर झांकोगे जल जाओगे - * * * ज़ख्म** **ऐसा** **जिसे** **खाने** **को** **मचल** **जाओगे* * इश्क** **की** **राहगुज़र पे न संभल पाओगे ** * * ** ** * *मैं** **अँधेरा** **सही*...
समाचार:- एक पहलु यह भी

क्योंकि भूख तो सभी को लगती है - भूख सभी को लगती है. यह बात सही है लेकिन हम सारे दिन में जो कुछ भी खाते है वो सब भूख मिटाने के लिए नहीं खाते. हम बहुत सा ऐसा खाते है जो टेस्ट बदलने के लिए य...
स्वप्न(dream)
बस यही मुश्किल है - प्रस्तुत है एक और पुरानी लिखी रचना. बस यही मुश्किल है तोड़ दूं कसमें तमाम, और वादे भूल जाऊंबस यही मुश्किल है मेरी , कैसे मैं उसको भुलाऊं मुझसे ज्यादा कीम..
नन्हें सुमन

"कम्प्यूटर" - *मन को करता है मतवाला।* *कम्प्यूटर है बहुत निराला।।** * *यह तो एक अनिवार्य भाग है।* *कम्प्यूटर का यह दिमाग है।।* *चलते इससे हैं प्रोग्राम।* *सी.पी.यू.है इस...
शब्द-शिखर

नव संवत्सर से जुडी हैं कई महत्वपूर्ण घटनाएँ - भारत के विभिन्न हिस्सों में नव वर्ष अलग-अलग तिथियों को मनाया जाता है। भारत में नव वर्ष का शुभारम्भ वर्षा का संदेशा देते मेघ, सूर्य और चंद्र की चाल, पौराणिक...
वीर बहुटी
सुखदा ----कहानी---भाग --3 - सुखदा कहानी-- भाग ------ 3 पिछले भाग मे आपने पढा कि कैसे सुखदा के पिता के बीमार होने पर उसे एक ओझा के पास ले गये उस ओझा ने सुखदा को घर के लिये मनहूस बताय..
तेताला

महंगाई क्‍यों बढ़ रही है अगर जानना चाहते हैं तो रुकिए ? (अविनाश वाचस्‍पति) - दैनिक नवभारत टाइम्‍स ने 16 मार्च 2010 के अंक में सचित्र समाचार के जरिए खोली है पोल, आप भी देखिए महंगाई क्‍यों बढ़ रही है खौल खौल स से सरकार स से साईकिल...
उच्चारण
   “लैपटॉप” - IMG_1100 - Copy** सबके मन को जो भाता है। लैपटॉप वह कहलाता है।। सभी जगह इसको ले जाओ। बड़े मजे से नेट चलाओ।। मनचाहे गानों को भर लो। दूर द...
मयंक

“पं. नारायणदत्त तिवारी के साथ एक शाम” - ** ** **** ** ** * पिछले सप्ताह अमृतसर पंजाब में 6-7 मार्च को प्रजापति संघ का एक बड़ा कार्यक्रम था। उसमें मुझे भी भाग लेने के लिए जाना था। मे...
अंधड़ !

दूसरे का तो ये बुर्के पर बनाया कार्टून भी नहीं बर्दाश्त कर पाते और ... - किसी और के धर्म पर कीचड उछालने, अश्लील बाते लिखने, छद्म नामो से लिखने और टिपण्णी करने में इन्हें ज़रा भी परहेज नहीं । यहाँ देखे , यही नहीं कि इनका एक तथाकथ...
ANALYSE YOUR FUTURE 
भूत प्रेत बाधा एवं निवारण - भूत-प्रेतों की गति एवं शक्ति अपार होती है। इनकी विभिन्न जातियां होती हैं और उन्हें भूत, प्रेत, राक्षस, पिशाच, यम, शाकिनी, डाकिनी, चुड़ैल, गंधर्व आदि विभिन्न...
सोचा ना था....

गुडी पडवा - गुडी पडवा...चैत्र मास का पहला दिन...जो की हिंदी कैलेंडर के नए साल का पहला दिन है....इसे महाराष्ट्र में नए साल के रूप में मनाया जाता है....इस दिन को शादी,न...
संवेदना संसार
आ'रक्षण - रक्षण किसका ?? - नेताजी बहुतै खिसियाये हुए हैं.आजकल जहाँ देखिये वहां चैनल सब पर चमक रहे हैं और सबको चमका रहे हैं...एलान किये हैं कि उनका लाश पर महिला आरक्षण बिल पास होगा...
Fulbagiya

goree koyal - *कोयल ने जब शीशा देखा* *हो गई वह तो बहुत उदास* *गोरी मैं कैसे बन जाऊं* *सोच के पहुंची वैद के पास।* * * *भालू वैद ने कूट पीस कर* *दे दी ढेरों क्रीम दवायें* ...
today's CARTOON
केरीकेचर- राजीव तनेजा जी.......

Posted by आरडीएक्स

निवेदन यह है कि

यदि आप

पल-पल! हर पल!!

http://palpalhalchal.feedcluster.com/

में अपना ब्लॉग शामिल कर लेंगे तो

मुझे चर्चा मंचमें आपका लिंक उठाने में

सरलता होगी।            



आज की चर्चा को 


यहीं पर विराम देते हैं!

9 comments:

  1. नव संवत्सर की बहुत बहुत शुभकामनाये ...

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा!!
    नव सवत्सर की हार्दिक शुभकामनाऎँ!!!

    ReplyDelete
  3. sach kahun to aapki oorja dekh kar naat-mastak hue jaate hain ham..
    aapse hamein bahut kuch seekhna chahiye..
    bahut hi sundar aur saarthak charcha...

    नव सवत्सर की हार्दिक शुभकामनाऎँ!!!

    ReplyDelete
  4. आपको और पाठकों को नए संवत्‍सर और नवरात्रि की बधाई !!

    ReplyDelete
  5. सादर अभिवादन! सदा की तरह आज का भी अंक बहुत अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  6. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  7. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  8. नव सवत्सर की हार्दिक शुभकामना आपको भी,

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin