चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Tuesday, April 06, 2010

“टिप्पणी करने अवश्य आना!अपराह्न की चर्चा!!” (चर्चा मंच)

"चर्चा मंच" अंक - 112
चर्चाकारः डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक
"चर्चा मंच" के लिए आज अपराह्न की चर्चा तो

हमारे मित्रों ने आज सुबह की चर्चा में

अपने लिंक चस्पा करके दे दी

और अपनी डिमाण्ड भिजवा दी!
खैर आपको निराश नहीं करूँगा!

आप देख लें, अपने-अपने लिंकों को-

टिप्पणी करने अवश्य आना!

यदि सम्भव हुआ तो

देर शाम को ही सही

एक चर्चा की तो और भी

गुञ्जाइश है ना!
Links

क्या आप इंटेलिजेंट समझते हैं अपने ...

कौन इन्कार कर सकता है...... कि यह ...

किताबों के संग | प्राइमरी का मास्टर

…....क्या कहूँ ? नए वर्ष की शुभकामनायें ...

काहे नहीं बताते कि कौन सा डिजिटल ...

एक मौन सन्देश - माइक्रो फोटो पोस्ट ...

लीजिये हाजिर है : हिन्दी में LinkWithin ...

पुराना इतिहास डराता है कि बच्चा ...

क्या सरकार उठा पायेगी इतना भार ...

बिन गुरु ज्ञान कहाँ से लाऊं ...

बच्चों को मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा ...

ऐसा क्या है, इसे खेलने में जो हमें ...

इस तरह हम भी पहुंचे हिंदी चिट्ठाकारी ...

गणित ही थी जिसने सबसे पहले दर्शन से ...

प्रयोगात्मक पोस्ट : कृपया नजरअंदाज ...

दीपावली की शुभकामनाएं !! : स्नेह अपना ...

कुतर्क का कोई स्थान नहीं है जी ...

.....यह सब गणित की सामर्थ्य को बढ़ाता ...

जरूरत केवल इस विश्वास की है कि ...

फुरसतिया जी ने सही कहा यह चिट्ठाकारी ...

प्रत्येक बच्चे के साथ इस विश्वास के ...

कुछ तो है उस दंडधारी शख्स में ...

गणित शिक्षा प्रत्येक विद्यार्थी के ...

ऑनलाइन आमंत्रण स्वीकार करें ...

माइक्रो पोस्ट ठेलक | प्राइमरी का ...

अब रटंत प्रणाली वाली शिक्षा को ...

कक्षा 9 के छह विषयों में नया ...

यह है डिप्लोमेसी | प्राइमरी का मास्टर

आदमी ने कुत्ते को काटा टाइप की ...

केसरिया बालम आवो नीं पधारो म्हारै ...

मैं उत्कृष्ट शिक्षक हूँ ..... मुझे ...

चिट्ठाजगत अधिकृत कड़ी : प्रयोगात्मक ...

पांचवीं तक पहुँचने के बावजूद गिनती न ...

यदि आप ओज के कवियों की रचनाएं सुनना ...

जगदीश सोलंकी : सीमाओं के प्रहरी गर ...

जगदीश सोलंकी : सम्मान देने को सजाया ...

हरिओम पवार: रावण का रोना | प्राइमरी ...

हरिओम पवार: सोने के हिरन नहीं होते ...

हरिओम पवार : रात के अंधेरे में ...

हरिओम पवार : कैसे कोई गीत सुना दे ...

हरिओम पवार : ऐसा न हो यह मुल्क जला दे ...

जगदीश सोलंकी : बदनाम बस्ती | प्राइमरी ...

जगदीश सोलंकी : राजनीति में है नीति ...

विनीत चौहान : सांसद पर हमले पर ओजस्वी ...

विनीत चौहान : ओजस्वी कवि का ओज ...

अब तक के लेखों का लेखा-जोखा ...
हो गई लिंकों की चर्चा पूरी!

सानिया मिर्जा बोले या न बोले!

लेकिन हमारे लिए तो है,

बहुत जरूरी!!

जय हिन्द!!

17 comments:

  1. ये लिंक तो किसी तरकश में से निकले तीर की तरह लग रहे हैं!
    --
    मेरे मन को भाई : ख़ुशियों की बरसात!
    --
    संपादक : सरस पायस

    ReplyDelete
  2. अनोखी चर्चा लिन्को की
    बधाई हो।

    ReplyDelete
  3. वाह .. इतने सारे लिंक्स !!

    ReplyDelete
  4. मास्टर जी के उपयोगी लिंक हैं यह इकट्ठे ! आभार ।

    ReplyDelete
  5. चर्चा लिन्को की ..... वाह .....

    ReplyDelete
  6. Is bar ki charcha kuchh alag se lagi. Laga hi nahin ki yah Mayank ji dwara ki gai charcha hai, prayojit charcha lagi.

    ReplyDelete
  7. लिंक ही लिंक!!

    ReplyDelete
  8. हा हा हा हा शास्त्री जी ..मा स्साब ने तो पहले ही बहुत सारे ब्लोग्स पर ..पूरी प्रायमरी क्लास खोल आए हैं ..आज की चर्चा आपने उन्हीं के लिंक्स को डेडिकेट करके बहुत ही अच्छा काम किया ।
    अजय कुमार झा

    ReplyDelete
  9. सार्थक आलेखन मिला लिंक्स के ज़रिये शुक्रिया जी

    ReplyDelete
  10. वाह लिंल ही लिंक. बहुते बढिया.

    रामराम.

    ReplyDelete
  11. वाह जी वाह !
    आज तो पूरे के पूरे हमारे स्कूल को ही चिपका दिया आपने !

    अब प्रायोजित चर्चा का आरोप आप पर लगे ...तो हम क्या कहें ? :)
    यह तो होना ही था |

    ReplyDelete
  12. भाई प्रवीण त्रिवेदी जी!
    मुझे इन लिंकों पर लगी पोस्ट्स उपयोगी जान पड़ी!
    इसलिए आपके नाम यह विशेष चर्चा लगा दी!

    ReplyDelete
  13. बिन खर्चा बढिया चर्चा!!
    मजेदार...

    ReplyDelete
  14. एक ही तरकश में ये ढेर सारे भरे हुए तीर कुछ समझ नहीं आए? क्‍या कोई नया अंदाज है?

    ReplyDelete
  15. charcha ka ye andaz bhi bahut hi bhaya.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin