साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Sunday, June 13, 2010

क्लिक ! "शीर्षक चर्चा" (चर्चा मंच-183)

------------------
------------------

आज चर्चा मंच पर देखिए-
पोस्टों के शीर्षक ही शीर्षक!

------------------
------------------
------------------
------------------
------------------
------------------
------------------
------------------
------------------
------------------
------------------
------------------
------------------
------------------
------------------
और अन्त में देखिए ये कार्टून
------------------
------------------

20 comments:

  1. आईये जानें .... क्या हम मन के गुलाम हैं!

    ReplyDelete
  2. ये सिर्फ शीर्षक वाला प्रयोग भी बढ़िया लगा | शुभकामनाएँ |

    ReplyDelete
  3. अच्छी लगी शीर्षक चर्चा भी.

    ReplyDelete
  4. बढ़िया चर्चा| मेरा ब्लोग रख्ने के लिये आभार| शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  5. झक्कास शीर्षक चर्चा ...अच्छे लिंक्स ..!!

    ReplyDelete
  6. चर्चा में कार्टून को भी स्थान देने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  7. ये अन्दाज़ ज्यादा अच्छा है …………………ज्यादा लिंक्स मिल जाते हैं।

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया शीर्षक चर्चा....

    ReplyDelete
  9. शीर्षक प्रयोग भी बढ़िया रहा .

    ReplyDelete
  10. वाह .. बढिया !! मेरे ब्लॉग को स्थान देने के लिए आभार !

    ReplyDelete
  11. ये प्रयोग भी अच्छा लगा.....बढिया चर्चा!

    ReplyDelete
  12. ये अन्दाज़ भी अच्छा है ....

    ReplyDelete
  13. sundar aur sasta jaisa laga ye prayog . aaj ki charcha k liye badhayi.

    ReplyDelete
  14. ye naya prayog laga..aap bhi na shastri ji kuch na kuch naya krte hi rehte hain..accha laga..

    ReplyDelete
  15. अब टिप्पणी-चर्चा की बारी है!

    ReplyDelete
  16. आगया है अब टंगडीमार ले दनादन दे दनादन। दुनिया याद रखेगी। जरा संभलके।

    टंगडीमार

    ReplyDelete
  17. ये भी अच्छा है लिंक हैं तो पोस्ट तक तो पहुँच ही जायेंगे.. :) आभार..

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"श्वेत कुहासा-बादल काले" (चर्चामंच 2851)

गीत   "श्वेत कुहासा-बादल काले"   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')    उच्चारण   बवाल जिन्दगी   ...