चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Tuesday, August 17, 2010

साप्ताहिक काव्य मंच – १३ ( संगीता स्वरुप ) चर्चा मंच --- 248

नमस्कार , परसों मना कर चुके हैं हम राष्ट्रीय त्योहार …विषय से सम्बंधित चिट्ठों की थी भरमार …. ऐसे समय में हमारी वाणी ने किया प्रहार …. और बहुत से चिट्ठे नहीं खुल पाए किसी भी प्रकार …खैर  अभी ऐसा कुछ पता चला है कि हमारी वाणी ने इस कमी को दूर कर दिया है …लेकिन  अभी भी इसका लोगो लगाने की हिम्मत नहीं हो रही है …यह सब यहाँ बताने का तात्पर्य बस यही है कि मैं बहुत से ब्लॉग  नहीं देख पाई …चलिए आज मैं आपको मिलवाती हूँ कुछ लोगों से जिनकी रचनाएँ मुझे काफी प्रभावित करती हैं ….तो आप भी मिलें …मेरी नज़र से ….
My Photo
राजकुमार सोनी जी मूल रूप से पत्रकार हैं …बेबाक लिखते हैं …इनके लेखन में बहुत तीखी धार है .अभी इनकी एक पुस्तक प्रकाशित हुयी है “ बिना शीर्षक “ जिसमें इन्होंने  बहुत से लोक कलाकारों का रेखाचित्र खींचा है …इनके लेखन से पता चलता है कि एक ईमानदार पत्रकार हैं ..यहाँ मैं इनकी कविताओं की ही बात करुँगी…अब तक जितनी भी कविताएँ पढ़ी हैं उनके आधार पर कह सकती हूँ कि अपने आस पास की परिस्थितियों का अवलोकन कर बहुत संवेदनशील कविताओं का सृजन करते हैं …

घर
घर की परिभाषा में इनकी यह बात भावुक मन को दिखाती है ..
जब मैं घर लौटूं तो
पत्नी और बच्चों के चेहरे पर
शिकायतों की एक छोटी सी
लायब्रेरी जरूर मिले.
ताकि शिद्दत के साथ
जरूरत की किताबें
बांच सकूं हौसले के साथ..

एक और संवेदनशीलता की बानगी देखिये ..
मुडा-तुडा नोट
जो नोट
मां के आंसूओं से
थोड़ा भींग गए हो
क्या वे खराब हो सकते हैं
इसमें कवि मन गरीब किसान की  दुर्दशा से द्रवित है …

पुरानी खांसी
इतना सब कुछ बताते-बताते
किसान ने बंडी से बीड़ी निकाली

और सुलगाते हुए कहा-
अरे.. बाबू.. बड़े लोगों को
होती है बड़ी बीमारी

अपनी खांसी तो पुरानी है
बस जाते-जाते जाएंगी..
कहने का तात्पर्य है कि जहाँ ये अपने लेखों में आक्रामक दिखते हैं …कविताओं में बहुत भावुक और संवेदनशील ….कथरी , बोल रही हैं विज्ञप्तियां , गैर ज़रुरी प्रार्थनाएं ,बड़े घर की औरतें आदि भी पढ़ सकते हैं
मेरा फोटोवंदना गुप्ता जी का लेखन बहुत विविधता लिए हुए है …कहीं भक्ति-रस में डूबी मीरा लगती हैं तो कहीं विरह से व्याकुल राधा ..तो कहीं जीवन दर्शन को कहती रुक्मणि ….हर कविता गहरे भाव लिए हुए विभिन्न दृष्टि कोणों को सामने लाती है …इंसान तो इंसान भगवान की तरफ से भी उनकी भावनाओं को उकेर देती हैं ..इसका उदाहरण उनकी ..  हाय !ये मैंने क्या किया?   में देखने को मिलता है …कुछ और बानगी देखिये ..
"नैनन पड़ गए फीके"
सखी री मेरे
नैनन पड़ गए फीके
रो-रो धार अँसुवन की 
छोड़ गयी कितनी लकीरें
आस सूख गयी 
प्यास सूख गयी
सावन -भादों बीते सूखे 
सखी री मेरे
नैनन पड़ गए फीके

यहाँ श्याम रंग में डूबी मीरा जैसी ही लग रही हैं ….
"कमरों वाला मकान"
यूँ एक कमरा
फ़र्ज़ की कब्रगाह का था
कभी रोटियों में ढलता
कभी बर्तनों में मंजता
कभी कपड़ों में सिमटता
तो कभी झाड़ू में बिखरता
कभी नेह के दिखावटी
मेह में भीगता
कभी अपशब्दों की
मार सहता…
इस रचना में नारी के जीवन की त्रासदी को बखूबी लिखा है
पिंजरे का पंछी"
ये पिंजरा कौन सा है ............
ये है प्रेम का पिंजरा
ये है समर्पण का पिंजरा
भावनाओं का पिंजरा
अपने अस्तित्व का पिंजरा
त्याग का पिंजरा
अहसासों का पिंजरा

मन की भावनाओं के यथार्थ को बताती रचना है….
My Photo
सोनल रस्तोगी जी के ब्लॉग भ्रमण के बाद पता चला कि यह कविता ही खूबसूरत नहीं लिखती हैं कहानी भी बहुत संज़ीदगी से लिखती हैं …खैर यहाँ इनके काव्य की ही बात करें तो ..सभी कविताएँ बहुत भावना प्रधान होती हैं …कहीं लगता है कि दिल से मनुहार कर रही हैं तो कहीं थोड़ा उदास हैं ..कभी कल्पना में जीती हैं तो कभी यथार्थ धरातल पर …  लेकिन हर कविता में प्रवाह बना रहता है …

इस रचना में देखिये किस तरह मनुहार कर रही हैं ..सारे पल लिखो न 
लिखो ना .
पहली छुअन
हलकी सरसराहट
तेज़ साँसे
बेहद घबराहट
लिखो ना ....
और यहाँ कुछ खोने  की बेचैनी साफ़ झलकती है
ये हश्र एक रोज़ होना ही था
कितनी बेचैन गुजरी है रात
उमस भी हद से ज्यादा थी
पसीना और आंसू एक साथ बहे
घुटन जान लेने पर आमादा थी
तुम सोये सुकून से
हर रिश्ता तोड़ जो आये थे
यह रचना प्रेम- रस  में डूबी हुई है …
पहली बारिश और हम तुम...
सिमटे सिमटे
सीले सीले
आधे सूखे
आधे गीले
पहली  बारिश
और हम तुम
My Photoअविनाश चन्द्र की कविताएँ मात्र कविताएँ नहीं हैं ..हर कविता सोचने पर मजबूर करती हुई …क्षणिकाओं में इतनी गहरी बात कर जाते हैं कि लगता है सागर समाया हुआ है … बहुत सी कविताएँ माँ से शरू होती हैं और पिता पर खत्म …इनकी ऐसी रचनाओं को पढ़  कभी कभी सोचना पड़ जाता है कि एक बेटे की भावनाओं को समझने में कहीं माता - पिता गल्ती तो नहीं कर रहे ..हिंदी के शब्दों का विशाल भण्डार है  इनके पास …कई बार शब्दकोष का सहारा लेना पड़ जाता है .. आप भी ज़रा नज़र डालें …

सुनो स्वेद...

जो कंधे सूर्य-उजाले थे,
तुम बहते जहाँ मतवाले थे.
स्वयं उनका ही अवलम्ब नहीं,
देंगे क्या और प्रमेय तुम्हे.
बस एक धरा ना बदली है,
माँ है, वैसी ही पगली है.
बैजयंती पुष्प खिलाएगी,
दे कर जीवन का ध्येय तुम्हे.


क्षणिकाएँ..


परी..माँ...
कहती थी बेशकीमती,
होते हैं पँख,
आसमानी परियों के.
और एक साड़ी में,
निकाल देती थी,
वो पूरा साल
चोर आदतें...
एडियों के बल,
उचकने की आदत.
पिता जी की जेबों में,
जेबखर्च रखने की आदत.
माँ की तरह ही,
बासी चखने की आदत.
कुछ चोर आदतें,
ना बदलें तो अच्छा.

पूज्य-पूजन.

पेरूमल-पवान्ज-पदमज,
होंगे नितांत ऊपर,
श्रेष्ठ अपनी जगह.
किन्तु हे पनमोली,
कल्पों करूँ पूजित,
वह प्रणव-प्राण-प्रकाश,
तुम ही हो जननी.
अब आपको ले चलती हूँ इस सप्ताह के काव्य मंच पर जहाँ विभिन्न रचनाकारों की कविताएँ आपका मनोरंजन भी करेंगी और सोचने पर विवश भी ….ब्लॉग पर पहुँचने के लिए आप लिंक या चित्र पर क्लिक कर सकते हैं ….
मेरा फोटो
समीर लाल जी की एक बेहद खूबसूरत गज़ल 
मुद्दतों बाद…
मुद्दतों बाद उसे दूर से जाते देखा
धूप को आज यूँ ही नज़रें चुराते देखा

मुद्दतों बाद हुई आज ये कैसी हालत
आँख को बेवज़ह आंसू भी बहाते देखा

स्वप्न मंजूषा जी इस बार कह रही हैं कि डोंट माइंड …..  अजी यहाँ तो माइंड ही नहीं है …डोंट तो अपने आप ही हो जायेगा …वैसे अच्छा ख़ासा व्यंग कर दिया है  ……खैर आप पढ़िए

हम हैं इंडियन ...डोंट माइंड .
हम !
उम्र में अब क़ैद हो रहे हैं
देखो
हमारे बाल अब सफैद हो रहे हैं
कौन जाने
मियाद क्या है इस जिस्म की
अब तो
खून भी रगों में सफैद हो रहे हैं
मेरा फोटो
डा०  रूपचन्द्र शास्त्री जी नमन कर रहे हैं उन शहीदों को जिन्होंने अपनी कुर्बानी दे कर देश को आज़ाद करवाया था …आइये हम भी मिल कर उन सब शहीदों को नमन करें जिनके कारण आज हम आज़ाद भारत में साँस ले रहे हैं …




“… ..नमन है नमन!”
खूब सींचा जिन्होंने लहू से चमन,
उन शहीदों को मेरा नमन है नमन।


दिल में आजाद भारत की तसबीर थी,
दोनों  हाथों में दोधारी शमशीर थी,
कुछ के लब पे अहिंसा की ताबीर थी,
कितने वीरों ने कुर्बान की जान-ओ-तन।
उन शहीदों को मेरा नमन है नमन।।
My Photo
एम० वर्मा जी एक बहुत खूबसूरत गज़ल लाए हैं …

हो रही है चहलकदमी अजनबियों की~




रोज़ बामुश्किल यह शहर संभलता है
सांझ ढलते फिर धूँ-धूँ कर जलता है
.
हो रही है चहलकदमी अजनबियों की
खौफ़ के साये तले यह अब चलता है
[12012010005[7].jpg]मनोज कुमार जी बहुत से प्रश्न उठा रहे हैं स्वतंत्रता दिवस पर … यदि आपके पास उत्तर हो तो ज़रूर दीजियेगा

… क्या यही है स्वतंत्रता
हो तो गए स्वतंत्र, हमारी
क्या मिट सकी उदासी।
सैंतालिस के मध्य निशा की,
क्या हमको है याद ज़रा सी

बापू के सुन्दर सपनों का,
हमने ख़ूब किया अभिनंदन।
नाम कलंकित किया देश का,
टीक भाल पर ख़ूनी चंदन।
My Photo
शिखा वार्ष्णेय न जाने क्या- क्या करती रहती हैं
यूँ ही बैठे ठाले .  …पर बैठे ठाले भी बहुत गंभीर चिंतन कर डाला है …


इंसान को इंसान की आज चाह नहीं है
आज हमारे सीने में कोई उद्दगार नहीं हैं
क्योंकि इस देश में पत्थर पूजे जाते हैं.
धड़कते दिलों की कोई बिसात  नहीं है
राम को पूजने वालों
मुझे सिर्फ इतना बता दो
क्या राम के हाथों उद्धार पाने के लिए
तुम्हारा पत्थर होना जरुरी है
My Photoपारुल जी  इस बार एक     हूक!    ले कर आई हैं ….

वो बेवजह ही एक वजह होना
एक चाह......
न खुद में ही खुद का होना !
रोज आवाज देना
और कहना खुद से
रात होते ही ख़्वाबों को
बस सुला देना ….

ये मन का खंजर
इस से बेहतर है कि
इसको 'कलम' बना देना
ओम आर्य
ओम्  आर्य कविताओं की अहमियत को बताते हुए कह रहे हैं कि  

कवितायेँ बचाती है हरीतिमा




हर नयी कविता
जगह बनाती है
दूसरी नयी कविता के लिए
प्रकृति के हर जीव की तरह
कवितायेँ भी रखती हैं अपना बीज
स्वयं में हीं
और लगातार बचाती हैं हरीतिमा
 मेरा फोटो
प्रतिभा सक्सेना जी शब्दों की  धनी  हैं … इनकी लेखनी से एक से एक नायाब रचना निकलती हैं …
शिप्रा की लहरें » पर आप इनकी बेहतरीन रचना पढ़ सकते हैं ….
व्याध का तीर..

ये सब तो मात्र  मोहरे थे
यहाँ की चालों के .
इस महासमर की भूमिका
बहुत पहले से लिखी जाने लगी थी.

वंश न पांडु का,  न कुरु का.
बीज बो गया  धीवर-कन्या का पुत्र
भयभीत और वितृष्णामय परिवेश में ,
उन  विकृत संतानो इतिहास कितना चलता ?
जहाँ विवश नारी ,
पति का मुख देखे बिना

आँखों पर पट्टी बाँध
यंत्रवत् पैदा कर दे सौ पुत्र
My Photo
अनामिका जी इस बार  अलग ही रंग में है और सन्देश दे रही हैं …
वीरता को अपरिहार्य करो




सुसज्जित कर दो
संसार की
इस चित्रशाला को
अपने शौर्य से !


जो शूर हैं
वही...
सदियों तक
अमर रहे
इतिहास में..!
My Photoरंजू भाटिया का पढ़िए   बहाना 

कविता में उतरे
यह एहसास
ज़िन्दगी की टूटी हुई
कांच की किरचें हैं
जिन्हें महसूस करके
मैं लफ्जों में ढाल देती हूँ
My Photo
विभा रानी  बता रही हैं कि -  
क्या कुछ भी नहीं था हमारे पास?




तब हमारे पास फोन नहीं था,
बूथ या दफ्तर से फोन करके
तय करते थे- मिलना-जुलना
पहुंच भी जाते थे, बगैर धीरज खोए नियत जगह पर
अंगूठे को कष्ट पहुंचाए बिना.
मेरा फोटोहँस राज “सुज्ञ “ को सुबोध पर पढ़िए …. 
॥व्यर्थ वाद विवाद॥
बौधिक उलझे तर्क में, कर कर वाद विवाद।
धर्म तत्व जाने नहिं, करे समय बर्बाद॥1॥
सद्भाग्य को स्वश्रम कहे, दुर्भाग्य पर विवाद ।
कर्मफ़ल जाने नहिं, व्यर्थ तर्क सम्वाद ॥2॥

श्याम कोरी उदय जी अपनी रचना में कडुवा सच कह रहे हैं ..
इंसान कम ..... शैतान ज्यादा हो गया है




इंसान अब, इंसान कम,
हैवान ज्यादा हो गया है
हर गली - हर मोड पर,
शैतान बन कर घूमता है
क्या मिला उसको
वो जब तक इंसा था
हैवान जब से बना
तो सरेआम हो गया है
मधु गजाधर को पढ़िए पंजाब स्क्रीन पर .. मेरा देश .. में
देश छुट जाता है,
बाहरी रूप से ,
मगर देश नहीं छुटता
अंतर्मन से
क्यों होता है ऐसा
सिर्फ हमारे साथ,
हम भारतीयों के साथ,
कि किस्मत की हवा जहाँ भी ले जाए हमें
 
शोभना चौरे जी लायी हैं  इस बार …  नदी और चाँद




पूनम का चाँद
नदी के तल में ,
अपना प्रतिबिम्ब देखकर
गर्वित हो गया |
सितारों के झुरमुट के बीच
उसने
अपनी रौशनी और तेज कर दी ,
प्रीति बिष्ट सिंह अपनी दुनिया में बड़ी     असमंजस    में फंसी हुई हैं ….क्या चुनते और क्या छोडते …
जीवन की मझधार में देखो फंस गए,
अब क्या करे असमंजस में है पड़ गए.
किस राह का चुनाव करें,
किस विचार का समर्थन,
किस डगर के मुसाफिर बने,
चल रहा है दिल में मंथन.
My Photo
धर्म सिंह  अपने ब्लॉग बिन माझी की नाव पर लाये हैं …
तुम से रू-बरू होंगे ...!!!  चाँद को देख कर ज़िंदगी से रु – ब- रु  हो रहे हैं …


आज फिर
चाँद के जरिये
ऐ जिंदगी
तुम से रू-बरू होंगे ...
मीलों की धरातल की
दूरियां
सिमट के
शून्य होगी
My Photoसौम्या अपनी रचना में पूछना चाह रही हैं कि    क्या गलत है?   और पूछते पूछते जवाब भी दे रही हैं कि गलत आखिर है क्या ….

|क्या गलत है जो बिरजू घर-घर भीख मांगता है.



जब भूख लगती है ,तो  दिल बिलखता  है.                                       
महंगाई की मार में, सिर्फ बचपन बिकता है
क्या गलत है जो वो  मासूम ,यूँ दर-दर फिरता है 
My Photo
नीरज पाल अपनी कविता में  कहना चाह रहे हैं कि काश हम     आज़ाद परिंदे  होते …




कुछ आज़ाद परिंदे 



जब बेबाक हवा में उड़ते हैं 
मन हुक हुक कर जाता है 
कि काश हम परिंदे होते 
फैलाते अपने पंख 
थकने तक उड़ते रहते
प्रिया  को पढ़िए ….एक बहुत संवेदनशील रचनाजरा संभल के

तुम जो सुन लेते एक बार
तो कहाँ जा पाते दूर
कोई कमिटमेंट नहीं मांगती
बस! इतना कहती
" सुनो! आगे राहे पथरीली हैं
जरा संभल के "
My Photo
अनूप जोशी नए रचनाकार हैं ….आज की रचना एक बढ़िया कटाक्ष लिए हुए है ….प्रसिद्धि पाने के नुस्खे  बता रहे हैं ….अब मैंने तो थोड़ी इनकी शिकायत दूर करने की कोशिश की है ..बाकी आप जानिये ..


गालियाँ प्रसिद्ध बनाती है?
बिभूति नारायण राय ने
"छिनाल" शब्द का
प्रयोग कर दिया,
और रातो रात
अपने आप को
प्रसिद्ध कर दिया.
मेरे भाव »  पर पढ़ें कुछ अलग अलग रंग की रचनाएँ ….
हर तीली में
समाई है वही आग
जो करती है
प्रज्वलित पावन दीप
जलाती है चूल्हा
सुलगाती है अंगीठी
दहकाती है भट्टी
My Photoराज़ी शहाब अपने ब्लॉग आवाज़ दो हमको पर कह रहे हैं … 

जब हम तन्हा तन्हा

तुम्हें कुछ सुनाना चाहता हूं
कुछ बातें, कुछ यादें
उन दिनों की
जब हम मिले नहीं थे
मैं ने तुम को देखा था
दूर सितारों की बज़्म में
चमकता हुआ, बिलकुल चांद जैसे
अनुपमा  पाठक   द्वारा लिखी कविता पढ़िए.. इनका कहना है कि  परिस्थितियों को दोषी न ठहराते हुए कुछ करने का जोश होना चाहिए   
ऐसा हो ....! ("एक संकल्प ...एक सोच")
मान-अभिमान
से परे
रूठने-मनाने के
सिलसिले सा
कुछ तो भावुक आकर्षण हो!
My Photoदीपशिखा वर्मा  इन्तिहाँ  पर कुछ विद्युत  की बात कर रही हैं ….पढ़िए ज़रा यह    सर्किट  क्या है ?

एक सर्किट सा होता है जीवन ,
एक छोर से विघुत समरूप
जिंदिगी का प्रवाह ,
उर्जा का स्त्रोत कोई महीम
है जिसका खुद का कुछ
आंतरिक प्रतिरोध है .
इस बार  साखी   पर पढ़े   श्रद्धा जैन की गजलें

[१]
अज़ीब शख़्स था, आँखों में ख़्वाब छोड़ गया
वो मेरी मेज़ पे, अपनी किताब छोड़ गया
[२]
आँसुओं से सींची है, शायद ज़मीं ने फ़स्ल ये
क्या तअज्जुब पेड़ पर ये फल जो खारे आ गए
[३]
पलट के देखेगा माज़ी, तू जब उठा के चराग़
क़दम-क़दम पे मिलेंगे, मेरी वफ़ा के चराग़
[४]
हँस के जीवन काटने का, मशवरा देते रहे
आँख में आँसू लिए हम, हौसला देते रहे.
My Photoसी० एस० देवेन्द्र अपने ब्लॉग मेरी सोच, मेरी अभिव्यक्ति » पर  पर्यावरण से सम्बंधित एक अच्छी रचना प्रस्तुत कर रहे हैं … 

पेड़


मैं पेड़
धरती का श्रृंगार
मानो तो
सबसे बड़ा दातार.
सदा ही देता आया
तुम इंसानों को
पानी, हवा
फल, छाँव
आदि आदि.
My Photo
रानी विशाल  कुछ अंतराल के बाद  ब्लॉग जगत में सक्रीय हुई हैं …और लायी हैं कुछ न्यूयार्क के चित्र और एक भावपूर्ण कविता …

एक कविता और कुछ नए द्रश्य
उलझती जाती है
हर बात
उन यादों के
जंजाल में जैसे
जिन यादों को
बातों की ज़रूरत ही नहीं
My Photo
चर्चा के अंत में पढ़िए एक खूबसूरत गीत रावेंद्र रवि जी का …
तुम्हारी याद आती है
अनुपम नूपुर धुन सुनकर
स्वप्निल निंदिया
जब दूर कहीं
उड़ जाती है,
तुम्हारी याद आती है!
आज की  चर्चा इस मधुर गीत के साथ समाप्त करती हूँ …आशा है आज की चर्चा आपको पसंद आई होगी …आपकी अभिव्यक्ति ही हमारा मनोबल है ….अगले मंगलवार को कुछ व्यस्तता के कारण उपस्थित नहीं हो सकूंगी ….तो  फिर मिलते हैं एक ब्रेक  के बाद ……नमस्कार

40 comments:

  1. बहुत बहुत आनंद देती चर्चा |बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  2. चर्चा इतने सुन्दर ढंग से भी हो सकती है!
    देखकर आश्चर्यचकित हूँ!
    --
    बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर चर्चा की आपने संगीता दी...

    ReplyDelete
  4. सुंदर प्रस्तुति!


    “कोई देश विदेशी भाषा के द्वारा न तो उन्नति कर सकता है और ना ही राष्ट्रीय भावना की अभिव्यक्ति।”

    ReplyDelete
  5. सुंदर प्रस्तुति!


    “कोई देश विदेशी भाषा के द्वारा न तो उन्नति कर सकता है और ना ही राष्ट्रीय भावना की अभिव्यक्ति।”

    ReplyDelete
  6. जो चर्चा राजकुमार सोनी जी से शुरू हो और मनोज जी, सोनल जी , अविनाश चन्द्र आदि से सुसज्जित हो वह चर्चा नायाब तो होगी ही... राजकुमार जी कि कविताये सदा ही उद्वेलित करती हैं.. मनोज जी की कविता हमे १९४७ का स्मरण दिलाते हुए अपने जिम्मेदारियों की ओर उन्मुख करती है.. इस बीच "मेरेभाव" पर 'माचिस की तीली' अलग सी कविता लगी... बहुत सही कहा है कवियत्री ने ... "हर तीली में
    समाई है वही आग
    जो करती है

    प्रज्वलित पावन दीप
    जलाती है चूल्हा
    सुलगाती है अंगीठी
    दहकाती है भट्टी
    जो गलाती है लोहा
    बनाती है इस्पात
    भीतर की चिंगारी
    माचिस की एक तीली ."
    कुछ प्रतिस्थिक ब्लॉगर जैसे समीर लाल जी की ग़ज़ल चर्चा को नई ऊंचाई देती है.. संक्षेप में आज की चर्चा सार्थक और संवेदनशील रचनाओं का सुंदर गुलदस्ता है.. बधाई!

    ReplyDelete
  7. सबसे पहले मुझे चाह्र्चा मंच में ख्यातिप्राप्त रचनाकारों के बीच स्थान दे ने के लिए धन्यवाद.. आज की चर्चा में जो रचनाएं मुझे प्रभावित की उनमे.. राजकुमार सोनी जी , मनोज जी, अविनाश चन्द्र जी , देवेन्द्र जी, शोभना चौरे जी प्रमुख हैं. बाकि पोस्टें भी प्रभावशाली हैं... बधाई एवं शुभकामना सहित !

    ReplyDelete
  8. हर रोज नफरत, हिंसा, घृणा और धोखे पर धोखा देखने के लिए मजबूर हो चले रिपोर्टर को कोई इतना सम्मान और प्यार देगा तो वह तो मर ही जाएगा न...

    कैसे शुक्रिया अदा करूं संगीताजी आपका.

    वंदनाजी, मनोजजी, एम वर्मा साहब,समीरजी, शास्त्रीजी, अनामिकाजी, सोनलजी और मेरी फेवरेट शिखा जी सहित अन्य महत्वपूर्ण लोगों की रचनाओं के बीच आपने मेरी रचनाओं की जो चर्चा की है उसके लिए आपका आभारी हूं.
    अरूण सीराय जी की टिप्पणी भी मेरे लिए बहुत मायने रखती है.वे अच्छे इंसान है और मुझे बहुत चाहते हैं यह बात मैं अच्छे से जानता हूं.
    अपने उन पाठकों का भी शुक्रिया जो मुझे पढते हैं.

    ReplyDelete
  9. bahut acha laga pad kar....

    Meri Nayi Kavita par aapke Comments ka intzar rahega.....

    A Silent Silence : Ye Kya Hua...

    Banned Area News : Blair O Neal

    ReplyDelete
  10. संगीता दी
    आदरणीय नमस्ते
    आपका बहुत सुकर गुजार हूँ की आपने मुझे यहाँ स्थान दिया अब क्या कहूँ मेरे पास शब्द नहीं हैं
    कल तक मैं भी अनजान था और आज आपने मुझे यहाँ बड़े बड़े लोगों के बीच खड़ा कर के एक नईं पहिचान दी है
    कितनी सुन्दरता,कितनी मेहनत से सजाया है आपने चर्चा मंच को आप को बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  11. हर बार की तरह इस बार भी बेहतरीन प्रभावशाली चर्चा, संगीता जी ! आपकी चर्चा में पूरे चर्चा मंच से गुजरने के बाद महसूस होता है की किसी साहित्य ग्राम से घूम कर आये है !

    ReplyDelete
  12. आज की चर्चा बहुत ही प्यारे प्यारे रंग लिये है……………यही तो आपकी खासियत है कि हम जैसे आम इंसान को भी खास बना देती हैं……………मुझे खास स्थान देने के लिये आपकी आभारी हूँ……………आपने तो मुझे कुछ कहने लायक ही नही रखा……………बेहद शुक्रिया…………………बाकी चर्चा तो हमेशा की तरह बेहद उम्दा……………काफ़ी लिंक्स जो रह गये थे वो भी मिल गये……………आभार्।

    ReplyDelete
  13. bahut accha laga is kavya manch mein shameel ho kar!
    aapke liye bas itna hi kahenge ki...u have done a great job!
    The real great man is one who makes everyone feel great .....
    sangeeta ji, u are definitely one of them!
    meri rachna ko is manch par prabuddh rachnakaron ke saath sthan dekar aapne abhibhut kar diya...
    sabhi rachnaon ko padhna visisht anubhav tha...
    aapko dher sari badhai... itne logo ko bandh diya.... prerna ke sutra se!
    "yah sangeetmay aabha se purna swaroop uttarottar nikhre!
    aapki mala sugathit bani rahe..
    hain bhaav jaroor bikhre!!"
    regards,

    ReplyDelete
  14. बहुत ही बढ़िया चर्चा...इतने दिन नेट से दूर रहने का कोई अफ़सोस नहीं हुआ...सारे अच्छे लिंक्स मिल गए..शुक्रिया

    ReplyDelete
  15. सुन्दर ,सुव्यवस्थित,रोचक ये तीन गुण हमेशा पाए जाते हैं आपकी चर्चा में और इसी कारण पूरी चर्चा घोट कर पी जाने का मन करता है :)
    बहुत अच्छे लिंक्स मिले दी !

    ReplyDelete
  16. सुंदर काव्यमाला निरुपित की गई है।
    हर पुष्प का एक अनुठा रंग,सुगंध और रूप विश्लेषित हुआ है। इस चर्चा के लिये आभार!!

    ReplyDelete
  17. मैं क्या कहूँ?
    योग्य नहीं हूँ, सो मौन हूँ....

    ReplyDelete
  18. शायद चिट्ठा चर्चा भी अब आपकी चर्चा के कारण चर्चा में आ रहा है पहली बार ..
    अनूठा अन्दाज कविताओं के लिंक के साथ -- कवि हृदय ही प्रस्तुत कर सकता है
    बधाई इतने सुन्दर चर्चा के लिये

    ReplyDelete
  19. संगीता जी
    आम को खास बना देती है चर्चा मंच में हमारी रचना शामिल करके आप |
    सुंदर तरीके से चर्चा मंच सजाया है और हमे भी उसमे स्थान दिया है बहुत बहुत आभार |

    ReplyDelete
  20. ma'm me naraj nahi tha. fir bhi dhnyabad.aaapne jo mujhe bade bade logo ke bich jagah di.

    thanks...........
    bahut khoob...................

    ReplyDelete
  21. तुमने जो गागर में सागर भरा है उसमें ढेरों मोती मिले और उन मोतियों की माला पिरो ली है मैंने रोज रोज उनको पढ़ा करूंगी. एक दिन में तो सब नहीं पढ़ सकती .

    ReplyDelete
  22. कुछ व्यस्तताओं के चलते ब्लॉगजगत को जरुरी समय न देने का अफसोस रहता है. यहाँ भी देर से ही आ ही पाया और देख रहा हूँ कितने ही लिंक अभी देखना बाकी है. आपका आभारी हूँ..यहाँ सब एक साथ मिल गये, अब उन ब्लॉगस पर आराम से जाता हूँ.

    विस्तृत और उम्दा चर्चा. आभार.

    ReplyDelete
  23. aadarniya,

    pehli baar charchamanch dekha..bahut acha laga.....apne charcha me har tarah ke vishay shaamil kar gaagar me saagar jaisa laabh pradaan kiya hai...

    sath me apne meri rachna "paid" ko yaha pratishthik rachnakaro ke beech rakha yah mere liye harsh ka vishay hai....iske liye bahut bahut aabhar......yah mere aatm wishas ko bhi badhayega...

    aasha hai aage bhi ache ache sangrah charcha me padhne ko milte rahenge....

    ReplyDelete
  24. मूलत: कवितामयी चर्चा अच्छी लगी.

    ReplyDelete
  25. बहुत सुंदर चर्चा.

    रामराम.

    ReplyDelete
  26. आपकी चर्चा का हमेशा इंतज़ार रहता है. सुव्यवस्थित चित्रण के साथ साथ नए ब्लोग्गर्स की भी अच्छी अच्छी चुनिन्दा कविताये आप ही के काव्य मंच पर मिलती हैं.

    आपको इस से भी अधिक प्रसिद्धि मिले यही मनोकामना है.

    आभार इस सुंदर और रोचक चर्चा के लिए.

    ReplyDelete
  27. बहुत अच्छी चर्चा।

    ReplyDelete
  28. जीवन के विविध रंगों से रँगी ,सुन्दर कविताओं का चयन किया है संगीता जी,आपने.
    इतने अधिक ब्लाग्ज़ हैं कि मुश्किल लगता है कहाँ जाएँ और कैसे थाहें- इन सुरुचिपूर्ण चर्चाओं से एक दिशा मिल जाती है.इन रचनाकारों को पढ़ना अच्छा लगेगा .

    ReplyDelete
  29. काफ़ी मेहनत से तैयार की गई सुंदर चर्चा।

    ReplyDelete
  30. हम भी देर आये लेकिन दुरुस्त आये....चर्चा का हिस्सा बनकर अच्छा लगा
    यूँ इस तरह शब्द विचारो का तार खींचकर आपको अपनी सीमाओं में बाँध लेते हैं.
    जों और जितना पढ़ा .....दिल को छुआ है

    ReplyDelete
  31. एकल चर्चा में सर्वथा योग्य कवियों को चुना आपने सभी कवियों को बधाई..... अन्य कवितायें भी ज़ोरदार रहीं..

    ReplyDelete
  32. संगीता जी,
    मैं शुक्रगुजार हूँ चर्चामंच का, जहाँ meri panktiyon ko itni ahamiyat dee jaati hai. aur aapka vishesh roop se ki har kavita pe aapki najar tainaat hoti hai jaise kisi aashik का apni mahbooba pe. saadhuvaad. मैं kai baar nahi aa pata aap logon का hausla badhane, par dil se hamesh anugrahit mahsoos karta हूँ.

    ReplyDelete
  33. संगीता जी ,
    देर से आने के लिए क्षमा चाहती हूँ, इतना प्यार और अपनापन मिल रहा है आप सब से की लगता है शुक्रिया बहुत छोटा शब्द है, आपकी चर्चा ऑनलाइन कविसम्मेलन का एहसास देती है जहाँ आप सार्थक रचनाये पढ़ सके..

    ReplyDelete
  34. sangeeta ji bahut bahut shukriya,der se aane ke liye maafi chahungi!

    ReplyDelete
  35. बहुत सुन्दर चर्चा बहुत-बहुत शुभकामनाएँ सभी कवियों को बधाई

    ReplyDelete
  36. आपकी मेहनत की जितनी भी दाद दी जाए , कम है ..
    हर बार बेहतर लिंक्स ढूंढ लती हैं आप ...
    बहुत आभार ...!

    ReplyDelete
  37. Sundar aur vayavshtit charcha....apani charcha main meri rachana ko isthaan dene ke liye dhanywaad.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin