Followers

Sunday, October 17, 2010

रविवासरीय चर्चा (१७.१०.२०१०)

 

 

 

 

 

नमस्कार! आज महा नवमी है। एक तो नवरात्र की पूजा। दूजे अपनी सोसायटी की दुर्गा पूजा, तीजे शाम में हवन, चौथे घर के लोगों को कोलकाता के प्रसिद्ध पंडाल घूमाने ले जाना, इस सब के बीच चर्चा के लिए इससे ज़्यादा समय नहीं निकाल पाया। आसानी होती अगर मेल आते। पर इस मंच के पाठकों ने मेरे सुझाव को निरस्त कर दिया।

 

 

अब जितने लिंक थे उनमें से ये पांच पोस्ट इस संक्षिप्त चर्चा में प्रस्तुत कर रहें हैं। पोस्ट पर जाने के लिए इमेज को क्लिक करें।image

   image imageimageimage

11 comments:

  1. बढ़िया रही पर्व विशेष की यह चर्चा!
    --
    विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन अभिव्यक्ति !

    विजयादशमी की बहुत बहुत बधाई !!

    ReplyDelete
  3. चर्चा मंच पर बॉस डे की जानकारी नई है.धन्यवाद.
    दशहरा की हार्दिक शुभकामनायें. .

    कुँवर कुसुमेश
    समय हो तो कृपया ब्लॉग:kunwarkusumesh.blogspot.com पर मेरी नई पोस्ट देखें

    ReplyDelete
  4. ये चर्चा भी बढिया रही।
    आजकल तो ऐसी ही चर्चा करनी पडेगी त्योहार जो हैं।

    ReplyDelete
  5. अच्छी चर्चा ,आभार

    ReplyDelete
  6. सभी को
    विजय दशमी की
    हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन चर्चा रही .
    विजयदशमी कि शुभकामनाये.

    ReplyDelete
  8. विजय दशमी की शुभ कामनाएं |अच्छी लिंक्स के लिए बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  9. दशहरा की शुभकामनाएं॥

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...