चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Tuesday, December 21, 2010

"साप्ताहिक काव्य मंच" (चर्चा मंच-375)

आज बहन संगीता स्वरूप जी के अनुरोध पर
मैं भी मंगलवार का साप्ताहिक काव्य मंच
आपके अवलोकनार्थ प्रस्तुत कर रहा हूँ!
--------
प्रियंका राठौर
My Photo
*सूत्रधार ने रचा जब उसको ,* *सोचा नया जीवन संसार बनाएगी ,*
*अपने आँगन का फूल बन * *दुनिया को महकाएगी .....
* *लेकिन आई बिटिया धरा पर * *बनकर परायी अमानत ...
------------------
- *अनजाने ही में इक पहचानी सड़क से गुजरी* *यूँ लगा तेज़ हवा ने पुराने पन्ने पलट दिए * *और सालों पहले की इक तारीख* *आँखों के सामने आ गयी * *आज सालों बाद फिर उस...
------------------
दिगम्बर नासवा
- साथियो ये मेरी इस साल कि अंतिम रचना है ... २३ दिसंबर से १ जनवरी तक दिल्ली, फरीदाबाद की सर्दी का मज़ा लूटूँगा ... आप सब को नया साल बहुत बहुत मुबारक ... त...
------------------
*रश्मि प्रभा *
- ख़ुशी भी दुःख का कारण बनती है
आशीर्वाद भी बोझ बन उठता है
जीना मुझे है या उसे
बहुत बड़ा प्रश्न बनता है
------------------
वन्दना गुप्ता
मेरा फोटो
जो तुम्हारे लिये लिखा गया
जिसे पढने की समझ
सिर्फ़ तुम जानते हो
जिसकी भाषा का हर शब्द
तुम्हारी अंतरआत्मा की अभिव्यक्ति है
मगर कहती मै हूँ...
------------------
अरविन्द जांगिड़
My Photo
- पुरातन गवाहों से,अमर प्यार को शापित कर,मंदिर को मस्जिद से लड़ा चले, ये हम कहाँ चले। क्षेत्रवाद नहीं,रास्ट्रवाद के नाम पर,कितना खून मासूमों का,यू ही हम बहा...
------------------
के.एल.कोरी
मेरा फोटो
- तन्हा तन्हा सा हुआ हर मंजर तेरे बगैर वीरान सा दिखता है अब ये घर तेरे बगैर जर्द जर्द सा है मौसम, घटाएं सीली सीली धुंआ धुंआ सी लगे है शामो सहर तेरे बगैर ...
------------------
मनोज कुमार
मन की बात कही न उनसे बस मन में ही छिपाए रहे.
द्वार कभी न आए वो मेरे, हम पलकें ही बिछाए रहे. ...
------------------
ज्ञानचन्द "मर्मज्ञ"
मेरा फोटो
गिर पड़े आसमाँ न ज़मीं पर,
अब सुनाता हूँ मैं वो कहानी!
सुन सकोगे जो मासूम चीख़ें,
सूख जाएगा आँखों का पानी!
------------------
सोमेश सक्सेना
मेरा फोटो
सूर्य का ढलना
प्रतीक है इस बात का
कि हमेशा नहीं रहता
दिन का उजाला ....
------------------
पवन कुमार मिश्र
याद है उस दिन इसी जगह
जीभर के हमने देखा था
संध्या को अंगड़ाई लेते
इक टहनी पर चाँद टंगा था.....

------------------
राजेन्द्र स्वर्णकार
मेरा फोटो
ग़लत दिशा मत जा बंधु !
राह सही अपना बंधु !
जग जैसा है, वैसा हैतू कैसा बतला बंधु !
कौन पराया अपना है सोच-फ़िकर बिसरा बंधु !...
------------------

नीलेश माथुर

My Photo

गुज़ारिश


मेरी मौत पर
आँसू मत बहाना
जश्न मनाना,
जिक्र जब भी हो मेरा
तो मुस्कुराना, ....
------------------
अख़्तर खान अकेला
My Photo

यह आंसू ....

यह फ़क़त
पानी के
कतरे नहीं
आंसू हें मेरे
------------------
महेन्द्र वर्मा
My Photo
आप भी
‘ग़र अकेले ऊब जाएं आप भी,
आईने से दिल लगाएं आप भी।
देखिए शम्आ की जानिब इक नज़र,
ज़िदगी को यूं लुटाएं आप भी। ....
------------------
महेश बारमाटे

वो चाँद सा मुखड़ा…

वो प्यारा सा मुखड़ा,
जैसे चाँद का टुकड़ा…
आँखों में नींदें भरा,
अपने “Bag” को सिरहाना बना…
सो रही है वो, यूँ नींद की आगोश में,
जैसे डूबी हो वो, किसी गहरी सोच में…
------------------
babanpandey
मेरा फोटो

हिसाब

आंखों में आँखें डालकर बोलना
६२ साल तक तुमने क्या किया
वतन झुलस रहा है , मेरे दोस्त
इसीलिए,अब तुमसे हिसाब मांगते है ...
------------------
अपणा सगला भगतां री पत राखन हालो,
निज भगतां पे गहरी महर लुटावन हालो,
माता मोरवी रो लाल खाटू हालो
श्यामधणी जी री बात ही सबस्यूं निराली ह...
साँचो साँचो म्...
------------------
संगीता स्वरूप

समस्या और गोष्ठी ….

प्रदूषण की समस्या पर
सरकार कितना हल्ला मचा रही है
लाउडस्पीकर पर चिल्ला चिल्ला कर
ध्वनि प्रदूषण बढा रही है
------------------
ऐ हवा इतना न इतरा, तू बड़ी नादान है*
*आँधियों में भी जलेंगे, जिन दियों में जान है* *
* *गूँजती है कोहसारों में, फ़क़त तेरी सदा*
*हमनवा कोई नही, तू किसलिए हैरान...
------------------
"काँटों में भी मुस्काते हैं"
*काँटों में भी मुस्काते हैं।*
*सबके मन को बहलाते हैं।।*
*नागफनी की शैया पर भी,*
*ये हँसते-खिलते जाते हैं।*
*सबके मन को बहलाते हैं।। *....
------------------
अनुपमा पाठक
वाक्य में विराम सा विस्मृत
किसी नाम सा गढ़ता नयी कहानी
कोई समय चलायमान रहा!
कब कितने पड़ाव छूटे कुछ हुए
पूरे कुछ सपने टूटे
सारे जोड़ घटाव के बीच समय ही...
---------------------

मेरा फोटो

(समीर लाल "समीर")

कैक्टस

एक उन्माद

cactus

उम्र के उस पड़ाव मे

उगा लिया था

हथेली पर

एक कैक्टस...

-------
डॉ.सिद्धेश्वर सिंह

अन्ना अख़्मातोवा की कविता
संध्या समय
(अनुवाद : सिद्धेश्वर सिंह)

उपवन का संगीत बजता है मेरे भीतर
और पूरित कर देता है अवर्णनीय उदासी से
उत्तरी समुद्रों से आने वाली तीखी हवा
बर्फ में जमी हुई सीपियों में
प्रवाहित कर देती है ताजेपन की सुवास.
------------------
अनिल कुमार अक्श
My Photo
सुबह कि शांत आभा से कोई, मिलकर बताये तो ।
चहकते पंक्षियों का कुछ, चहकना भी सुनाये तो ॥
अगर इतना ही मुस्किल है, नज़र हो फेर कर बैठे ।
झुकी रहने दो इनको बस, कोई...
------------------

Er. सत्यम शिवम

My Photo
अश्रु से सींचित, ह्रदय फूल की,
माला गूँथ मै लाया हूँ।
श्रद्धा के धागों में पिरोकर,
भक्ति उपहार बनाया हूँ।
आज प्रभु तुमको तो आकर,
करना होगा माला स्वी...
------------------
आशा
मेरा फोटो
- सुरमई आंखों क़ी स्याही ,
फीकी पड़ गयी है ,
गालों पर लकीर आंसुओं क़ी ,
बहुत कुछ कह रहीं हैं ,
ना तो है धन क़ी कमी ,
ना ही कमजोर हो तुम ,
फिर भी घिरी हुई , कितन...
------------------
My Photo
देखते जाना बराबर ज़िन्दगी में,
क्या लगा कैसा कहाँ पर ज़िन्दगी में.
दौरे-हाज़िर में हरिश्चंद वो हुआ...
--------------
हेमन्त वैष्णव
- बस्‍तर लोक के चितेरे हरिहर-
खेम वैष्‍णव को हर वो शख्‍श जानता है
जो छत्‍तीसगढ़ के बस्‍तर से प्रेम करता है।
बस्‍तर संस्‍कृति, भाषा व परम्‍पराओं के दस्‍तावेजीक...
-------------------
आज के लिए बस इतना ही-
अगले मंगलवार तो संगीता स्वरूप
साप्ताहिक काव्य मंच सम्भाल ही लेंगी!

27 comments:

  1. शहर से बाहर रहने के कारण कल कहीं जाना नहीं हो पाया था। आज आपने एक साथ इतने अच्छी पोस्टो और महत्वपूर्ण सामग्री दे दी है कि सारा दिन अच्छा बीतेगा।
    हमारी ग़ज़ल को मंच पर स्थान देने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  2. बहुत ही अच्छा और सारगभित रचनाओ का संकलन है//
    मयंक जी ,आपका आभारी हूँ ....मेरी कविताओ का पाठक वर्ग बढ़ गया है /
    स्नेह बनाए रखे /

    ReplyDelete
  3. बढ़िया लिंक मिले हैं शास्त्री जी , आभार !

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर चर्चा शस्त्री जी.. !! लिक्स अच्छे .. संगीता जी कहाँ ई .. ? शुभदिवस

    ReplyDelete
  5. आदरणीय शास्त्री जी,
    अच्छे लिंकों से सजा आज का चर्चामंच बेमिसाल है !
    मेरी कविता को चर्चामंच के पाठकों के आशीर्वाद के योग्य समझ कर उसे मंच पर स्थान देने के लिए धन्यवाद !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  6. शास्त्री जी बहुत बहुत धन्यवाद......मेरी कवीता "प्रभु तुमको तो आकर" को आज के चर्चा मंच का हिस्सा बनाने हेतु......बस यूँही अपना आशीर्वाद बनाये रखे।

    ReplyDelete
  7. शास्त्री जी बहुत ही सुन्दर काव्य मंच सजाया है जब से आयी हूँ यही पढा है सभी एक से बढकर एक रचनाये हैं…………आभार्।

    ReplyDelete
  8. श्री रूप चंद्र शास्त्री जी का पुनः आभार... जिन्हीने राजस्थानी भाषा में श्री श्यामधणी के श्री चरणों में समर्पित हृदय के भावों को चर्चा मंच के माध्यम से सभी प्रभु प्रेमियों तक तक पहुचाया...

    !! जय श्री श्याम !!

    ReplyDelete
  9. सुन्दर चर्चा, हार्दिक आभार!

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर पोस्टें पढ़ने को मिलीं.मुझे स्थान देने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  11. charcha ka naya andaj bahut hi sarthak laga .bahut sare naye links mile hai .badhai v aabhar .

    ReplyDelete
  12. सुन्दर चर्चा!
    आभार!

    ReplyDelete
  13. लाजवाब और सुन्दर चर्चा शास्त्री जी ... मुझे शामिल करने का भी शुक्रिया ...

    ReplyDelete
  14. परिश्रम से सजाई गई इस काव्य महफिल में बहुत सी अच्छी रचनाओं को पढ़ने का अवसर मिला।
    चर्चामंच में मेरी ग़ज़ल को भी स्थान देने के लिए आपके प्रति हृदय से आभार।

    ReplyDelete
  15. परिश्रम से सजाई गई इस काव्य महफिल में बहुत सी अच्छी रचनाओं को पढ़ने का अवसर मिला।
    चर्चामंच में मेरी ग़ज़ल को भी स्थान देने के लिए आपके प्रति हृदय से आभार।

    ReplyDelete
  16. डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ji...bahut pyaare links mile..specially..KK ji..ki rchnaa bahut psnd aayi..
    @दिगम्बर नासवा ji..aapki post bahut achi hain..aapki sardioyon ki lutf ke liye shubhkaamnaaye...:)
    @Vandna ji..मै मौन का वो शब्द हूं ...bahut hii gehree soch dikhaayi dii aapki lekhni me
    @Sangeet di....jitnaa marzii cheekh chilaa lo...hmaare desh me jaane kab kaagjon se nikal ke solution asal zameen pr laagu honge...hmaari authority ke paas itna paisa aata he in sab cheezon ke liye pr...jaane wo..kis pradishan ko htaane me nikal jata he..........:X
    @Sameer ji.........hmmm.ab kaante draate hain......wowww....kitne kam shabdon me kitni gehari baat keh di aapne......
    @Satyam Shivam ji...aapki rchnaa..pr ke chehre pe muskaan ho aayi...aur dil bol uthaa...JAY MATA DI....pyaari bhaawmayi rchnaa..mata rani aapko khushaal rkhe
    @Mahesh ji....achi rchna he...pr mujhe in do lines ne bahut aakrshit kiyaa..वो प्यारा सा मुखड़ा,
    जैसे चाँद का टुकड़ा...:)..:)
    *******************\
    शस्त्री जी.....
    aapne bahut hii bdhiyaa links se mulakaat krwaaayi....aapka tah e d il se dhnaywaad..
    mujhe shaamil krne ke liye aabhaari hun...

    take care

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर चर्चा है ..चर्चा में काफी अच्छे लिंक सहेजे हैं .... आभार

    ReplyDelete
  18. तारीफ के लिए शब्द नही है!

    ReplyDelete
  19. @venus....bhut bhut dhanyawaad....sab sai kripa hai.......om sai maa...

    ReplyDelete
  20. सुन्दर चर्चा!
    आभार!

    ReplyDelete
  21. आज की खूबसूरत और सुगठित चर्चा के लिए आभार ....बहुत अच्छे लिंक्स हम तक पहुंचाने के लिए शुक्रिया

    ReplyDelete
  22. डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक जी धन्यवाद...
    जो आपने मेरी कविता को चर्चामंच में स्थान प्रदान किया..
    आज मैं अत्यंत प्रसन्न हूँ कि मेरी कविता पाठकों का दिल जीतने लगी हैं...
    कृपया १ बार मेरे ब्लॉग को जरूर पढ़ें... http://mymaahi.blogspot.com/
    और
    http://meri-mahfil.blogspot.com/

    ReplyDelete
  23. थोडा लेट हो गया मुआफी.....
    पूरे भाव प्रवणता के साथ प्रस्तुतीकरण के लिए शास्त्री जी को हार्दिक बधाई
    चर्चा मंच को पढने के बाद सारे ब्लॉगजगत को पढने की जरूरत नहीं रहती
    मुझे भी इस जगह के काबिल समझने का शुक्रिया

    ReplyDelete
  24. शास्त्री जी बहुत बहुत धन्यवाद......मेरी कवीता को चर्चा मंच का हिस्सा बनाने हेतु......बस यूँही अपना आशीर्वाद बनाये रखे।

    ReplyDelete
  25. क्षणिका लिखने का पहली बार प्रयास किया और आपने आरम्‍भ से चर्चामंच में स्‍थान दिया जिसके लिए आभार लिखने का उत्‍साह दुगुना हुआ

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin