समर्थक

Sunday, December 05, 2010

रविवासरीय चर्चा (०५.१२.२०१०)

 

 

नमस्कार मित्रों!

 

 

 

 


मैं मनोज कुमार एक बार फिर हाज़िर हूं रविवासरीय चर्चा के साथ। लीजिए पेश कुछ मेरे चुने हुए लिंक्स और एक लाइना।

१. shikha kaushik कहती हैं

महिला आरक्षण नीति :: का मुख्य लक्ष्य आज ''महिलाओं को राजनैतिक रूप से सशक्त '' करने का है।

 



२. ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ का कहना है

...उन्‍होंने टोने-टोटकों, तंत्र-मंत्र और जादुई शक्तियों के द्वारा मुझे हजार बार नष्‍ट किया। :: मैंने बहुत से मानसिक रोगियों को, जिनमें प्रेत आता था, ठीक किया है।

३. डॉ.कुमार गणेश 369 लेकर आए हैं इस बार की रिलीज फ़िल्में ::: खट्टा-मीठा :: यहाँ जो भविष्यवाणी करते हैं,वह सिर्फ़ बॉक्स ऑफिस के सन्दर्भ में ही होती है|



४. Indranil Bhattacharjee ........."सैल" का चैलेंज है

राम को राज दिलाकर देखो ::

छोड़के बात समझदारी की ।

जोश में होश गवांकर देखो ॥

५. शिक्षामित्र बता रहे हैं

गुरमति संगीत को नया जीवन दे रही है पंजाब यूनिवर्सिटी :: भाई रणधीर सिंह ऑन लाइन गुरमति संगीत लाइब्रेरी की वेबसाइट लांच की है जिसके जरिए देश-विदेश में इस संगीत से जुड़े व इच्छुक लोग वेबसाइट का लाभ उठा सकेंगे।

६. Vijai Mathur का क्रांति स्वर पढिए ज्योतिष और अंधविश्वास:: ज्योतिष व्यक्ति क़े जन्मकालीन ग्रह -नक्षत्रों क़े आधार पर भविष्य कथन करने वाला विज्ञान है, यह  कर्मवादी बनाता  है -भाग्यवादी नहीं।

७. (title unknown)  के तहत

सुशील बाकलीवास पूछते हैं

क्या हम ऐसे ही हैं  ? :: हम विपरित स्थिति में होते हैं तो अलग होते हैं और अधिकार वाली स्थिति में होते हैं तो अलग होते हैं ।

८. Anita को बताइए

कैसा है वह :: शशि, दिनकर नक्षत्र गगन के, धरा, वृक्ष, झोंके पवन के!

९. mridula pradhan ने देखा फैशन शो में......... ::

औंधे मुंह गिर गयी शर्म, पल्लू बाहर रोता था, ध्वस्त हया की सिसकी पर जब , 'कैट-वॉक' होता था!!

१०. यह है

सम्वेदना के स्वर

सनसनीखेज भांडिया टेप - एक्स्क्लूसिवली इसी ब्लोग पर :: अरे तू उन टेप्स को लेकर अभी तक परेशान है...ये सब तो कैरियर का पार्ट है!!

११. कुमार राधारमण बताते हैं विपश्यना से खिलता है मन का कमल :: अगर आप शरीर के तल पर, मन के तल पर और हृदय के तल पर, सब प्रकार की भावनाओं के तल पर होश में बने रहे तो आपका साक्षी-भाव परिपक्व हो जाएगा और चौथी भावदशा को उपलब्ध हो जाएंगे।

१२. वन्दना जी क्या कहा आपने, “हाँ , मैंने गुनाह किया” ::

हाँ , मैंने गुनाह किया जो चाहे सजा दे देना!!!



१३. Kirtish Bhatt, Cartoonist लेकर आए हैं

कार्टून: उल्लू का पट्ठा !! :: दिखने में लगता है हट्टा-कट्ठा।

१४. anshumala पूछती हैं

कही अनजाने में आप अपने शब्दों से बलात्कार पीड़ित का दर्द तो नहीं बढ़ा रहे है - - - - - - :: आशा है सभी पाठक सकारात्मक रूप से लेंगे यदि मेरी सोच में कही कोई गलती हो तो मेरा ध्यान अवश्य दिलाइयेगा!

१५. मनोज कुमार का विचार-७९ :: मोनिका तुझे सलाम! :: मोनिका ने आज जो किया, उसका यह साहस अनुकरणीय और वंदनीय है!!

१६. रेखा श्रीवास्तव लेकर आई- चोर चोर मौसेरे भाई ! :: हमें अपनौ काम करन देव और तुम अपनौ करो. हम तुम्हें न पकरहै और न तुम हमें पकरो.

१७. करण समस्तीपुरी हैं आज फ़ुरसत में …. एक समसामयिक पोस्ट .. ऐसे थे राजेंद्र बाबू :: आज फुर्सत में बैठे तो याद आया कि कल देशरत्न डॉ राजेन्द्र प्रसाद का जन्मदिवस था।

१८. देखिए यहां पर डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) का 

"दामाद" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक") ::

सास-ससुर की छाती पर, बैठा रहता जामाता है।।

धूर्त भले हो किन्तु मुझे, दामाद बहुत ही भाता है।।



१९. प्रवीण पाण्डेय की खोज

7 लेखक, 36 पुस्तकें, एक सूत्र :: प्रभु। मान लिया कि पढ़ने में रुचि है, पर उसका यह अर्थ तो नहीं कि अब पुस्तकों के माध्यम से वही बात बार बार संप्रेषित करते रहोगे !

२०. तिलक रेलन की प्रस्तुति
खुदीराम बोस :: भारत को कुचल रहे ब्रिटिश पर जो पहला बम था, इस राष्ट्र नायक ने फैंका था!!

२१. त्रिपुरारि कुमार शर्मा लेकर आए हैं
मैथिली कथाकार हरिमोहन झा के पत्र :: सिमरिया में मिलने पर चुपचाप दे दूँगा। बस कोई जाने नहीं। मेरे बाप को पता चलेगा तो खर्चा बंद कर देंगे।



२२.

टॉल्सटॉय,गोर्की और यह नन्हा दिमाग :(

shikha varshney का :: रूस की सबसे बड़ी और विश्व की तीसरी सबसे बड़ी ….!

अब चाय का क़र्ज़ भी तो निभाना होता है ना .:) बाकी चाय ब्रेक के बाद ...:) 



आज बस इतना ही, अगले हफ़्ते फिर मिलेंगे।

    

19 comments:

  1. अरे वाह.. बहुत सुन्दर चर्चा.. लाजवाब..लिंक अच्छे है.. अभी लिंक देख रही हूँ.. सादर धन्यवाद..

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा आभार.

    ReplyDelete
  3. अरे वाह!
    आज की चर्चा तो बहुत शानदार रही!

    ReplyDelete
  4. sangathhit-susajjit charcha.achchhe links.aabhar .

    ReplyDelete
  5. कई सुन्दर लिंक पढ़ने को मिलीं आपके माध्यम से।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर चर्चा ... मेरी रचना को शामिल करने के लिए शुक्रिया ...
    अंत में कार्टून भी बढ़िया है ....

    ReplyDelete
  7. बहुत ही अच्छे लिंक्स, आभार।

    ReplyDelete
  8. सभी अच्छे लिंक जानकारी में लाने के लिये आभार...
    इनकी लिंक सेम विंडो में खुलने की बजाय यदि अलग विंडो में खुलने लगे तो इन्हें पढना अधिक आसान हो सकेगा ।
    मेरी लिंक title unknown की बनिस्बत ब्लाग 'नजराना' और लेख 'क्या हम ऐसे ही हैं ?' के रुप में भी देखी जा सकती है ।

    ReplyDelete
  9. सभी अच्छे लिंक जानकारी में लाने के लिये आभार...
    इनकी लिंक सेम विंडो में खुलने की बजाय यदि अलग विंडो में खुलने लगे तो इन्हें पढना अधिक आसान हो सकेगा ।
    मेरी लिंक title unknown की बनिस्बत ब्लाग 'नजराना' और लेख 'क्या हम ऐसे ही हैं ?' के रुप में भी देखी जा सकती है ।

    ReplyDelete
  10. वाह वाह आज की एक लाईना चर्चा बहुत ही शानदार रही…………काफ़ी अच्छे लिंक्स मिले……………आभार्।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर सार्थक चर्चा ...स्वागत और विदाई देते चित्र अच्छे लगे ...लिंक्स काफी मेहनत से सहेजे हैं ..आभार

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर चर्चा.

    ReplyDelete
  13. mehnat ke sath prastut ki gayi sarthak charcha .mere aalekh ko charcha me sthan dene ke liye dhanywad .

    ReplyDelete
  14. सुन्दर ,आकर्षक चर्चाएँ.

    ReplyDelete
  15. सुन्दर चर्चा!
    सादर!

    ReplyDelete
  16. भाषा,शिक्षा और रोज़गार ब्लॉग की पोस्ट लेने के लिए आभार। अन्य महत्वपूर्ण पोस्टों से भी अवगत हुआ।

    ReplyDelete
  17. स्वास्थ्य-सबके लिए ब्लॉग आपका आभारी है।

    ReplyDelete
  18. अच्छी चर्चा। आज अचानक चर्चा मंच की पहली पोस्ट ईमेल में मिली। १८ दिसम्बर को चर्चामंच के जन्मदिवस की अग्रिम बधाई:)

    ReplyDelete
  19. बहुत अच्छी लिंक्स |बधाई
    आशा

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin