Followers

Wednesday, February 02, 2011

"मेरी पसन्द का लेखा-जोखा" (चर्चा मंच-417)


आज बुधवार है और आज की चर्चा लगाने का जिम्मा मेरा है।
मेरी मजबूरी यह है कि मैं आपको चर्चा में लेने की 
सूचना नहीं भेज पाता हूँ। 
आप इसे मेरी व्यस्तता कहें या कुछ... ..। 

प्रस्तुत हैं मेरी पसन्द का लेखा-जोखा
-0-0-0-

भाषा,शिक्षा,रोज़गार का, बहुत बुरा है हाल।
नेताओं के हाथ में, देश हुआ बदहाल।।
-0-0-0-
पाक-चीन करने लगे, सब्जी का व्यापार।
खेतीहर निज देश का, खिसक रहा आधार।।
-0-0-0-
करके सही विवेचना, दिया हमें नवनीत।
यह प्रभात की ऊर्मियाँ, रहीं मनों को जीत।।
-0-0-0-

 indian political cartoon, corruption cartoon, corruption in india, swis bank cartoon, upa government
बामुलाहिजा >> Cartoon by Kirtish Bhatt www.ba...
धन का ही संग्रह किया, नही मुझे है खेद।
धन को केवल धन कहो, कैसा स्याह-सफेद।।
-0-0-0-
जीवन के मानक नये, नये-नये हैं भाव।
लेकिन कुदरत ने किये, नहीं कभी बदलाव।।
-0-0-0-
सही गलत की हो भला, अब कैसे पहचान।
दुनिया की इस भीड़ में, सब ही हैं अनज़ान।।
-0-0-0-
दिखती सीधी और सरल, लेकिन दुनिया गोल।
कभी सुधा भी गरल है, कभी गरल अनमोल।।
-0-0-0-
चरवाहों की भीड़ में, खोज रहा हूँ सन्त।
इधर-उधर मत ध्यान धर, मन में बसा बसन्त।।
-0-0-0-
कम्बल और रजाइयाँ, कुछ दिन की मेहमान।
ऋतुओं के इस चक्र से, क्यों हो तुम अनजान।।
-0-0-0-
योग और विज्ञान का, गहरा है अनुबन्ध।
रोगों से रहता नहीं, योगी का सम्बन्ध।।
-0-0-0-
कलियुग में तो पाप का, लालच ही है बाप।
लालच के ही हाथ में, बंधे हुए सन्ताप।।
-0-0-0-
सामर्थ्यवान की जगत में, सब लेते हैं ओट।
चित-पट दोनों उसी की, कोई न उसमें खोट।।
-0-0-0-
केवल राम बता रहे, ब्लॉगविधा के मर्म।।

25 comments:

  1. बहुत उत्तम काव्यमयी चर्चा.

    ReplyDelete
  2. शास्त्री जी का जवाब नहीं …:)

    चर्चा भी छंद में !
    कमाल !

    देखने ही पड़ेंगे आज के लिंक भी …

    राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  3. चर्चा भी इतनी कवितानुमा ...

    मेरी कहानी पर आपका छंद मेरी सकारत्मक सोच को प्रश्रय दे रहा है ...

    आभार !

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति, आभार.

    ReplyDelete
  5. behad shaleen dhang se aap charcha manch prastut karte hain aur sambandhit links par aap ki sankshipt tipanniyan rochakta ko aur badha deti hain .rajendra ji ne sahi kaha aapka koi jawab nahi.

    ReplyDelete
  6. behad shaleen dhang se aap charcha manch prastut karte hain aur sambandhit links par aap ki sankshipt tipanniyan rochakta ko aur badha deti hain .rajendra ji ne sahi kaha aapka koi jawab nahi.

    ReplyDelete
  7. आच्छी चर्चा अच्छे लिंक्स।बधाई व आभार।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर चर्चा ... शास्त्री जी ... आभार !

    ReplyDelete
  9. very good "poetric charchaa"
    aapse hamesha h kch seekhane ko milta hai

    ReplyDelete
  10. नमस्कार शास्त्री जी....बहुत ही सुंदर चर्चा मंच सजाया आपने आज..बहुत खुब

    ReplyDelete
  11. इतने सुन्दर लिंक्स के साथ बेहद सुन्दर काव्यमयी चर्चा के लिये आभार्।

    ReplyDelete
  12. वाह काव्यमयी चर्चा ..बहुत खूब.

    ReplyDelete
  13. सुन्दर चर्चा...

    आभार.

    ReplyDelete
  14. sundar charcha.. aaj shastri ji chhote chhote tukdon me sundar charcha...aur kavita swaroop.. accha laga..

    ReplyDelete
  15. चर्चा बहुत सुन्दर छंदों में खूबसूरत अंदाज...

    ReplyDelete
  16. कवि मन की प्रस्तुति. अद्भुत...

    ReplyDelete
  17. इस काव्यमयी चर्चा को पढ़कर लगा कि "सुख का सूरज " फिर उदित हुआ है , नन्हें सुमन के लिए ...

    ReplyDelete
  18. आज कि काव्यमयी चर्चा बहुत बढ़िया रही ...अच्छे लिंक्स मिले

    ReplyDelete
  19. प्रायः सबकी रूचि का ध्यान रखा आपने।

    ReplyDelete
  20. इतनी सुंदर काव्यमय चर्चा पढकर मन ख़ुश हो गया।

    ReplyDelete
  21. चर्चा में औसतन इतने ही पोस्ट हों,तभी सभी लिंकों पर जा पाना संभव होता है।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"स्मृति उपवन का अभिमत" (चर्चा अंक-2814)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...