Followers

Tuesday, March 01, 2011

मैं लौट आया …कैसे करूँ आभार प्रकट ….साप्ताहिक काव्य मंच – 36 ..चर्चा मंच – 442

नमस्कार , लीजिए हाज़िर है मंगलवार का साप्ताहिक काव्य मंच …कुछ समयाभाव के कारण आप तक कुछ ही लिंक्स पहुंचा पा रही हूँ …जो रचनाएँ मुझे पसंद आयीं या कहूँ कि जितना पढ़ पायी और उसमें से चयनित रचनाओं का गुलदस्ता आप सब पाठकों को पेश कर रही हूँ …आशा है इसके फूल आपको मोहक लगेंगे …आज की चर्चा प्रारंभ करते हैं नव निर्माण से ---
डा० रूपचन्द्र शास्त्री जी की रचना हमें सिखा रही है कि जीवन में किस तरह से नव निर्माण होता है …
पतझड़ के पश्चात वृक्ष नव पल्लव को पा जाता।
विध्वंसों के बाद नया निर्माण सामने आता।।

गिरीश पंकज जी खुद छल झेल रहे हैं पर उनको दूसरों को धोखा देना नहीं आया --- यही बात वो अपनी गज़ल के माध्यम से कह रहे हैं --


मेरा फोटो
स्वप्निल  गुलज़ार  और मंटो  को पढते हुए  क्या कहना चाहते हैं ..इनके ब्लॉग पर ही जा कर पढ़ें .





मेरा फोटो
साधना वैद जी मन में उठने वाली भावनाओं के साथ आज भी प्रतीक्षा में हैं ---
जिस्म ने तय कर लिये कई फासले ,
उम्र भी है चढ़ चुकी कई सीढ़ियाँ ,
रूह उस लम्हे में लेकिन क़ैद है ,
जो न बीता था, न बीता है कभी !
My Photo
आलोकिता जी क्या क्या करने को तैयार हैं केवल एक वादे पर …..बस --कह तो दो
पलक पावढ़े ...बिछा दूंगी 
तुम आने का.. वादा तो दो
धरा सा  धीर... मैं धारुंगी
गगन बनोगे... कह तो दो


मेरा फोटो
रश्मि प्रभा जी  गहन चिंतन को लायी हैं …हर इंसान बहुत चालाकी से दूसरे को छलने का प्रयास करता है … पढ़िए उनकी रचना ..भूले से भी नहीं
तुम मुझसे ज़िन्दगी के गीत सुनना चाहते हो
चाहते हो मैं सबकुछ भूलकर सहज हो जाऊँ
हंसाऊं ... एक गुनगुनाती शाम ले आऊं ..


My Photo
कुँवर कुसुमेश जी की बहुत खूबसूरत गज़ल --गुलों पर आएगी इक रोज ताज़गी फिर से
अँधेरा चीर के आयेगी रोशनी फिर से,
ये शाख देखना हो जायेगी हरी फिर से


मेरा फोटो
वंदना गुप्ता जी कवियों को चेता रही हैं --नव सृजन का वक्त बुला रहा है.
समय के धरातल पर
कवितायें उगाना छोड़ो कवि
वक्त की नब्ज़ को ज़रा पहचानो

My Photo
स्वराज्य करुण  की एक गज़ल पढ़िए -मुज़रिमों  की  अदालत में
दिन के उजाले की तरह  साफ़-साफ़ है,
सारे सबूत आज  उनके ही   खिलाफ हैं |

My Photo
क्षितिजा  ढूँढ रही हैं सुकून को ….आप भी जानिये कि उनको कहाँ मिला सुकून
सुकून ढूढ़ते ढूढ़ते आज
यादों के तहखाने में जा पहुंची..


सप्तरंगी ब्लॉग पर पढ़िए नीरजा द्विवेदी की कविता --बांसुरी प्रीत की
बाँसुरी प्रीति की बजने लगी है विजन
सनसनी सी उठी, आओ न मेरे सजन


My Photo
जे० पी० तिवारी जी आज समाज में रिश्तों के बिखराव पर चिंतित हैं बिखर रहा देश – परिवार
देखा था मैंने तन को नाचते
मन को भी नाचते देखा था;
अब धन को नचाते देख रहा हूँ
चाँद पुखराज  खूबसूरत नज़्म के साथ सुन्दर चित्र भी कैमरे में कैद  कर लायी हैं ….राह के पलाश
निर्जन दोपहरी,
चट्टानों बीच
सूखी मिट्टी की अंजुरी बना
जड़ जमाते ,तिरछे हुए जाते


मेरा फोटो
अनीता जी चाहती  हैं कि एक और आज़ादी  मिले …. अब यह आज़ादी कैसी होगी  , यह जानना है तो उनकी रचना पढ़िए --
कौन आजाद हुआ
किसके माथे से गुलामी की स्याही छूटी
दिलों में दर्द है बिगड़ते हालातों का.


My Photo
आलोक खरे जी कुछ कर गुजरने का आह्वान  करते हुए कह रहे हैं --हर किसी को मयस्सर नहीं ...
ये दस्तूरे दुनिया है, जिसे तुम बदल नही सकते
हर शख्श को इन हालातों से लड़ना ही होगा,
कौन कहता हे कि मंजिले आसानी से मिलती हैं
मिलने वालों से पूछो,फासला तो मुश्किल होगा,


My Photo
आशीष जी एक बहुत खूबसूरत काव्य शिल्प लाये हैं ….मैं लौट आया
इन दिनों कुछ मौसम बदला है
कलतक चुभा करती थीं ये खिड़कियाँ
अब नज़रें पीछा करतीं हैं ..




मेरा फोटो
जोया …ज़िंदगी भर चलने वाले जोड़ घटाव की बात बता रही हैं लंबा  चौड़ा हिसाब  तो  होना ही था ..
दिन भर जिस्म की चक्की चली
फिर गहराई लम्बी काली रात
सरहाने रख चली गयी

 My Photo
पूजा उपाध्याय बस एक वादे के साथ पता दे रही हैं --लौट आने वाली पगडण्डी का
 मुझ तक लौट आने को जानां
ख्वाहिश हो तो...
शुरू करना एक छोटी पगडण्डी से 
जो याद के जंगल से गुजरती है

मेरा फोटो
आशा जी फिलहाल व्यस्त हैं …कुछ ढूँढने में लगी हैं …क्या क्या मिला इस साफ़ सफाई में आप भी जानिये ---आज व्यस्त हूँ  .

मेरा फोटो
कौशलेन्द्र  जी देश के प्रशासन व्यवस्था पर प्रहार कर रहे हैं यथार्थ के धरातल पर
मुझे गर्व है अपने देश पर
जो
सारे जहां से अच्छा है.


मेरा फोटो
हरदीप संधू जी ज़िंदगी को हाईकू से समझाया है …पढ़िए ज़िंदगी एक साया
साया ही तो है
हमारी  ये  जिन्दगी
धूप- छाँव का !


My Photo
नित्या नन्द ज्ञान जी बता रहे हैं कि वेदना  केवल उनकी ही वेदना नहीं है ..
अपनी वेदना  को                      
मैं शब्दों में
व्यक्त नही कर सकता
मेरी वेदना केवल
'शब्द ' तक सीमित नही है



IMG_0867 मनोज जी अपनी वैवाहिक वर्षगाँठ पर मन के भाव सुमनों को आर्पित करते हुए कह रहे हैं --कैसे करूँ आभार प्रकट

एकाकीपन के    /    भीषण तप्त अहसास में   नम, हसीन, बारिश की बूंदों-सा  /  हुआ पदार्पण तेरा   / मेरे जीवन में !




सदा जी लायी हैं लाडली ब्लॉग पर एक खूबसूरत रचना  --तुम बहुत अच्छी हो
कभी मां गौरेया कहती,
कभी कहती नन्‍हीं चिडिया




My Photo
विजय जी की खूबसूरत रचनाएँ…


My Photoयोगेन्द्र मौदगिल जी मौसम के माध्यम से जीवन के बदलते मौसम की बात कर रहे हैं --





मेरे भाव द्वारा प्रस्तुत  खूबसूरत रचना तुम्हारी चौखट
रख देना एक दीया  /  मिटटी का  /  डालकर उसमें  /  अपने नेह का तेल  /  कि भटक ना जाऊं मैं  / जब आऊं तुम्हारी  चौखट पर.


मेरा फोटोरेखा श्रीवास्तव जी जीवन के दोराहे पर खड़े हो कर कह रही हैं कि -
क्या भूलूँ क्या याद करूँ "
जीवन के इस मुकाम पर
क्या भूलूं क्या याद करूँ?

मेरा फोटोसागेबोब  ( कुछ अजीब सा  नाम है ) जी लिख रहे हैं     स्वयंनामा  - ३
हंसा था मैं  //जब तूने   /  अपना तखल्लुस   /  ग़मगीन बताया था


रश्मि प्रभा जी ने ईश्वर को ही चेतावनी दे डाली है …पढ़िए उनकी रचना प्रभु की बारी "
और नहीं , तो उठो -दर्शन दो ,प्रकाश फैलाओ  /  अपनी गलती मान  /  मुझे कृतज्ञ करो प्रभु ,  /  एक बार यह चमत्कार कर दो !


My Photoसोनल रस्तोगी जी ने अपने मन में उमडते भावों को कुछ इस तरह शब्दों में ढाला है - मैं जितना पास आऊँगी , तुम उतना ज़ुल्म ढाओगे
मुझे उम्मीद है तुमसे
के मेरा दिल दुखाओगे
My Photoमोहिंदर कुमार जी बता रहे हैं की कब लगा लेते हैं वो ..मुखौटा "
शायद ये "मुखौटा"
मैंने अपने पूर्वजों से पाया है
क्योंकि इसे मैने स्वंय नहीं बनाया है



अमित तिवारी कश्मकश में हैं कि अब कुछ भी तो शेष नहीं ..”क्या लिखूं
सोचता हूँ क्या लिखूं, कोई बात बाकी नहीं.  /यादों के झरोखों में, कोई हालात बाकी नहीं. /  मौत की शुरुआत लिखूं,  /  या जिंदगी का अंत...
तो आज की चर्चा बस यहीं समाप्त ….बाकी अब आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतज़ार है …शास्त्री जी निवेदन है कि कहीं कोई त्रुटि हो तो कृपया शुद्ध कर दें …अस्वस्थ होने के कारण सुबह चर्चा नहीं देख पाऊँगी ..:):) |फिर मिलेंगे अगले मंगलवार को नयी चर्चा के साथ ….बहुत से रचनाकारों की अच्छी रचनाएँ छूट गयी हैं ….इसके लिए क्षमा प्रार्थी हूँ ……संगीता स्वरुप

35 comments:

  1. बहुत अच्छे लिंक और चर्चा.

    ReplyDelete
  2. उत्तम लिंक्स से सजा चर्चा मंच |बहुत अच्छी लगी चर्चा |
    आशा

    ReplyDelete
  3. priya shreshth ,

    pranam
    sarwapratham swasth dirghayu, hone ki
    mangal kamana . shndar sankalan ke liye badhayi. kuchh rachnayen to bahut dur tak samvedit kar gayin .

    ReplyDelete
  4. चर्चा मंच पर हिन्दी ब्लाग जगत की पूरी जानकारी मिल जाती है। संगीता जी, आपने इस चर्चा मंच को बड़े स्नेह से सजाया है। बहुत-बहुत साधुवाद।

    ReplyDelete
  5. चर्चा मंच की साप्ताहिक काव्य चर्चा , दुल्हन की तरह सजी धजी . मेरी कविता "मै लौट आया" को चर्चा में स्थान देने के लिए आभारी हूँ .

    ReplyDelete
  6. बहुत ही अच्छे लिंक मिले ! बहुत बहुत धन्यवाद आपको इस प्रस्तुति के लिए ! शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  7. संगीता जी,
    मेरे हाइकु को चर्चा में स्थान देने के लिए आभारी हूँ .बहुत अच्छे लिंक और बहुत अच्छी लगी चर्चा |

    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  8. आपने अच्छे स्वास्थ्य के न होते भी बहुत मेहनत से सजाया है गुलदस्ता.
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए शुक्रिया.

    मुझे किसी भी नाम से पुकारिए
    सिर्फ नाम ही मेरी पहचान नहीं

    सलाम.

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन लिंक्स से सजाया -संवारा है आपने आज के मंच को . मुझे भी जगह मिली . आभारी हूँ .

    ReplyDelete
  10. लौटने पर स्वागत है,लगता है मिठाईयाँ खत्म करके ही आने की सोच रखी थी आपने।:)

    उम्दा चर्चा के लिए आभार

    ReplyDelete
  11. बहुत ही अच्छे लिक्स दिये है आपने !
    आभार !

    ReplyDelete
  12. चर्चा मंच पर इतने सुंदर तरीके से प्रस्तुत की गयी आपकी आज की पोस्ट बहुत अच्छी लगी,कुछ नए लिंक मिले. आभार!

    ReplyDelete
  13. बढ़िया चर्चा ...अपना ख़याल रखिये

    ReplyDelete
  14. साप्ताहिक काव्यमंच में बहुत बढ़िया लिंकों की चर्चा की है, बहन संगीता जी ने!

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर लिंक्स और चर्चाएँ हैं,संगीता जी.
    मुझे स्थान दिया ,आभार.

    ReplyDelete
  16. बहुत अच्छे लिंक्स हैं संगीता जी ... कोशिश रहेगी की सब पर हज़ारी ज़रूर लगे ...

    मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद .... शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  17. सुन्दर रचना संकलन... मैने आज सभी प्रतिभागियों के ब्लोग पर जा कर टिप्पणी छोडी है

    आभार

    ReplyDelete
  18. बहुत ही अच्छे लिंक मिले और सार्थक रचनाएं पढ़ने का सुअवसर भी..... हार्दिक धन्यवाद!

    ReplyDelete
  19. अरे क्या हुआ दी…………अस्वस्थता के बाद भी इतनी सुन्दर चर्चा लगाई है……………आप अपना ख्याल रखें और जल्दी से जल्दी ठीक हो जायें………………कुछ लिंक्स ही अभी पढ पाई हूँ बाकी बाद मे पढूँगी…………… बहुत सुन्दर लिंक संयोजन्।

    ReplyDelete
  20. इसे कहते हैं जहाँ चाह वहाँ राह ...इतनी व्यस्तता और अस्वस्थता के वावजूद इतनी मेहनत से इअतनी सुन्दर चर्चा लगाना, निसंदेह आपके सकारात्मक जज्बे को इंगित करता है.
    जल्दी से ठीक हो जाइये और इस मंच को सजाती रहिये.
    बहुत बहुत शुभकामनाये.

    ReplyDelete
  21. हमेशा की तरह लाजवाब !

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर लिंक्स से सजी सार्थक चर्चा..

    ReplyDelete
  23. आप इतनी मेहनत कर लेती हैं, यह देख कर बेहद आश्चर्य होता है. खुशी भी होती है. कुछ लोग तो हैं जो एक-दूसरों से जोड़ने का बड़ा काम कर रहे है. कुछ अच्छे लिंक्स मिले. अनेक रचनाओं से, नए विचारो से रू-ब-रू होने का मौका मिला. चर्चा करने वाली हर स्त्री-शक्ति प्रणम्य है. आभारी हूँ स्थान देने के लिए....

    ReplyDelete
  24. चर्चा मंच हम नए ब्लोगरों के लिए एक बहुत ही बेहतरीन मंच है. यहाँ जिस तरह का संकलन देखने को मिला, मन गदगद हो गया. संगीता जी मैं आपका आभारी हूँ कि इस खूबसूरत बगिया में आपने मेरी कविता (क्या लिखूं) को भी स्थान दिया. इसे मैं अपना सौभाग्य ही मानता हूँ कि इस मंच पर मैं भी चर्चा का विषय बन सका.
    आपका आभार.. और ऐसे सुन्दर संकलन के लिए बधाई..

    ReplyDelete
  25. समयाभाव के बावजूद भी अच्छी चर्चा सजाई , संगीता जी !

    ReplyDelete
  26. भावों का अद्भुत सयोंजन करती चर्चा

    ReplyDelete
  27. सभी रचनाकार बहुत ही ईमानदारी से लिख रहे हैं , सभी को मेरा हार्दिक अभिनन्दन एवम बधाई .

    ReplyDelete
  28. बेहतरीन चर्चा।
    सभी लिंक्स उम्दा।
    हमें सम्मान देने का आभार।

    ReplyDelete
  29. सर्वप्रथम आपके स्वस्थता की कामना करता हूँ....बहुत ही सुंदर चर्चा है आज की।

    ReplyDelete
  30. देर से आने के लिये क्षमा चाहती हूँ ! व्यस्तता और समयाभाव ये ही दो कारण हैं इतनी देर से आने के ! लेकिन आपके द्वारा संयोजित चर्चा मंच को कितनी भी देर हो जाये देखे बिना रह नहीं पाती ! आज भी बहुत सुन्दर चर्चा सजाई है हमेशा की तरह संगीताजी ! मेरी रचना को इसमें स्थान देने के लिये बहुत सा धन्यवाद एवं आभार ! मेरी शुभकामनायें स्वीकार करें !

    ReplyDelete
  31. संगीता जी चर्चा बेहद सुन्दर दिखी ..सिर्फ दिखी लिख रही हूँ ..क्यूंकि नेट काम नहीं कर रहा है..दो दिन हो गए .. और ये टाटा फोटोन से चला रही हूँ ... तो पेज लोड नहीं कर रहा है पूरी तरह क्यूंकि यहाँ इसकी सर्विस नहीं है... अगर ऐसा ही रहा तो मै इस बार शक्रवार की चर्चा भी नहीं कर पाऊँगी...

    आपको और सभी को महाशिवरात्री की हार्दिक शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  32. अच्छे लिंक के लिये आभार

    ReplyDelete
  33. मेरा जी मेल का एकाउंट हेक ???? हो गया है .. साथ ही मेरा मोबाईल का सिम भी क्रेश हो गया है जिसका मैंने जी मेल को रेकवर करने के लिए नंबर दिया था ... यह इत्तला यही पर इस लिए कर रही हूँ की मात्र यहाँ पर अकाउंट खुला है .. जी मेल लोग इन नहीं हो रहा है ... एक बार लोग आउट हो गयी ब्लॉग से तो ये मेसेज भी नहीं पहुच पायेगा साथियों के पास... एक पोस्ट बनायीं थी शिवरात्री पर उसे भी मैं प्रकाशित नहीं कर पायी हूँ...तथा मेरे सिम के क्रेश होने की वजह से मेरे पास किसी का भी फोन नंबर नहीं है... नेट भी बहुत स्लो है .. पूरी कोशिस में हूँ की वापस एकाउंट आ जाये.. :(((((((((((((

    ReplyDelete
  34. Sangeeta ji........
    hmmmm..aaj ptaa lgaa yahin se aapki sehat ke baare me
    please health first..ache se khyaal rkhiyegaa

    bahut hi ache links....kuch links ne baandh ke rkh liyaaa...

    bahut bahut shukriyaa
    take care

    ReplyDelete
  35. Sangeeta Di, Dehreon badhaiaan, itni sundar charcha sajane ke liye, baki tippadion se pata chala ki apa aswasth hain, jaldi theek ho jaiye,
    aur haan , how is your sweet grandson, hope doing well

    and last but not the least, thnx for selecting my creation for this wonderful foram.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"स्मृति उपवन का अभिमत" (चर्चा अंक-2814)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...