चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Tuesday, March 08, 2011

सूरज आने से पहले ….मुहब्बत ठहर जाती है ..साप्ताहिक काव्य मंच – 37…चर्चा मंच - 449

नमस्कार , हाज़िर हूँ आपके समक्ष मंगलवार की चर्चा ले कर ….इस सप्ताह की बेहतरीन काव्य रचनाएँ प्रस्तुत हैं ….भिन्न भिन्न बगिया से चुन लायी हूँ अलग अलग किस्म के फूल …..ज़रा बताइए कि गुलदस्ता कैसा सजा है ?आज महिला दिवस पर कुछ विशेष रचनाएँ आयीं हैं , कोशिश की है कि उनको आप तक पहुंचा सकूँ … आज कल ज्यादातर छंदमुक्त रचनाएँ ही देखने में आती हैं , लेकिन जो रस छंदबद्ध कविताओं में मिलता है वो भला और कहाँ ….तो आज नए छंद से चर्चा प्रारंभ कर रही हूँ --- कुंडलिया छंद से --
मेरा परिचयरूपचन्द्र शास्त्री जी की रचनाएँ हमेशा ही छंदबद्ध होती हैं …भावों को छंदों में बांधना सरल कार्य नहीं है ….आज वो कुंडलिया छंद में अपनी रचना ले कर आये हैं ..
" कुंडलिया छंद की शुरुआत "
ज्ञान बाँटने से कोई, होता नहीं विपन्न।
विद्या धन का दानकर, बन जाओ सम्पन्न।।
"कुण्डलियाँ के साथ परिभाषा"

कह ‘मयंक’ असहाय, नारि अबला-दुखियारी।
बिना स्नेह के सूख रही यह केशर-क्यारी।।
My Photoपलक मुहब्बत की गहराइयों को बता रही हैं …
मुहब्बत ठहर जाती है
हम अक्सर यह समझते हैं
जिसे हम प्यार करते है
उसे हम भूल बैठे हैं

मगर ऐसा नहीं होता
मोहब्बत धीमी आग है
महोब्बत ठहर जाती है !!!
दिगंबर नासवा जी  सिंदूरी आभा बिखेरते हुए लाये हैं एक नज़्म --सूरज आने से पहले
भोर ने आज
जब थपकी दे कर मुझे उठाया
जाने क्यों ऐसा लगा
सवेरा कुछ देर से आया
मेरा फोटोवंदना गुप्ता  जी नारी के प्रति समाज की दोहरी नीति का खुलासा करती हुई कह रही हैं कि -
अयोग्य घोषित कर दिया गया 

हर विधा में पारंगत थी
आसमानों को छूती थी
हर क्षेत्र की ज्ञाता थी
सबके मन को भाती थी
नित नए सोपान गढ़ती थी
श्रीमती ज्ञानवती सक्सेना \ज्ञानवती सक्सेना जी द्वारा रचित कुछ -क्षणिकाएं
जीवन है अभाव की मंजिल, नहीं तृप्ति की परिभाषा,
है अतृप्ति की सफल शिखरिणी चिर अभिशापित अभिलाषा !
मेरा फोटोअरुण सी० राय  रोज मर्रा के जीवन में आने वाली वस्तुओं के बिम्ब से बड़ी से बड़ी बात कह जाते हैं …उनकी  भावों से ओत-प्रोत रचना पढ़िए  --
" तवा "
वटवृक्ष  पर  रश्मि प्रभा जी लायी हैं शोभना चौरे जी  की रचना --मौन
जब मौन मुखर होता है ,
शब्द चुक जाते है |
तब अहसासों की प्रतीती में ,
पुनः वाणी जन्म लेती है|
IMG0000करण समस्तीपुरी मन के भावों को उजागर करते सुन्दर गीत लाये हैं ..आज फिर मन उदास
आज फिर मन उदास !
आँख में अतीत, हृदय में प्यास !
आज फिर मन उदास !!
आज फिर मन उदास !!
मेरा फोटोआशा जी ने नारी की हर खूबी को बखूबी कलमबद्ध किया है ..आज की स्पर्धायुक्त समय में भी वो किस तेज़ गति से चल रही है पढ़िए उनकी रचना ….नारी
गिरीश पंकज के मन की व्यथा पढ़िए  उनकी इस गज़ल में ..वो अंधियारे में बैठा है जो सचमुच का ज्ञानी है

कभी-कभी लगता है मन में जीने का क्या मानी है
वही सफल दिखता है जिसका जीवन ही बे-पानी है
मेरा फोटोसूरज के ख्वाब बुनते हुए मुकेश जी की रचना पढ़िए ..
वक्त की साजिशों
My Photoपी० सी० गोदियाल जी की एक सलाह …
अजनबियों पर यूं न इस तरह तुम
 My Photoमहेंद्र वर्मा जी की एक  गज़ल

आपकी दीवानगी बिल्कुल लगे मेरी तरह,
ये अचानक आप कैसे हो गए मेरी तरह। इक अकेला मैं नहीं कुछ और भी हैं शहर में, 
जेब में रक्खे हुए दो  चेहरे मेरी तरह।
मेरा फोटोसाधना वैद जी  नारी के मनोभावों को व्यक्त करने में कहाँ तक सफल हुई हैं ..पढ़िए उनकी रचना --खिडकी
My Photoअनुपमा त्रिपाठी जी खूबसूरत भावों को समेट लायी हैं --
हम - तुम साथ जलें
 My Photoशिखा वार्ष्णेय जी की कल्पना का आशियाना … और उसमें जलती लौ की महत्ता … पढ़िए उनकी एक खूबसूरत नज़्म --बस एक " लौ "
मेरे घर की खिड़की से नजर आता था
एक ऊंचा  ,घना, हरा भरा पेड़
रोज ताका करती थी उसे
जीवन के हर रंग को सदा जी ने अपनी इस रचना में उकेर दिया है
माँ बताओ न

मुझे भी मां
कविता लिखनी है
कुछ बताओ न ....।

रोली पाठक बता रही हैं माँ के दिए भारतीय संस्कार ..माँ की सीख

मेरे आँगन की देहरी पर,
साँझ ढले दीपक जलता है.
clip_image002रचनाकार पर  महिला दिवस पर हरीश नारंग की विशेष प्रस्तुति पढ़िए -
आधुनिक युग की नारी
सजग, सचेत, सबल, समर्थ
आधुनिक युग की नारी है
मत मानो अब अबला उसको ,
सक्षम है बलधारी है
My Photoशांतनु सान्याल जी की एक नज़्म -संगे साहिल पर रुको तो ज़रा
टूटतीं लहरों में जीने की उम्मीद बंधे
अभी तो डूबा है, सूरज सागर पार
My Photo संध्या शर्मा जी मानव को नसीहत देती हुई कह रही हैं कि मरने से पहले थोड़ा जीना सीख लो
मरने से पहले
My Photoकैलाश सी० शर्मा जी नारी के प्रति चेतना जागृत करते हुए कह रहे हैं कि --जीने दो सिर्फ एक नारी बन कर

कभी देवी बनाकर
मन्दिर में
सिंहासन पर बैठाया.
समझ कर ज़ागीर
कभी जूए में
दांव पर लगाया.
My Photoएक खूबसूरत गज़ल मीनू भागिया जी की --
अपनी तो ज़िन्दगी है यारों सड़कों पे
My Photoअनामिका जी के मन में द्वंद्व मचा है ..शायद समझ नहीं पा रही हैं कि यह नियति है या ऐसा करने की ठान ली है ..
नियति  या ..प्रवर्ति
My Photoअशोक व्यास बात कर रहे हैं उपहार की ---जो आधार है हम सबका

दुधमुहा दिन
तुतलाती बोली में
कोमल नन्हे हाथ से
खींच कर मेरा ध्यान
पूछ रहा है
'क्या उपहार लाये हो मेरे लिए?
मेरा फोटोवंदना शुक्ला जी ले आई हैं इस बार छोटी छोटी खुशियाँ
मुझ जैसे बेसब्र लोग,
बड़ी खुशियों की ,छोटी संभावनाओं को
बर्दाश्त ज़रा कम कर पाते हैं
मेरा फोटोरचना दीक्षित जी आज के बदलते सन्दर्भों में भी मासूम सी सोच लायी हैं बाँध कर अपने ---रूमाल  में
पर डरती हूँ कहीं पूछ न बैठो तुम,
तुम भी तो कहाँ रखती हो आंचल आज कल.
 
मेरा फोटोअनीता जी वसंत  पर लायी हैं खूबसूरत रचना -
आया वसंत छाई बहार
सज उठी धरा कर नव सिंगार,
बिखरा मद मधुर नेह पाकर
कण-कण महका छाया निखार
 Patali-The-Village  की खूबसूरत रचना
लोरियाँ
माँ की आवाज
अंधेरों में सोते से
अचानक जगाती है
मेरा फोटोज्ञानचंद  मर्मज्ञ जी गहन चिंतन करते हुए एक रचना लाये हैं …आत्मदाह
कोशिशें,   /   किसी उपग्रह से असफलता का चक्कर लगाती हुईं   /  मेरे ज़ख्मों की डायरी को दीमक बनकर चाट गयीं !
My Photoरेणु दीपक जी कुछ  त्रिवेणियाँ पढ़िए  ---पुखराज  ब्लॉग पर
. कैसे कैसे वादों से मिलकर ,
रेत की दीवारें खड़ी की हैं,
आंसू गिरा गर कोई , बिखर जायेंगी .....
शारदा मोंगा
शारदा मोंगा की रचना पढ़िए जनोक्ति ब्लॉग पर -उड़ चली नारी

घर की चारदिवारी, / घुटती नारी, /बोतल में- /बंद सी,

अभिषेक  जी कह रहे हैं कि-
अतीत से आवाज़ आती है कि तुझमें भी कोई बात है
Mahesh Kushwansh  -कुश्वंश   महिला दिवस पर एक विशेष तोहफा लाये हैं ….कोई भीख नहीं मांगनी तुमसे
क्यों करते हो ढोंग
हमारे  उत्थान का
आज भी
खिला देते हो अफीम
नव-जन्मा को
13-myfavoritegameपद्मसिंह जी की एक गज़ल

एक अरसा हो गया है,  बेधड़क  सोता नहीं
दिल  भरा बैठा हुआ है टूट कर रोता नहीं
मेरा फोटोलक्ष्मी चौहान बहुत खूबसूरत एहसास लायी हैं ..वो लिखते हैं मुझ पर कविता
My Photoराजेश कुमार जी देश के वर्तमान परिवेश की बात कह रहे हैं ---
शासक ने शासित को लूटा औ धनिकों ने निर्धन को
निस्सहाय को न्याय कहाँ है सबल कूटते निर्बल को
कठपुतली का खेल चल रहा संसद के गलियारे में
खेलों से आहत मानवता सिसक रही अंधियारे में |१|
मेरा फोटोहिमानी जी की पढ़िए ..
नींद खो गई है
भूख सो गई है
सिर्फ प्यास लग रही है
उफ़ ! ये इश्क
My Photoकंचन सिंह चौहान जी उस और इस युग के फासले कि बात  कर रही हैं ..बस अगर इतना होता
सोचती हूँ कि वो रातें,
जो इस तसल्ली मिली बेचैनी से बिता दी जाती थीं,
सप्तरंगी प्रेम पर पढ़िए सुमन “मीत" की रचना - तेरा एहसास
तेरा अहसास
मेरे वजूद को
सम्पूर्ण बना देता है
नारी का कविता ब्लॉग पर पढ़िए शिखा और शालिनी की कविता …कैसे मनाया महिला दिवस --
जय हो भाग -१
मेरा फोटोधीरेन्द्र सिंह जी बता रहे हैं -आज महिला दिवस है
शब्द शंकर हो गए बनी भावनाएं भभूत
घंटियों की ध्वनि से बरस रहा रस है
My Photoगिरिजा कुलश्रेष्ठ  लायी हैं महिला दिवस पर दो कविताएँ .."तुमने तो कहा था"  और "लिखो तुम "
बेमन ही लिखते रहे तुम
असंगत वाक्य
अर्थहीन खुरदरी भाषा
ऊबड-खाबड शब्द
और फिर झुँझला कर
काटते रहे ।

अरविन्द जी काल (समय ) बीतने की बात न करते हुए कह रहे हैं कि-बीत मैं खुद ही रहा हूँ
मेरा फोटो
डा० वर्षा सिंह जी महिला दिवस पर विशेष गज़ल कह रही हैं --
जहाँ औरतें नहीं ..
My Photoमृदुला प्रधान जी बहुत खूबसूरत ख्वाहिश के साथ अपने मन की बात कह रही हैं ---
न फ़िक्र हो तुमको मेरी
कि न फ़िक्र हो
तुमको मेरी,
न मुझे
तेरा ख्याल हो,
या खुदा
वो दिन न हो,
जिसमें
ये अपना हाल हो.
 मेरा फोटोचलते चलते  रश्मि प्रभा जी की एक खूबसूरत रचना --आंसुओं का स्वाभिमान
रेगिस्तान में बनाया था घर
उम्मीदों की फसलें थीं
और आँखों का पानी.
लीजिए  सप्ताह भर की काव्य रचनाएँ प्रस्तुत कर दी हैं …आशा है आपको इनकी सुगंध ने ज़रूर भरमाया होगा …दीजिए अब इजाज़त …फिर मिलती हूँ अगले मंगलवार को सप्ताह भर की काव्यकृतियों के साथ ….नमस्कार

42 comments:

  1. महिला दिवस पर प्रस्तुत बहुत सुंदर काव्य चर्चा संगीताजी ...आभार

    ReplyDelete
  2. महिलाओं पर लिखी गईं कविताओं को पढ़ने का आनंद ही कुछ और होगा |वैसे भी आपकी खोजी आँखें खोज ही लेती हैं कई सारी लिंक्स |बहुत अच्छी रही आज की चर्चा बहुत बहुत बधाई और आभार
    आशा

    ReplyDelete
  3. संगीता जी बहुत सुन्दर चर्चा सजाई है आज ! मुझे भी इसमें स्थान देने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद ! आपके द्वारा सजाये गये साप्ताहिक काव्यमंच का अधीरता से इंतज़ार रहता है ! ब्लॉग वाटिका के समस्त सुन्दर सुमनों का यह गुलदस्ता सचमुच अनूठा है ! बधाई एवं शुभकामनायें ! नारी दिवस पर आप सभी का अभिनन्दन !

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर काव्य चर्चा

    ReplyDelete
  5. इस दिन का इंतज़ार रहता है, जब एक साथ सप्ताह भर की कविताओं का पिटारा एक बार मिल जाता है और हामारा सप्ताह भर का कार्यक्रम तय हो जाता है।

    ReplyDelete
  6. मंगलवार का काव्य मंच
    बहुत सुन्दर लिंकों से सजाया है आपने!
    महिला दिवस पर सभी को बहुत-बहुत बधाईं!
    --
    केशर-क्यारी को सदा, स्नेह सुधा से सींच।
    पुरुष न होता उच्च है, नारि न होती नीच।।
    नारि न होती नीच, पुरुष की खान यही है।
    है विडम्बना फिर भी इसका मान नहीं है।।
    कह ‘मयंक’ असहाय, नारि अबला-दुखियारी।
    बिना स्नेह के सूख रही यह केशर-क्यारी।।

    ReplyDelete
  7. हमेशा की तरह बेहतरीन ...
    पूरी पढने में तो समय लगेगा ...
    अन्तराष्ट्रीय महिला दिवस की बहुत शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  8. mahila divas ki 100vi jayanti par aap sabhi ko hardik shubhkamnayen.nari ke kavita blog se hamari post ko sthan dene ke liye bahut bahut aabhar.anya links behtareen chune gaye hain.badhai...

    ReplyDelete
  9. महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.हमारी पोस्ट को स्थान देने के लिए आभार.अन्य लिनक्स के विषय में आपकी चयन क्षमता काबिले तारीफ है..बधाई..

    ReplyDelete
  10. संगीता जी महिला दिवस पर प्रस्तुत बहुत सुंदर काव्य चर्चा. आप वैसे भी काफी चुन चुन के कवितायेँ लाती है सो आज महिला दिवस इस पठन पाठन में ही निकल जाने वाला है. सुंदर चर्चा के लिए आभार.

    ReplyDelete
  11. संगीता जी -मेरी इस कृति को चर्चा मंच पर लेने के लिए धन्यवाद |आज महिला दिवस के अवसर पर सभी को मेरी ढेर सारी शुभकामनाएं |महिलाओं को अपना अस्तित्व बनाये रखने के लिए और पुरुषों को उनका सहयोग करने के लिए |
    हम-तुम साथ जलें --इस रचना के माध्यम से मैं यही कहना चाहती हूँ कि नारी एक सम्पूर्णता का एहसास पुरुष को दिलाती है और उसी में सम्पूर्णता पाती है |यही उसका कर्त्तव्य भी है |वो ऐसी धूरी है जिसके चारों तरफ उसका परिवार,समाज,राष्ट्र ,और फिर पूरा विश्व ही घूमता है | प्रेम का प्रकाश फैलाना उसका प्रथम कर्त्तव्य है और इसकी शुरुआत अपने परिवार से ही होती है |
    संगीता जी मैं आपकी ह्रदय से आभारी हूँ आपने आज के दिन मेरी इस कविता को चर्चा मंच के लिए चुना |
    AAJ KA CHARCHA -MANCH vishesh aakarshano se bhara hai .Badhai aapko .

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर चर्चा सजाई है आज|मुझे भी इसमें स्थान देने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद|
    अन्तराष्ट्रीय महिला दिवस की बहुत शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  13. अच्छे सार्थक रचना का संकलन करने के लिए
    और मेरे रचना को भी स्थान देने के लिए
    आप सब को आभार

    ReplyDelete
  14. |बहुत अच्छी रही आज की चर्चा....अन्तराष्ट्रीय महिला दिवस की बहुत शुभकामनायें !

    आभार

    ReplyDelete
  15. sabhi rachnayen ek acche path par le jaane ki or prerit karti hain...

    meri rachna ke anusaar ...hame apne sadvichaaron ko nahi bhulna chahiye aur aaj me jina chaiye ...kal agar ham acche the to acche fal mile ...usi acchai ko aaj bhi jaari rakhnna chahiye..
    aatmnirbhar bane sab koi....aur sakrattmak soch ek acche kal ke liye...
    har manv me acchai hoti hai use bhulna nahi chahiye....

    sabhi bado ko aabhar...

    ReplyDelete
  16. सारगर्भित और काव्य-परिपूर्ण एक बेहद सुन्दर चर्चा , संगीता जी !

    ReplyDelete
  17. bahut sundar chitthha charcha....charchaa aisa hi hona chaahiye.

    ReplyDelete
  18. महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  19. उमदा लिन्क्स सरस चर्चा। आभार।

    ReplyDelete
  20. बधाई एवं शुभकामनायें ! नारी दिवस पर आप सभी का अभिनन्दन !

    ReplyDelete
  21. महिला दिवस पर इस काव्यमयी प्रस्तुति के लिए बधाई। महिला दिवस के अवसर पर शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  22. सबसे पहले तो अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर सभी को बहुत - बहुत शुभकामनायें..
    संगीता जी आज के चर्चा मंच पर सार्थक रचनाओं का संकलन प्रस्तुत करने के लिए तथा मेरी रचना को भी इसमें स्थान देने के लिए आपका बहुत - बहुत धन्यवाद्...

    आज का दिन तो वैसे भी हमारे लिए महत्वपूर्ण है, इसे आपने और भी खास बना दिया, इसके लिए मैं आपकी ह्रदय से आभारी हूँ...

    महिला वर्ष मनाने के १०० वर्ष पूर्ण हो चुके हैं. काफी हद तक दशा और दिशा दोनों बदलीं हैं. अपने घर, परिवार व सामाजिक दायित्वों का निर्वाह करते हुए महिलाएं हर क्षेत्र में आगे हैं, परन्तु विडम्बना है, कि कन्या भ्रूर्ण हत्याओं के मामले बढते ही जा रहे हैं, जिसे रोकना आज सबसे जरूरी है.

    ReplyDelete
  23. बेहतरीन लिंकों से सजी चर्चा , महिला दिवस पर बहुत सारी बढ़िया पोस्टें पढने को मिली .

    ReplyDelete
  24. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  25. सार्थक और रचनात्मक , रचनाओं को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए आपको हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  26. संगीता इस बेहतरीन प्रस्‍तुति के बहुत-बहुत बधाई एवं सदा को शामिल करने के लिये आभार ।

    ReplyDelete
  27. संगीता जी...नमस्कार...महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ...बहुत ही सुंदर और मनभावन चर्चा है आज की....

    ReplyDelete
  28. संगीताजी, महिला दिवस पर कई रचनाएँ चर्चामंच पर आपके सौजन्य से पढ़ने को मिलीं, शुभकामनाये, धन्यवाद और आभार !

    ReplyDelete
  29. महिला दिवस पर बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुत करने के लिये बधाई..मेरी रचना को चर्चा में सामिल करने के लिये धन्यवाद...आभार

    ReplyDelete
  30. सुंदर काव्य चर्चा ... मुझे भी इसमें स्थान देने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद ...

    ReplyDelete
  31. महिला दिवस की हार्दिक बधाई।
    आज महिला दिवस पर बहुत ही सुन्दर काव्यमयी प्रस्तुति है चर्चा मंच पर्…………बहुत सुन्दर लिंक संजोये हैं……………काफ़ी नये लिंक्स भी मिले…………आभार्।

    ReplyDelete
  32. साप्ताहिक काव्यमंच का इंतज़ार रहता है, मंच सचमुच अनूठा है, सुंदर काव्य चर्चा, संगीताजी ...आभार, अन्तराष्ट्रीय महिला दिवस की बहुत शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  33. संगीता जी,
    नमस्कार
    आज के चर्चामंच में विविध रंगों के काव्यपुष्पों से सजा गुलदस्ता अपनी छटा बिखेर रहा है।
    मेरी रचना सम्मिलित करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  34. सभी को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  35. चर्चा का क्या कहें.... सुन्दर, समेकित, सुसंस्कृत, सुरम्य........ "जंह-तंह छवि वरनत सब लोगु ! अवसि देखिये देखन जोगु !!" और इसमें मुझ नाचीज को भी स्थान मिला..... 'जन्म हमार सुफल भा आजू'! बहुत-बहुत धन्यवाद संगीता जी !

    ReplyDelete
  36. sunder kaavy rachna aur apki mehnat ko salaam. nari diwas ke liye shubhkaamnaayen. meri rachna ko yahan sthan dene ke liye aabhar.

    ReplyDelete
  37. अन्तराष्ट्रीय महिला दिवस पर सभी को बहुत-बहुत बधाईं!
    संगीता जी, बहुत बहुत धन्यवाद चर्चा मंच में मेरी रचना को शामिल करने के लिए |
    आपकी इस प्यार भरी मेहनत की जितनी भी प्रशंसा की जाय, कम है |
    इतने सारे और खूबसूरत से पेश किये गये लिनक्स के लिए आभार |

    ReplyDelete
  38. behtreen charcha ... sangeeta ji ... bahut kamaal ke links liye hain... umdaa..

    ReplyDelete
  39. meri oor se bahut-bahut dhanybad aur shubhkamnayen....

    ReplyDelete
  40. संगीता जी चर्चा मंच में मेरी कविताओं को शामिल करने का धन्यवाद । इतनी सारी सुन्दर काव्य-प्रस्तुतियों के साथ-साथ महिला-दिवस की भी आपको हार्दिक बधाई ।

    ReplyDelete
  41. Sangeeta ji......
    bahut sundar charcha ..meri rachna ko sthan dene k liye bahut bahut shukriya...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin