समर्थक

Saturday, March 26, 2011

"केवल सूचना के लिये-आज की फटाफट चर्चा" "चर्चा मंच-466"

आज शनिवार है! 
आज की चर्चा इं. सत्यम् शिवम् को लगानी थी! 
अचानक मेरी नजर फेस बुक से आये सन्देश पर गई तो पता लगा
कि वो आज चर्चा नहीं लगा पायेंगे।
अगले शनिवार तर वह बंगलुरू से लौट आयेंगे! 

सभी सदस्यों और पाठको से आग्रह हैं की अपने ब्लॉग के कंटेंट को सुरक्षित कर ले । आज कल गूगल ब्लागस्पाट के ब्लॉग स्वतः डिलीट हो रहे हैं या खो रहे हैं । अभी तो शिकायत करने पर गूगल खोज देता हैं पर कभी ना मिला तो मुश्किल भी हो सकती हैं
 मनोज कुमार जी ने प्रस्तुत किया है एक *व्यंग्य***
खुशदीप  सहगल बता रहे हैं-


 मेरी छत पर आकर सूरज , क्यों जल्दी ढल जाता है ?
* *ठिठुरते हुए पंछी * 
*टहनियो से मूँह निकाल * 
*झांकती बसंती कूप * * * 
*मदमस्त हवा के * 
*सुरूर से चलो* 
*टकरा लिया जाय* 
पर पढ़िए यह आलेख-
 नया VLC media player मुफ्त में
१ हृदय की कथा नयन कह भी न पाये , 
रहे छलछलाए , व्यथा सह न पाये , 
हुई मूक वाणी विदा के क्षणों में , 
वे रुक ना सके , पैर बढ़ भी न पाये !  
 
माटी से दीपक बनाया 
अग्नि से उसे पकाया 
सुन्दर दिखे इस प्रयास में 
कई रंगों से उसे सजाया | 
वर्ल्डकप क्वार्टर फ़ाइनल में भारत की जीत की बधाई और शुभकामनायें.
1.
2.
3.
4.
5.
6.
 
माँ पर तीन कविताएँ
baabusha | Source: कुछ पन्ने .. 

14 comments:

  1. आभार इस चर्चा के लिए....

    ReplyDelete
  2. अच्छी चर्चा के लिए आभार....

    ReplyDelete
  3. अच्छे लिनक्स मिले ...सुंदर चर्चा ...मुझे
    जगह देने का आभार

    ReplyDelete
  4. बढ़िया लिंक्स.

    ReplyDelete
  5. यह फ़टाफ़ट चर्चा तो बहुत सारे लिंक्स समेटे हुए है ..जाते हैं अब धीरे धीरे ... आभार

    ReplyDelete
  6. फ़टाफ़ट चर्चा भी बहुत बढिया रही………………सुन्दर लिंको से सजी सुन्दर चर्चा…………आभार्।

    ReplyDelete
  7. अच्छे लिंक्स से सुसज्जित चर्चा । आभार...

    ReplyDelete
  8. फटाफट लिंक्स भी गज़ब हैं. जाना पड़ेगा फटाफट अब. कार्टून भी बढ़िया हैं .

    ReplyDelete
  9. बहुत ही अच्‍छी चर्चा और लिंक ...आभार इस बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये ।

    ReplyDelete
  10. आज की फटाफट चर्चा में भी कुछ बात है. धन्यवाद.

    ReplyDelete
  11. फटाफट चर्चा -
    बहुत बढ़िया चर्चा है -
    बहुत अछे लिनक्स हैं और कार्टून भी बढ़िया हैं -
    मुझे इस चर्चा में शामिल करने के लिए बहुत बहुत आभार आपका -

    ReplyDelete
  12. आभार इस चर्चा के लिए , अच्छे लिनक्स मिले .

    ReplyDelete
  13. शास्त्रीय संगीत जैसा आनंद देने वाली चर्चा के लिेए आभार...

    जय हिंद...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin