समर्थक

Friday, April 15, 2011

"१५ अप्रैल-अन्ना संभलना" (चर्चा मंच-486)

   आज स्वास्थ्य ठीक न होने के बावजूद
शुक्रवार का चर्चा मंच
प्रस्तुत कर रही हूँ!  
 हाइकू
बैसाखी का पर्व
      image   बैसाखी पर्व
बची है आस
image
रामेश्वर प्रसाद कम्बोज जी
समस्यापूर्ति मंच
 कुण्डलियाँ दुसरी किश्त
घेराबंदी की हालत
महमूद दरवेश की कविताओं का अनुवाद
ब्लॉग -पढ़ते पढ़ते से
तुम पथ भटक यहाँ क्यों आई
समंदर रेत का.
बिखरे मोती
क्रांति सूर्य उदय होगा
संध्या शर्मा जी की पोस्ट
साधना वैद जी कहतीं हैं
कब तक यह वैषम्य पलेगा
अन्ना की आंधी
चिंतन मेरे मन का से 
सांप चालाक हैं दूरबीन लिये बैठे हैं.....अन्ना संभलना!!
ब्लॉग - उड़नतश्तरी से
  भारतीय क़ानून और न्याय प्रणाली पर चर्चा का मंच
तीसरा खम्बा
हिन्दू मृतक की निर्वसीयती संपत्ति का बँटवारा
            देखिये किस तरह से ब्लोगर की पोस्ट अखबार में
         बिना लेखक को सूचना दिए छाप दी जाती है|
      ब्लॉगरों से अख़बारों की चोट्टागिरी...खुशदीप
 फणीश्वर नाथ रेनू की पुण्यतिथि पर
आपने महुवा घटियारन की कथा सुनी तो होगी
आत्मोनात्ति
यात्राओं की खोज
हास्यफुहार
 जरा हँस लीजिए खदेरन के साथ
 Computer Duniya
--
अगर आपके पास शासकीय कैलेण्डर नहीं है तो भी आप 
ऑनलाइन भारत सरकार द्वारा घोषित किये गए अवकाश के दिनों को 
इस ऑनलाइन कैलेण्डर पर देख सकते हैं ।
 ज्ञानवाणी
---------------
*मेरी साँसों में बसो मीठी सी हवा होकर * ***देखो अंधेरो के वास्ते कोई शुआ होकर * * * *होके संजीदा ढूँढती है आवारगी मेरी * *खो गया ...
------------
महत्त्व पूर्ण सूचना नहीं पढ़ी कोई बात नहीं सुन लीजिये वाचक-स्वर अर्चना चावजी
---------------
न रो सको तो चुप रहो यूँ हंसने से आंसुओं का अपमान होता है उसके हौसले को नज़रअंदाज न करो उसकी जब्त स्थिति में मौन साथ दो स्थितियों को हल्का न बनाओ ! कौन ...
---------------
अब हम क्या बोले?
-------------
प्यार नहीं करता हूँ मैं अब तुझसे पर मेरे हर पल पे मुझे तेरा इंतजार आज भी है. करीब है मेरी मौत भी अब मेरे, पर मुझे तेरे वादे पे एतबार आज भी है. मुझे तेरी हर...
---------------
---------------------
अन्ना हजारे के अनशन के बाद बहुत सारी क्रियायें, प्रतिक्रियायें, तर्क, वितर्क और कुतर्क सामने आये. बहुत से लोगों ने कई शंकायें और आशंकाये भी जताईं. विशेषत: ........
वह सफ़ीना जो तूफ़ानों को, शिकस्त दे कर लौट आया होगा | देख कर हिम्मत उसकी, साहिल ने उसको गले से लगाया होगा |
--------------
प्रकृती के आँचल में जहाँ कई प्राणी आश्रय लिये थे 
था एक सुरम्य सरोवर रहता था जिस के समीप श्याम वर्ण सारस का जोड़ा | 
लंबा कद लालिमा लिये सर ओर लम्बी सुन्दर ग्र...
-------------------

जनविश्वास है कि कीडे-मकोडे ही जहरीले होते हैं। 
पर खोजों से पता चला है कि कुछ पक्षी भी जहरीले होते हैं।
--------------
नोएडा की दो बहनों की घटना तो सभी को पता है.ऐसा सब देख सुन कर मन विचलित हो उठता है.ये सब हो जाने के बाद हम भाषण देते हैं मिडिया,समाज,पड़ोसी,रिश्तेदार और..
--------------------
चर्चा मंच के पाठकों!
आजकल मेरी तबियत ठीक नहीं चल रही है!
इसलिए इस बेरंग चर्चा से ही
सन्तोष कर लें!
डॉ. नूतन गैरोला

25 comments:

  1. बेहतरीन लिंक्स....

    ReplyDelete
  2. नूतन जी नमस्कार -चर्चा बहुत अच्छी है -
    दमदार लेखन से भरी उम्दा चर्चा -
    आप अपने स्वस्थ्य पर ध्यान दें .....!
    आपके स्वस्थ्य के लिए बहुत बहुत शुभकामनायें ...!!

    ReplyDelete
  3. नूतन जी
    नमस्कार
    .....बेहतरीन लिंक्स

    ReplyDelete
  4. नूतन जी ,
    यदि इसे बेरंग कहते हैं तो रंग से भरी चर्चा कैसी
    होगी ?
    आशा करती हूँ आप जल्दी स्वास्थ्य लाभ लें और रंगीन चर्चा का आनंद हम लोग उठा सकें |
    मेरी कविता शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन लिंक्स..

    ReplyDelete
  6. अच्छे स्वास्थ्य नहीं होने के बाद भी इतने अच्छे लिंक के लिए धन्यवाद। आशा है आप जल्द स्वास्थ होगें।

    ReplyDelete
  7. सुन्दर सार्थक चर्चा।

    ReplyDelete
  8. स्वास्थ्य सही न होने के बावजूद आप ने काफी अच्छी चर्चा प्रस्तुत की है| इस के लिए बहुत बहुत बधाई और छन्द साहित्य संबन्धित आयोजन समस्या पूर्ति को स्थान देने के लिए बहुत बहुत आभार|

    ReplyDelete
  9. आदरणीय डॉ. सुश्रीनूतनजी,

    आपके अच्छे स्वास्थ्य के लिए ईश्वर से प्रार्थनासह, आपको शुभदिन की कामना-शुभेच्छा ।

    मार्कण्ड दवे ।
    mktvfilms

    ReplyDelete
  10. नूतन जी, सेहत नासाज़ होने पर ऐसी बेहतरीन चर्चा, चंगा होने पर तो फिर वाकई गज़ब होगा...
    आपके शीघ्र स्वास्थ्यलाभ के लिए प्रार्थना...
    मेरा लिंक देने के लिए आभार...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  11. सांप चालाक हैं दूरबीन लिये बैठे /कब तक यह वैषम्य पलेगा /मेरी साँसों में बसो मीठी सी हवा होकर / क्रांति सूर्य उदय होगा
    Jaldi Jaldi Kuch Rachanyeen Padhin. Itni Vividhta. Badhai. Bahut See Rachnayein Nahi Padh Paya. Kabhi Fursat Se. Naba Barsho, Vishu, Bihu, Mesh-Sankranti, Puthandu kee shubhkamanayein.

    ReplyDelete
  12. लिंक चयन उत्तम है । आपके बेहतर स्वास्थ्य की शुभकामना सहित...

    ReplyDelete
  13. नूतन जी
    स्वास्थ्य सही न होने के बावजूद आप ने काफी अच्छी चर्चा प्रस्तुत की है| अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखिये और चर्चा बहुत सुन्दर है…………सुन्दर लिंक्स्।

    ReplyDelete
  14. चर्चा लिंक के साथ आपके कमेन्ट अच्छे लगे ! स्वास्थ्य का ध्यान पहले रखें , कृपया आपत्ति दर्ज करें :-)

    ReplyDelete
  15. चर्चा बैरंग नहीं नूतन जी बहुत अच्छी है.
    आप जल्दी स्वस्थ हो जाएँ शुभकामनाये.

    ReplyDelete
  16. नूतन जी नमस्कार -चर्चा बहुत ही अच्छी है.
    सुन्दर लिंक्स से सजी सुन्दर चर्चा, इसमें मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका बहुत - बहुत धन्यवाद..
    आप अपने स्वस्थ्य का ख्याल रखें ..
    आपके बेहतर स्वस्थ्य के लिए बहुत बहुत शुभकामनायें ..

    ReplyDelete
  17. डॉ नूतन जी , चर्चा मंच पर आपने मेरे ब्लॉग की चर्चा की, इसके लिए हृदय से आपका कृतज्ञ हूँ ।

    ReplyDelete
  18. बहुत अच्छी चर्चा ..सुन्दर चयन लिंक्स का ...अपने स्वस्थ्य का ख़याल रखें ...

    ReplyDelete
  19. अच्छे है आपके विचार, ओरो के ब्लॉग को follow करके या कमेन्ट देकर उनका होसला बढाए ....

    ReplyDelete
  20. बहुत सुदर चर्चा नूतन जी...अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखे.....।

    ReplyDelete
  21. नूतन जी
    नमस्कार !
    आज की चर्चा बहुत अच्छी है| बहुत अच्छे लिंक मिले|सही सेहत न होने के बाद भी इतने अच्छे लिंक के लिए धन्यवाद। अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखिये!
    मेरा ब्लॉग शामिल करने के लिए आभार !

    ReplyDelete
  22. यह आपकी लगन और निष्‍ठा का परिचायक है कि अस्‍वस्‍थ होने के बावजूद इतने अच्‍छे तरीके से आपने अपने इस दायित्‍व का निर्वहन किया। बहुत ही सुंदर और सार्थक चर्चा्.. अच्‍छे लिंक मिले।

    आपके शीघ्र पूरी तरह स्‍वस्‍थ होने की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin