Followers

Tuesday, May 17, 2011

बातें उल जलूल हो गयीं ---साप्ताहिक काव्य मंच – 46 … चर्चा मंच – 516

 नमस्कार , हाज़िर हूँ एक बार फिर मंगलवार की चर्चा ले कर ..दिन -प्रतिदिन मंहगाई की मार से आम आदमी परेशान हो गया है …लगता है ज़िंदगी में बस  संघर्ष ही संघर्ष  है …यहाँ तक कि मन के भाव भी लोगों को त्रस्त कर रहे हैं …आज चर्चा का आरम्भ करते हैं डा० रूपचन्द्र शास्त्री जी की रचना से--
मेरा परिचय डा० रूपचन्द्र शास्त्री जी  हमेशा एक अच्छे सन्देश के साथ रचनाएँ गढते हैं … छंदबद्ध रचनाएँ उनकी विशेषता है … आज उनकी एक खूबसूरत रचना पेश है --
बातें उल जलूल हो गयीं
जाने कैसे भूल हो गई अन्तर्मन को पढ़ने में।
कल्पनाएँ निर्मूल हो गईं, पाषाणों को गढ़ने में।
हार नहीं मानी मैंने, संघर्षों के तूफानों से,
राहें ही प्रतिकूल हो गईं, सोपानों को चढ़ने में
 दिगंबर नासवा जी अपनी गज़ल से सार्थक और सटीक सन्देश दे रहे हैं --
धीरे धीरे बर्फ पिघलना ठीक नही
दरिया का सैलाब में ढलना ठीक नही
पत्ते भी रो उठते है छू जाने से
पतझड़ के मौसम में चलना ठीक नही
मेरा फोटो  वंदना गुप्ता जी को ज़िंदगी से बहुत शिकायत है ..उनका कहना है कि -सूद के साथ मूल भी छीन लेती है
ज़िन्दगी जब भी करवट लेती है
सब कुछ नेस्तनाबूद कर देती है
कभी जीने का पता नही देती है
कभी मरने का ठिकाना नही देती है
कभी आईने मे अक्स दिखा देती है
कभी अक्स को आईने मे छुपा देती है
My Photo  बाबुषा  का लेखन विशेष आकृष्ट करता है ….आधे  अधूरे / अधूरे पूरे / पूरे आधे / आधे आधे /पूरे पूरे ...
मैं ;
जब पियानो में ;
'सी शार्प' लगाती हूँ न -
तब ;
नहीं लगाती वो सुर -
दरअसल ;
मैं खुद ही
सुरों में ढल के
'सी शार्प'
हो जाती हूँ !
My Photo  प्रतिभा कटियार  जी को आज कल अच्छी नहीं लगतीं अच्छी लगने वाली चीज़ें

इन दिनों
अच्छी नहीं लगतीं मुझे
अच्छी लगने वाली चीजें
बिलकुल नहीं भातीं मीठी बातें
दोस्तियों में नहीं आती है
अपनेपन की खुशबू
सुंदर चेहरों पर सजी मुस्कुराहटों से
झांकती है ऊब
My Photo महेंद्र वर्मा जी की एक खूबसूरत गज़लरंगमंच
हित रक्षक भक्षक बन जाए क्या कर लोगे,
सुख ही दुखदायक बन जाए क्या कर लोगे।
बहिरंतर में भिन्न-भिन्न व्यक्तित्व सजाए
मित्र कभी निंदक बन जाए क्या कर लोगे।
रामेश्वर काम्बोज \ रामेश्वर काम्बोज “ हिमांशु “ जी की एक सुन्दर रचना नील कुवलय से नयन
नील कुवलय -से
तुम्हारे
ये अधमुँदे नयन
कितने पावन
बुनते सपन ।
मेरा फोटो  धर्मेन्द्र कुमार सिंह जी गज़ल के माध्यम से कह रहे हैं अपने जज़्बात ..मेरी किस्मत में है तेरा प्यार नहीं

मेरी किस्मत में है तेरा प्यार नहीं
तेरी नफ़रत किंतु मुझे स्वीकार नहीं
दिल में बनकर चोट बसी जो तू मेरे
निकली फिर क्यूँ बन आँसू की धार नहीं
मेरा फोटो  निवेदिता श्रीवास्तव  कुछ सपनों की बात कर रही हैं अपनी इस नज़्म में ..अनछुए से सपनों की सौगात

ये क्या ......
ऐसे क्यों
मांग लिया !
अनछुए से
सपनों की
सौगात ......
ये कैसे रिश्ते,
ये कैसे ज़ज्बात !
वाटिका ब्लॉग पर सुभाष नीरव  लाये हैं रंजना श्रीवास्तव के कुछ गीत और गज़लें

एक चेहरा मुझे आप जैसा लगा
चांदनी रात में चांद जैसा लगा
हमने सरहद बनायी अलग हो गये
आइने में दिखीं सूरतें इक जगह
फूल की बस्तियां चुप सी रहने लगीं
तितलियों का सफ़र आग जैसा लगा
My Photo  सुषमा “आहुति “ अपनी बात  कह रही हैं कि -समझ तुम भी नहीं पाए
मेरी खामोशियो को समझ तुम भी नही पाये
मेरे ख्याल जब शब्दों में ढलते है
उन शब्दों में जिक्र तुम्हारा ही होता है
मेरी कवितायों को पढ़ तुम भी नही पाये
मेरी खामोशियो को समझ तुम भी नही पाये...!!!
My Photo रामपति कश्यप जी के मन के भाव पढ़िए  जो तुम पास  नहीं हो ...

एक खालीपन
पसर गया है
मन के भीतर
बाहर भी
तुम जो नहीं हो पास
  अनिता सक्सेना जी  ले आई हैं सपनों की पतंग
आओ बच्चों तुम्हें सिखाएं
                  हम ऐसी एक पतंग बनाएं
                सपनों का कागज हो जिसमें
                 अरमानों की डोर लगाएं
                 देख हवा का रूख चुपके से
                बैठ पतंग पर खुद उड़ जाएं
  My Photo प्रीति सिंह  जी वेदना में भी एक हास्य रचना ले कर आई हैं …ज़रा नज़र डालिए …मेरी व्यथा
जब शाम को मैंने उनका मुंह देखा,
लगा, अभी तक नाराज़ है मुझसे,
कल रात की तू-तू-मैं-मैं की,
धधक कर जलती आग है ये.
My Photo  दर्शन कौर धनोय  जी एक लम्हे का प्यार .. में बता रही हैं दो लम्हों की दास्तान -
इक लम्हे में उन्होंने जिन्दगी संवार दी मेरी ?
इक लम्हे में उन्होंने जिन्दगी उजाड़ दी मेरी ?
   वटवृक्ष  पर रश्मि प्रभा जी लायी हैं वाण भट्ट जी की रचना -
हमारी विरासत

जिंदगी के दस्तावेज़
रख दो सम्हाल के
कि
आने वाली जिंदगियाँ
आसान हो जाये.
My Photo  राजेश कुमारी जी दहेज की बलि वेदी पर  चढती बेटियों के दर्द को बयान कर रही हैं --  तात ! मैं तेरी सोन चिरैया
अन्तः उर में छाई उदासी
हार सिंगार क्यूं हो गया बासी
सुर्ख परिधान लगे स्याह सरीखा
मेहंदी का रंग पड़ गया फीका   !
  मनोज ब्लॉग पर श्यामनारायण मिश्र जी की रचना का रसास्वादन करें ..
आपका   प्रतिबिंब   पानी  पर पड़ा
दौड़कर   लहरें   किनारे   आ  गईं।
खिलखिलाकर  हंस  दिए जो आप
मंदिरों  की   घंटियां   टकरा   गईं।
चपल    चितवन  ने  दिया   संदेश
सोन पर उतरी सुबह मधुमास की
My Photo  आनंद द्विवेदी  जी  कह रहे हैं कि --एक बार होना चाहिए ..
पर क्या ? यह आप खुद पढ़ कर जाने ..

हाय क्या मासूमियत, क्या क़त्ल करने का हुनर
आपका तो नाम ही ,   तलवार होना चाहिए  !
आँख भी जब बंद हो और वो तसव्वुर में न हो
ऐसे लम्हों पे तो बस,   धिक्कार होना चाहिए
मेरा फोटो  साधना वैद जी  अपने स्वत्व को नित नयी कसौटी पर कसती हुई लायी हैं एक रचना अहसास
मन के सूने गलियारों में किसीकी
                      जानी पहचानी परछाइयाँ टहलती हैं ,
                   दिल की सख्त पथरीली ज़मीन पर
                     दबे पाँव बहुत धीरे-धीरे चलती हैं
My Photo विनोद कुमार पांडे जी की एक खूबसूरत गज़ल  पेश है …
गीत लिखना छोड़ दूँ
गीत लिखना छोड़ दूँ,ग़ज़लें सुनाना छोड़ दूँ?
चाहते है आप कि मैं मुस्कुराना छोड़ दूँ?

भीड़ है चारो तरफ पर हर कोई तन्हा यहाँ,
ऐसी सूरत में उन्हें मैं,गुदगुदाना छोड़ दूँ?
My Photo अनिता निहलानी जी  चढा रही हैं --श्रद्धा सुमन
दीप जला श्रद्धा का मन में
जिस क्षण हमने तुम्हें निहारा,
भाव उठा समर्पण का तब
जब से तुमने हमें पुकारा !
 हिंदी राजभाषा ब्लॉग पर पढ़िए  ---अर्धनारीश्वर
स्त्री - पुरूष
समान रूप से
एक दूसरे के पूरक
सुनते आ रहे हैं
न जाने कब से
लेकिन क्या सच में ही
दोनों में कोई समानता है?
मेरे मौन की अज्ञात लिपि में
पिरो दिये हैं तुमने
कुछ भीगे अक्षर
बोलो ! मैं इनका क्या करूँ
जबकि ;मैं घर पर नहीं थी
और डाकिया डाल गया
एक बन्द लिफाफा
मेरा फोटो  मीनाक्षी पन्त  जी “युवा पीढ़ी बिगड रही है “इस पर अपने विचार कुछ इस प्रकार रख रही हैं दोषी कौन ?..

ख़बरे कहती हैं हमसे की ?
युवावर्ग  बिगड़ रहा  है |
कितना आसां है ... यह कहना कि
युवापीढ़ी बिगड़ रही है |
हाथ पकड़ कर चलना तो ,
उसने हमसे ही सीखा  है |
मेरा फोटो   केशवेंद्र कुमार जी आशावादी सोच ले कर आए हैं ….
अँधेरे में इक दिया जलाता हूँ |
मैं रौशनी के लिए खुद को मिटाता हूँ ||
जहां सारी उम्मीदें हताश हो आयी |
वहां मैं, दुआ बन के काम आता हूँ ||
मेरा फोटो  निर्झर नीर  जी की  एक खूबसूरत गज़ल पेश है
चाँद माना  धरा से बहुत दूर है ..

चाँद माना धरा से बहुत दूर है !
चांदनी ये मगर कब कहाँ दूर है !!
भटकता फिरूं में यहाँ से वहां !
ऱब इन्सान से कब कहाँ दूर है !!
My Photo  अक्षत डबराल जी पेश कर रहे हैं ज़िंदगी का हिसाब किताबक्या पाया क्या खोया ?
ज़िन्दगी टिक टिक घड़ी सी चलती ,
क्या जागा , क्या सोया ?
एक एक कर दिन ख़त्म हो रहे ,
क्या पाया , क्या खोया ?
My Photo  प्रबोध कुमार गोविल  जी परिंदे के माध्यम से  जनता को चेता रहे हैं …परिंदे ,  ले ऊँची परवाज़
आसमान में धुआं क्यों है, कहाँ लगी है आग परिंदे?
देर न हो जाये घटना को, ले ऊंची परवाज़ परिंदे.
देख कहीं से रावणजी  तो, इस धरती पर लौट न आये?
लक्षमण रेखा खींच दोबारा, जा बन जा तू राम परिंदे.
My Photo सुशील जोशी जी सन्देश दे रहे हैं कि  घृणा  किससे करनी चाहिए …
कुछ लोग आज कर रहे घृणा गरीब से
गरीब बस गरीब है अपने नसीब से
My Photo मृदुला  हर्षवर्धन  ग्रीष्म ऋतु के एक दिन का वर्णन कर रही हैं …
उषा से संध्या तक
कुमकुम-सा बिखरा हुआ था
श्यामल नील गगन पर
मानो
बहारों ने अपना सौंदर्य
लुटाया था चमन पर
वात्सल्य से परिपूर्ण
जलधर आ रहे थे
सुबह की सरगम पर
हलधर गा रहे थे
मेरा फोटो डा० राकेश शरद   … उनको लगता है कि आज कल हर सच्चाई व्यंग हो गयी है … पढ़िए उनकी व्यंग कविता 
यदि
रोटी खाना चाहते हो ,
वो भी सिर्फ रूखी तो
कमाओ व्हाइट मनी
यदि खाना चाहते हो ,
बटर और हनी ,तो
जमकर कमाओ ब्लैक मनी
My Photo  विजय कुमार जी बता रहे हैं अन्तर छोटा – बड़ा

चौड़ी सड़कें
लम्बे-चौड़े वाहन
अतिरेक उपाधियाँ
ऊँचे पद
पांच अंकीय आय
बड़ा कूड़ादान
मेरा फोटो दिलीप कुमार जी एक कडवी सच्चाई को मार्मिक रूप में प्रस्तुत कर रहे हैं …वह ..
वह उनके बच्चों को
बस स्टाप तक पहुंचाती
सजा सवांर के
नाश्ता करा के
स्वयं भूखे पेट
किताबों का थैला ढोती
स्वयं किताबों से दूर
बचपन से दूर
परिवार की रोटी हो गयी
  सुभाष नीरव  की कुछ हाईकू  रचनाएँ पढ़िए ….रचनाकार पर

(1)
बहता पानी
सुनाता है सबको
एक कहानी।
(2)
सखी री सुन
दुख यूँ खाए जैसे
गेहूँ को घुन।
clip_image001[4]        कुछ ताज़ा लिंक्स
My Photo राजीव जी की रचना --रिश्तों का असर
आज
सत्तर से ऊपर के हैं बाबूजी,
पहले जैसा नहीं रहा है शरीर,
उन्हें होने लगी है जरूरत
सहारे की
  मीनाक्षी पन्त जी कह रही हैं --दिल है कि मानता नहीं
दिल का क्या है ...
न जाने किसके पहलूँ में जाके ठहर जाये |
किसी पहचान की उसे ...
जरूरत ही कहाँ होती है |

मेरा फोटो  रेखा श्रीवास्तव जी  तोल के बोलने की  सीख दे रही हैं --फ़ूल भी झरते हैं
ये सच है
बोल बड़े अनमोल हैं भाई,
फिर ये भी सच है
अनमोल वही होते हैं
जिन्हें हम
बोलने से पहले तौल लें भाई.
मेरा फोटो  रश्मि प्रभा जी सबके मन की बात कह रही हैं --पसंद अपनी ख़याल अपना
एक व्यक्ति के रूप अनेक !
किसी का व्यक्तित्व एक सांचे में नहीं होता
सामाजिक पारिवारिक राजनैतिक आर्थिक
हर सांचे का अपना एक सच होता है

मेरा परिचय  और  चर्चा के अंत में डा० रूपचन्द्र शास्त्री जी की नयी  गज़ल धीरे धीरे गज़ल
छले जा रही है ग़ज़ल धीरे-धीरे।
कठिन धीरे-धीरे, सरल धीरे-धीरे।

जज़ीरों पे बैठा हुआ सोचता हूँ,
होगा कभी तो फ़ज़ल धीरे धीरे।
आज बस इतना ही … आशा है पाठकों के लिए चर्चा अपनी सार्थकता सिद्ध करेगी … जब मंगलवार को मैं फिर से दिवस के अंत में सारे लिंक्स पर जाती हूँ और वहाँ पाठकों की टिप्पणियाँ देखती हूँ तो  लगता है कि मेहनत सार्थक हो गयी …आशा है ऐसा ही स्नेह हमेशा मिलता रहेगा … आपके सुझाव और प्रतिक्रियायों का सदैव स्वागत है …. आभार … फिर मिलते हैं नयी चर्चा के साथ अगले मंगलवार को – नमस्कार -- संगीता स्वरुप

38 comments:

  1. आज की चर्चा और कई लिंक्स के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  2. बढ़िया और स्तरीय चर्चा!
    आपका श्रम इसमें साफ झलक रहा है!

    ReplyDelete
  3. जैसा की शास्त्री जी ने कहा , आपके श्रम और गुणवत्ता
    के आगे नतमस्तक हैं हम ..
    हमेशा की तरह लाजवाब !

    ReplyDelete
  4. Sangeeta ji aaj ki charcha me meri kavita ko jagah dene ke liye hardya se aabhari hoon.bahut achcha hai yeh munch janhaa achche achche link milte hain.aapki charcha ka tareeka bhi anokha hai.aapka bahut bahut abhaar.

    ReplyDelete
  5. संगीता जी चर्चा मंच में स्थान देने के लिये बहुत-बहुत शुक्रिया । आप हमारा उत्साह दुगुना कर देतीं हैं ।

    ReplyDelete
  6. संगीता दीदी सबसे पहले मेरा आपको प्रणाम बहुत पहले जब मैंने लिखना शुरू किया था तब भी आपने मेरा मार्ग - दर्शन किया था पर बीच में हमारा साथ छुट गया था आज फिर आपने हमारा हाथ थामा है और हमें बहुत ख़ुशी है आज फिर आप हमें इतनी खूबसूरती से सबके समक्ष लेकर आई हैं मैं आपकी बहुत शुक्रगुजार हूँ | चर्चामंच में मुझे प्रस्तुत करने का बहुत - बहुत शुक्रिया | बहुत खुबसूरत मंच सजाया है आपने , आपकी मेहनत के हम कायल हैं |
    बहुत लोगों से मिलने का फिर मिका मिला बहुत - बहुत शुक्रिया |

    ReplyDelete
  7. आपकी मेहनत जायज नही जाएगी संगीता दी --कुछ जानने का मोका यु ही किसी के नसीब में नही होता--आज के लिंक माशा अल्लाह बड़े ही खूब सुरती से सजाए है --अपनी अदना -सी कविता को स्थान देकर मुझे लिखने को प्रोत्साहित किया है --धन्यवाद !

    ReplyDelete
  8. सुँदर लिंक्स से सजी विस्तृत चर्चा . आपकी मेहनत झलकती है चर्चा में .

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर चर्चा रहा! बढ़िया प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  10. बढ़िया और स्तरीय चर्चा!

    ReplyDelete
  11. Sangeeta ji,

    aapke is khubsurat charcha manch ki jitani tarif karun kam hai..bahut dino ke baad is manch par aaya hoon..

    aapne charcha manch ko ek nai unchai di hai jo tarife kabil hai...bahut khubsurat link aur achche blog ka sanklan..badhiya laga..bahut bahut abdhai

    ReplyDelete
  12. वाह जी बल्ले बल्ले

    ReplyDelete
  13. संगीता दी ,
    आपने मेरे लिये आज दिन भर की अच्छी खुराक दे दी है ) साथ में मुझे भी अपना स्नेह दे दिया बहुत अच्छा लगा ....सादर!

    ReplyDelete
  14. बहुत ही अच्छे लिंक मिले, बहुत बहुत धन्यवाद। मेरी रचना का लिंक देने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  15. चर्चा मंच को जो ऊंचाई आपने अपनी मेहनत और लगन से दी है उसके लिए ब्लॉगजगत सदा आपका आभारी रहेगा।

    ReplyDelete
  16. संगीता जी,
    नमस्कार
    चर्चामंच को सजाने-संवारने के निए आप बहुत परिश्रम करती हैं इसीलिए यह इतना सुंदर बन पाता है।
    मुझे भी स्नेह प्रदान करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  17. सुँदर लिंक्स से सजी विस्तृत चर्चा . आपकी मेहनत झलकती है चर्चा में .

    ReplyDelete
  18. सच ये है कि एक भी नहीं पढ़ पायी अभी तक ! :-(

    बस..पढ़ने बैठ ही रही हूँ !

    और हाँ माँ , 'कुछ पन्ने' के पागलपन को मंच देने के लिए आभार !

    सादर

    ReplyDelete
  19. हमेशा की तरह बहुत सुन्दर लिंक्स से सजी बहुत खूबसूरत चर्चा ! मेरी रचना को आपने इसमें स्थान दिया आपकी आभारी हूँ ! कई लिंक्स पर जा चुकी हूँ शेष पर जाना अभी बाकी है ! जिन्हें भी पढ़ा पढ़ कर बेहद प्रसन्नता हुई ! इतनी अच्छी चर्चा के लिये आपको बहुत बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  20. वि्स्तृत और शानदार लिंक्स से सुसज्जित चर्चा के लिये आभार्।

    ReplyDelete
  21. बहुत मेहनत कर रही हो, उसका फायदा हम उठा रहे हैं , नए नए लिंक मिल जाते हैं और फिर भी हम सबको नहीं पढ़ पाते हैं. थाली परोस कर ही तो दे डौगी खाना खुद ही पड़ेगा. अभी भूख मिति नहीं है. वक्त खाने के लिए इजाजत नहीं देता है.

    ReplyDelete
  22. इतने खूबसूरत लिंक्स.आज तो सुबह बन गई.

    ReplyDelete
  23. बढ़िया चर्चा .... हमेशा की तरह लाजवाब ...

    ReplyDelete
  24. सारे के सारे पठनीय लिंक्स।

    ReplyDelete
  25. बहुत विस्तृत चर्चा..शानदार लिंक्स..आभार

    ReplyDelete
  26. संगीता जी, आप इतनी विशाल बगिया से चुन-चुन के हमारे लिए फूल लती हैं, रजनीगन्धा, मोगरा, रातरानी, चमेली सी मह-मह महकती ये खुबसूरत रचनाये अपनी सुगंध से हमारा मन मोह लेती हैं.....आपका बहुत-बहुत धन्यवाद...कुछ लिंक्स तो वाकई बेहद खुबसूरत हैं.....

    ReplyDelete
  27. संगीताजी, आज की चर्चा भी बहुत मनभावनी है कई नए लिंक्स मिले, आभार !

    ReplyDelete
  28. रोचक चर्चा ... बढिया है

    ReplyDelete
  29. आदरणीय संगीता जी ! आपने चर्चा मंच पर लाकर मुझे सचमुच चर्चित कर दिया ...! हृदय से आभार आपका । चर्चा मंच पर आना ... अपने कई ब्लॉग मित्रों से भेट होना और भी सुखद है , बहुत बहुत आभार !!!

    ReplyDelete
  30. बहुत ही शानदार चर्चा
    अच्छे लिंक प्राप्त हुए!! आभार

    ReplyDelete
  31. बहुत बढ़िया लिंक्स से सुसज्जित चर्चा ...आभार !

    ReplyDelete
  32. achchci charcha.... buddha poornima key din..... aapko dhanyavaad...

    ReplyDelete
  33. मैं अपने सभी पाठकों की आभारी हूँ ... कुछ पाठक दिए गए अधिकाँश लिंक्स तक पहुंचे ... आप सबका हृदय से धन्यवाद

    ReplyDelete
  34. नमस्कार संगीता जी...बहुत ही विस्तृत और मनमोहक चर्चा...अच्छे लिंक्सों से सुसज्जित...इक्जाम की व्यस्तता के कारण सभी लिंक्सों पर जा नहीं पाउँगा..पर कुछ पर तो हो ही आऊँगा....शुभ रात्रि।

    ReplyDelete
  35. संगीता जी,
    चर्चामंच पर जब भी आना होता है, कुछ नए ब्लॉगर दोस्तों से साइबर जान-पहचान होने के साथ-साथ काफी अच्छी रचनाओं को पढ़ने का मौका मिलता है. आप लोगों की मेहनत वाकई काबिले-तारीफ है.

    ReplyDelete
  36. आदरणीय संगीता जी.... माफी चाहता हूँ अपने ब्लॉग में प्रत्युत्तर एवं आपके साप्ताहिक काव्य मंच में टिप्पणी देने में देरी हो गई... दरअसल मेरे तंत्रजाल में कुछ तकनीकी खराबी आ गई थी... आपने इतने विशाल मंच पर मेरी रचना की पंक्तियाँ एवं उसका लिंक देकर मुझे जो सम्मान दिया है उसके लिए आपका हार्दिक आभार.... आपका आशीर्वाद यूँ ही मिलता रहे और मैं आपके इस मंच द्वारा इतने महान रचनाकारों की कृतियों से अवगत होकर उनसे कुछ सीखता रहूँ, यही कामना करता हूँ...आपको सादर चरण स्पर्श..

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

चर्चा - 2817

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है  चलते हैं चर्चा की ओर सबका हाड़ कँपाया है मौत का मंतर न फेंक सरसी छन्द आधारित गीत   ...