चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Monday, May 09, 2011

तलाश कभी खत्म नही होती…………………चर्चा मंच

दोस्तों
कल मदर्स डे था 
तो ज्यादातर पोस्ट 
माँ पर ही हैं .............फिर भी
कोशिश की है कि
कुछ अलग पोस्ट भी आप तक
पहुँचा सकूँ






     एक पैगाम 
     

क्या व्यर्थ जा रहे हैं तारीफ में लिखे कमेण्ट ?आप सब कया सोचते 

 बिलकुल नहीं 

 

फिर भी माँ नहीं बन सकती .....बेटी हूँ न 

 


    सब कुछ कह दिया...........बाकी क्या रहा 
     
     और हमेशा रहूँगा 
     
    नव गीत गाकर देखिये 
     
     शत शत नमन
     
     एक पहेली
     
     जानिए 
     
    कब जीने देगी चैन से 
     
     माँ को नमन
     
     माँ तो माँ होती है
     
     
गुनगुनाये जा  



एक परिचय  

 ध्यान दीजिये 

 इसमें क्या शक है 



तो क्या करती ?



एक शब्द में संसार समाया 


जीने का मतलब कैसे जानूं ? 

 जानना कहाँ है आसान

 

 

सालारजंग म्यूजियम – पहला तल

 जानिए इस बारे में

 

खास प्यारी माँ के लिए.....! 

 एक सौगात

 

बस तुम्हारे लिए

एक ख़्वाब ......हकीकत सा 

 

कलाकार का स्पर्ष 

 करके देखिये 

 

घबराइये मतइस ज़माने की चलन से चौंकिये मत,कीजिये कुछ, थामकर

 ज़माना कब बदला है किसी के लिए 

खुद को बदल ले आदमी जीने के लिए 


 

एक बार एक बेहतरीन प्‍यार 

अब इसके बाद क्या कहूं ?

 

 कुछ तलाश उम्र भर पूरी नहीं होतीं 


इतना सोचना भी ठीक नहीं 



एक समन्दर - माँ के अन्दर 
 फिर भी कम नही होता
 किसका?
 यही तो वक्त है मनाने का
जिसकी कोई दवा नहीं


तुझे सलाम 


फिर भी अकेले



आज की चर्चा को अब विराम देती हूँ
उम्मीद है पसंद आई होगी 
अपने विचारों से हमें 
अवगत कराकर 
हमारा हौसला बढ़ाते रहिये
 

32 comments:

  1. utkrisht ,sankalan ,sampadan, pratyek srijan ka sarthak trishtikon prabhavit kar gaya ji .bahut -bahut aabhar ji .

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर चर्चा वंदनाजी...... सभी लिनक्स बेहतरीन ...चैतन्य को शामिल करने का आभार

    ReplyDelete
  3. आज के लिंक बहुत सोच-समझकर लिए हैं आपने!
    अधिकंश पर हो आया हूँ!
    बाकी को समय मिलते ही देख लूँगा!
    आभार!

    ReplyDelete
  4. सुंदर चर्चा. बेहतरीन लिंक्स. मेरी रचना को शामिल करने के लिए शुक्रिया.

    ReplyDelete
  5. वाह ! बंदना जी ...आप के इस उत्कृष्ट संकलन को देखकर ही आप की मेहनत और आपकी चयनात्मक योग्यता का परिचय मिल जाता है ! आखिर मुसाफिर भी चर्चामंच पर आ ही गया जिसके लिए आप को साधुवाद !!आज की चर्चा का आकर्षण इसकी विविधता एवं उत्कृष्टता है जिसके लिए आप के साथ साथ पूरा चर्चा मंच बधाई का पात्र है !

    पुनः - आभार

    ReplyDelete
  6. सराहनीय सार-संकलन . आभार .

    ReplyDelete
  7. अच्छे लिंक्स..
    बेहतरीन चर्चा !

    ReplyDelete
  8. सुन्दर चयन के साथ अच्छी चर्चा

    ReplyDelete
  9. वन्दना जी,
    इसी लगन और मेहनत से हम सबका हौसला बढाती रहिये.
    आभार तथा धन्यवाद सहित,
    रोज की रोटी

    ReplyDelete
  10. शुक्रिया वंदना जी

    ReplyDelete
  11. दोस्तों क्या आप जानते हें 4 जून को डेल्ही में बाबा रामदेव इस भ्रस्ताचार के खिलाफ एक आन्दोलन करने जारहे हे अधिक जानने के लिए ये लिंक देखें
    http://www.bharatyogi.net/2011/04/4-2011.html

    ReplyDelete
  12. नमस्कार वंदना जी,
    जिस किसी ने नेहा ये तुमने ठीक नहीं किया पर टिप्पणी की है, उसे मेरी तरफ से धन्यवाद दीजिएगा।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर चर्चा ... बेहतरीन लिनक्स ... मेरी रचना को शामिल करने के लिए शुक्रिया...

    ReplyDelete
  14. सार्थक चर्चा....अच्छे लिंक्स

    सराहनीय कार्य ....आभार

    ReplyDelete
  15. ममतामयी चर्चा.बढ़िया लिंक्स .आभार

    ReplyDelete
  16. बेहतर लगा आज का चर्चा मंच ...वन्दना जी !आभार !

    ReplyDelete
  17. बढिया है। अच्छी चर्चा

    ReplyDelete
  18. मदर्स डे पर अच्छे लिंक्स हैं. खासतौर पर अरुण चन्द्र राय की "सीधे पल्ले की साडी में " बहुत ही बेहतरीन सामयिक रचना. इतने नायाब मोती चुन लाने के लिए आपको बधाई .

    ReplyDelete
  19. सुन्दर ममतामयी चर्चा.
    बढ़िया लिंक्स.... .आभार

    ReplyDelete
  20. I could not read all the links. Will read late night.
    Thanks for including absurdities of 'Kuchh Panne'

    ReplyDelete
  21. शुक्रिया वंदना जी, आपने 'सोचा' मेरे'व्‍यथित अन्‍तर्मन' के लिए।

    ReplyDelete
  22. मदर्स डे पर केन्द्रित आज का चर्चा मंच अच्छा लगा।
    मेरे ब्लॉग को सम्मिलित करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  23. बहुत ही खूबसूरती के साथ सजाया गया पूरे ब्लॉग को.हार्दिक शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  24. meri post shamil karane ka shukriya. achchhaa sankalan.

    ReplyDelete
  25. चर्चामंच से जुड़े सभी लोगों का मेरे ब्लॉग www.pradip13m.blogspot.com में सादर आमंत्रण है ।
    कविता के क्षेत्र में मैं बहुत मंजा हुआ तो नही हूँ पर आप सबका प्रोत्साहन, शुभकामनाएँ और मार्गदर्शन चाहता हूँ ।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin