Followers

Tuesday, June 21, 2011

वो बादल , वो हवा वो बूंदों की रिमझिम ..साप्ताहिक काव्य मंच –51..चर्चा मंच – 552

नमस्कार , हाज़िर हूँ मंगलवार की साप्ताहिक काव्य चर्चा ले कर ..रामलीला मैदान की लीला का ज़िक्र कुछ कम हो चला है … लेकिन क्या सच ही ये प्रसंग भुला देने लायक है ..नेताओं का कहना है कि जनता की याददाश्त कमज़ोर होती है और आने वाले सालों में जब चुनाव होंगे तब तक जनता भूल जायेगी यह सब …पर जब आम जनता जैसे हम और आप यह कहते हैं तो अफ़सोस होता है , यानि कि हम ही स्वयं को कह रहे हैं कि हमारी याददाश्त कमज़ोर है ..खैर ..कल के नवभारत टाईम्स में यह आंकड़े आए थे ..आपके समक्ष रख रही हूँ … 5  लाख करोड़ कम हुई स्विस बैंकों की दौलत --- 2009 में यह रकम  1,30,00,000  करोड़ रूपये के करीब  थी जो 2010 में 1,26,00,000 करोड़ रूपये जमा थे ..अब इसमें भारत के सही आंकड़े उपलब्द्ध नहीं हैं …अरे ! मैं भी काव्य मंच पर क्या ले बैठी … तो ..आज शुरू करते हैं चर्चा  इसी भ्रष्टाचार पर लिखी एक सशक्त रचना से ..
मेरा परिचय डा० रूपचन्द्र शास्त्री जी  हर विषय पर खूबसूरत गीत और कविता लिखते रहे हैं …आज हमारे देश के कर्णधार नेता देश को कैसे खोखला कर रहे हैं उस पर उनकी एक सार्थक रचना पढ़िए --कीट निकम्में
जिनको सौंपी पहरेदारी,
वो करते हैं चोरी-जारी,
खाकर करते नमक हरामी,
खुले आम करते गद्दारी,
चाँदी-सोना लूट लिया सब,
खम्बों पर धर दिये मुलम्मे।
सबको कुतर रहे भीतर घुस,
घुन बनकर कुछ कीट निकम्मे।
मेरा फोटो रश्मि प्रभा जी शब्दों को कहाँ कहाँ से ढूँढ कर ला रही हैं और बना रही हैं ---
शब्द लहराकर हर तरफ जाते हैं
कोई रख देता है उसे रोटी में
कोई मटकी में
कोई बुहारकर निकाली गई धूल में
कोई टांग देता है कंदील संग
रात के अँधेरे में !
शब्द छुप जाते हैं
झांकते हैं दरवाज़े की ओट से
मनोज ब्लॉग पर श्याम नारायण मिश्र जी का एक ओजस्वी नवगीत  ..जिसको कवि ने  किसको समर्पित किया है यह जानने के लिए पढ़ें --गीत मेरे अर्पित  हैं
ख़ून की उबालों को,
क्रांति की मशालों को
गीत मेरे अर्पित हैं

तोतली जुबानों पर
दूनिया-पहाड़ों के
अंक जो चढाते हैं
My Photo

 शिखा वार्ष्णेय जी की खूबी है कि कहीं से भी प्रेरणा ले कर ज़िंदगी के कथ्य को कह देती हैं … एक कविता बुर्के में महिला को देख कर लिखी थी और आज पक्षियों के बारे में पढते हुए … आप भी पढ़िए पक्षियों से मिलती प्रेरणा को –-

कहते हैं उड़ान परों से नहीं 

हौसलों से होती है 
पर क्या हौसला ही काफी है. 
हौसले के साथ तो उड़ता है बादल भी 
पर कहलाता है आवारा.
  दिगंबर नासवा जी ऐसे रिश्तों की बात कर रहे हैं जो मृतप्राय: हो गए हैं , लेकिन यादें हैं कि हर पल चली आती हैं --रिश्ता
जिस दिन
हमारे रिश्ते की अकाल मृत्यु हुई
कुकुरमुत्ते की तरह तुम्हारी यादें
सर उठाने लगीं
कंबल में जमी धूल सी तुम
तमाम कोशिशों के बावजूद
झाड़ी नही गयीं मुझसे
मेरा फोटो
अनिता निहलानी जी की रचना ---
कवि को कौन चाहिए जग में
एक सुहृदय पाठक ही तो,
कोई तो हो जग में ऐसा
जो समझे उसकी रचना को !
My Photo  श्यामल सुमन जी एक बेहतरीन गज़ल लाये हैं --


कौन मुझसे पूछता अब किस तरह से जी रहा हूँ
प्यास है पानी के बदले आँसुओं को पी रहा हूँ
जख्म अपनों से मिले फिर दर्द कैसा, क्या कहें
आसमां ही फट गया तो बैठकर के सी रहा हूँ
My Photo 
बाबुषा  ने अपनी क्षणिकाओं का नाम दिया है -----बकवास --- पार्ट – 7   जब भी पढ़ती हूँ उनके गहन अर्थ में डूब जाती हूँ …

ज़्यादातर स्त्रियों की
नहीं होतीं ,
आँखें ,कान या नाक -
वे होती हैं
मात्र ;
गहरी -अंधी सुरंगें !
My Photo सोनल रस्तोगी जी कह रही हैं कि किसी पर भी आक्षेप लगाना कितना सरल है मिथ्या देव
सहज है ना
थूक देना किसी पर
आक्षेप लगाना

अकर्मण्य होने पर
कहना तू व्यर्थ है
जीवन बोझ है तेरा
My Photo ऋचा  लायीं है तेरी खामोशी के सुर
"साउंड एनर्जी" का तो समझ आता है
पर तुम्हारी ख़ामोशी के सुर कैसे गूंजा करते हैं
यूँ अविराम... अविरल... हर पल...
मेरी धड़कन में...
किस सप्तक के सुर हैं ये
कि कोई और नहीं सुन पाता इन्हें
तुम्हारे दिल से निकलते हैं
और मेरे दिल को सुनाई देते हैं बस
मेरा फोटो  राम कृष्ण गौतम कटु सच्चाई को कुछ यूँ कह रहे हैं --

हम तो यूं ही जिए जा रहे थे

ज़िंदगी में दो घड़ी मेरे पास न बैठा कोई
और आज सब मेरे पास बैठे जा रहे थे

कोई तोहफा न मिला आज तक मुझे "गौतम"
मगर आज सब फूल ही फूल दिए जा रहे थे
My Photo दिनेश राय द्विवेदी जी की रचना पढ़िए --

ख़ौफ तारी था उसका

उस के नाम से डरा कर, माताएँ
सुलाती थीं अपने बच्चों को
उस के शहर का रुख़ करने की खबर से
खड़े हो जाते थे रोंगटे
शहरवासियों के
My Photo  वंदना जी ले आई हैं एक खूबसूरत गज़लवो बादल , वो हवा , वो बूंदों की रिमझिम
उसके आँगन में बरसता हुआ मैं सावन
वो कोई भीगता हुआ  सा  गुलाब जैसे


मैं आँखों में उसकी महकता हुआ  गुल
वो मेरी पलकों पे शबनम ओ आब जैसे
My Photo शांतनु सान्याल जी का ज़िंदगी के बारे में क्या फलसफा है ..ज़रा पढ़िए --मुख़्तसर ज़िन्दगी,
कहाँ से आतीं हैं,
कराहों में डूबी ये आवाज़ें -
कि ज़िन्दगी बेमानी हुई जाती है,
कहाँ कोई फिर आईना है
टूटा, कि अक्श है मेरा
फिर बिखरा हुआ,
मेरा फोटो साधना वैद जी अपनी चाहतों के बारे में बता रही हैं --पानी पर लिखी तहरीरें

पानी पर लिखी तहरीरों की तरह
मेरी चाहतों का वजूद भी
कितना क्षणिक,
कितना अस्थाई है ,
मेरा फोटो डा० निधि टंडन जी बारिश के साथ अपने मन के दृश्य भी दिखा रही हैं --
बादल हैं ये काले काले
या मेरी आँखों का काजल बिखरा है
इस सावन में तुझे याद करते-करते .
My Photo सी० के० देवेन्द्र जी की क्षणिकाएँ पढ़िए -

तेरी बेवफाई, दो आंसू, सुरमा, टुकड़े

सुरमा
सुबह से सूरज
कहीं नज़र नहीं आया
तुमने आँखों में
सुरमा लगा लिया था क्या..!!!
My Photo  मनीष जोशी जी एक गज़ल उनके  हरी मिर्च ब्लॉग पर --जि...जी ... विषा
जो ग़म पूछें उन्हीं से हाल, वो कुछ यूं बताए हैं.
जहां तुम थोक में मिलते, वहीं से ले के आए है.
बलाएं भी बिरादर इस तरह, संग राह है प्यारे,
पनाहों में पता चलता, कहर पहले से आए हैं.
मेरा फोटो कमलेश भगवती प्रसाद वर्मा जी की एक समसामयिक गज़ल पढ़िए --
हो समय प्रतिकूल तब वक्त भी ठहर जाता है .
हो समय प्रतिकूल तब वक्त भी ठहर जाता है ,
वक्त[सत्ता]के सम्मुख जन-तन्त्र बे-बस नजर आता है ,
मन में तमन्ना रखते हैं जमाने को बदलने की ,
पर ये जान देने का ही रास्ता नजर आता है ,
My Photo अब तो दिल्ली में भी मानसून आने को है ..और सुषमा आहुति जी भी कुछ इसी बारे में कह रही हैं --ये बारिश की  बूंदें
ये ठण्डी हवाये ये बारिश की बूँदे
जरा देखा इन्हे गौर से तो,
इनमे अक्स तुम्हारा दिखने लगा...!
My Photo हरीश भट्ट जी की एक बहुत मनमोहक रचना पढ़िए
जब ओढ़ लिया  इंकार  स्वयं में
तुम तो पल में संक्षिप्त हो गए
फिर मैं कैसे विस्तृत हो जाता

मैं दिया सरीखा मन मंदिर का
और वेद वाक्य का अनुवाहक
तुम मौन निवेदन क्रमशः में
फिर मैं कैसे, झंकृत हो जाता
मेरा फोटो देवेन्द्र गौतम जी की एक खूबसूरत गज़ल --ताज़गी की एक इबारत
ताजगी की एक इबारत और क्या.
मेरी बस इतनी सी चाहत और क्या.
बैठे-बैठे लिख रहा होगा खुदा
हम सभी लोगों की किस्मत और क्या.
मेरा फोटो  सुरेश यादव जी  बहुत ही संवेदनशील रचनाएँ लाये हैं मेरी संवेदनाएं , ज़मीं और विश्वास
तुम्हारी कविता में
बहुत बार
हथेलियों के बीच…
मरी तितलियों का रंग उतरता है
बहुत बार
घायल मोर का पंख
तुम्हारी कविता में रंग भरता है
मेरा फोटो वंदना गुप्ता जी चेतावनी दे रही हैं कि गर तुम चाहो तो मैं खुद के वजूद को बदल लूँ ..पर फिर वापस यह रूप नहीं ले पाउंगी ..क्यों किआसमां रोज  नहीं बदलता लिबास
तुम चाहते थे ना जीयूँ तुम्हारी तरह
लो आज तोड दीं सारी श्लाघायें
ढाल लो जिस सांचे मे चाहे
दे दो मनचाहा आकार
मगर फिर बाद मे ना कहना
 राजभाषा हिंदी ब्लॉग पर ज्वलंत समस्या को उठाती एक रचना पढ़िए ..रचयिता सृष्टि की
माँ के गर्भ में साँस लेते हुए
मैं खुश हूँ बहुत
मेरा आस्तित्व आ चुका है
बस प्रादुर्भाव होना बाकी है।
मैं माँ की कोख से ही
इस दुनिया को देख पाती हूँ
आज बस इतना ही , आशा है आज की चर्चा आपके लिए उपयोगी सिद्ध होगी … आपके सुझाव और प्रतिक्रियाओं का सदैव इंतज़ार रहता है … फिर मिलते हैं अगले मंगलवार को साप्ताहिक काव्य मंच पर ..तब तक के लिए दीजिए आज्ञा … नमस्कार --संगीता स्वरुप

37 comments:

  1. ghazal ko navazne ka shukriyaa sangeeta aunty :) sunder charcha :)

    ReplyDelete
  2. कई महत्वपूर्ण लिंक्स का संकलन और उसकी बेहतरीन प्रस्तुति - बहुत खूब संगीता जी

    एक आग्रह करना चाहता हूँ की शायद गलती से मेरे नाम के आगे इस चर्चा में डा० लग गया है जबकि यह सौभाग्य अभी मुझे प्राप्त नहीं हुआ है. अभी उस डिग्री के लिए प्रयास करूँगा ऐसा सोच ही रहा हूँ. मैं तो एक स्टील कंपनी में कार्यरत हूँ. अतः संभव हो तो इसमें सुधार कर दें. नमस्कार
    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    http://meraayeena.blogspot.com/
    http://maithilbhooshan.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. मनभावन चर्चा, उत्कृष्ट रचनाये पढ़ने को मिलीं, सुखद संयोग के वाहक को बहुत-२ बधाई /

    ReplyDelete
  4. डा० रूपचन्द्र शास्त्री जी के liye है----

    शांत चित्त श्रीमान में, देखी पहली रीस |
    कागद पर परगट हुई, रही सभी को टीस |
    रही सभी को टीस, सड़े न अगला खम्भा
    लोकतंत्र की चमक, चढ़ेगा शुद्ध मुलम्मा |
    कह रविकर गुरुदेव, करें न इकदम चिंता ||
    रहे देश आबाद, जगे जब प्यारी जनता ||

    ReplyDelete
  5. श्यामल सुमन जी ,

    त्रुटि सुधार कर दी गयी है ... ..शुक्रिया .

    ReplyDelete
  6. हमेशा की तरह लाज़वाब ...बहुत सी प्रविष्टियाँ रह गयी हैं पढने से ...
    रोचक चर्चा !

    ReplyDelete
  7. उपयोगी और सुंदर चर्चा। बहुत से लिंक पर नहीं गया था। हो आता हूं।

    ReplyDelete
  8. सुन्दर लिंकों से सजी बढ़िया चर्चा!
    बहुत से लिंकों पर तो कल ही हो आया था,
    कुछ बाकी है उन पर शाम तक हो आऊँगा!

    ReplyDelete
  9. हमेशा की तरह सुँदर , सुव्यवस्थित और पठनीय लिंक्स से सजी चर्चा .

    ReplyDelete
  10. सुन्दर लिंकों से सजी बढ़िया चर्चा!

    ReplyDelete
  11. कई महत्वपूर्ण लिंक्स / बेहतरीन प्रस्तुति .

    ReplyDelete
  12. मानसून के आगमन में काव्य बूंदों की रिमझिम फुहारों से सराबोर करता हुआ चर्चा मंच पहली बारिश में भीगने का आनंद दे गया.संगीता जी ,प्रणाम.

    ReplyDelete
  13. sangeeta ji charcha manch ko aap logon ne milkar aaj blog jagat me bulandiyon tak pahunchadiya hai isme agar aap mera aagrah mane to har din kam se kam ek naye bloggar ko se hame parichit karakar use bhi yahan sthan banane ka suavsar den.
    hamesha kee tarah behtareen links se saji sundar charcha.

    ReplyDelete
  14. Behatar sanyojan, sunder links.abhar
    S.N.Shukla

    ReplyDelete
  15. नवभारत टाईम्स के आंकड़े ऐसे आन्दोलन की सार्थकता को स्वयं ही बयान कर रहे हैं ...

    ReplyDelete
  16. bahut achhe link saheje hain yaha par....

    shaam tak pure padh paunga....

    kshanikaon ko yaha chayan ke liye aabhar....

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर एवं सार्थक चर्चा संगीता जी ! मुझे इसमें स्थान देने के लिये अनेकानेक धन्यवाद ! आभारी हूँ !

    ReplyDelete
  18. शालिनी जी ,

    आपका सुझाव उत्तम है ... मेरा हमेशा प्रयास रहता है कि कुछ ऐसे ब्लॉगर्स की रचनाएँ पेश कर सकूँ जहाँ तक कम लोंग पहुंचते हैं ...आज की चर्चा में भी सुरेश यादव जी औए मनीष जोशी जी के ऐसे ही ब्लॉग शामिल हैं ...

    लेकिन एक बात मैं बहुत विनम्रता से कहना चाहूंगी कि बहुत कम लोंग चर्चाओं को गंभीरता से लेते हैं ... फिर भी जो लोंग चर्चा के माध्यम से नए लिंक्स तक पहुंचते हैं उनको मैं हृदय से धन्यवाद देती हूँ .. और यह मेरी आदत में शुमार है कि जो लिंक्स मैं लेती हूँ अपनी चर्चा में वहाँ जा कर एक बार ज़रूर देखती हूँ कि वहाँ तक कितने लोंग पहुंचे ... इस लिए मुझे अच्छी तरह ज्ञात है कि कौन चर्चाओं को गंभीरता से लेते हैं ..यहाँ नाम दे कर मैं कोई रेखा नहीं खींचना चाहती ...बस उन सबका आभार प्रकट करती हूँ ... क्यों कि उनसे ही हमें सही प्रेरणा मिलती है ..

    ReplyDelete
  19. संगीता जी, बहुत ही रंग-बिरंगी चर्चा है आज, बधाई व आभार!

    ReplyDelete
  20. बेहतरीन प्रस्तुति - बहुत खूब संगीता जी !!

    ReplyDelete
  21. bahut sunder link se parichay karayaa aapne bahut hi bemisaal charchaon ko lekar charcha-manch prastut kiyaa aapne .badhaai aapko.

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर और चुने हुये लिंक्स के साथ सटीक और सार्थक चर्चा की है……………आभार्।

    ReplyDelete
  23. वाह लाजवाब चर्चा ... शुक्रिया मुझे भी जगह देने के लिए ..

    ReplyDelete
  24. बढ़िया लिनक्स ...मुझे स्थान देने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  25. देश में राजनीति कि गर्म हवाए चल रही हैं.हर कोई उनसे व्याकुल है उसपर आपकी रिमझिम बूदों सी चर्चा बहुत सुकून पहुंचा रही है.बहुत अच्छे लिंक्स मिले काफी जगह जा चुके हैं बाकी पर जाते हैं.

    ReplyDelete
  26. bahut badiya charcha behtreen links ke saath..prastuti hetu aabhar!

    ReplyDelete
  27. bahut badiya laga charchamanch... achhe achhe links padhne ko mile.. pahle baar aaya hun lekin blog padhna mujhe achha laga hai, naye logon ko protsahan den to bahut achha hoga..dhanyavaad ke saath..Pawan

    ReplyDelete
  28. वाह .. बहुत ही अच्‍छी चर्चा और लिंक्‍स ...आभार के साथ बधाई ।

    ReplyDelete
  29. संगीता स्वरुप जी, बहुत अच्छा लगा चर्चा मंच पर आकर..
    सबको सहेजने का आपका प्रयास हार्दिक बधाई योग्य है। बहुत ही प्रभावशाली और सार्थक चर्चा रही आज की ।

    ReplyDelete
  30. Sangeeta ma,
    :-)
    pranaam .
    sundar charcha.
    kuchh panne ki bakwaasein shaamil karne ke liye abhaar.
    :-)

    ReplyDelete
  31. badhiya links ka sanklan kiya hai...bahut se dekh liye hai thode baki hain.

    aaj ke home work ke liye aabhar. aur apki mehnat ko naman.

    ReplyDelete
  32. संगीता जी नमस्कार ...!
    रंग लाती है आपकी मेहनत हमेशा ही ...!!
    बहुत बढ़िया लिंक्स ...!!
    abhar.

    ReplyDelete
  33. संगीता जी को आभार...बेहतरीन लिंक्स और मुझे स्थान देने के लिए

    ReplyDelete
  34. संगीता जी .. हर बार की तरह बेहद सुन्दर चर्चा ..अच्छे लिंक्स

    ReplyDelete
  35. संगीता जी.......मेरी रचना प्रस्तुत करने हेतु धन्यवाद.
    साथ ही साथ एक जगह इतने बढ़िया लिंक्स के संकलन के लिए बधाई.........कई पढ़ लिए.कई बाक़ी हैं............कल तक सब पढ़ लूंगी ...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

चर्चा - 2817

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है  चलते हैं चर्चा की ओर सबका हाड़ कँपाया है मौत का मंतर न फेंक सरसी छन्द आधारित गीत   ...