चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Friday, June 24, 2011

"अपने हिस्‍से का सुख" (चर्चा मंच-555)


शुक्रवार की देखिए, चर्चा को श्रीमान।
सारे पाठकवृन्द को, करता हूँ प्रणाम।।

उमड़-घुमड़ कर जल बरसाओ।।
सबसे प्यारी है मुझे, तेरी इक मुस्कान
इसको पाने के लिए, जपता तेरा नाम।।
जब से मैंने चलना सीखा।
कैसे होगा ठीक अब, नाभि का टल जाना।
बतलाए उपचार जो, उनको ही अपनाना।।
पनप रहा मस्तिष्क में, विचारों का जीवन चक्र
कभी सरल है और कभी हो जाता है वक्र।।
मैं अपना आज-कल सबकुछ तुम्हारे नाम करता हूँ।।
मुझसे जो शख्स मिला सिर्फ़ बेवफ़ा मिला
"मोहब्बत " हो गयी उनसे, यही है वन्दना मेरी।
लगाई आस जो तुमसे, कभी हो बन्द ना मेरी।।
जब इश्क तुम्हे हो जाएगा, तब दिल की लगी को जानोगे।
है मुझको यकीं ऐ जाने वफा, इक रोज मुझे पहचानोंगे।।
पता नही क्योंकिनारा कर जाते हैं लोग।
अपना कह कर क्यों दगा कर जाते हैं लोग।।
इस क्यों का मिलता नहीं, कुछ भी नहीं ज़वाब।
फिर भी मनवा देखता, सुन्दर-सुन्दर ख्वाब।।
कहे-सुने को माफ कीजिए।।
ममता का बहता दरिया क्यों रुक गया??
क्या इसी का नाम जीवन है कहाता।
रहम कर बन्दों पे अब तो ऐ विधाता।।
करो तो सही निष्पक्ष आलोचना।। 
रहा नहीं कुछ इसमे बाकी।।
अपने हिस्‍से का सुख-दुख सब भोग रहे हैं।
इस जीवन की यही कहानी।
जिसकी माया उसने जानी।।
 मुस्कुरा कर कहा उसने एक बार जो, 
सुनते ही दिल मेरा बाग-बाग हो गया. 
कोई और चाह न रही मन में, 
निकल चुकी हैं अब म्यानों से बाहर अब तलवारे!
रामदेव तो घेर लिया है, बाकी बचे हजारे।।
बड़े तीसमार खाँ हो,
तुम सबकुछ कर सकते हो..
मेरे लिए गगन के तारे,
बोलो क्या ला सकते हो...
बरकरार ये सिलसिला रखना ! 
दिल के किसी कोने में हमसे कोई गिला रखना...
सत्य के मार्ग पर चलना, सभी को तो नहीं आता।
बहुत मुश्कित डगर है ये, नहीं मंजिल कोई पाता।
विश्वास मन का जीत कर अब मीत बन जाओ।
अहिंसा के पुजारी बनके कोई गीत तो गाओ।।
बरबाद चमन को करने को,
बस  एक ही उल्लू काफी है,
हर शाख पे उल्लू बैठा है . 
अन्जामें गुलिस्ताँ क्या होगा।
मैं मिटटी धरती वाली *कहते हैं मेरे अपने * 
*खिसक गई धरती पैरों से * *रोते हैं मेरे सपने
आज के लिए बस इतना ही!
शुक्रवार को फिर मिलूँगा!

31 comments:

  1. चर्चा का यह अंदाज अच्छा लगा ..!

    ReplyDelete
  2. आपके स्तर और व्यक्तित्व के अनुरूप ही बेहतरीन और यादगार चर्चा बधाई आभार ।

    ReplyDelete
  3. मेरे लेख को चर्चा मंच में जगह देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद|

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन चर्चा का यह अंदाज बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  5. कोख नोचते कुक्कुर-चीते -
    शोक-वाटिका की ऐ सीते !
    राम-लखन के तरकश रीते ||
    जगह-जगह जंगल-ज्वाला , उठे धुआँ काला-काला|
    प्रर्यावरण - प्रदूषण ने, खर - दूषण प्रतिपल पाला ||
    कुम्भकरण-रावण जीते -
    राम-लखन के तरकश रीते||
    नदियों में मिलते नाले, मानव-मळ मुर्दे डाले |
    'विकसित' की आपाधापी, बुद्धि पर लगते ताले||
    भाष्य बांचते भगवत-गीते -
    राम-लखन के तरकश रीते||
    पनपे हरण - मरण उद्योग, योग - भोग - संयोग - रोग |
    काम-क्रोध-मद-लोभ समेटे, भव-सागर में भटके लोग ||
    मनु-नौका में लगा पलीते -
    राम-लखन के तरकश रीते||
    राग - द्वेष - ईर्ष्या फैले, हो रहे आज रिश्ते मैले |
    पशुता भी चिल्लाये-चीखे, मानवता का दिल दहले ||
    रक्त-बीज का रक्त न पीते -
    राम-लखन के तरकश रीते||
    राह - राह 'रविकर' रमता, मरी - मरी मिलती ममता |
    जगह-जगह जल्लाद जुनूनी, भ्रूण चूर्ण कर न थमता ||
    कोख नोचते कुक्कुर-चीते -
    राम-लखन के तरकश रीते ||
    & & & &

    ReplyDelete
  6. varsh ke liye jo aagrah shastri ji aapne charcha manch se kiya hai bahut hi behtareen karya kiya hai.
    meri kavita''एक उसी लम्हे का ख्याल रह गया..''ko charcha manch par sthan dene ke liye aabhar.anya links bhi aapke sanyojan me behtareen ban pade hain.

    ReplyDelete
  7. नए अंदाज़ में शानदार और सार्थक चर्चा!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  8. चर्चा का नया रूप बहुत अच्छा लगा |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार
    आशा

    ReplyDelete
  9. चर्चा का यह बहुत बढिया अंदाज रहा .. अच्‍छे अच्‍छे लिंक्‍सों को भी समेटा है आपने .. आपनी कहानी के शीर्षक को को यहां शीर्षक के रूप में देखना अच्‍छा लगा !!

    ReplyDelete
  10. kavitamayi chracha apane aap men jabarajast lagi ... meri post ko shamil karne ke liye hraday se abhari hun...abhaar

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन चर्चा ... आभार ।

    ReplyDelete
  12. कवितामयी चर्चा मे आनन्द आ गया…………अभी तो सिर्फ़ आपका अन्दाज़ पढा है ………अब दिन भर आराम से लिंक्स पढेंगे जो देखने मे ही शानदार लग रहे हैं……………आभार्।

    ReplyDelete
  13. शास्त्री जी नमस्कार ..
    बहुत मेहनत से दी गयी ..काव्यमयी सुंदर चर्चा ...!!
    बहुत अच्छे लिंक्स हैं ...
    आभार.

    ReplyDelete
  14. गर्मी को ठंढक में बदलने वाले लिनक्स

    ReplyDelete
  15. बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स के साथ बेहतरीन चर्चा ।

    ReplyDelete
  16. कवितानुमा चर्चा है या चर्चा नुमा कविता ...
    बेहतर है यह अंदाज़ भी !

    ReplyDelete
  17. आपकी चर्चा का यह नया रंग भी बेहतर लगा । आपकी चर्चा की सबसे आपकी निष्पक्षता हैं । लिँक्स का चयन करते समय आप केवल सामग्री की गुणवत्ता मात्र देखते हैं जो कि पाठक को यह विश्वास दिलाती है कि लेख उपयोगी होगा ।
    चर्चामंच की बढ़ती लोकप्रियता का राज़ यही है।

    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  18. अच्छी काव्यमय प्रस्तुति

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर चर्चा और बहुत उम्दा लिंक्स |

    ReplyDelete
  20. वाह क्या कहने !!!

    एक अलग ही अंदाज की शायरी है आपकी शास्त्री जी ...
    मशाअल्लाह ..क्या अंदाजे -बया है ...

    "जब इश्क तुम्हे हो जाएगा, तब दिल की लगी को जानोगे। है मुझको यकीं ऐ जाने वफा, इक रोज मुझे पहचानोंगे।।" क्या बात है ?

    ReplyDelete
  21. बहुत रोचक चर्चा...सुन्दर लिंक्स..आभार

    ReplyDelete
  22. बहुत रोचक चर्चा...सुन्दर लिंक्स..आभार

    ReplyDelete
  23. आदरणीय डॉ . रूपचंद जी सप्रेम साहित्याभिवादन ...
    आज का चर्चा मंच प्रसंसनीय है ,चर्चा मंच में मुझे शामिल कर मेरे कविता की और शोभा को बढाने के लिए हार्दिक आभार ...आपका स्नेह बना रहे गुरु देव ...

    ReplyDelete
  24. आज का चर्चा मंच एक कविता की तरह सजा है जिसमे पता ही नहीं चलता की हम किस कवि की रचना का अध्ययन कर रहे हैं ,प्रसंसनीय ...बहुत सुन्दर ...हार्दिक बधाई ...

    ReplyDelete
  25. डॉ.साहब, काव्यमय चर्चा और मंचासीन आप। क्या बात है! बहुत खूब, बहुत सुन्दर, बिलकुल नई शैली में। इस मंच पर आलोचना और आलोचना- धर्मिता की चर्चा के लिए आपको हार्दिक साधुवाद।

    ReplyDelete
  26. शास्त्री जी नमस्कार,मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार बहुत सुन्दर,हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  27. आज की विस्तृत चर्चा और उस पर आपकी काव्यात्मक टिप्पणीयां ..चर्चा को चार चाँद लगा रही हैं ..बहुत अच्छी लगी आज की प्रस्तुति ..आभार

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin