Followers

Wednesday, June 29, 2011

"उफ़ ! सारा सिस्टम कंटीला है" (चर्चा मंच-560)

नमस्कार मित्रों!
बुधवासरीय चर्चा में आपका स्वागत है । आइए अब मैं आपको चिठ्ठा जगत की यात्रा पर ले चलता हूँ ।
सबसे पहले बात गंभीर विषयों पर असली कांग्रेसी तो कट्टर हिंदुत्व का नारा लगाने वाले लोग हैं    मे देखिये कैसे भ्रष्टाचार के खिलाफ़ आंदोलन को हिंदुत्व की ओर मोड़ कांग्रेस को लाभ पहुँच रहा है। इसके बाद लो क सं घ र्ष मे एक और गंभीर विषय  जैतापुर परमाणु ऊर्जा संयंत्र: फुकुशिमा के सबक सीखने से इन्कार से बात शुरू हो गई जहाँ सारे विश्व में इन संयंत्रों से तौबा की जा रही है वहीं हमारे मन्नू भाई  को इसका शौक चढ़ा हुआ है दूसरी ओर श्याम स्मृति..The world of my thoughts...डा श्याम गुप्त का चिट्ठा..  में भाई साहब अखबारों की खबर ले रहे हैं कितने सामाजिक सरोकार युक्त हैं आपके समाचार-पत्र .......  अखबार शब्द से आजकल मिथ्या और प्रचार का ही ध्यान पड़ता है । जैसे अजय कुमार झा जी को ट्रस्ट से भ्रष्ट की याद आती है  वही अनिल पुसदकर जी अमीर धरती गरीब लोग में इस सादगी पर कौन ना मर जाये प्रणबदा,दाम बढाता है केन्द्र और कम करने को कहते हो राज्य सरकारों से! - प्रणब मुखर्जी की बारह बजा रहे हैं । माहौल को हल्का करते हुये विवेक भाई जयशंकर प्रसाद की कामायनी  गुनगुना रहे हैं ।  अब शेखावत जी पास कोई पहुँचे और वे प्रेरणादायक कहानी न सुनायें ये संभव ही नही सो उनकीज्ञान दर्पण : विविध विषयों की हिंदी वेब साईट  में प्रणय और कर्तव्य -   देखना लाजिमी है । राजस्थान निश्चित ही अद्भुत कहानियो का घर है ।
उधर उच्चारण  मे पहुँचे तो "फिर से बहार आ गई" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक") - पानी गिरे न गिरे कवि ह्रुदय तरबतर कर ही देता है । इधर ललितडॉटकॉम   मे ललित भाई महिलाओं की सास-बहु गैस-चुल्हा विमर्श -- ललित शर्मा -  चटखारे ले लेकर सुना रहे हैं साथ ही चूल्हे की रोटी की याद भी दिला रहे है । उनका दावा है की चूल्हे की रोटी खाने से गैस नही होती । उसके बाद खोजी पत्रकार आशुतोष की कलम से....  से नयी सनसनी प्रणव वार रूम लीक- कांग्रेस में होता शक्ति विकेंद्रीकरण ???  बाहर निकली है । इधर निवेदिता जी परिवार के फ़िर से एक होने पर झरोख़ा में "एक मुलाकात खुद से" - खूबसूरती से बयां कर रही है । जिज्ञासा 
में प्रमोद जोशी जी बदलाव के दो दशक   बता रहे हैं जिन्हे राजनीति में रूचि है उन्हें यह लेख अवश्य पढ़ना चाहिये । ज़ख्म…जो फूलों ने दिये    में वन्दना जी क्या ऐसा होगा   पूछ रही हैं । और घुमक्कड़ जाट देवता आपको मुफ़्त ही में   संगम (प्रयाग) से काशी(बनारस) तक पद यात्रा भाग 1  करवा देंगे । जनोक्ति मे आप आज की अमीर युवा वर्ग का हाल  रेव पार्टी :अब तो शर्म भी शर्माने लगी है !  मे बता देंगी । यदि आपको संगीत का शौक हो तो बिना देर किये "भर भर आईं अँखियाँ..." - जब महफ़िलों की शान बनी ठुमरी  मे पधारे आपका मन प्रसन्न हो जायेगा । श्याम कोरी हरदम की तरह कडुवा सच  मे ... उफ़ ! सारा सिस्टम कंटीला है !!  ले कर हाजिर है तो गगन शर्मा जी भी इसी तर्ज पर  लोभ का फल तो बुरा ही होता है.
लेकर प्रस्तुत हैं  बाबा रामदेव व्यस्त है आज कल इसलिये कुमार राधारमण ने योग की जिम्मेदारी मधुमेह में व्यायाम की सावधानियाँ संभाली हुयी है । आर्यावर्त   में  नीतीश बाबू का नीतीश जी ये कैसा विकाश है !     का खबर लिया जा रहा है  । वही संजय दानी की ग़ज़ल - मुहब्बत विरह के धूप में तपती जवानी के सिवा क्या है.. की बात ही निराली है । देशनामा हमेशा की तरह चटपटे 50 लाख के लालच में कुत्ते को पिता बनाया...खुशदीप    मसाले से तरबतर है । उधर मेरे धान के देश में नयी खबर है जनता की याददाश्त और हिन्दी ब्लोग पोस्ट - दोनों ही की उम्र मात्र 24 घंटे  होती है और हमारे पड़ोस मे आज़ाद पुलिस  आपको अंदर की बात बता रही हैं । जाते जाते बात बहादुर नारियों की हो जाये सबसे पहले नारी , NAARI   मे बात एक ऐसी महिला की जो दस साल से अनशन में है दूसरों की खातिर शहीद होने की राह पर : शर्मीला इरोम   यहा सात दिन में टें बोलने वाले बाबा के जयकारे मच रहे हैं वहीं इस महिला के त्याग से देश अनजान है  । इसी क्रम मे आगे अनवरत   मे सब कह रहे हैं   "शाबास बेटी, तुमने ठीक किया"  

13 comments:

  1. वाह ... बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स और उनपर विस्‍तृत चर्चा ...आभार आपका ।

    ReplyDelete
  2. शीर्षक सी सार्थक प्रस्तुती.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर लिंक्स संजोये हैं…………शानदार चर्चा।

    ReplyDelete
  4. अरुणेश सी दवे जी!
    आपने आज की चर्चा में बहुत उत्तम लिंकों का चयन किया है!

    ReplyDelete
  5. sundar sarthak prastuti badhai aur aabhar behtareen links ke chayan ke liye.

    ReplyDelete
  6. बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स और उनपर विस्‍तृत चर्चा ...आभार आपका ।

    ReplyDelete
  7. charcha ka andaj nirala-sarthak prastuti .aabhar

    ReplyDelete
  8. सार्थक चर्चा ...आभार ...चर्चा का-- विवरण-तरीका सुन्दर है...

    ReplyDelete
  9. " bahut hi acche links aur acchi prastuti "

    waqt milne per ise dekhiyega jaroor ..is post ke video ne muje aur padhnewaloan ko bhi rulaya tha "

    http://eksacchai.blogspot.com/2011/06/blog-post_28.html

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...