चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Sunday, July 24, 2011

रविवासरीय (24.07.2011) चर्चा

नमस्कार मित्रों!

मैं मनोज कुमार एक बार फिर से हाज़िर हूं रविवासरीय चर्चा के साथ।
                                    

--बीस--



तूफ़ान का सपना

Dorothy

clip_image001

आसुओं में
छिपी नमी
जो बरसती है
बारिश की
भीनी भीनी
फ़ुहार बनकर
और बंजर जमीं में भी
बिछ जाती है
हरियाली की मखमली चादर
नवाकुरों कोपलों
और कलियों का
पालना बनकर


                               --उन्नीस


अर्धांगिनी की अर्थव्यवस्था

ZEAL

clip_image002

स्वाभिमान के साथ जीने के लिए आर्थिक स्वतंत्रता अवश्य होनी चाहिए ! स्त्रियाँ यदि नौकरी कर रही हैं तो आर्थिक रूप से स्वतंत्र होती हैं , कांफिडेंट होती हैं , परिवार का सहयोग भी करती हैं और अपने कमाए हुए धन को अपनी मर्जी के अनुसार खर्च करके अपना पर्सनल स्पेस भी सुरक्षित रखती हैं !


                              --अट्ठारह


नफ़्रत ही कोई ढब से निभाये कभी-कभी

Chandra Bhushan Mishra 'Ghafil'

clip_image003

तेरे बग़ैर गीत तो गाये कभी-कभी।  


पर हर्फ़ कोई छूट सा जाये कभी-कभी॥

मिस्ले-सराय, दिल में तो आये तमाम लोग,
मेह्मान कोई चाँद भी आये कभी-कभी।


                             --सत्तरह


अब तंबाकू की साधारण पैकिंग करेंगी जादू

डा प्रवीण चोपड़ा

clip_image004

भारत में भी इस तरह के पैकिंग नियम बनाये जाने की सख्त ज़रूरत है लेकिन यह ध्यान रहे कि कहीं चबाने वाला तंबाकू इन नियमों की गिरफ्त से न बच पाए क्योंकि वह भी इस देश में एक खतरनाक हत्यारा है।


                              --सोलह—

जात तो पूछो साधो की ....

निर्मल गुप्त

clip_image005

संत कबीर ने नसीहत दी थी -जात न पूंछो साधु की पूछ लीजिए ज्ञान \मोल करो तलवार का पड़ी रहन दो म्यान.
मेरे शहर में म्यान की समुचित शिनाख्त के बिना सर्वश्रेष्ठ तलवार का भी कोई मोल नहीं होता.बिना बढ़िया रेपर के यहाँ कोई माल नहीं बिका करता.


                                    --पन्द्रह


चोरी

संदीप शर्मा

clip_image006

यह आदत तो मुझे बचपन से ही लग गई थी। जब मां दाल-चावल के डिब्बों में अपने बचे हुए पैसे छुपाया करती थी। मां को खुद नहीं मालूम होता था कि किस डिब्बे में उसने कितने पैसे छुपाए हैं। मैं चुपके से रसोई में जाकर दाल का डिब्बा खोल लेता। अंदर हाथ डालने पर कई पैसे हाथ में आते।


                                --चौदह


तिलक और आजाद

Vijai Mathur

clip_image007

बाल गंगा धर 'तिलक'और पं.चंद्रशेखर आजाद की जयन्ति २३ जूलाई पर श्र्द्धा -सुमन 


                              --तेरह


"ग़ज़ल-...आज कुछ लम्हें चुराने हैं" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

clip_image008

सुहाते ही नहीं जिनको मुहब्बत के तराने हैं

हमारे मुल्क में ऐसे अभी बाकी घराने हैं

जिन्हें भाते नहीं हैं, फूल इस सुन्दर बगीचे के

ज़हन में आज भी ख्यालात उनके तो पुराने हैं


                                   --बारह


बोलती आँखें-हाइकु

ramadwivedi

- समीकरण
टिका है संबंधों का
समझ पर ।

***

होती हैं बातें
मौन रह कर भी
बोलती आँखें।


                              --ग्यारह


पीड़ा होगी....

अरुण कुमार निगम

clip_image009

शहनाई की मधुर रागिनी , रचो महावर


और हथेली पर मेंहंदी की रांगोली दो

दीवाली कर लो तुम अपने वर्तमान को

और अतीत की स्मृतियों को अब होली दो.


                                 --दस


 

पण्डित चन्द्रशेखर 'आजाद' - जन्म दिवस पर अमर शहीद का जीवन परिचय

pankajprabhakarsingh

clip_image010

चन्द्रशेखर आज़ाद हमेशा सत्य बोलते थे। एक बार की घटना है आजाद पुलिस से छिपकर जंगल में साधु के भेष में रह रहे थे तभी वहाँ एक दिन पुलिस आ गयी। दैवयोग से पुलिस उन्हीं के पास पहुँच भी गयी। पुलिस ने साधु वेश धारी आजाद से पूछा-"बाबा!आपने आजाद को देखा है क्या?" साधु भेषधारी आजाद तपाक से बोले- "बच्चा आजाद को क्या देखना, हम तो हमेशा आजाद रहते‌ हें हम भी तो आजाद हैं।"


                                  --नौ


प्रेम गीत -यही रंग है

जयकृष्ण राय तुषार

clip_image011यही रंग है

जिसे उर्वशी और


मेनका ने था पाया ,

यही रंग है

जिसे जायसी ,ग़ालिब

मीर सभी ने गाया ,

बिना अनूदित

सब पढ़ लेते इसको

अनगिन भाषाओँ में |


                                   --आठ

विदा की गरिमा

मंजु मिश्रा

मैं अब कभी,


किसी को, सौ बरस

जीने का आशीष

नहीं दूँगी !

यह आशीष नहीं

एक अभिशाप है,

एक सजा, जो

काटे नहीं कटती.


                                   --सात

clip_image012

सूरज के साथ-साथ

गिरिजा कुलश्रेष्ठ

clip_image013

वह सत्तर साल का बूढा
दूध के साथ भर जाता है
भगौनी में ढेर सारी ऊर्जा
और उल्लास भी ।
सुनहरी धूप सा
एक विश्वास भी...।


                                 --छह


आत्महत्या-प्रयास सफल तो आज़ाद असफल तो अपराध .

शालिनी कौशिक

clip_image014

"भारतीय दंड सहिंता की धारा ३०९ कहती है -''जो कोई आत्महत्या करने का प्रयत्न करेगा ओर उस अपराध को करने के लिए कोई कार्य करेगा वह सादा कारावास से ,जिसकी अवधि एक वर्ष तक की हो सकेगी या जुर्माने से ,या दोनों से दण्डित किया जायेगा .''


                                     --पांच


तोड़ महलिया बना रहे

प्रवीण पाण्डेय

clip_image015

मानव ने पर अंधेपन में,

अपनी तृष्णा का घट भरने,

सकल प्रकृति को साधन समझा,

ढाये अत्याचार घिनौने,


                                    --चार


ज़िंदगी के कुछ होलसेल किस्से

निखिल आनंद गिरी

clip_image016

सिर्फ शब्दों की तह लगाना

नहीं है कविता,..


वाक्यों के बीच

छोड़ देना बहुत कुछ

होती है कविता...


                                 --तीन


रात में अक्सर - डॉ नूतन डिमरी गैरोला

clip_image017

रात में अक्सर
जब शिथिल हो कर
गिर जाती है थकान
शांत बिस्तर में
रात उंघने लगती है तब
पर तन्हाइयां उठ कर जगाने लगती हैं
और कानाफूसी करती है कानों में
नीलाभ चाँद देर रात तक
खेला करता तारों से|


                                  --दो


छः ग़ज़लें -कवि डॉ० विनय मिश्र

clip_image018

मौसम से हरियाली गायब

जीवन से खुशहाली गायब

ईयरफ़ोन हुआ है गहना

अब कानों से बाली गायब

ईद खुशी की आये कैसे

होली गुम दीवाली गायब

उतरा है आँखों का पानी

औ चेहरे  की लाली गायब


                                   --एक--

किश्तों के सहारे

नवीन रांगियाल

हम तस्वीरें नही

मांस और खूं भी नहीं

जादूगर तुम भी नहीं

मैं भी नहीं


पर जादू है कुछ

जिस से सांस आती है

सांस जाती है


तुम बस मेरा मिजाज लौटा देते हो

साल दर साल किश्तों की तरह

और में जिन्दा रहता हूँ

तुम्हारी चुकाई हुई उन किश्तों के सहारे

आज बस इतना ही!


अगले हफ़्ते फिर मिलेंगे।

तब तक के लिए हैप्पी ब्लॉगिंग!!

25 comments:

  1. कुछ बहुत ही अच्छी पोस्टें पढ़ने को मिल गयीं।

    ReplyDelete
  2. सुन्दर लिंकों से सुसज्जित शानदार चर्चा!
    मनोज कुमार जी!
    आपका श्रम स्तुत्य है!
    आभार!

    ReplyDelete
  3. शानदार चर्चा...आभार!

    ReplyDelete
  4. कुछ लिंक हैं जो अभी देखने बाकी हैं. देखता हूं.

    ReplyDelete
  5. शानदार लेख ... इतने बढ़िया बढ़िया लिंक देख कर अच्छा लगा। आभार।

    ReplyDelete
  6. मनोज जी ! चर्चा करने का यह अंदाज खासा अलग है.. और मेरी रचना को स्थान दिया ..आपका आभार...

    ReplyDelete
  7. बहुत ही अच्छे लिंक पड़ने को मिले.. बहुत बहुत धन्यवाद....

    ReplyDelete
  8. प्रिय मनोज जी ,सामयिक ,उत्कृष्ट ,मार्मिक रचनाओं का सुन्दर सकलन पसंद आया , काबिले तारीफ हैं इस कमाल के ,सराहनीय प्रयास .../ शुभकामनाये जी /

    ReplyDelete
  9. आभार मेरे पोस्ट को शामिल करने हेतु ।

    ReplyDelete
  10. बहुत ही अच्छे लिंक पड़ने को मिले.. बहुत बहुत धन्यवाद....

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर चर्चा और मेरी भी रचना शामिल...बहुत-बहुत धन्यवाद और आभार

    ReplyDelete
  12. susanyojit shandar charcha.mere kanooni aalekh ko sthan dene ke liye aabhar.

    ReplyDelete
  13. सुंदर चर्चा ,आभार

    ReplyDelete
  14. मेरी रचना को इस सुंदर चर्चा में स्थान देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद...
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर लिंक्स मिल गयीं..आभार

    ReplyDelete
  16. ये चर्चा भी जोरदार रही ...

    ReplyDelete
  17. सुन्दर लिंक्स सटीक चर्चा।

    ReplyDelete
  18. मनोज जी हमेशा की तरह आज भी आपने रविवार का मजा दूना कर दिया ..

    ReplyDelete
  19. मनोज जी, महनत आपकी रंग लाई.....

    देखो १ नया ब्लॉग मिला..... ये भी डॉ साहिब हैं.

    साधुवाद

    ReplyDelete
  20. सुन्दर लिंकों से सुसज्जित शानदार चर्चा!
    मनोज कुमार जी!
    ये चर्चा भी जोरदार रही ...
    आभार!

    ReplyDelete
  21. डा. रमा द्विवेदी

    मनोज जी ,
    अच्छे लिंक देने के लिए धन्यवाद। आपने मेरे हाइकु को भी इस चर्चा में स्थान दिया है उसके लिए बहुत -बहुत शुक्रिया..

    ReplyDelete
  22. charch ke madhyam se kai kavita/lekh padhne ko mila .dhanywad

    ReplyDelete
  23. charch ke madhyam se kai kavita/lekh padhne ko mila .dhanywad

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin