Followers

Friday, July 01, 2011

"बात कुछ हज़म नही हुई" (चर्चा मंच-562)


 मित्रों!
आज तक अनवरतरूप से 
प्रतिदिन आपकी सेवा में हाजिर होता रहा हूँ!
अब कुछ दिनों के लिए अवकाश पर जा रहा हूँ!
इस अवधि में सुविधानुसार 
कभी-कभी आपसे रूबरू होता रहूँगा!
आगामी शुक्रवार की चर्चा के लिए भी
कुछ न कुछ प्रबन्ध करूँगा! 
अब चलते हैं आज की ताज़ा हलचल की ओर!  
आज पूरे दिन ब्लॉगर तथा डैशबोर्ड खुलने में बहुत दिक्कत रही।
टिप्पणीबॉक्स न खुल पाने के कारण
कहीं पर टिप्पणियाँ भी नहीं हो पा रहीं थीं।
शाम को इन्दौर से अर्चना चावजी ने बताया कि 
मौजिला और इंटरनेटएक्सप्लोरर में 
डैशबोर्ड खुलने में कोई दिक्कत नहीं है।
तह कहीं जाकर "उच्चारण" पर एक ग़ज़ल पोस्ट कर पाया!
गत वर्ष यह 26 जून को थी, इस वर्ष 15 जून को थी!
अंग्रेजी तारीख से इसका कोई मतलब नहीं है!
रावेन्द्रकुमार रवि ने बाबा के जन्मशती वर्ष के समापन पर 
पोस्ट लगाई है!
देहरादून की 
मेरा फोटो

कुछदिन पहले ही विदेश यात्रा से लौटी हैं
देखिए उनकी पोस्ट
 मेरे सपने में पढ़िए
जाने कब समंदर मांगने आ जाए! 
 एक सूचना यहाँ भी है
मेरे प्रिय मित्र बन्धु गण.. 
कुछ दिनों के लिये मैं बाहर जारही हूँ 


आइये मैं आपको फेस-बुक के बारे में कुछ जानकारी देती हूँ 


(चवन्नी प्रकरण)


रेत के महल  में पढ़िए-
आज मूड बहुत ख़राब है मेरा


मेरा फोटो
में पेश कर रहे हैं-

ये गाने के बोल तो मुझे भी 
ये धरती..ये नदियाँ ..ये रैना ..और तुम   
 दुनाली पर मलखान सिंह बता रहे हैं-
महेन्द्र मिश्रा जी कह रहे हैं-
ने ही इस संसार का सृजन किया है . 


बगिया में भंवरे बहुत दूर से आया करते हैं 
कृष्ण तन होता है लेकिन निर्मल मन वो रहते हैं देखो न , 
तभी तो शहद कितना मधुर हुआ करता है  
 राजीव तनेजा जी हँसते रहो में बता रहे हैं-

मनोज कुमार जी आँच पर लेकर आये हैं-

--


लघुकथा संवेदना  *मनोज कुमार*  
 रविन्द्र प्रभात जी का उपन्यास 
अब देखिए समीर लाल "समीर" जी की


 

29 comments:

  1. अच्‍छी चर्चा के साथ बेहतरीन लिंक्‍स ....बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  2. करीब १५ दिनों से अस्वस्थता के कारण ब्लॉगजगत से दूर हूँ

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर लिनक्स लिए चर्चा ..... आभार आपका

    ReplyDelete
  4. sunder charcha aur acche links

    bahut aabhaar mayank daa..

    ReplyDelete
  5. bahut sundar links sanjoye sarthak charcha.badhai.

    ReplyDelete
  6. अच्छी चर्चा अच्छे लिंक्स |
    आशा

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर चर्चा . आभार आपका
    अच्‍छी चर्चा के साथ बेहतरीन लिंक्‍स

    ReplyDelete
  8. अच्छी चर्चा ...
    आभार!

    ReplyDelete
  9. अच्छी चर्चा ,आभार

    ReplyDelete
  10. सार्थक प्रस्तुति-आभार .

    ReplyDelete
  11. मंगल शुप्रभात सर ! बेहतरीन संपादन , सार्थक संवेदन-शील विचारों का स्वरुप पढ़ने समझने को मिला / आभार आपका, समस्त सृजकों का जिसने अमूल्य योगदान दिया /

    ReplyDelete
  12. बेहतरीन लिंक्‍स .

    ReplyDelete
  13. धन्यवाद - बहुत अच्छे लिनक्स हैं ... :) मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए धन्यवाद ... :)

    ReplyDelete
  14. achhi charcha,abhari hun meri rachna ko sthan dene ke liye.

    ReplyDelete
  15. बढ़िया लिंक देने के लिए आभार व कार्टून को भी चर्चा में सम्मिलित करने के लिए साधुवाद.

    ReplyDelete
  16. sunder charcha
    net par aapki vapisi ka intzar rhega

    ReplyDelete
  17. बहुत अच्छी और सुन्दर चर्चा | बहुत उम्दा लिंक्स |
    मेरी रचना चवन्नी की विदाई को शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद् |

    ReplyDelete
  18. बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स दिये है आपने ...बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये आभार ।

    ReplyDelete
  19. धन्यवाद शास्त्री जी! तमाम बहुत ही अच्छी पोस्टो के बीच अपनी भी पोस्ट देखकर बहुत अच्छा लगा। पुनः-पुनः धन्यवाद

    ReplyDelete
  20. ्सुन्दर लिंक्स के साथ बहुत सुन्दर चर्चा मंच सजाया है।

    ReplyDelete
  21. Shastri ji bahut bahut dhanyavaad aapne mere vishya me charcha manch par likha abhi mere blog par meri yatra shuru hui hai main aap sab logon ki ichcha aur utsukta ko dekhte hue apni yaatra ka har pahloo baatna chahungi.jab meri yaatra poorn ho jaye uske baad hi aap logon ki pratikriya jaanna chahungi.sabhaar rajesh kumari.

    ReplyDelete
  22. चर्चा मंच अच्छा लगा। एक ही स्थान पर पढ़ने के लिए अनेक लिंक मिले। मनोज ब्लाग से अनेकार्थी शब्दों का अर्थ-निर्णय को इस मंच पर स्थान देने के लिए हार्दिक आभार व साधुवाद।

    ReplyDelete
  23. बहुत बढ़िया चर्चा ..अच्छे लिंक्स समाहित किये हैं ..आभार

    ReplyDelete
  24. नमस्कार शास्त्री जी, बहुत सुन्दर चर्चा रही। मेरी रचना को स्थान देने के लिये आभारी हूँ।

    ReplyDelete
  25. दो दिनों से नेट की परेशानी से परेशां रही हूँ ...
    मेरी कविता याद रखने के लिए शुक्रिया.....खुबसुरत लिंक से सजी यह चर्चा -मंच बधाई की पात्र है ...धन्यवाद शास्त्री जी ....

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...