Followers

Wednesday, July 06, 2011

"लोकपाल" (चर्चा मंच-567)

आप सभी का बुधवासरीय चर्चा मे स्वागत है    मित्रों आज की चर्चा मुख्यतः लोकपाल और भ्रष्टाचार पर ही केंद्रित है और मै इस विषय पर आप सभी को ब्लाग जगत की सैर पर लिये चलता हूं
शुरूआत  "लोकपाल" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")    से ही  जिसमे छटपटाते नेता नजर आयेंगे और इसके बाद ये तेरा बिल ये मेरा बिल ------- ये बिल बहुत हसीन है पर लोकपाल बिल मे नेताओं और जनता की अलग नजर और नजरिया देखा जा सकता है । पत्रकारों का नजरिया अपना सपना मनी-मनी वाला ही है जिसके कारण शर्मनाक पत्रकारिता का दौर चल रहा है
कुछ पत्रकार भाई लोकभाषा कॊ जीवित रखने में प्रयासरत संग न होई दुई काज भुवालू, हसब ठठाव फुलावहूं गालू : एक निवेदन नजर आते हैं और बाकी तो खैर तमासबीन ही बने हुये हैं वाकई आज हम सब अपना ही तमाशा बना देखने मे मस्त हैं । भूल चुके हैं कि गणतंत्र के क्या मायने  हैं व्यवस्थित परिवेश  क्या होता है भ्रष्टाचार विरोध, विभ्रम और यथार्थ  
क्या है   और  भारतीय लोकतंत्र की हत्या  क्यों  हुई लाचार होकर तुम आज हंसते हो हंस लो मुझ पर      कहने से भी काम न होगा और मन्नू से उम्मीद रखना भी बेकार है क्योंकि सोनिया की कठपुतली ही हैं प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह    जिनका इंटरव्यू  दीमक ''छौ''रसिया के सामने मन मौन सिंह   पढ़ आप मामला समझ जायेंगे  
   ग़म   खाने उदास होने से काम न चलेगा । जिनके पास सत्ता है वो तो ‘बाप भए चयनकर्ता तो जुगाड़ काहे न होए’      की तर्ज पर ऐश कर रहे हैं और बेशर्म इतने हो चुके हैं कि प्रसिद्धि के नुस्के:बदनामी में शोहरत  का फ़ार्मूला अपना रहे हैं अब या तो  "माँ तारा":-(ममतामयी माँ सबको तारने वाली)    ही तारेगी इसके अलावा एक ही रास्ता है भाई तू भी उठ -पूरा ब्रह्मांड जाग गया  की तर्ज पर सभी को एक होना होगा लेखको को लेखन मे कवियो को कविता में वीर रस से परिपूर्ण जनता को जगाने वाले लेख लिखने होंगे मित्रों जिंदगी तो योजनाओं से परे है |  पर लोकपाल बिल से ही हमारी आने वाली पीढ़िया सुरक्षित होंगी ऐसा नही है पर उसने कहा था .. - यह बिल उस दिशा मे एक बड़ा कदम साबित होगा  हम सभी को धर्म जात पात से उपर उठ देशभक्ति और ईमानदारी का आवाहन करना होगा ।
 धन्यवाद

8 comments:

  1. very good presentation.

    Thanks,

    Markand Dave.

    ReplyDelete
  2. बहुत ही अच्‍छे लिंक दिये हैं आपने ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  3. सार्थक चर्चा .....बेहतर लिंक्स

    ReplyDelete
  4. सुन्दर चर्चा।

    ReplyDelete
  5. सार्थक चर्चा .....बेहतर लिंक्स

    ReplyDelete
  6. bahut achchhi charcha prastut ki hai aapne .aabhar .

    ReplyDelete
  7. रोचक चर्चा....
    अच्छे लिंक्स देने का आभार

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"रंग जिंदगी के" (चर्चा अंक-2818)

मित्रों! शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...