चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Wednesday, July 27, 2011

"आदमी को क्या दिया?" (चर्चा मंच-588)

मित्रों बुधवासरीय चर्चा में आपका स्वागत है। 
झंझावात के बाद फ़िर एक बार खुशनुमा माहौल है । 
ऐसे खुशनुमा माहौल मे सबसे पहले बधाई संजय भास्कर जी को जिनके 300 फोलोवर .....  हो चुके हैं । 
इसके बाद बधाई तनेजा जी सहित ब्लाग जगत के सभी भाईयों को इलेक्ट्रानिक मीडिया भी मजबूर होकर हमारी उपस्थिति hindi bloggers on ND T V  दर्शा रहा है । खैर  साहब आज बहुत ही निराशा हुई चर्चा के लिए लिंक तलाशे तो देखा आज के हालात में  भी लोग प्रेम में उलाहना में  नफ़रत में उलझे हुए थे । 
खैर साहब मेरी इच्छा थी कि ब्लाग जगत आज धार सरकार पर रखे  खैर साहब मन्नू ------- राजा बोला अब तेरा क्या होगा से बात शुरू हुआ तो अनिल पुसदकर जी कहने लगे  ये काली सूची क्या है? गलती की है तो सीधे काल-कोठरी 
तभी शेखावत जी ने कहा भाई सरकार की गलतियों को छोटा करो गुणवत्ता बरकरार रखते हुए चित्र का आकार छोटा करें]  तभी गिरिजेश कुमार कह उठे भाई  चलते -चलते...: उदारीकरण ने आम आदमी को क्या दिया?    खैर साहब जहाजों का आसमान में झप्पी पाना आसान है । कहानी कहते कहते कह दिया मैं भरता ही रहा हुंकारा, पर तुम मूक हो गईं सहसा  कहते ही महिला स्वर गूंजा आज स्त्री बस वासना की पूर्ति भर है क्या?  हमने कही भाई  मियाँ लाल बुझक्कड़.  बाबा के  ब्वाय फ़्रेंड को  नेपाल यात्रा  में भेज दो और भगवान के लिए सेना को बख्श दो...   खैर साहब जब देश ही सोया है तो नयी आस जगने दो घर-आँगन गूँज उठी किलकारी!  उस नये शहजादे को खिलने दो । खैर साहब  इससे अच्छा है प्रकृति की गोद में तीन दिन  बिताएँ और   मेरे मन की: बादल की कहानी ......  की कहानी सुनाइगा और  एक नयी पहल छ: दिन और एक सीएमएस वेब साईट   सिखाइगा । 

खैर साहब हिंद है  उड़ सपनों के पंख लगा और हम भी है देश का हित देखते हुए आज समय आन्दोलन का है सारे भावों को भूल कर बाकी आपकी इच्छा!

25 comments:

  1. सुन्दर चिठ्ठा चर्चा।

    ReplyDelete
  2. बहुत बढिया चर्चा

    हर हर महादेव

    ReplyDelete
  3. बहुत आकर्षक चर्चा
    बहुत सुन्दर लिंक्स

    ReplyDelete
  4. alag andaz charcha ka ....charcha karte karte ki charcha ...
    achchha laga..

    ReplyDelete
  5. अच्छी चर्चा और लिंक्स |
    आशा
    |

    ReplyDelete
  6. बेहद उम्दा .........मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए आपका बहुत बहुत आभार !

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया लिंक्स के साथ चर्चा प्रस्तुति के लिए आभार!

    ReplyDelete
  8. मेरी पोस्ट को चर्चामंच में शामिल करने के लिए बहुत बहुत आभार!

    ReplyDelete
  9. Naman hi apki lagan ko...!
    Har link bahut hi mummda.

    Abhar.

    ReplyDelete
  10. बहुत आकर्षक चर्चा
    बहुत सुन्दर लिंक्स.......

    ReplyDelete
  11. ढेर सारे अच्छे लिंक्स मिले..

    ReplyDelete
  12. अच्छे लिंक्स आभार!

    ReplyDelete
  13. दवे जी ... अच्छी चर्चा है ... रोचक अंदाज़ ..

    ReplyDelete
  14. nice links! the way you present, just amazing!
    congratulations!

    ReplyDelete
  15. बहुत ही बढि़या प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर चर्चा रही, अच्छे लिंक्स संकलित हैं...
    सादर आभार और बधाई

    ReplyDelete
  17. aaj k charchha bahut shandaar lagi . kahte hai naa mehnat kaa fal meetha , just like that ..

    ReplyDelete
  18. सुन्दर चिठ्ठा चर्चा

    ReplyDelete
  19. अरुणेश सी दवे जी!
    आपने आज की चर्चा में बहुत अच्छे लिंक पढ़ने के लिए दिये हैं!
    आपका चर्चा का अन्दाज निराला है!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin