समर्थक

Monday, August 08, 2011

आज ख़ुश हूँ बहुत (चर्चा मंच-600)

मैं चन्द्र भूषण मिश्रग़ाफ़िल चर्चा मंच पर सोमवासरीय काव्यमयी चर्चा में आप सब का स्वागत और अभिनन्दन करता हूँ।
__________________________
 1-
मैं 'आज ख़ुश हूँ बहुत' कारण आप "ग़ाफ़िल की अमानत" पर देख लें
__________________________
2-
डॉ0 विजय कुमार शुक्लविजय’ "तिमिर-रश्मि" पर बाल जिज्ञासुओं को 'आकाश दर्शन' करा रहे हैं, चलिए सब मिलकर साथ ही कर लेते हैं दर्शन
__________________________
3-
__________________________
 4-
"शाश्वत शिल्प" पर महेन्द्र वर्मा जी की 'गीतिका : बरसात में'
__________________________
5-
सुरेश कुमार जी उवाच- 'मैं अफ़सोस नहीं करता' भाई अफ़सोस की क्या बात है?
__________________________
6-
काव्य-कल्पना पर भाई सत्यम शिवम जी की कल्पना- 'झील में है चाँद का प्रतिबिम्ब यूँ' का कोई सानी नहीं
__________________________
7-
सदा का 'घोड़े का ढाई घर' यदि न देखे हों तो अवश्य देखें
__________________________
 8-
आहुति परेशान हैं कि 'जिनको ढूंढ़ रही हूँ....!!!'  आहुति जी धैर्य रखिए, प्रसाद जी की एक महत्वपूर्ण लाइन है- "जीवन की लम्बी यात्रा में विछुड़े भी हैं मिल जाते"
__________________________
 9-
आप सब निर्णय करें कि राजेश कुमारी जी का यह क्या है 'स्वप्न या पूर्वाभास'
__________________________
10-
रवीश कुमार पाण्डेय जी का प्रश्न है कि 'प्रीत कहाँ??' अरे भाई हर जगह...बस प्रीति करो प्रीत भी मिल जाएगा
__________________________
11-
झंझट के झटके....'बड़े लोग हैं !' अरे भाई वो तो हैं ही
__________________________
12-
रात के ख़िलाफ़ भाई अरविन्द कुमार जी की कविता 'कठिन और ख़तरनाक'
__________________________
13-
एहसासात पर एस. एम.हबीब का आह्वान 'गगन उठा लो' हबीब भाई हम आपके साथ हैं जोर आजमाइश में
__________________________
14-
शारदा अरोरा जी पूछ रही हैं 'कौन ख़ुशियों का तलबग़ार नहीं'...भाई सभी हैं, होना ही चाहिए
__________________________
15-
"उन्नयन" पर 'बूंदों की गागर' भरकर लाए हैं भाई उदयवीर जी
__________________________
16-

डॉ . हरदीप कौर सन्धु जी की पेशकश 'मित्रता दिवस - दोस्ती ऐसे भी' भई हम क़ायल हुए 

__________________________

17-

 बबन पाण्डेय जी की बड़ी गहरी बात है 'दिल पे मत ले यार'...बात तो वाक़ई बहुत गहरी है पर चलो दिल पर नहीं लेते

__________________________

18-

 डॉ. रूप चन्द्र शास्त्रीमयंकका उच्चारण 'दिल से दिल मिल जाने पर' क्या-कया हो सकता है

 __________________________

19- 

डॉ. नूतन गैरोला 'तुम्हारे लिए' लायी हैं अमृत रस की अनमोल सौगात...बहुत-बहुत आभार डॉ. साहिबा

__________________________

 और अन्त में

20-

निवेदिता जी का 'मन बावरा' आँखों के झरोखों से बाहर की दुनियां देखने में व्यस्त है, इस छवि को सभी निहारें!

__________________________

 अब आप लोगों से अगले सोमवार यानी 15-08-2011 को मुख़ातिब होऊँगा, तब तक के लिए नमस्कार!

28 comments:

  1. छूट गये सूत्र अब जाकर पढ़ता हूँ।

    ReplyDelete
  2. mangal suprabhat mishra ji ,
    apke sundar prayas ko samman ,shubhkamnayen ,maulikata liye manohari srijan ke darshan huye ..../
    aabhar ji /

    ReplyDelete
  3. चर्चा मंच की 600वी पोस्ट लगाने के लिए
    भाई चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ जी को बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!
    --
    आपने बहुत सधी हुई चर्चा प्रस्तुत की है!

    ReplyDelete
  4. अच्छी चर्चा बधाई ६००वी पोस्ट के लिए |
    आशा

    ReplyDelete
  5. चर्चा मंच की 600वी पोस्ट.......
    वाह,क्या बात है.
    बधाई.

    ReplyDelete
  6. 600 वी पोस्ट के लिए बधाई .

    ReplyDelete
  7. बधाई..इस सुंदर प्रस्तुति के लिए .. और ६०० वींपोस्ट के लिए भी......!!
    शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर चर्चा रहा! ६०० पोस्ट पूरे होने पर हार्दिक बधाइयाँ!

    ReplyDelete
  9. अच्छे लिंकस ...खूबसूरत चर्चा ..सुंदर प्रस्तुति
    मेरी पोस्ट को चर्चा मंच पर शामिल करने के लिए धन्यवाद!
    600वी पोस्ट के लिए बधाई|

    ReplyDelete
  10. Nice post .

    हमारी कामना है कि आप हिंदी की सेवा यूं ही करते रहें। ब्लॉगर्स मीट वीकली में आप सादर आमंत्रित हैं।
    बेहतर है कि ब्लॉगर्स मीट ब्लॉग पर आयोजित हुआ करे ताकि सारी दुनिया के कोने कोने से ब्लॉगर्स एक मंच पर जमा हो सकें और विश्व को सही दिशा देने के लिए अपने विचार आपस में साझा कर सकें। इसमें बिना किसी भेदभाव के हरेक आय और हरेक आयु के ब्लॉगर्स सम्मानपूर्वक शामिल हो सकते हैं। ब्लॉग पर आयोजित होने वाली मीट में वे ब्लॉगर्स भी आ सकती हैं / आ सकते हैं जो कि किसी वजह से अजनबियों से रू ब रू नहीं होना चाहते।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर चर्चा।
    600 वीं पोस्ट के लिए बधाई।
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  12. बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स दिये हैं आपने, चर्चा मंच में ...मेरी रचना को शामिल करने के लिये बहुत-बहुत आभार ।

    ReplyDelete
  13. 600वी पोस्ट के लिए बधाई|मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत आभार...

    ReplyDelete
  14. गाफिल जी... एक सुन्दर सरल और बेशकीमती चर्चा ...६००वीं चर्चा करने के लिए बधाई... मेरी रचना को भी स्थान मिला आपका सादर शुक्रिया ...अभी लिंक्स में जाना होगा .. पुनः आभार

    ReplyDelete
  15. चर्चा मंच की 600वी पोस्ट.......
    वाह,क्या बात है.
    बधाई.

    ReplyDelete
  16. Gafil ji aapki charcha ke 600 ke aankde hone par lakh lakh badhaai.bahut achche link prapt hue naye purane logon sabhi se milvaya.meri rachna ko sammalit karke mera samman badhaya hardya se shukrgujaar hoon.

    ReplyDelete
  17. बहुत बढ़िया चर्चा मंच सजाया है गाफिल जी ! सुन्दर लिंक्स ......
    मेरी रचना को भी स्थान देने का आभार

    ReplyDelete
  18. बहुत ही खुबसूरत चर्चा...
    सभी लिंक्स शानदार हैं...
    इस अकिंचन को शामिल करने हेतु सादर आभार....
    सादर...

    ReplyDelete
  19. charcha-manch ki 600 post ke liye bahut badhaai,shubkamnaayen .bahut hi achche links ke saath aapne sajaayaa charcha -manch,badhaai aapko.
    happy friendship day.

    "ब्लोगर्स मीट वीकली {३}" के मंच पर सभी ब्लोगर्स को जोड़ने के लिए एक प्रयास किया गया है /आप वहां आइये और अपने विचारों से हमें अवगत कराइये/हमारी कामना है कि आप हिंदी की सेवा यूं ही करते रहें। सोमवार ०८/०८/११ को
    ब्लॉगर्स मीट वीकली में आप सादर आमंत्रित हैं।

    ReplyDelete
  20. hamesha ki tarah shandar ..hardik badhayeeke sath..abhi kuch links padhe hain..baki sarsari najar se dekhe hain..pranam

    ReplyDelete
  21. अच्छे लिंकस ...खूबसूरत चर्चा .....
    मेरी रचना को भी स्थान देने का आभार.....

    ReplyDelete
  22. sunder charcha
    is charcha ke sath hi charcha manch ne 600 ka aankda paar kar liya ,yah ek garv ka vishay hai

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर प्रस्तुति और 600वीं पोस्ट के लिए बधाई...आपका हर प्रेजेंटेशन लाज़वाब होता है

    ReplyDelete
  24. Shri Chandra Bhushan Ji..koti-koti dhanyawad meri rachana ko is yogya samajhane ke liye...aabhar

    ReplyDelete
  25. Rochak dhang se charcha pesh ki hai ...bahut bahut shukriya ..

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin