चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Tuesday, September 20, 2011

"महंगाई डायन खाये जात है" (चर्चा मंच - ६४३)

हैल्लो दोस्तों!
आज मंगलवार है
और मैं विद्या आपके सामने चर्चा मंच पर
कुछ ब्लॉगरों की पोस्टों को लेकर हाजिर हूँ!
सबसे पहले देखिए अरुणेश सी दवे जी की पोस्ट!
मित्रो आपके खासमखास याने दवे जी नाम के फ़ोकटचंद सलाहकार को दस धनपथ से बुलावा आया स्वयं सोनिया जी का। जाकर बैठे ही थे कि सोनिया जी गुनगुनाते हुये कमरे में ...

अब देखिए
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" द्वारा लगाई गई कुछ पोस्ट
सुन्दर-सुन्दर खेत हमारे।*
*बाग-बगीचे प्यारे-प्यारे।। *
*पर्वत की है छटा निराली।*
*चारों ओर बिछी हरियाली।...
उच्चारण पर है-

हम तुम्हारे वास्ते दुनियॉ में फिर जीते रहे
चाक कर अपना गिरेवॉ रात दिन सीते रहे ...
प्रांजल-प्राची पढ़िए-
प्रांजल-प्राची

" चिड़िया रानी फुदक-फुदक कर"


[sperrow.jpg]
चिड़िया रानी फुदक-फुदक कर,
मीठा राग सुनाती हो।
आनन-फानन में उड़ करके,
आसमान तक जाती हो।।

मेरे अगर पंख होते तो,
मैं भी नभ तक हो आता।
पेड़ो के ऊपर जा करके,
ताजे-मीठे फल खाता।।.....

'विचार प्रवाह'

*गया था खो , कुछ *

*यहाँ ढूँढा , वहां ढूँढा *
*चारो ओर ढूंढ का शोर ....*
*हुयी विस्मृत -*
*खोज ही खोज में *
*क्या खोया था * ...
अब लेकर आये हैं "ताऊ जी"
एक ताऊपन की पोस्ट!

ताऊ महाराज धॄतराष्ट्र ने आज तक किसी को अपना साक्षात्कार नही दिया लेकिन मिस समीरा टेढी ने किसी तरह महाराज को साक्षात्कार के लिये राजी कर ही लिया और अपने साथ...

टैक्नोलॉजी में आज देखिए-
अभी कुछ ही दिनों पहले एक वेबसाइट के विषय में बताया गया था जहाँ से आप कंप्यूटर का प्रारंभिक ज्ञान हिंदी में प्राप्त कर सकते हैं, इसी साईट में एक नया विडियो...


क्या कहूँ और कहाँ से शुरुआत करूँ कुछ समझ में नहीं आ रहा है। जब कभी इस विषय में कहीं कुछ पढ़ती हूँ या सुनती हूँ कि बेटी पैदा होने पर उसे गला घोंट के मार दिया...
अब देखिए डॉ. दिव्या श्रीवास्तव जी की पोस्ट!
कोई लाख कहे हम इक्कीसवीं सदी में आ गए हैं और चाँद पर भी
पहुँच गए हैं , लेकिन सच तो ये है की हम शताब्दियों पीछे जा रहे हैं।
स्त्री का समाज में...


कु दरती तौर पर नज़र आने वाली ज्यादातर चीज़ों के
पैदा होने का एक ख़ास तरीका होता है मगर भाषा के बदलने
और शब्दों के जन्म लेने के पीछे ...

बड़े यत्न से संभाला था एक कतरा सपनों का आँखें खुली और वह खो गया पल पल सरकता जीवन बंजर सी भावभूमि पर जाने कितने आस के बीज बो गया निरंतर भागती राहों में ...



कभी कभी तो कई कई दिनों तक मेरे पास लिखने को कुछ भी नहीं रहता और आज इतना कुछ है कि सोंच रहा हूँ कहाँ से शुरू करूँ... चलो ऐसा करता हूँ इस दिन की पोस्ट की शुरआत...

जब जब मैं हठी की तरह सोती नहीं करवटें बदलती हूँ यादों की सांकलें खटखटाती हूँ - चिड़िया घोंसले से झांकती है चाँद खिड़की से लगकर निहारता है हवाओं की साँसे...



यूँ तो अलग हो जाती है धारायें किसी ना किसी मोड पर
कभी ना कभी ये मोड देते है
दस्तक हर ज़िन्दगी मे पर अलगाववाद की सीमाओं पर
ये अहम के पहरेदार आखिर कब तक ?...
अब पढ़िए पॉलीथीन पर
कुँवर कुसुमेश जी के
प्लास्टिक-पॉलीथीन पर दोहे.
थैली पॉलीथीन की,करती है नुकसान.
जीव-जन्तु खाकर इसे, गवाँ रहे हैं जान.
अक्सर नदियों में दिखी,बहती पॉलीथीन ...
कोलकाता से ये हैं मनोज कुमार जी
*जब सवेरे आंख खुलती है*** श्यामनारायण मिश्र *
जब सवेरे आंख खुलती है***
*इस तरह महसूस होता है।***
*हम धकेले जा रहे हैं***
* म्युजियम से जंगलों में।*** ...
Sehar जी की शायरी भी देख लीजिए ज़नाब!
मैं चाँद पर रहना चाहती हूँ
बिखरी हुई शीतलता में बहती हुई चांदनी में
जहाँ कोई बाहरी भीड़ नहीं
कोई शोर नहीं तब ठीक से सुनाई देगा
भीतर शब्दों की भीड़ से ...
मानवीय सरोकार

-डॉ० डंडा लखनवी
राजनीति के घाट पर, अभिनय का बाज़ार।
मिला डस्टबिन में पड़ा, जनसेवा उपकार॥1 ...
रसबतिया

जो आदमी हमेशा खिला-खिला रहता है...
हर वक्त हंसता रहता हो उसे हंसमुख कहते हैं...
Akanksha

जीवन में पंख लगाए आसमान छूने को
कई स्वप्न सजाए साकार उन्हें करने को |
उड़ती मुक्त आकाश में खोजती अपने अस्तित्व को
सपनों में खोई रहती थी सच्चाई से दूर बहुत ...

डा. दिव्या श्रीवास्तव जी अपने ब्लॉग ‘ज़ील‘ पर शायद अब और न लिखेंगी, कारण उन्होंने यह बताया है कि किन्हीं अनुराग शर्मा जी ने एक पोस्ट लिखकर उनका अपमान कर दिय...

परियों के पंखों पर : रावेंद्रकुमार रवि का नया शिशुगीत
परियों के पंखों पर बदली से रंग ले-लेकर,
ख़ुशियों को संग ले-लेकर,
परियों के पंखों पर मैं चित्र बनाऊँगी! ...

और अन्त में मेरी पोस्ट भी देख लीजिए!

18 comments:

  1. सुन्दर चर्चा पर लिखूं--
    बधाई-बधाई बधाई ||

    ReplyDelete
  2. आखेट मानव का सदा,करता रहा है राक्षस |

    माँस से ही पेट भरता आ रहा है राक्षस ||


    उस गाँव का तब एक बन्दा जान देता था वहाँ--
    आज झुंडों में निवाला खा रहा है राक्षस

    हाथ करते हैं खड़े, यमुना में इच्छा शक्ति धो--
    सुरसा सरीखा मुँह दुगुना, बा रहा है राक्षस |


    मौत ही सस्ती हुई, हर जीन्स महँगा बिक रहा -
    हर एक बन्दे को इधर अब भा रहा है राक्षस |

    ताज की हलचल से आया था कलेजा मुँह तलक-
    अब जेल में भी मस्त गाने गा रहा है राक्षस ||

    ReplyDelete
  3. bahut sarthak charcha....ismei meri post ko shamil karne ke liye dhanybad....aabhar

    ReplyDelete
  4. सुन्दर चर्चा पर --
    बधाई-बधाई बधाई ||

    ReplyDelete
  5. मोदी टोपी पहनते, क्या खो जाता तोर ??
    सेक्युलर का काला हृदय, खिट-पिट करता और |

    खिट-पिट करता और, उतरती उनकी टोपी |
    वोट बैंक की नीत, बघेला बेहद कोपी |

    कटते हिन्दू वोट, देख कर हरकत भोंदी |
    घंटा बढ़ते और, समर्थक मुस्लिम मोदी ||


    कट्टर हिन्दू-मुसल्मा, हैं औरन से नीक |
    इंसानियत उसूल है, नहीं छोड़ते लीक |

    नहीं छोड़ते लीक, नहीं थाली के बैगन |
    लुढ़क गए उस ओर, जिधर जो जमते जन-गन |

    मोदी तुझे सलाम, कहीं न तेरा टक्कर |
    मूरत अस्वीकार, करे मुस्लिम भी कट्टर ||

    ReplyDelete
  6. सुन्दर चर्चा.
    मेरी रचना को स्थान दिया,आभार.

    ReplyDelete
  7. धन्यवाद विद्या जी!
    आज तक की गई आपकी चर्चा में यह चर्चा बहुत शानदार रही है।
    मेरी पोस्टों के लिंग देने के लिए आभार!

    ReplyDelete
  8. mere post ko shamil karne ke liye hardik dhanyavaad... any post mein se kuchh post bahut achhi lagi...

    ReplyDelete
  9. सुन्दर और सार्थक चर्चा ..

    ReplyDelete
  10. मेरे शिशुगीत को चर्चा में लाना बहुत अच्छा लगा!

    ReplyDelete
  11. आप सब का धन्यवाद ,मुझे उत्साह देने के लिए ,
    इसी तरह आप सब मेरे साथ रहे
    धन्यवाद........

    ReplyDelete
  12. विस्तृत चर्चा

    ReplyDelete
  13. charcha-manch ke sanyojakon ka yah prayas prasansaneey hai....

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin