समर्थक

Wednesday, November 30, 2011

"पग ठहरता नहीं, आगमन के बिना" (चर्चा मंच-714)

बुधवार का चर्चा मंच भी मुझे ही सजाना है "कुछ कहना है" आदरणीय रविकर जी को! छितराए-पन्नेभगवती शांता परम सर्ग पढ़ लीजिए ना! --क्योंकि "दल उभरता नहीं, संगठन के बिना"*स्वर सँवरता नहीं, आचमन के बिना। पग ठहरता नहीं, आगमन के बिनाये जग झूठा नाता झूठा खुद का भी आपा है झूठा फिर सत्य माने किसको मन बंजारा भटका फिरता कोई ना यहाँ अपना दिखता फिर अपना बनाए किसको कैसी मची है आपाधापी...जहाँ बाड खेत को खुद है खाती ! इसी लिए तो कहता हूँ कि ‘‘तीखी-मिर्च सदा कम खाओ’’ साझीदार बने हो तो, सौतेला मत व्यवहार दिखाओ! पढ़िए नव्या में प्रकाशित कविता औकातनिर्णय के क्षण कर्ण की कशमकश से सम्बन्धी कविता छः किश्तों में ब्लॉग साहित्य सुरभि पर प्रस्तुत की गई थी. यह कविता सूनी सूनी हैं अब ब्रज गलियाँ, उपवन में न खिलती कलियाँ. वृंदा सूख गयी अब वन में, खड़ी उदास डगर पर सखियाँ. जब से कृष्ण गये तुम बृज से, अब मन बृज में लागत नाहीं! इसीलिए तो कहता हूँ कि आखिर कहां जा रहे हैं हम?  किताबें पढ़ी , मन का मंथन किया खूब सोचा-समझा और जांचा ऐ-दोस्त तुझे .... राहे-जिन्दगी में ख़ुशी मिले ना मिले सुकून जरुर मिले| दोस्ती...... हो तो किताबो से ही हो! परिवास योग्य एक ग्रह पृथ्वी जैसा"निरंतर" की कलम से.....निकली हैं क्षणिकाएं  *बड़े अरमानों से* बड़े अरमानों से हमने उन्हें फूल भेंट किये भोलेपन से वो पूछने लगे कहाँ से खरीदे ? हमें भी किसी ख़ास को देने हैं बहुत शिद्दत से बताने लगे! मंजिल तलाशते रहे ....  परछाइयों के साथ / उगते रहे बबूल भी , अमराइयों के साथ / सीने पे ज़ख्म खा के भी , खामोश है कोई , अब गम मना रहे हैं वो , शहनाइयों के साथ...! ग़ाफ़िल की अमानत में हैं-कुछ ख़ास अलहदा शे’र -  जिसमें से कुछ तो किसी ग़ज़ल की ज़ीनत बने और कुछ अब तक अलहदा ही हैं! कुछ उलझे हुए विचार आज बस मन हुआ कि कुछ लिखा जाये, मगर क्या? तो ऐसे ही मन में कुछ खयाल आने लगे कुछ ऐसे विचार जिनका न कोई सर था न कोई पैर! सिर्फ एक पंक्ति फेसबुक की दिवार पर - "मैंने अपनी महिला मित्र को छोड़ दिया. अब मैं आजाद हूँ." और नतीजा... उस लडकी ने शर्मिंदगी और दुःख में आत्महत्या कर ली...जीना यहाँ.. मरना यहाँ ..! इसके सिवा जाना कहाँ?? -मेरा दिल ये कहे ; हम रहें न रहें  शान से ये तिरंगा लहरता रहे !  साँस चलती रहे ; साँस थमती रहें ये वतन का गुलिस्ता महकता रहे! स्वीकार सको तो स्वीकार लेना क्योंकि ज़िन्दगी…एक खामोश सफ़र ही तो है! मटर दिलों में प्रेम बढ़ाता...... मटर, भाव की हद को चूमें मटरगश्ती कर मद में झूमे. मटक-मटक कर है मदमाता जेब को मेरी रोज चिढ़ाता. छत्तीसगढ़ में पेड-पत्तियों और वनस्पतियों के साथ भी रिश्ते बांधने (बदने)की परम्परा है। और ऐसे बदे गए रिश्तों में पीढ़ियों का निर्वाह होता है... अहिरन के साथ रिश्ते बाँध कर गयी हैं., इंदिरा गोस्वामी तभी तो कर रही हैं..."प्यारी-प्यारी बातें"छा रहा इस देश पर कोहरा घना है -! ऐसे मेंचतुर्वर्ग फल प्राप्ति और वर्तमान मानव जीवन  का क्या होगा? तुमसे है दुनियाँ खुशियों की बौछार तुम्हीं हो उदासी की तलवार तुम्हीं हो तुम्हीं हो मेरी गंगा -यमुना हर मौसम का प्यार तुम्ही हो !  चलते-चलते थक जाती पाती न पंथ की सीमा अवरोधों से डिगता धैर्य फिर भी न होता धीमा प्यासी आँखे बहती है बूंद-बूंद में हुआ जीना... आहों में .. आइए देखें चलते-चलते
FDI in Retail, parliament, indian political cartoon

Tuesday, November 29, 2011

"पिंजरे में पंछी किस्‍म किस्‍म के" (चर्चा मंच-713)

मित्रों!
जय हनुमान ज्ञान गुण सागर!...
आइए सुबह-सुबह पवनवेग से कुछ ब्लॉगों का भ्रमण कर लेता हूँ!
आप भी भगवान परशुराम के जीवन की एक महत्वपूर्ण घटना है भगवान राम से भेंट। *महर्षि वाल्मीकि* कृत *आर्षरामायण से देख लीजिए! इन्द्रियां इतनी बलवान हैं कि यदि उन्हें चारों तरफ़ से घेरा जाय तो ही वे प्रभावकारी अहिंसक शस्त्र बन जाती हैं। आज गिरीश बिल्लोरे 'मुकुल', सुमन कपूर 'मीत' का जनमदिन है! इन सभी को चर्चा मंच परिवार की ओर से शुभकामनाएँ प्रेषित करता हूँ! ''अजी सुनते हो ! अपने पड़ोस की दुकान में अण्डे और सी एफ एल बल्ब नहीं मिल रहे हैं !'' पत्नी ---''पिछले हफ्ते ही तो मुन्नू को भेज कर मंगवाए थे .आज फिर आने लगे फिरंगीजिंदगी की किताब खोली * *देखा !* *कितने पन्नें पलट गए * *कुछ भरे* *कुछ खाली.... * *कुछ में बैठे हैं शब्द * *मेहमां बनकर * *और * *कुछ में हैं...आखिरी इबारत! लेकिन पिंजरे में पंछी किस्‍म किस्‍म के कैद हो ही जाते हैं! मतला और एक शेर............ -साज़िशें हवाओं ने कुछ मेरे साथ इस तरह कीं| दिल सुलगता देखकर, रुख अपना हमारी ओर कर दिया | मेरी मुहब्बत का सिला , मेरे महबूब ने इस तरह दिया | तेरे शहर का क्या नाम है? तेरे शहर का क्या नाम है? क्या वहां दो पल का आराम है? यहाँ तो हर शहर मदहोश है, न किसी को चैन है, न ही कहीं होश है I क्या वहां लोग दिल खोल के हँसते हैं? प्यार मंजिल है ,दोस्ती रास्ता है -*जो दिल को चुभ जाये वो प्यार , जो दिल को छु जाये वो दोस्ती* ** * जो झुकाए वो प्यार , जो झुक जाये वो दोस्ती!"मेरी चलती रूकती सांसों पर ऐतबार तो कर, ये हँसता हुआ झील का कवल, मेरे बातों पर ऐतबार तो कर, तू यूँ ही खिल जायेगा जैसे दमकता माह , बस एक बार मुस्कुरा के ...! और शाम ढल गई....  कितना अजीब जिन्दगी का सफ़र निकला ! सारे जहाँ का दर्द अपना मुकद्दर निकला ! जिसके नाम जिन्दगी का हर लम्हां कर दिया  ... ! परिकल्पना के सन्दर्भ से ....!!! कोई आने वाला है मेहमान कहीं पे ,आहट कदमों की है महसूस हो रही जमीं पे ।कैसा होगा मंजर आमद पर उसकी ,गूंज उठेंगी दरो-दीवार उसकी हंसी पे .....। वेरा पावलोवा ( जन्म : १९६३ ) रूसी कविता की एक प्रमुख हस्ताक्षर हैं। उनकी कविताओं के अनुवाद दुनिया भर की कई भाषाओं में हो चुके हैं। देखिए इनकी कविता का अनुवाद...जो सुनाई दे उसे गाओऋचा और देव एक दुसरे से बहुत प्रेम करते थे लेकिन विवाह के बंधन में बंध नहीं सकते थे क्यूंकि माता-पिता, भाई-बहन , मित्र और समाज की आपत्ति थी उनके रिश्ते पर। काश मैं तुम्हारा पति होता... समाचार पत्र में हम जैसे सामाजिक प्राणियों के लिए सबसे अधिक उपयोगी पेज- होता है- पेज चार। समाचार पत्र आते ही मुख्‍य पृष्‍ठ से भी अधिक उसे वरीयता मिलती है।...क्‍या भगवान की उपाधि किसी सामान्‍य मनुष्‍य को दी जानी चाहिए? अक्सर किसी को कहते सुना होगा--क्या करें , दिल नहीं मानता । इन्सान के दिल और दिमाग में एक द्वंद्ध हमेशा चलता रहा है । दिल कुछ और कहता है , दिमाग कुछ और...दिल और दिमाग की द्वंद्ध में किसकी सुनें ? वे चिंतन में थे कि गाल तन का ही बेहद मुलायम हिस्‍सा है, नेताई गाल पर पड़ा तमाचा अब बना सुर्खियों का हिस्‍सा है...क्‍या आप चांटा खाने वालों में शुमार होना चाहते हैं ? बाबा "क्षमा" करना शायद किसी की तेज रफ़्तार ने उसके पाँव कुचल डाले थे खून बिखरा दर्द से कराहता आँखें बंद --माँ --माँ --हाय हाय ... बाबा "क्षमा" करना!.... जी हां मैं मुम्बई से सीधा प्रसारण करूँगा...! मुझे शिकायत है वायदे टूट जाते हैं अक्सर...! किताब के पन्नों को पलटते हुए ये ख्याल आया यूं पलट जाए जिन्दगी सोचकर रोमांच हो आया । ख्वाबों में जो बसते हैं सम्मुख आ जाएँ तो क्या हो किताब ...! शीत बढ़ा**, **सूरज शर्माया।*आसमान में कुहरा छाया।।*** *चिड़िया चहकी**, **मुर्गा बोला**,* *हमने भी दरवाजा खोला**,* *लेकिन घना धुँधलका पाया। मनुष्य के जीवन में तीन सच्चे साथियों का साथ होना जरुरी है ....एक डूबता हुआ सूरज* फिर खिल उठा खुल गए कई बंद रास्ते न, तुम कहां आए आई बस ज़रा-सी याद तुम्हारी और दिन थम गया रात रुक गई सांस चलने लग...तुम्हें खोकर, खो दिया सब कुछ! मंहगाई बढाने वाली सरकारी नीतियां, और जारी है सरकार का अहंकार....... वह अहंकार जिसके अधीन होकर ....सरकार का अनर्थशास्त्रअर्थशास्त्र जारी है ...... !हमेशा से अपनी रही होगी तभी तो इतनी जल्दी अपनी हो गयी, एक स्मृति... एक चमक... और फिर सारी वेदना खो गयी सुख दुःख की परिभाषाएं यहाँ भिन्न हैं, अभिभूत था मन...कविता के आँगन में...! उत्तराखंड राज्य के जनपद सीमान्त जनपद पिथौरागढ़ से धारचूला जाने वाले मार्ग पर लगभग सत्तर किलोमीटर दूर स्थित है कस्बा थल जिससे लगभग छः किलोमीटर दूर स्थित है ...एक अभिशप्त देवालय: हथिया देवाल (थल)...मिला हो दर्द तुम्हें गम -ए -गुनाही का , गिला नहीं करते - जले चिराग जलो वैसे यारा , लिए जजज्बात जला नहीं करते...(बेबाक)वर्तमान परिदृश्य में जिस तरह से जनता राजनेताओं और राजनीतिज्ञों के प्रतिअप ने गुस्से का इज़हार कर रही है , बेशक वो भारतीय जनता के स्थापित व्यवहार के खिलाफ... जनता का गुस्सा ही होगा। कब तक पढ़ना कितना पढ़ना , अब तलक चलता रहा | तलवार परीक्षा की , अनकहा कुछ न रहा || जो भी कोशिश की थी तुमने , काम तो आई नहीं | बहुत दिनों से कोई कविता लिखी नहीं , कई बार यूँ ही खामोश रह जाना अच्छा लगता/रहता है ... जैसे समुद्र के किनारे बैठे लहरों को गिनते रहना ...लिख देना फिर कभी कोई प्रेम भरा गीत .... *नदी - 1* नदी ने जब-जब चाहा गीत गाना रेत हुई कंठ रीते धूल उड़ी खेत हुई *नदी - 2* चट्टानों से खूब लड़ी बढ़ती चली ...नदी को लेकर तीन कवि‍ताएं हैं आप ब्लॉग खोलकर पढ़ लीजिए ज़नाब! बोली लगाओ देश बिक रहा है : जियो मेरे लाल....! मेरे पति पूरे दिन नेट पर बैठे रहते हैं। पहले यह मुझे बहुत अखरता था मगर अब मैंने भी ब्लॉगिंग में रुचि लेना शुरू कर दिया है। आज मैं अपनी पहली पोस्ट अपने ब्लॉग पर लगा रही हूँ!
आइए मज़ेदार खीर बनाते हैं! क्योंकि "मैं भी ब्लॉगिंग सीख रही हूँ"
अन्त में देखिए यह कार्टून...!

Monday, November 28, 2011

आ गये फ़कीर हैं (सोमवारीय चर्चामंच-712)

मेरा फोटो
दोस्तों मैं चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ एक अर्सा बाद आप लोगों से मुख़ातिब हो रहा हूँ। दरअसल मेरी चाची जी का इन्तकाल हो जाने के नाते उनके क्रियाकर्म की व्यस्तता से आज निज़ात पाया हूँ, आख़िर एकमात्र मैं ही उनका वारिस जो ठहरा। इस दौरान मेरे सेड्यूल पर चर्चामंच लगाने के लिए अपने चर्चामंच के सहयोगियों का आभार व्यक्त करता हूँ और शुरू करता हूँ आज की चर्चा-
 नं. 1-
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’ उच्चारण 'आ गये फ़कीर हैं'
उच्चारण
_______________________
2-
ये ब्लॉग अच्छा लगा...बस एक थप्पड़ !!??
My Photo
_______________________
3-
ये लीजिए साहब! मेथी की भाजी 
My Photo
_______________________
4-
परशुराम राय जी प्रस्तुत कर रहे हैं कुछ बच्चन जी के जन्मदिन पर
_______________________
5-
_______________________
6-
_______________________
_______________________
8-
_______________________
9-
_______________________
10-
भगवती शांता परम-सर्ग-4, शिक्षा और संस्कार-भाग-1, शान्ता के चरण
My Photo
_______________________
11-
"मोती के लाल" -निवेदिता
मेरा फोटो
_______________________
12-
_______________________
13-
_______________________
_______________________
15-
_______________________
16-
_______________________
17-
_______________________
18-
_______________________
19-
_______________________
20-
_______________________
21-
"भूभल" उपन्यास से कथा अंश 
मेरा फोटो
_______________________
22-
मौनी बाबा 
My Photo
_______________________
23-
इस देस में वापस आकर -आशा जोगळेकर
My Photo
_______________________
24-
बात बेचारी
मेरा फोटो
_______________________
और अन्त में
________________________
आज के लिए इतना ही, फिर मिलने तक नमस्कार!

Sunday, November 27, 2011

"हाय रब्बा! जीवन के नव-रंग" (चर्चा मंच-711)

मित्रों!
आदरणीय डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक जी का आशीर्वाद मिला और मैं कमल सिंह (नारद) चर्चाकार के रूप में आज अपनी पहली रविवासरीय चर्चा आपके सामने प्रस्तुत कर रहा हूँ!  "मैं भी ब्लॉगिंग...मौनीबाबा....हरियाणा सरकार पर गांधी परिवार मेहरबान क्यों?
लिए कटोरा हाथ में! लो जी फिर चले हम तो लोगों को हंसाने..... गाड़ी बुला रही है, सीटी बजा रही है......! मनुष्य अपने चरित्र को उज्जवल न रख सका तो वह एक आदरपूर्ण बिंदु के लिए तरसेगा ....! महाकवि स्वर्गीय द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी जी, जिनकी आगामी १ दिसंबर को पुण्य-तिथि है, ने किन परिस्थितियों के मद्देनजर अपनी बाल मन को ओत-प्रोत करने वाली रचना "यदि होता मैं किन्नर नरेश मैं !" का सृजन किया। तृतीय पुरस्कार!! पार्श्वभूमी बनी है , घर में पड़े चंद रेशम के टुकड़ों से..किसी का लहंगा,तो किसी का कुर्ता..यहाँ बने है जीवन साथी..हाथ से काता गया सूत..चंद, धागे, कुछ डोरियाँ... नज़रे इनायत नही... ! ''कला में अश्लीलता, फूहड़पन और सांस्कृतिक स्तरहीनता के आगे कब तक मौन रहोगे''....२६/११ की तीसरी बरसी - बस इतना याद रहे ... एक साथी और भी था ... ! सारा दिन घर में आराम से रहती हो ! तुम क्या जानो दुनिया के धंधे ? मैं बाहर जाता हूँ कितना थक जाता हूँ ! तुम तो...ऊंचे आसन पर बैठ कर धर्म गुरु प्रवचन देते हैं सब से बराबरी का व्यवहार करो ! अरे भई साधो......: जनजीवन को जटिल बनाते अपराधी! लो फिर आ गयी छब्बीस बटा ग्यारह एक दिन का शोर शराबा फिर वो ही मंजर पुराना सब कुछ भुला देना चादर तान के सो जाना क्या फर्क पड़ता है? ये तसन्नो में डूबा हुवा प्यार है क्या कोई चीज़ फिर मुफ़्त दरकार है. फैली रूहानियत की वबा क़ौम में, जिस्म मफ़्लूज है, रूह बीमार है. *फूलों में उलझे तो पड़ते नहीं हैं पाँव ज़मीं पर काँटों में उलझे तो , ज़मीं बचती ही नहीं है क़दमों तले ज़िन्दादिली तो हिन्दी में भी छलकती है ये वो भाषा है जो ...सौगात से कम नहीं है। चांटा लगाऽऽऽऽऽऽऽ~~~~~~~~ हाय रब्बा! जीवन के नव-रंग - लोग यही अक्सर कहे जीवन है संघर्ष। देता पर संघर्ष ही जीवन को उत्कर्ष।। घृणा, ईर्ष्या, क्रोध संग त्यागे जो उन्माद। जीवन तब अनमोल है नित्य घटे अवसाद।। फ़ुरसत में ... आराम कुर्सी चिंतन! आज कहीं पढ़ी एक बात याद आ रही है ...फ़लों को लेकर उदाहरण था, तुलना की गई थी परिवार की फ़लों की बनावट के साथ...फ़ल और परिवार ...... शाकुम्भरी देवी शक्तिपीठ घूम आइए ना! तुम कान्हा हो मैं मीरा हूँ, हर युग में तुमको अपना मानूँ...लेकिन हनुमान लीला - भाग १ को मनसा वाचा कर्मणा पढ़कर तो देखिए!! जीवन में कई बसंत सी खिली मैं कई पतझड़ सी झरी मैं कई बार गिरी गिर कर उठी मन में हौसला लिए जीवन पथ पर बढ़ी मैं बढ़ती रही, चलती रही! मेरी सोच, मेरी अभिव्यक्ति-जलेबी बाई-जलेबी बाई!
आप सभी का आशीष चाहिए! प्रणाम!!

LinkWithin