Followers

Tuesday, March 13, 2012

हम सांझ बन जाएंगे..... चर्चा मंच 817

नमस्‍कार। 
चर्चा मंच में आपका स्‍वागत है। शुरू करता हूं अपनी पसंद के ब्‍लाग पोस्टों पर चर्चा से। 
सबसे पहले भगवान से एक शिकायत। खुशदीप जी ने भगवान से शिकायत की है और वे कहते हैं, एक भक्त की मस्त अर्ज़ी भगवन के नाम... 
 अब बात करें सत्‍ता के सेमीफायनल की। जी हां,  उत्‍तरप्रदेश सहित देश के कुछ राज्‍यों में हाल में हुए विधानसभा चुनावों को मीडिया  ने यही नाम दिया है। यूपी के घटनाक्रम पर पुण्‍य प्रसुन बाजपेयी जी का विश्‍लेषण कहता है, मुलायम की समाजवादी चौसर पर अखिलेश को सत्ता 
तो शालिनी कौशिक जीसवाल उठा रही हैं, ये वंशवाद नहीं है क्या?

चुनाव  निपट गए। मीडिया को खबरों का टोंटा हो गया...... मीडिया की खबरों और टीआरपी के फंडे पर अपने ही अंदाज में पोस्‍टमार्टम कर रहे हैं संजय महापात्रा जी। वे कहते हैं, मीडिया इवेंट - राईट टू रिकाल  
 पिछले 11 सालों से वह भूख हडताल पर बैठी है। नाम है इरोम शर्मीला। उनकी जीजिविषा पर कलम चलाई है डा शरद सिंह जी ने। वे कहती हैं, इरोम शर्मीला होने का अर्थ 
 मूक और श्‍वेत श्‍याम फिल्‍म द आर्टिस्‍ट। पूजा उपाध्‍याय जी का कहना है कि फिल्‍म दिल के भीतर तक उतर जाती है। आप भी देखिए यह फिल्‍म पर इससे प‍हले पढिए, The Artist - Echoes of nostalgia
टीवी में आपने एक विज्ञापन देखा होगा, हर किसी की जिंदगी से जुडा हुआ है सेल....... टाटा स्‍टील का यह विज्ञापन होता है। मौजूदा दौर में हर किसी की जिंदगी से जुडा हुआ है फेसबुक। राजीव तनेजा जी की कलम से पढिए, अजब ये फेसबुक और अजब इसके रिश्ते
 अनुपमा पाठक जी कह रही हैं, एक गीत सुनते हुए...!
तो वंदना जी बता रही हैं ब्‍लोगर ने मचाया धमाल जर्मनी में


अब कुछ चर्चा पद्य ब्‍लाग पोस्‍टों की। 
डा राजेन्‍द्र तेला 'निरंतर' जी कहते हैं, दौड़ेगा मन उधर ही जहां चैन मिलेगा 
एक परिंदे के दिल की बात कह रही हैं ऋतु बंसल जी। वे कहती हैं, धरती और अम्‍बर 
  मोनिका जैन 'मिष्‍ठी' जी  पंख लगाकर देख रही हैं सपने
तो संतोष कुमार जी सूरज की रौशनी के लिए कर रहे हैं दुआ
सुनील कुमार  जी कहते हैं बातें पेट की तपिश  की 
यशवंत माथुर जी लाए हैं रंगा हुआ कैनवास
और क्षमा जी कहती हैं, उस पार तो लगा दे!
सदा जी का उत्‍साह और विश्‍वास का चित्रण तो देखिए। वे कहती हैं, मेरे कांधे पर तुम्‍हारे हांथ की तरह ...
गरमी में शीतलता का अहसास कीजिए। मौसम की खूबसूरती देखिए। रश्मि जी कहती हैं, हम सांझ बन जाएंगे.....
छोडें न उम्‍मीदों का दामन। आशा जी कहती हैं, बहुत कुछ बाकी है
टुकडों में कर रही हैं कनुप्रिया जी बात। वे कहती हैं, मुझे कुछ पता नहीं
कोई कमतर नहीं। संध्‍या आर्य जी भी यही कहती हैं। उनका कहना है, गर जल गया कोई दिया मशाल बन जायेगी
बेटों से ज्‍यादा सुकून देती हैं बेटियां। रूपचंद्र शास्‍त्री 'मयंक' जी के यही संदेश देते पढिए,  कुछ दोहे 
चलते रहने का नाम है जिंदगी। जो थम जाए वो क्‍या......। आनंद विश्‍वास जी पूरे विश्‍वास से कह रहे हैं पीछे मुड़ कर कभी न देखो  
तो उम्‍मीदों को जिंदा रखे हुए हैं प्रियंका राठौर जी। वे कहती हैं, होगा मिलन

बगैर उसके जिंदगी, जिंदगी नहीं। उसका होना ही सब कुछ होता है। रीना मौर्या जी कहती हैं, एक अहसान कर दो

आखिर में सीखिए कुछ ब्‍लागिंग टिप्‍स........ 
और 

अब दीजिए  अतुल श्रीवास्‍तव  को इजाजत। फिर मुलाकात होगी अगले मंगलवार... पर चर्चा जारी रहेगी पूरे सातों दिन.............। 
नमस्‍कार.......!

34 comments:

  1. आभार आपका अतुल जी इस अदने के ब्लाग को स्थान देने के लिए !. आज मन उदास है राहुल शर्मा जी के दुखद निधन पर .. कल चर्चा मंच पर आपके लगाये ब्लागों को पढूँगा !

    ReplyDelete
  2. आभार आपका अतुल जी इस अदने के ब्लाग को स्थान देने के लिए !. आज मन उदास है राहुल शर्मा जी के दुखद निधन पर .. कल चर्चा मंच पर आपके लगाये ब्लागों को पढूँगा !

    ReplyDelete
  3. बहुत ही बढ़िया लिंक संयोजन के लिए बधाई,..

    अतुल जी,..बहुत दिनों से आप मेरे पोस्ट पर आये,आइये,स्वागत है,...

    RESENT POST...काव्यान्जलि ...: बसंती रंग छा गया,...

    ReplyDelete
  4. अच्छी लिंक्स के साथ वार्ता में बहुत आनंद आया |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर और पठनीय लिंक!
    आपका बहुत-बहुत आभार!
    राहुल शर्मा जी को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि!

    ReplyDelete
  6. चर्चा मंच पर आपकी सक्रियता देखकर अभिभूत हूँ!
    आभार!

    ReplyDelete
  7. सुन्दर लिंक्स से सजी....विस्तृत चर्चा अतुल जी

    ReplyDelete
  8. राहुल शर्मा जी को विनम्र श्रद्धांजलि ||

    सुन्दर चर्चा ||

    ReplyDelete
  9. Bahut badhiya links diye hain! Meree post ka samavesh kiya....anek dhanywad!

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन चर्चा में अच्छी लिंक्स !

    ReplyDelete
  11. सुन्दर संकलन....
    सादर आभार.

    ReplyDelete
  12. चर्चा-मंच का हर लिंक मेरे मानस-पटल
    पर गहरी छाप छोड़े बिना नहीं रहता।
    आयोजकों का यह भागीरथ प्रयास निश्चय
    ही अभिनन्दनीय है। चर्चा-मंच की सफलता
    के लिये ढ़ेर सारी शुभकामनाऐं।

    आनन्द विश्वास।

    ReplyDelete
  13. बहुत आकर्षक प्रस्तुति अतुल जी...

    लिंक्स भी सभी अच्छे...

    शुक्रिया
    सादर.

    ReplyDelete
  14. sundar link se saji charcha...
    http://easybookshop.blogspot.com

    ReplyDelete
  15. 'रंगा हुआ कैनवास' शामिल करने के लिए हार्दिक धन्यवाद सर!

    सादर

    ReplyDelete
  16. बढ़िया चर्चा, निरंतर नए लिंक्स का समावेश, मेरी पोस्ट को स्थान देने के लिए धन्यवाद

    टिप्स हिंदी में

    ReplyDelete
  17. अत्यन्त रोचक सूत्र..

    ReplyDelete
  18. बहुत ही बढि़या लिंक्‍स संयोजन ... जिनके साथ मुझे शामिल करने के लिए आभार ।

    ReplyDelete
  19. रोचक लिंक्स है शामिल करने के लिये बहुत बहुत शुक्रिया और आभार!!

    ReplyDelete
  20. बहुत रोचक और पठनीय लिंक्स्।

    ReplyDelete
  21. bahut acche links ... shamil karne ke liye dhanybad.... aabhar

    ReplyDelete
  22. bahut achchhi charcha -upyogi links se saji . HARDIK SHUBHKAMNAYEN .YE HAI MISSION LONDON OLYMPIC

    ReplyDelete
  23. bahut sundar charcha prastut ki hai atul ji,meri post ko lene ke liye aabhar.

    ReplyDelete
  24. मुझे शामि‍ल करने के लि‍ए बहुत-बहुत धन्‍यवाद। सारी चर्चाएं अच्‍छी लगी। आपाका आभार।

    ReplyDelete
  25. बढ़िया लिंक्स से सुसज्जित चर्चा...
    मेरी रचना को इसमें स्थान देने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  26. बढ़िया लिंक्स से सुसज्जित चर्चा...
    मेरी रचना को इसमें स्थान देने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  27. मुझे शामिल करने के लिए धन्यवाद. इस मंच के प्रविष्टियाँ लाजवाब रहीं.. कुछ रचनाएँ (रश्मि जी, यशवंत माथुर जी, अनुपमा पाठक जी, शारदा सिंह और सदा जी ) कमाल की है.. बहुत बेहतर संकलन. आभार.

    ReplyDelete
  28. अतुल जी धन्यवाद ..कलमदान को स्थान देने के लिए..
    सभी लिनक्स रोचक हैं ..
    kalamdaan.blogspot.in

    ReplyDelete
  29. diffrent moods ki blogs se bana apka manch rangeela hai...thanks for sharing....

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"सब कुछ अभी ही लिख देगा क्या" (चर्चा अंक-2819)

मित्रों! शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...