चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Monday, April 02, 2012

गर्मी की दोपहर का क़र्ज़ (सोमवारीय चर्चामंच-837)

दोस्तों! चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ का आदाब क़ुबूल फ़रमाएं सोमवारीय चर्चामंच पर! पेशे-ख़िदमत है आज की चर्चा का-
 लिंक नं. 1- 
उन्नयन का प्रमाद
मेरा फोटो
_______________
2-
My Photo
_______________
3-
गर्मी की दोपहर का क़र्ज़, जिसका अवदान कुछ यूँ
मेरा फोटो
_______________
4-
राम राम भाई! नुश्ख़े सेहत के
मेरा फोटो
_______________
5-
श्री राम...बालगीत -डॉ. श्याम गुप्त
_______________
6-
स्वास्थ्य-सबके लिए : ब्रॉन्कायल अस्थमा
मेरा फोटो
_______________
7-
दिनेश की दिल्लगी, दिल की सगी : बढ़िया वेला पाय, ठहरते सदा भगोड़े
My Photo
_______________
8-
American Crow - Corvus brachyrhynchos
_______________
9-
बेचैन आत्मा की मूर्खता
मेरा फोटो
_______________
10-
_______________
11-
IMG_3642
_______________
12-
शाश्वत शिल्प : दोहे
My Photo
_______________
13-
मेरा फोटो
_______________
14-
DSC00226
_______________
15-
_______________
16-
_______________
17-
_______________
18-
_______________
19-
_____________
और अन्त में
25-

"आज फस्ट अप्रैल है ना!" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

"रपट-विधानसभाध्यक्ष खटीमा पधारे"

बधाई हो शास्त्री जी!

आपको पुनः सरकार में दायित्व जरूर मिलेगा।
आज के लिए इतना ही, फिर मिलने तक नमस्कार!

24 comments:

  1. वाह!
    चर्चा के साथ शुभकामनाएँ भी!
    धन्यवाद भाई गॉफ़िल जी!
    देखिए आपकी शुभकामनाएँ कब रंग लातीं हैं।

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. Nice post.

    सद्-गुण हमारे जीवन व्यवहार का हिस्सा बनें,
    यही हमारा संदेश है और यही हमारा अभियान है।

    http://hbfint.blogspot.in/2012/04/37-truth-only.html

    ReplyDelete
  4. आज की चर्चा कई लिंक्स समेटे हुए |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार गाफिल जी |
    आशा

    ReplyDelete
  5. समुंदर में मिल गयी हों
    वो नदियाँ ढूंड के लाना
    काबिले तारीफ है काम
    बिना कोई मेहताना ।

    ReplyDelete
  6. आदरणीय मिश्र जी सस्नेह अभिवादन ,उत्कृष्ट सफल चर्चा के लिए ,विभिन्न स्वरूपों से रूबरू कराती चर्चा प्रभावशाली व प्रशंसनीय है .शुभकामनायें जी /

    ReplyDelete
  7. गाफिल ने गफलत में देखो, साजा सुन्दर मंच |
    पाठक गण गफलत कर ना, देखो प्रस्तुति टंच ||

    ReplyDelete
  8. सुंदर फूलों से सजा चर्चामंच अच्छा लगा।

    आभार एवं शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  9. बढ़िया चर्चा ...बढ़िया लिंक्स ..गाफ़िल जी ..
    शुभकामनायें ....

    ReplyDelete
  10. behtarin links padhne ko mile..is tarah link lagane se rochakta aaaur badh jaati hai..meri rachna ko aapka ashish mila ...sadar dhnyawad

    ReplyDelete
  11. चुनी हुई रचनायें पढ़ने को मिल जायँ तो आनन्द ही आनन्द !
    आभार !

    ReplyDelete
  12. एक और सुंदर चर्चा प्रस्तुत करने के लिए बधाई...

    ReplyDelete
  13. बहुत बढ़िया,सुंदर चर्चा के लिए बधाई,गाफिल जी बेहतरीन प्रस्तुति ,....

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: मै तेरा घर बसाने आई हूँ...

    ReplyDelete
  14. bahut achchhe links-sarthak charcha hetu aabhar

    ReplyDelete
  15. bahut achchhe links-sarthak charcha hetu aabhar

    ReplyDelete
  16. एक से बढ़के एक ,

    लिंक थे अनेक ,

    बढ़िया सबके मेक .,

    रचियता संकलन संयोजन कर्ता आप बड़े नेक .

    ReplyDelete
  17. बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स का चयन किया है आपने ...आभार ।

    ReplyDelete
  18. Gafilji, bahut sundar charcha manch sajaya hai aapne

    ReplyDelete
  19. बहुत बढ़िया चर्चा...
    सादर आभार.

    ReplyDelete
  20. चुन चुन के फूलों को सजाया आप ने सुन्दर लिंक्स आनन्द दाई -जय श्री राधे भ्रमर५

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin