Followers

Sunday, September 09, 2012

“जिन को हमारी तलाश थी” (चर्चा मंच-997)

मित्रों!आठ दिन से अधिक हो गये हैं मगर मेरा स्वास्थ्य अभी ठीक नहीं हुआ है।
लगता है कि टायफाइड हो सकता है।
फिर भी अपनी पसन्द के लिंक रविवार की चर्चा के लिए पेश कर रहा हूँ।
--
कार्टून कुछ बोलता है- एक रोबोट क्या खा सकता है ?
अन्ना मैं हूं और मैं ही रहूंगा ...

*जी हां, आज अन्ना ने बता दिया कि मैं अन्ना हूं और मैं ही अन्ना रहूंगा। अरविंद केजरीवाल आप कभी मेरी जगह लेनी की मत सोचिए। अगर मैं समर्थन देकर आंदोलन खड़ा कर सकता हूं तो एक अपील कर सब कुछ खत्म भी कर सकता ह...
जगह थोड़ी सी साबुत भी बचाए रखो, अपनी समाधियों के लिए !*बर्बाद करके छोड़ोगे क्या वतन को,ऐशो-आराम,उपाधियों के लिए, दास्ताने –दोस्ती

नजर तिरछी डाल अपने हुस्न का जादू किया, तीर इतने मारे उनने ,खाली हो तरकश गये जाल तो था बिछाया,हमको फंसाने के लिए…
यादों की जंजीरों में जकड़े वजूदों की नज़रें नहीं उतरा करतीं
जब भी मेरी यादों की दुल्हन सँवरती है तो इन्हीं उलझनों मे उलझती है क्या आज भी तू उसकी मांग में मेरे नाम का सिन्दूर भरता है
"चलते बने फकीर"
कालजयी साहित्य दे, चलते बने फकीर।
नहीं डॉक्टर बन सके, तुलसी, सूर कबीर।१।
आगे जिसके नाम के, लगा डॉक्टर होय।
साहित्य के नाम पर, समझो उसे गिलोय।२…
धन्छो से गौरीकुंड
अंतर-संवाद
“ओह नो! सवा चार तो कबके हो गए! नहीं उससे भी ज्यादा, ४ मिनट तो ऐसे ही आगे रखा है मैं टाइम को। हम्म…
चांद निकला भी नहीं था और सूरज ढल गया.
एक लम्हा जिंदगी का आते-आते टल गया.
चांद निकला भी नहीं था और सूरज ढल गया.
अब हवा चंदन की खुश्बू की तलब करती रहे
जिसको जलना था यहां पर सादगी से जल गया. ...
*सवाल *घर से निकलते वख्त माँ ने डबडबाई आँखों से,
जिसका हमें डर था' फ़िर वही पुराना सवाल आखिरकार कर ही दिया ,
बेटा फिर कब आओगे ?
यह सवाल माँ ने मुझसे कितनी बार किया होगा
-कह पाना मुस्किल ही नहीं ...
रयु द सेन

रात को साढ़े दस बजे
सेन सड़क के उस कोने पर
जहाँ एक और सड़क आकर मिलती है
एक आदमी लड़खड़ाता  है
एक नौजवान
हैट पहने
रेनकोट पहने
एक औरत उसे पकड़ के झकझोर रही है
झकझोर रही है
और कुछ कह रही है…
जानती हूँ सब
'उसके माथे पर से रात फिसल गई थी. इससे पहले वो गिरकर टूट जाती गिरजे से किसी के बुदबुदाने की आवाज आई. सिसकियों में डूबी वो आवाज ईशू ने कितनी सुनी, कितनी नहीं यह तो नहीं पता लेकिन वो आवाज फिजाओं में कुछ इस तरह घुली कि टूटकर गिरने को हो आई थी जो रात वो बच ही गई बस. उस रात की मियाद बढ़ती गई...बढ़ती गई….
बात की लम्बाई

*कभी लगता है बात बहुत लम्बी हो जाती है क्यों नहीं हाईकू या हाईगा के द्वारा कही जाती है घटना का घटना लम्बा हो जाता है नायक नायिका खलनायक भी उसमें आ जाता है...
--
आतंकी की धाक, लगा धक्का है दिल को 

गंध गजब गजगामिनी, कर-काया कमनीय |
स्वाँस सरस उच्छ्वास में, हरदम यह करनीय…
शेखर जोशी : जन्म दिन विशेष

*शेखर जोशी इस १० सितम्बर को अपने जीवन के अस्सी वर्ष पूरा करने वाले हैं. इस अवसर पर पहली बार उन पर कुछ विशेष आलेख प्रस्तुत कर रहा है. इसी क्रम में दूसरी कड़ी में प्रस्तुत है **रमाकांत राय का आलेख ‘...
ये हैं हिन्दी की शान बढ़ाने वाले विदेशी विद्वान
केन्द्रीय हिन्दी संस्थान के निदेशक रहे प्रतिष्ठित लेखक व चिन्तक प्रोफ़ेसर महावीर सरन जैन ने अपने विशेष अध्ययन के निष्कर्ष में ठीक ही कहा है कि अंग्रेजों के शासनकाल में बहुत से विदेशियों ने निष्ठापूर्वक हिन्दी सीखी और अनेक ग्रंथों का लेखन किया। उनके अध्ययन आज के भाषा वैज्ञानिक विश्लेषण एवं पद्धति के अनुरूप भले ही न हों किन्तु हिन्दी भाषा के अध्ययन की दृष्टि से उनका ऐतिहासिक महत्व है, इससे इन्कार नहीं किया जा सकता.
ज़ुबीन गर्ग बोड़ोठाकुर - स्ट्रिंग्स
*जिसने रचे धरती अम्बर यहाँ जिसने रचे पर्वत सागर यहाँ*
* जिस ब्रह्म से मोक्ष है हम उसी में समायें* 
अजय झिंगरन का गीत "रामौ रामौ" 
ज़ूबिन गर्ग के स्वर और संगीत में कलाकार: 
सन्ध्या मृदुल व अदम बेदी पुरातन पोस...


अन्त में देखिए यह कार्टून..
कार्टून :- शांतता ... ऑडि‍ट चालू आहे.

बहुत ही दुखद समाचार है कि बी एस पाबला जी (भिलाई छत्तीसगढ) के पुत्र गुरुप्रीत सिंह पाबला का अकस्मात् निधन हो गया है। अंतिम यात्रा 9 सितम्बर 2012 को भिलाई रुवां बांधा स्थित उनके निवास स्थान से लगभग 12 बजे प्रारंभ होगी। ईश्वर से मृतात्मा की शांति के लिए प्रार्थना करते हैं।
चर्चा मंच परिवार की और से दिवंगत आत्मा को भावभीनी श्रद्धांजलि!
इस दुःख की घड़ी में हम भी आपके सहभागी हैं।

49 comments:

  1. Wah Wah, Bahut khoobsurat, Purane Zamane ki sanskriti yadd aa gai aap ke blog ki prusti ko padhkar. Dhanyawad! Shailesh

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन सुन्दर प्रस्तुति । पठनीय सूत्र ।
    आभार शास्त्री जी ।

    ReplyDelete
  3. कार्टून को भी चर्चा में सम्मिलित करने के लिए आपका आभार.

    ReplyDelete
  4. कार्टून को भी चर्चा में सम्मिलित करने के लिए आपका आभार.

    ReplyDelete
  5. शुभप्रभात !!
    बड़े दुख के साथ सूचित करना पड़ रहा है कि हमारे ब्लोगेर मित्र बी.एस.पाबला जी के युवा पुत्र गुरप्रीत का आकस्मिक निधन कल दिनांक 08 सितम्‍बर, 2012 को प्रात: भिलाई में हो गया !
    उनके दुःख के इस कठिन दौर में हमसब उनके साथ हैं !
    ॐ शांति शांति शांति !

    ReplyDelete
  6. सुन्दर चर्चा।

    ReplyDelete
  7. सुन्दर बेहतरीन प्रस्तुति है ।

    चर्चा में सम्मिलित करने के लिए आपका आभार, शास्त्री जी ।

    ReplyDelete
  8. यथा स्थिति के पोषक ही इस प्रकार के लेख लिख सकतें हैं .लेफ्टिए तो अब काल शेष हो चुकें हैं लेकिन आदत न गई रिमोटिया सरकार के पिछलग्गू पन की .
    अन्ना मैं हूं और मैं ही रहूंगा ...

    *जी हां, आज अन्ना ने बता दिया कि मैं अन्ना हूं और मैं ही अन्ना रहूंगा। अरविंद केजरीवाल आप कभी मेरी जगह लेनी की मत सोचिए। अगर मैं समर्थन देकर आंदोलन खड़ा कर सकता हूं तो एक अपील कर सब कुछ खत्म भी कर सकता ह...

    रैडवाइन कर सकती है ब्लड प्रेशर कम न हो एल्कोहल तब

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर चर्चा...मेरी ग़ज़ल शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete
  10. आभार शास्त्री जी ,आपके शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना !

    ReplyDelete

  11. भावों और कथ्य दोनों के उत्कृष्टता लिए है यह रचना .अतिकाव्यात्मक तार्किक प्रस्तुति . कुरुक्षेत्र - कर्ण - कृष्ण और सार
    रैडवाइन कर सकती है ब्लड प्रेशर कम न हो एल्कोहल तब

    ReplyDelete
  12. .पाबला साहब के पुत्र की आकस्मिक मृत्यु पर चर्चा मंच शोक प्रगट करता है ईश्वर उन्हें ये आघात सहने की शक्ति दे .ॐ शान्ति .

    ReplyDelete


  13. बर्बाद करके छोड़ोगे क्या वतन को,ऐशो-आराम,उपाधियों के लिए,
    आत्म-सम्मान को दृष्टि-बंधित रखोगे कब तक,(नकली )गाँधियों के लिए ! हाँ भाई साहब ये तो गाँधी भी संकर किस्म के हैं हाईब्रीड.अर्थ की व्यवस्था करवा रहें हैं यह काग भगोड़े रोबोट से .बढ़िया रूपक है देश की उस स्थिति का जिसका शब्द चित्र वाशिंगटन पोस्ट ने प्रस्तुत किया है .भ्रष्टाचार का रिमोट आज इन नकली गांधियों के हाथ में ही है .और सम्पत्ति स्विस में .रैडवाइन कर सकती है ब्लड प्रेशर कम न हो एल्कोहल तब

    ReplyDelete

  14. आतंकवाद और नक्सली हमले ,असम हिंसा इस टुकड़ खोर एंटी इंडिया मीडिया में एंटी इंडिया टी वी खबर नहीं बनते .खबर बनतें हैं दुर्मुखी चेहरे जिनके मुखिया खुद को कोंग्रेस का चाणक्य समझ दिग विजय को निकल पड़ें हैं .कोंग्रेस को लगता है उसका भविष्य इनकी जेब में है लेकिन इनकी जेब फटी हुई है
    आग लगे बस्ती में , मीडिया अपनी मस्ती में .रैडवाइन कर सकती है ब्लड प्रेशर कम न हो एल्कोहल तब

    ReplyDelete
  15. शास्त्री जी अपना ख़याल ज़रूर रखें...
    बाकयेदा चेक अप..
    अभी अभी पतिदेव को ठीक किया है टाईफाइड से,७ दिन अस्पताल तक भर्ती रहे...
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  16. आभार शास्त्री जी ,आपके शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की इश्वर से कामना करता हूँ

    आपका बहुत २ धन्यवाद की अपने मेरी रचना शामिल की

    ReplyDelete
  17. बढिया चर्चा
    मुझे भी जगह देने लिए आभार

    ReplyDelete
  18. बी एस पाबला जी (भिलाई छत्तीसगढ) के पुत्र गुरुप्रीत सिंह पाबला के अकस्मात निधन का शोक समाचार बहुत दुखी करने वाला है । ईश्वर दिवंगत की आत्मा को शांति प्रदान करे और उनसे जुड़े सभी परिवार जनों को इस असीम दुख: की घडी़ में हिम्मत प्रदान करे !

    ReplyDelete
  19. शस्त्री जी खून की जाँच करवाइये ! आपके शीघ्र स्वास्थ लाभ की कामना है । मेरी रचना को स्थान देने पर अपका आभारी हूँ !

    कार्टून :- शांतता ... ऑडि‍ट चालू आहे.

    अभी भी कितने जीरो कहाँ गये कुछ पता नहीं है ! लगे होंगे वो भी कहीं !

    ReplyDelete
  20. पावला जी की इस दुःख की घड़ी में हम आपके साथ हैं। ईश्वर आपको दुख सहने की शक्ति प्रदान
    करे,,,,,,

    ReplyDelete
  21. ज़ुबीन गर्ग बोड़ोठाकुर - स्ट्रिंग्स

    बहुत ही सुंदर प्रस्तुति बाबा नागार्जुन के गीत की !

    ReplyDelete
  22. धृतराष्ट्र, मगध और अन्ना
    सटीक आलेख !
    वर्ड वेरिफिकेशन हटा दें तो टिपियाना आसान हो जाये !

    ReplyDelete
  23. कुरुक्षेत्र - कर्ण - कृष्ण और सार

    बहुत सूंदर रचना:

    उसकी हार उस
    समय की माँग थी
    अब तो समय ने
    मांगना छोड़ दिया है
    जो हो रहा है वो
    सतत होता गया है !

    ReplyDelete
  24. बी एस पाबला जी के पुत्र के आकस्मिक निधन मैं भी उनके दुःख में सहभागी हूँ ... ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें . शास्त्री जी पहले अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें ... आभार

    ReplyDelete
  25. दहशत की सरकार...

    प्रदेश हो या देश !
    सरकारों को बने रहना चाहिये
    करना इन्होने वैसे भी कुछ नहीं है
    कम से कम चुनाव खर्च ही बचे !

    ReplyDelete
  26. कहानी दुष्ट कौए की

    वाह बहुत अच्छी कहानी !

    ReplyDelete
  27. *सवाल *

    कैनवास छोटा ही सही
    पेन्टिंग सही बनाई
    इतना कर लिया
    बहुत कर लिया !

    ReplyDelete
  28. शेखर जोशी : जन्म दिन विशेष

    बहुत अच्छी पोस्ट और मेरे लिये तो वैसे ही गर्व की बात है की शेखर जोशी जी मेरे शहर अल्मोड़ा के ही रहने वाले हैं कुछ वर्ष पूर्व मुलाकात हुई थी जब वे यहाँ किसी कार्यक्रम में शिरकत करने पधारे थे ! उन्हे जन्मदिन पर ढेरों शुभकामनाऎं !

    ReplyDelete
  29. आतंकी की धाक, लगा धक्का है दिल को

    बहुत सुंदर !

    ReplyDelete
  30. शास्त्री जी आप जल्द से जल्द स्वस्थ हों यही कामना है अपना ध्यान रखिये।
    इतनी बीमारी मे भी इतना काम ये सिर्फ़ आप ही कर सकते हैं जो ये बताता है आप कितनी प्रतिबद्धता से कार्य को अंजाम देते हैं।
    पाबला जी के पुत्र के विषय मे आज जैसे ही पढा बेहद दुख हुआ। ईश्वर उन्हे इस दुख को सहने की शक्ति दे एक पिता के लिये इससे बढकर दुख कोई नही होता।

    ReplyDelete
  31. behtareen links..

    arre ye pabla sir ke baare me kya padh raha hoon...:((
    ufff!!
    bhagwan unko iss dukhdayee samay me sambal de...

    ReplyDelete
  32. आदरणीय पाबला जी के ही लिए नहीं अपितु पूरे हिन्दी ब्लॉगजगत के लिए यह बहुत ही दुखद और हृदयविदारक समाचार है। ईश्वर दिवंगत आत्मा को सदगति और शान्ति प्रदान करें और शोकाकुल परिवार को इस वज्र दुःख को सहने की शक्ति दे। इस दुख की घड़ी में हम भी पाबला जी के साथ सहभागी हैं।

    ReplyDelete
  33. आजकल ब्लोगिंग से दूर हूँ.लेकिन वक्त निकालकर चर्चा मंच पर आ ही जाता हूँ.

    ReplyDelete
  34. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  35. आज कई महीनों बाद ब्लॉग में लिखना हुआ और आते ही इतनी खूबसूरत प्रतिक्रिया मिली शास्त्री जी कि नज़र में भी मेरी पोस्ट पढ़ गई और उन्होंने सम्मान देते हुए इसे चर्चा मंच का हिस्सा बना दिया इस सम्मान के लिए मैं तहे दिल से आपका शुक्रिया अदा करती हूँ शास्त्री जी |

    ReplyDelete
  36. पाबला जी के बेटे के बारे में सुनकर बहुत दुःख हुआ भगवान उसकी आत्मा को शांति और परिवार को दुःख सहने कि ताकात दे सुनकर बहुत दुःख हुआ और सुन रही थी आपकी भी तबियत ठीक नहीं आप भी अपना ख्याल रखियेगा |

    ReplyDelete
  37. चर्चा मंच का सहृदय धन्यवाद मेरी पोस्ट को भी शामिल करने के लिए। रूपचंद शास्त्रीजी आप की अच्छी सेहत के लिए कामना करती हूँ। बस यूं सब ठीक हो जाएगा, और आपसे हमें ढेर सारी लिंक्स इसी तरह पढ़ने को मिलते रहेगे, :-)

    ReplyDelete
  38. आप स्वास्थ्य लाभ शीघ्र करें।

    ReplyDelete
  39. बहुत बड़ा दुःख है ये ! दिवंगत की आत्मा को शान्ति दे ईश्वर और शोक संतप्त परिवार को हिम्मत दे इस दुःख की घडी में .

    ReplyDelete
  40. Shastri ji , Take good care of your health and get well soon .

    ReplyDelete
  41. Many thanks for including the two posts of mine.

    ReplyDelete
  42. दुष्ट कोए की कहानी!!!!!....बहुत खूब!.......मेरे भी पांच भांजे- भांजियां है!..गर्मियों में जब वे मेरे घर आते है, और मै मौजूद होता हूँ तो वे भी मुझसे कहानियां सुनाने के लिए जिद करते है!......और मै भी उन्हें उनके स्तर की मजेदार कहानियां बड़े फक्र से सुनाता हूँ!.....जिम्मेदारियों और भविष्य की तैयारियों के लिए आज उनसे दूर अपने सपनो को पूरा करने में संघर्षरत हूँ!.....फिर भी समय- समय पर उनके लिए कहानियो की किताबे भेजता रहता हूँ!..............

    ReplyDelete
  43. रयु द सेन!!!!!!!!!!प्रशंसनीय कविता!......मुझे बहुत अच्छा लगा!.....बहुत सुन्दर!!!!!!!

    ReplyDelete
  44. sir ji good link but aap apane swasthay par dhyan dijiye |aap ka swasthay ab kaisa hai ?

    ReplyDelete
  45. चलते बने फकीर!!!!!!!!कविताये तो दिल से निकले भावों का क्रमबद्ध अनुरूप होता है!.........फिर भी सोचने पर विवश हो रहा हूँ, की क्या सच में साहित्य का मजाक उड़ा रहे है!......मै अपना आत्म-निरिक्षण अवश्य करूंगा इस तथ्य पर!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  46. शास्त्री जी!........आप जल्द ही ठीक हो जाए, हमारी दुआए आपके साथ है!!!!!!!!

    ReplyDelete
  47. साभार-धन्यवाद, चर्चा-मंच पर
    इंद्रधनुषी रंग चढाने के लिये.

    ReplyDelete
  48. शास्त्री जी सर्वप्रथम तो आपकी सेहत के लिये चिंता हो रही है आप जल्द ही स्वस्थ हों और वापस फार्म में आ जायें

    रविवारिय चर्चामंच बढिया सजाया है
    मेरी यात्रा को शामिल करने के लिये आभार


    अन्त में पाबला जी को जो शोक हुआ है उसके लिये संवेदना व्यक्त करते हुए बस यही कहना है कि ईश्वर उन्हे इस गम को सहन करने की शक्ति दे

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

चर्चा - 2817

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है  चलते हैं चर्चा की ओर सबका हाड़ कँपाया है मौत का मंतर न फेंक सरसी छन्द आधारित गीत   ...