समर्थक

Tuesday, October 02, 2012

मंगलवारीय चर्चा मंच --(1020) जय जवान जय किसान


आज की मंगलवारीय चर्चा में आप सब का स्वागत है राजेश कुमारी की आप सब को नमस्ते आप सब का दिन मंगल मय हो 
आज है दो अक्तूबर का दिन, आज का दिन है बड़ा महान
आज के दिन दो फूल खिले हैं जिनसे महका हिन्दुस्तान
             जय जवान जय किसान 
              अब चलते हैं आपके प्यारे ब्लोग्स पर 

                                          यादें
                             मैं भी इक.... इंसान हूँ !!!
                                                              ZEAL
                                    मानसिक रूप से दिवालिया .


                                                                       नवगीत की पाठशाला

                                   क्यों हमने घर छोड़ा था -
                                    
                                                                                     हिन्दी-हाइगा

                                    बापू को कोटि कोटि नमन - 
                                                                  वटवृक्ष
                                                                                                                                                      च                                          स्मृतियों नें 
                                             
                                                                     दिनेश की दिल्लगी, दिल की सगी
                              होता दही दिमाग, युधिष्ठिर कथा अनकही - -              
                                              

       
















                                                                                       
                                                                                                   जाले
                                 चुहुल - ३३ एक नेता जी अपने चुनाव क्षेत्र के 
                                                

                                       बेमेल विवाह ……एक त्रासदी

                         वन्दना at ज़िन्दगी…एक खामोश सफ़र

                           

               बेंगलूर में अखिल भारतीय साहित्य साधक मंच की काव्य गोष्ठी व मुशायरा संपन्न .. Dr. shyam gupta at श्याम स्मृति..The world                 of my thoughts

                                                     

                                  बुढ़ापे का दर्द ....(आज वि‍श्‍व वृद़ध जन दि‍वस पर)

                                      रश्मि at रूप-अरूप 
                                       

            गांधी जयंती पर गणि राजेन्‍द्र विजय का विशेष आलेख - गांधी की   अहिंसा है मानवता का महागीतRavishankar Shrivastava at रचनाकार - 

                                                                 

                                                     शब्‍दों का मौन !!!

                                        सदा at SADA - 
 

                                                        क्षितिज की ओर....

                        Kailash Sharma at Kashish - My Poetry -
                                                खोल दूंगी ये तिजौरी
   Rajesh Kumari at HINDI KAVITAYEN ,AAPKE VICHAAR 
                                                            

                                                              भूसा

                                  अरुण चन्द्र रॉय at सरोकार - 

                                      भानमती की बात - साठा सो पाठा.

                               प्रतिभा सक्सेना at लालित्यम् - 
                                                            

                                                              नौटंकी ...

                                 उदय - uday at कडुवा सच 

                              इसलिए राहुल सोनिया पर ये प्रहार किये जाते हैं .

                               शालिनी कौशिक at Mushayera - 

                           शरीर का जायज़ा लेती बेहद की प्रोद्योगिकीय दखल

                   Virendra Kumar Sharma at कबीरा खडा़ बाज़ार में 

                                                     tasveer

                          prritiy----sneh at PRRITIY .... प्रीति - 


इसके  साथ ही आज की चर्चा समाप्त करती हूँ फिर मिलूंगी तब तक के लिए शुभविदा,  शब्बा खैर ,बाय बाय 
**************************************************************

69 comments:

  1. बहुत बढ़िया लिनक्स सहेजे चर्चा..... आभार

    ReplyDelete
  2. बृद्ध दिवस पर सभी बृद्ध जनों को हार्दिक शुभ कामनाएं | अच्छी लिंक्स |
    आशा

    ReplyDelete
  3. सरकार को तेल और कोयला कम्पनियां ही तो चला रहीं हैं .सरकार तो सरकार कबकि गिरा चुकी है.

    सीख वाकू दीजिए जाकू सीख सुहाय ,
    सीख वाकू दीजिए जाकू सीख सुहाय ,

    सीख न बांदरा दीजिए ,बैया का घर जाय .

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/2012/10/blog-post_1.html

    ReplyDelete

  4. वो चंद लफ्ज जो थे दोनों के दरमियाँ
    वो लफ्ज़ जिंदगी को नए मायने दे गए ....अभी भी चलाये हैं वही लफ्ज़ ज़िन्दगी को . ........ज़िन्दगी

    बढ़िया मुक्तक है .
    तेरी उस तस्वीर को हवा भी छूती थी, कैसे सहता
    दिल में तस्वीर को लगाया है जो जहां से भी छुपी है..

    शीशा- ए- दिल में बसी तस्वीरे यार ,

    जब ज़रा गर्दन झुकाई ,देख ली .

    सीख वाकू दीजिए जाकू सीख सुहाय ,
    सीख वाकू दीजिए जाकू सीख सुहाय ,

    सीख न बांदरा दीजिए ,बैया का घर जाय .

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/2012/10/blog-post_1.html

    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ

    सोमवार, 1 अक्तूबर 2012
    ब्लॉग जगत में अनुनासिक की अनदेखी

    tasveer
    prritiy----sneh at PRRITIY .... प्रीति -

    ReplyDelete
  5. अजी सितारा हो तो हम भी अर्घ्य चढ़ाएं .ब्लेक होल का क्या करें .चर्च के एजेंटों का क्या करें जिन्हें भारतीय राजनीति की काया पे जतन से रोपा गया है ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. क्या बात है ...शर्मा जी ..सचमुच ...

      Delete

  6. Virendra Kumar Sharma ने कहा…
    ब्लॉग जगत में कुछ महिलायें सोनिया जी को लेकर बहुत उद्वेलित हैं .नारी ब्लॉग किसी का सम्मान करे इसमें कोई बुराई नहीं लेकिन यह सम्मान जेंडर आधारित नहीं होना चाहिए .क्योंकि उस हिसाब से ईस्ट इंडिया कम्पनी भी स्त्री वाचक है कम्पनी है तो क्या उसके कसीदे काढ़े जाएँ .

    आपने सोनिया जी को देख लिया उनसे मिल लीं हैं बहुत अच्छा है .नहीं मिलीं हैं और बिना मिले भी उनके प्रति यह वफादारी है यह और भी अच्छा है लेकिन उन्हें (सोनिया जी )को आप नारी कहके तो देखें .क्या वह भी अपने को नारी मानतीं हैं ?कहकर देखिए उन्हें नारी और फिर देखिए उनकी प्रतिक्रिया.

    ब्लॉग जगत को इस जेंडर बायास ,जेंडर तरफदारी से ऊपर उठना चाहिए .

    सही को सही कहो ज़रूर कहो .

    लेकिन औरों को भी अपनी बात कहने दो .अपनी जुबां उनके मुंह में फिट मत करो .फिर शौक से करें सोनिया स्तुति .गाएं वृन्द गान ....गाइए सोनिया जगबन्दन

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह ! वीरेंद्र जी.... सही कहा ...जय जय चारण-गीत की.. जय हो ...

      Delete

  7. Virendra Kumar Sharma ने कहा…
    ब्लॉग जगत में कुछ महिलायें सोनिया जी को लेकर बहुत उद्वेलित हैं .नारी ब्लॉग किसी का सम्मान करे इसमें कोई बुराई नहीं लेकिन यह सम्मान जेंडर आधारित नहीं होना चाहिए .क्योंकि उस हिसाब से ईस्ट इंडिया कम्पनी भी स्त्री वाचक है कम्पनी है तो क्या उसके कसीदे काढ़े जाएँ .

    आपने सोनिया जी को देख लिया उनसे मिल लीं हैं बहुत अच्छा है .नहीं मिलीं हैं और बिना मिले भी उनके प्रति यह वफादारी है यह और भी अच्छा है लेकिन उन्हें (सोनिया जी )को आप नारी कहके तो देखें .क्या वह भी अपने को नारी मानतीं हैं ?कहकर देखिए उन्हें नारी और फिर देखिए उनकी प्रतिक्रिया.

    ब्लॉग जगत को इस जेंडर बायास ,जेंडर तरफदारी से ऊपर उठना चाहिए .

    सही को सही कहो ज़रूर कहो .

    लेकिन औरों को भी अपनी बात कहने दो .अपनी जुबां उनके मुंह में फिट मत करो .फिर शौक से करें सोनिया स्तुति .गाएं वृन्द गान ....गाइए सोनिया जगबन्दन



    इसलिए राहुल सोनिया पर ये प्रहार किये जाते हैं .
    शालिनी कौशिक at Mushayera -

    ReplyDelete
  8. क्या गजब नौटंकी देखने को मिलती है अपने मुल्क में 'उदय'
    उफ़ ! अर्थी सजाने की घड़ी में, सेहरा सज रहा भृष्टाचार(भ्रष्टाचार ) का ?......भ्रष्टाचार ......

    बढ़िया प्रस्तुति है भाई साहब .एक दम अपना ही अंदाज़ लिए अतुलनीय . नौटंकी ...
    उदय - uday at कडुवा सच

    ReplyDelete
  9. पुरुष लम्पटता की तमाम परतों को खोलके रख दिया है इस रचना ने .वासना मरती नहीं है पल्लवित होती है लम्पट मन में .यही इस रचना का सन्देश है .

    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ

    सोमवार, 1 अक्तूबर 2012
    ब्लॉग जगत में अनुनासिक की अनदेखी
    भानमती की बात - साठा सो पाठा.
    प्रतिभा सक्सेना at लालित्यम् -

    ReplyDelete
  10. भूसा बहुत बढ़िया रूपक उठाया है और आखिर तक इसे निभाया है .वाह क्या बात है भूसा हूं
    मैं
    अन्न को
    सहेज
    रखता हूं
    और अंत में
    कर दिया जाता हूं
    बाहर -
    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ

    सोमवार, 1 अक्तूबर 2012
    ब्लॉग जगत में अनुनासिक की अनदेखी

    भूसा
    अरुण चन्द्र रॉय at सरोकार -

    ReplyDelete
  11. खोल दूंगी ये तिजौरी

    बंद करके रख दिए
    वो पल वो शब्द
    वो वाकये जो आल्हादित
    मलय की सुगंध देते थे ,
    मन की तिजौरी में,
    बहुत बढ़िया प्रस्तुति है .
    खोल दूंगी ये तिजौरी
    Rajesh Kumari at HINDI KAVITAYEN ,AAPKE VICHAAR

    ReplyDelete

  12. अब क्यों करें अफ़सोस,
    गुज़र गयी ज़िंदगी जैसे भी,
    नहीं अब यह आस भी बाकी,
    वह अंतिम समय आयेगा..........यही हासिल है पूत पालने का .पूत पालना और ऊत पालना एक समान .

    पूत कपूत सुने हैं लेकिन माता हुईं सुमाता .....लेकिन माता बनने का अवसर गर्भ में ही कन्या से छीन लिया जाता है .फिर भी आँख नहीं खुलतीं पुत्र केन्द्रित समाज की .मत मार दी है आदमी की पिंड दान के लालच ने कर्म कांडी चिंतन ने .
    बहुत गहरे घाव करने वाली सीधी सपाट रचना .

    क्षितिज की ओर....
    Kailash Sharma at Kashish - My Poetry -

    ReplyDelete
  13. रोचक चर्चा से सजे सूत्र..

    ReplyDelete
  14. बस सवालों के दायरे में
    एक मानसिक द्वंद (द्वंद्व )लिए ....द्वंद्व
    कभी सहते आघात
    कभी बन जाते घात
    कभी तपस्‍वी की तरह
    साधक हो जाते
    निरर्थक से बिखर जाते
    यहां-वहां

    .........
    जब भी कुछ बिखरा है
    मैने अपनी दृष्टि को स्थिर कर
    हथेलियों को आगे कर दिया
    फिर वह तुम्‍हारी पलको(पलकों ).. से ......पलकों .....
    गिरा कोई आंसू था
    या कोई टूटा हुआ ख्‍वाब

    बाहर तो शब्द ही होतें हैं और अर्थ होतें हैं हमारे अन्दर .....भीगे शब्दों का मौन मुखर होता है ,चीखता है चिंघाड़ता है ,मौन कलेजा फाड़ ता है भले शब्द भीग जाएं ....

    बहुत सशक्त रचना है .

    ReplyDelete
  15. बहुत खूबसूरत अंदाज में
    है की गयी चर्चा आज !


    यादें : मैं भी इक.... इंसान हूँ !!!

    वाह बहुत खूब !

    हर तरफ चल रहा है जब कोई अकेला
    फिर ये साथ मिलकर कौन जा रहा है
    आदमी चल रहा खुद अपने ही साथ में
    भगवान बस भीड़ एक बना रहा है !

    ReplyDelete
  16. इस इतिहासिक दस्तावेज़ के लिए आपका आभार .गांधी जयंती के मौके पे इससे ज्यादा मौजू और हो भी क्या सकता था चर्चा मंच पे .आज की बेहद उत्कृष्ट रचना .

    गांधी जयंती पर गणि राजेन्‍द्र विजय का विशेष आलेख - गांधी की अहिंसा है मानवता का महागीतRavishankar Shrivastava at रचनाकार -

    ReplyDelete
  17. खुबसूरत एवं व्यवस्थित चर्चा...आभार!!
    बापू जी एवं लाल बहादुर शास्त्री जी को शत-शत नमन|
    वृद्धजनों को हार्दिक सम्मान|

    ReplyDelete

  18. हमारे वक्त को खंगालती बेहद सशक्त रचना .

    ReplyDelete

  19. हमारे वक्त को खंगालती बेहद सशक्त रचना .


    बुढ़ापे का दर्द ....(आज वि‍श्‍व वृद़ध जन दि‍वस पर)
    रश्मि at रूप-अरूप

    ReplyDelete
  20. बेहद स्वस्थ हास परिहास .व्यंग्य विनोद और कटाक्ष एक साथ सब कुछ .
    जाले
    चुहुल - ३३ एक नेता जी अपने चुनाव क्षेत्र के

    ReplyDelete
  21. ZEAL
    मानसिक रूप से दिवालिया .

    अपने दिमाग के
    दिवालियेपन
    का क्या कर लेंगे
    दिमाग में भरी गैस
    को कैसे बदलेंगे
    वोट देने जायेंगे
    जिस समय
    उसी फटे थैले से
    देखना बाहर
    फिर से ही
    हम निकलेंगे !

    ReplyDelete
  22. हिन्दी-हाइगा
    बापू को कोटि कोटि नमन -

    सुंदर प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  23. नवगीत की पाठशाला
    क्यों हमने घर छोड़ा था -

    बहुत सुंदर गीत
    सुंदर अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  24. वटवृक्ष
    जीवन का सच
    स्मृतियों नें

    अनुभव धागों के टूटने
    उलझने और सुलझने का !

    ReplyDelete
  25. दिनेश की दिल्लगी, दिल की सगी
    होता दही दिमाग, युधिष्ठिर कथा अनकही - -

    कहीं मिठाई तो कहीं पटाखा हो जाता है
    रविकर जब टिपियाता है तो देखिये
    जो होता है दूध उसका दही हो जाता है
    ऎसा करना मैने देखा है अब तक
    और किसी को नहीं आता है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. गनीमत है दही जम जाता है....दूध फटता नहीं है ...

      Delete
  26. जाले
    चुहुल - ३३ एक नेता जी अपने चुनाव क्षेत्र के

    बहुत खूब
    नेता जी का हवाई जहाज बना दिया
    ऎसा जवाब मिला कि हवा में उड़ा दिया !

    ReplyDelete
  27. बहुत बढ़िया....
    बेहतरीन चर्चा...
    सार्थक लिंक्स...
    महात्मा गांधी,शास्त्री जी,और सभी बुजुर्गों को नमन.
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  28. बेमेल विवाह ……एक त्रासदी
    वन्दना at ज़िन्दगी…एक खामोश सफ़र

    एक पक्ष बहुत सटीक :

    कुछ तो वाकई बेमेल रिश्ते हो जाते हैं
    कुछ रिश्तों में मेल बनाया जा सकता है
    हम भी कम नहीं ये सब कहाँ किसी
    को यूँ ही सिखाने की कभी सोच पाते हैं
    सोच सोच की बात है कहीं मेल के
    दिखते दिखते बेमेल हो जाते हैं
    बहुत सुलझे हुऎ बेमेल भी होते हैं
    मिलने के बाद उनसे अच्छे मेल
    कहीं फिर नजर ही नहीं आते हैं !

    ReplyDelete
  29. बेंगलूर में अखिल भारतीय साहित्य साधक मंच की काव्य गोष्ठी व मुशायरा संपन्न .. Dr. shyam gupta at श्याम स्मृति..The world of my thoughts
    बहुत सुंदर !
    शुभकामनाऎं !

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सुशील जी ...

      Delete
  30. बुढ़ापे का दर्द ....(आज वि‍श्‍व वृद़ध जन दि‍वस पर)
    रश्मि at रूप-अरूप

    आम तौर पर
    जवानी में जो
    रास्ते हम
    दूसरों को
    दिखाते हैं
    अपने लिये
    बनाते हैं
    बुढा़पे मे वोही
    रास्ते चलने
    के लिये
    हमारे सामने
    आते हैं !

    ReplyDelete
  31. गांधी जयंती पर गणि राजेन्‍द्र विजय का विशेष आलेख - गांधी की अहिंसा है मानवता का महागीतRavishankar Shrivastava at रचनाकार -

    भटकाव को अगर
    ठहराव की तरफ
    ले जाना है
    गाँधी अभी भी
    उतना ही कारगर है
    और सटीक है
    यही सत्य तो
    सबको समझाना है !

    ReplyDelete
  32. शब्‍दों का मौन !!!
    सदा at SADA -

    सुंदर !
    शब्द भीगते हैं जब भी
    भारी भारी हो जाते हैं
    तैरना चाहते हुऎ भी
    मगर शब्दों में डूब जाते हैं !

    ReplyDelete
  33. क्षितिज की ओर....
    Kailash Sharma at Kashish - My Poetry -

    सुंदर भाव !
    कहीं कटु है बहुत
    पर कहीं बहुत
    मीठा भी होता है
    किसी किसी का
    बुढा़पा सपने
    जैसा भी होता है
    वैसे जो जैसा
    बोता है
    हर बार तो नहीं
    फिर भी
    ज्यादातर पेड़
    वैसा ही
    पैदा होता है !

    ReplyDelete
  34. खोल दूंगी ये तिजौरी
    Rajesh Kumari at HINDI KAVITAYEN ,AAPKE VICHAAR

    वाह !
    करोड़ की पौटली
    तिजोरी मैं ठूँस ली
    निकाल भी ली
    कम नहीं हुई
    दो करोड़ दे गई !

    ReplyDelete
  35. भूसा
    अरुण चन्द्र रॉय at सरोकार -

    मत बताओ
    मत कहो
    मैं भूसा हूँ
    भूसा होने
    तक ही ठीक
    होता है
    जिस दिन
    पता हो
    जाता है
    सामने वाला
    भैंस की तरह
    उसके बाद
    पेश आता है !

    ReplyDelete
  36. भानमती की बात - साठा सो पाठा.
    प्रतिभा सक्सेना at लालित्यम् -

    ऎसे लोगों को
    जूते भी तो
    नहीं लगाता कोई
    पता होता भी है
    फिर भी
    कुछ बोल नहीं
    पाता कोई
    मौका आता है
    तब भी बस
    इस पर
    फुसफुसाता कोई !

    ReplyDelete
  37. नौटंकी ...
    उदय - uday at कडुवा सच

    मैं अपने लोकतंत्र का
    क्या कर पाउंगा
    घर पर तानाशाह
    जब हो जाउंगा
    वोट देने चला
    गया तब भी
    मोहर तो अपनी
    ही सोच की लगाउंगा !

    ReplyDelete
  38. इसलिए राहुल सोनिया पर ये प्रहार किये जाते हैं .
    शालिनी कौशिक at Mushayera -

    सटीक !

    ReplyDelete
  39. शरीर का जायज़ा लेती बेहद की प्रोद्योगिकीय दखल
    Virendra Kumar Sharma at कबीरा खडा़ बाज़ार में
    बहुत सुंदर !
    अगले कडी़ का इंतजार रहेगा !

    ReplyDelete

  40. भानमती की बात - साठा सो पाठा.
    शर्मिन्दा पौरुष हुआ, लपलपान जो नीच ।
    पैर कब्र में लटकते, ले नातिन को खींच ।
    ले नातिन को खींच, बचे ना होंगे बच्चे ।
    यह तो शोषक घोर, चबाया होगा कच्चे ।
    है इसको धिक्कार, धरा पर काहे जिन्दा ।
    खुद को जल्दी मार, हुआ रविकर शर्मिंदा ।।

    ReplyDelete
  41. tasveer
    prritiy----sneh at PRRITIY .... प्रीति -

    और अंत में :-

    तस्वीर शब्दों की बहुत उम्दा सी कुछ बनाई
    दिख भी रही है और छूना भी मुमकिन नहीं !

    ReplyDelete
  42. आभार राजेश कुमारी जी ....
    खूबसूरत चर्चामंच सजाने पर !

    ReplyDelete
  43. बढिया चर्चा
    अच्छे लिंक्स

    ReplyDelete
  44. सुंदर सूत्रों सजी बेहतरीन चर्चा,,,,

    RECECNT POST: हम देख न सके,,,

    ReplyDelete
  45. बहुत सुन्दर लिंक्स...रोचक चर्चा..आभार

    ReplyDelete
  46. अच्छी चर्चाएं ---बधाई

    ReplyDelete
  47. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति के लिए अआभर
    गाँधी जी संग शास्त्री जी को नमन!

    ReplyDelete
  48. बहुत सुन्दर लिंक संयोजन

    ReplyDelete
  49. बहुत बढ़ि‍या लिंक सजाया है आपने....मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए आभार...

    ReplyDelete
  50. अच्छे लिंकों के साथ साफ-सुथरी चर्चा पेश करने के लिए धन्यवाद।
    2 अक्टूबर की बधाई!

    ReplyDelete
  51. achhi rachnaon ke saath meri panktiyon ko sthan dene ke liye abhaar
    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  52. आप सभी का हार्दिक आभार

    ReplyDelete
  53. ram ram bhai
    मुखपृष्ठ

    मंगलवार, 2 अक्तूबर 2012
    ये लगता है अनासक्त भाव की चाटुकारिता है .
    विदुषियो ! यह भारत देश न तो नेहरु के साथ शुरु होता है और न खत्म .जो देश के इतिहास को नहीं जानते वह हलकी चापलूसी करते हैं .

    रही बात सोनिया जी की ये वही सोनियाजी हैं जो बांग्ला देश युद्ध के दौरान राजीव जी को लेकर इटली भाग गईं थीं एयरफोर्स की नौकरी छुड़वा कर .

    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    इसलिए राहुल सोनिया पर ये प्रहार किये जाते हैं .
    शालिनी कौशिक at Mushayera -


    ReplyDelete


  54. मंगलवार, 2 अक्तूबर 2012
    ये लगता है अनासक्त भाव की चाटुकारिता है .
    विदुषियो ! यह भारत देश न तो नेहरु के साथ शुरु होता है और न खत्म .जो देश के इतिहास को नहीं जानते वह हलकी चापलूसी करते हैं .

    रही बात सोनिया जी की ये वही सोनियाजी हैं जो बांग्ला देश युद्ध के दौरान राजीव जी को लेकर इटली भाग गईं थीं एयरफोर्स की नौकरी छुड़वा कर .

    भारतीय राजकोष से ये बेहिसाब पैसा खर्च करतीं हैं अपनी बीमार माँ को देखने और उनका इलाज़ करवाने पर .

    और वह मंद बुद्धि बालक जब जोश में आता है दोनों बाजुएँ ऊपर चढ़ा लेता है गली मोहल्ले के गुंडों की तरह .

    उत्तर प्रदेश के चुनाव संपन्न होने के बाद कोंग्रेस की करारी हार के बाद भी इस बालक ने बाजुएँ चढ़ाकर बोलना ज़ारी रखा -मैं आइन्दा भी उत्तर प्रदेश के खेत खलिहानों में

    आऊँगा .इस कुशला बुद्धि बालक के गुरु श्री दिग्विजय सिंह जी को बताना चाहिए था -बबुआ चुनाव खत्म हो गए अब इसकी कोई ज़रुरत नहीं है .

    इस पोस्ट में जो भाषा इस्तेमाल की गई है उसका भारतीय भाषा से कोई तालमेल नहीं है .यह चरण- चाटू भाषा है जो कहती है लाओ अपने चरण जीभ से चाटूंगी .सीधी- सीधी

    चापलूसी है इस भाषा में कोई भी दो पंक्ति ले लीजिए पहली पंक्ति सामान्य रूप से कही जाती है ,दूसरी में ज़बर्ज़स्ती कीलें ठोक दी जातीं हैं किले खड़े कर दिए जातें हैं ..हरेक

    पंक्ति के बीच यात्रा राहुल सोनिया के बीच की जाती है .एक छोर पर राहुल दूसरे पर सोनिया .

    जिन्हें इतिहास का पता नहीं बलिदान का पता नहीं जिन्हें ये नहीं पता इस मुल्क के महाराष्ट्र जैसे राज्यों के तो कुल के कुल बलिदान हो गए,अनेक पीढियां हैं बलिदानी

    .सावरकर को उम्र भर की सजाएं मिलीं .पंजाब में गुरुओं ने क्या जुल्म न सहे .क्या क्या कुर्बानी देश के लिए न दीं.

    औरतें तो इस देश में खुद्द्दार हुआ करतीं थीं .चाटुकारिता कबसे करने लगीं? पुरुष बाहर रहता था उसे बेचारे को कई तरह के समझौते करने पड़ते थे .महिलाएं चारणगीरी नहीं

    करतीं थीं .

    और फिर चाटुकारिता के भी आलंबन होते थे .जिसकी चाटुकारिता की जाती थी उसमें कुछ गुण होते थे .जो योद्धा होते थे उनकी वीरता का यशोगान कर उनमें जोश भरा जाता

    था .चाटुकारिता निश्चय ही राजपरिवारों के प्रति रही आई है .लेकिन इस पाए की नहीं .

    लेकिन जिसे भारत की संस्कृति भाषा भूगोल आदि का ज़रा भी ज्ञान नहीं जिसका कोई कद और मयार नहीं वह आलंबन किस काम का .

    ये लगता है अनासक्त भाव की चाटुकारिता है .

    गीता में अनासक्त भाव की भक्ति का योग है .लेकिन जिस भक्ति भाव और तल्लीनता से यह चाटुकारिता की गई है वह श्लाघनीय है

    भले यह स्तुति इनका वैयक्तिक

    मामला हो .

    सन्दर्भ -सामिग्री :-
    ram ram bhai
    http://veerubhai1947.blogspot.com/


    Monday, October 1, 2012
    इसलिए राहुल सोनिया पर ये प्रहार किये जाते हैं .

    ReplyDelete
  55. जीवन दृष्टि जीवन बोध सभी कुछ लिए है यह रचना .बधाई .

    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ

    मंगलवार, 2 अक्तूबर 2012
    ये लगता है अनासक्त भाव की चाटुकारिता है .
    यादें
    मैं भी इक.... इंसान हूँ !!!

    ReplyDelete
  56. किसी एक घटक के आभाव(अभाव ) में ,........अभाव .....
    जीवन सुखद नहीं लगता,
    मानो जीवन से जी ऊब सा गया हो
    और तब वह जीवन,
    नीरव वन सा डरावना लगता है.

    अभी सुख है अभी दुःख है ,अभी क्या था ,अभी क्या है ,

    जहां दुनिया बदलती है उसी का नाम दुनिया है .

    यहाँ बदला वफा का बे -वफाई के सिवाय क्या है .

    मोहब्बत करके भी देखा मगर उसमें भी धोखा है .

    जीवन के उतार चढ़ाव से सिंचित रचना .सुन्दर मनोहर .

    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ

    मंगलवार, 2 अक्तूबर 2012
    ये लगता है अनासक्त भाव की चाटुकारिता है .


    वटवृक्ष

    ReplyDelete
  57. पूरा एक इतिहास समेटे हैं तमाम हाइकु .यादें ही हैं ,बस उन दिनों की अब ,हाइकु बनकर .
    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ

    मंगलवार, 2 अक्तूबर 2012
    ये लगता है अनासक्त भाव की चाटुकारिता है .

    हिन्दी-हाइगा

    बापू को कोटि कोटि नमन -

    ReplyDelete
  58. हर गली हर मोड़ पर सिसकते मिल रहें हैं ,

    ये "सड़े" गले गलीज़ रिश्ते .........."सडे "शुद्ध करें इसे कृपया

    दुष्परिणाम -

    अभी उम्र थी मेरी बाली ,

    बापू क्या देखा तुमने मुझमें ,और उसमें .................अनुनासिक की अनदेखी अपनी नाक की अनदेखी है .....उसमे -----मुझमे क्या होता है ?गौर करें .

    रोज़ ओढ़ा और बिछाया .........ओढा कृपया शुद्ध करें ...
    मर्यादा की बेड़ियाँ मेरे पाँव न जकड़ ...........

    प्रासंगिक है यह रचना .विडंबना हमारे दौर की लेकिन अब सहजीवन स्वीकृत है .

    अन्य परिणाम

    और उसमें सबसे ज्यादा सहना औरत को ही पड़ता है ..........उसमे ......फिर नाक की अनदेखी ....

    और अपने सुखों .......सुखो .....
    आपसी विश्वास और सहिष्णुता ...........

    एक आयाम और है ऐसे विवाहों का -बीवी( काली कलूटी ) नैन नक्श हीना हो कोई बात नहीं पैसा खूब ला रही है भले उम्र में चाची लगती हो .ऐसे बेमेल विवाह भी हमने देखे .अपना अपना चयन है .

    कहीं दुल्हा सुदर्शन कहीं दुल्हन सुदर्शना दुल्हा कुरूप .

    अच्छा सामाजिक मुद्दा उठाया है .

    भले गद्यात्मक ज्यादा है .

    विचार कविता में छूट होती होगी .


    ee


    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ

    मंगलवार, 2 अक्तूबर 2012
    ये लगता है अनासक्त भाव की चाटुकारिता है .

    सोमवार, 1 अक्तूबर 2012
    ब्लॉग जगत में अनुनासिक की अनदेखी
    ब्लॉग जगत में अनुनासिक की अनदेखी

    अनुस्वार ,अनुनासिक की अनदेखी अपनी नाक की अनदेखी है .लेकिन नाक पे तवज्जो इतनी ज्यादा भी नो

    कि आदमी का मुंह ही गौण हो जाए .

    भाषा की बुनावट कई मर्तबा व्यंजना में रहती है ,तंज में रहती है इसलिए दोस्तों बुरा न मनाएं .


    बेमेल विवाह ……एक त्रासदी
    वन्दना at ज़िन्दगी…एक खामोश सफ़र

    ReplyDelete
  59. हर गली हर मोड़ पर सिसकते मिल रहें हैं ,

    ये "सड़े" गले गलीज़ रिश्ते .........."सडे "शुद्ध करें इसे कृपया

    दुष्परिणाम -

    अभी उम्र थी मेरी बाली ,

    बापू क्या देखा तुमने मुझमें ,और उसमें .................अनुनासिक की अनदेखी अपनी नाक की अनदेखी है .....उसमे -----मुझमे क्या होता है ?गौर करें .

    रोज़ ओढ़ा और बिछाया .........ओढा कृपया शुद्ध करें ...
    मर्यादा की बेड़ियाँ मेरे पाँव न जकड़ ...........

    प्रासंगिक है यह रचना .विडंबना हमारे दौर की लेकिन अब सहजीवन स्वीकृत है .

    अन्य परिणाम

    और उसमें सबसे ज्यादा सहना औरत को ही पड़ता है ..........उसमे ......फिर नाक की अनदेखी ....

    और अपने सुखों .......सुखो .....
    आपसी विश्वास और सहिष्णुता ...........

    एक आयाम और है ऐसे विवाहों का -बीवी( काली कलूटी ) नैन नक्श हीना हो कोई बात नहीं पैसा खूब ला रही है भले उम्र में चाची लगती हो .ऐसे बेमेल विवाह भी हमने देखे .अपना अपना चयन है .

    कहीं दुल्हा सुदर्शन कहीं दुल्हन सुदर्शना दुल्हा कुरूप .

    अच्छा सामाजिक मुद्दा उठाया है .

    भले गद्यात्मक ज्यादा है .

    विचार कविता में छूट होती होगी .





    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ

    मंगलवार, 2 अक्तूबर 2012
    ये लगता है अनासक्त भाव की चाटुकारिता है .

    सोमवार, 1 अक्तूबर 2012
    ब्लॉग जगत में अनुनासिक की अनदेखी
    ब्लॉग जगत में अनुनासिक की अनदेखी

    अनुस्वार ,अनुनासिक की अनदेखी अपनी नाक की अनदेखी है .लेकिन नाक पे तवज्जो इतनी ज्यादा भी न हो

    कि आदमी का मुंह ही गौण हो जाए .

    भाषा की बुनावट कई मर्तबा व्यंजना में रहती है ,तंज में रहती है इसलिए दोस्तों बुरा न मनाएं .

    ReplyDelete

  60. २२. बड़ी उदासी थी कल मन में
    बडी़ उदासी थी कल मन में
    क्यूँ घर हमने छोड़ दिया ।

    रीति कौन बताये मुझको
    संध्या गीत सुनाये मुझको
    कौन पर्व है ,कौन तिथि पर
    इतना याद दिलाये मुझको
    गाँव की छोटी पगडंडी को
    हाई वे से जोड़ दिया

    दीवाली पर शोर बहुत था
    दीप उजाला कम करते थे
    होली भी कुछ बेरंगी थी
    मिलने से भी हम डरते थे
    सजा अल्पना कुछ रंगों से
    बिटिया ने फिर जोड़ दिया

    राजमहल हैं लकदक झूले
    तीज के मेले हम कब भूले
    सावन राखी मन ही भीगा
    भीड़ बहुत पर रहे अकेले
    कैसे जाल निराशा का फिर
    'अन्तर्जाल 'ने तोड़ दिया

    बडी़ उदासी थी कल मन में
    क्यूँ घर हमने छोड़ दिया ।

    बेहद सशक्त रचना एक दर्द एक तीस लिए शहर की और पलायन का ,विवश कूच का .

    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ

    मंगलवार, 2 अक्तूबर 2012
    ये लगता है अनासक्त भाव की चाटुकारिता है .

    नवगीत की पाठशाला

    क्यों हमने घर छोड़ा था -


    ReplyDelete
  61. बहुत सुन्दर प्रस्तुति राजेश जी .मेरी पोस्ट को यहाँ स्थान देने हेतु आभार

    ReplyDelete
  62. sabhi post kamal ki hai mere geet ko yahan sthan dene ke liye bahut bahut abhar
    rachana

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin