चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Tuesday, December 04, 2012

मंगलवारीय चर्चा मंच -(1083) खता मेरी ही थी, जो मैं तुमसे दिल लगा बैठा।


आज की मंगलवारीय चर्चा में आप सब का स्वागत है राजेश कुमारी की आप सब को नमस्ते आप सब का दिन मंगल मय हो अब चलते हैं आपके प्यारे ब्लोग्स



प्यासी नज़र 3---देखिये फिर कितना इन्तजार लिखा है  उसकी किस्मत में 

Rohitas ghorela at Rohitas Ghorela 


यारी है ईमान - कहानी ----सच है जहां इमानदारी है वहीँ सच्ची दोस्ती है वही यारी ईमान है|


बहुत कुछ सोचने पर विवश करता आलेख क्या  हर कोई सिर्फ अपनी ही जगह बनाने की सोचता है दूसरों की भावनाओं की कोई कद्र नहीं ??

  

आजकल सुन के अनसुनी कर देता है वो 
अब उससे क्या मैं कहूँ 
उम्र सारी,वो कहता रहा ,मैं सुनता रहा अब  इससे ज्यादा क्या सहूँ

यादें...
तन्हाई का अँधेरा .... -जिसकी गिरफ्त बहुत कष्टदाई होती है |


वजूद........ - तेरे होने के तेरे होने के एहसास को इस तरह जिया है ---- बताइये इस प्यार को क्या नाम दें !!!


ShSsssss ... महफ़िल बहस में है - ---- क्या आप इस बहस में हिस्सा लेंगें ?? अच्छी बात है बहस से ही कुछ निष्कर्ष निकलते हैं  


साये में धूप - *साये में धूप * धूप  से साया इस तरह मिला की अपना वजूद ही भुला बैठा , पर उसके वजूद को धूप कहाँ भुला पाई आज तक ,


खता मेरी ही थी, जो मैं तुमसे दिल लगा बैठा।

पी.सी.गोदियाल "परचेत" at अंधड़ ! ----------- मैं कविताओं में ढूंढता रहा वो किसी और की ग़ज़ल बन गई !!!


प्रतिभाओं की कमी नहीं अवलोकन 2012 (2)

रश्मि प्रभा... at ब्लॉग बुलेटिन - 
असली हीरों की पहचान असली जौहरी  ही कर सकता है!!



  

आपने सराहा / बड़ा मजा आया

रविकर at रविकर-पुंज ------- कैसे निकलेगें  बेख़ौफ़  हुस्नों के  माया जाल से
देख कर मुझ को तरस आया भाई रवि के हाल पर |




भोपाल त्रासदी (MIC)

ZEAL at ZEAL------ एक ऐसा खौफनाक सच क्या कभी भुला पायेगा कोई |



झोलाछाप

noreply@blogger.com (पुरुषोत्तम पाण्डेय) at जाले
डिग्री छाप इतना पैसा मांगते हैं तो गरीब कहाँ जाए उसे तो झोलाछाप पर ही यकीन हो जाता है 
  

कभी तुमसे -- सदा जी

संजय भास्कर at म्हारा हरियाणा - 
एक रचना जो संजय भास्कर सदा जी के साथ साझा कर रहे हैं ,  चलिए हम भी पढ़ते हैं |


जैसलमेर- बाबा रामदेव/रामदेवरा Baba Ramadevra (Pokhran)

संदीप पवाँर (Jatdevta) at जाट देवता का सफर - 
देखिये इतने ग्रेट होते हैं जाट आप सब को फ्री में कितना दूर दूर घुमाते हैं चलिए जैसलमेर घूम के आते हैं संदीप भाई के साथ 


दहेज़ :इकलौती पुत्री की आग की सेज

शालिनी कौशिक at ! कौशल !------- अपने जिगर के टुकड़े को ऐसे दानवों से बचा के रखना |


बोलते स्वर !

निवेदिता श्रीवास्तव at झरोख़ा - ---- शब्दों का मुखरित हो जाना ही बेहतर है वर्ना दिल में ये ज्वालामुखी बनाते हैं 


श्वेता के साथ -सच का 'हाथ'

डॉ शिखा कौशिक ''नूतन '' at All India Bloggers' Associationऑल इंडिया ब्लॉगर्स एसोसियेशन----- एक ऐसा  ब्लॉग जहां हर बार आप एक नई सच्चाई से रूबरू होंगे 


कविता

सुरेश यादव at सुरेश यादव सृजन --- सुरेश जी अपने काव्य पिटारे में आज आपके लिए तीन बेहतरीन कवितायें लाये हैं ,  फिर देर किस बात की |


भीमताल के कुछ और नजारे और नौकुचियाताल का रास्ता

मनु प्रकाश जी भी तैयार हैं आप सब को घुमाने के लिए देखिये वो कहाँ ले जा रहे हैं

 

  

ब्लॉग परिचय '' कंप्यूटर टिप्स एंड ट्रिक्स ''

ध्यान से देखिये आमिर जी हम सब के लिए क्या लाये हैं 


धूप का उबटन और भागते दिन...

Pratibha Katiyar at प्रतिभा की दुनिया ...----  धूप का उबटन जो निःस्वार्थ ,मुफ्त प्रकृति हमे बांटती है देखिये प्रतिभा जी के सफ़र  में क्या गुल खिलाती है 


आस ना दो....

Mridula Harshvardhan at अभिव्यक्ति 
आस ना दो!!! पर कहते हैं जब तक सांस  है तब तक आस है देखते हैं मृदुला जी क्या कहती हैं 


3 दिसम्बर ……ना भूली जा सकने वाली तारीख

vandana gupta at ज़ख्मजो फूलों ने दिये ------ कुछ तारीखें जो टीसती हैं हमेशा दबे जख्म की तरह 


सर्दी की हवा ...

RITU at कलमदान - --- सर्दी की हवा जान लेवा 


हर बात निभा लेते हैं 

ग़ाफ़िल की अमानत

__________________________________________

अन्त में-

डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक बता रहे हैं-
*अभी दो दिन बहुत व्यस्तता है!* 
*5 दिसम्बर को हमारी * 
*40वीं वैवाहिक वर्षगाँठ है!*
 *इसलिए आज पढिए!*
उच्चारण में छपी एक रचना-
 

"हास्य कवि गेंदालाल शर्मा 'निर्जन' का व्यंग्य"


 आज की चर्चा यहीं समाप्त करती हूँ अगले मंगल वार फिर मिलूंगी कुछ नए सूत्रों के साथ तब तक के लिए शुभ विदा बाय बाय
____________________

कमेंट बाई फ़ेसबुक आई.डी.

21 comments:

  1. बढ़िया चर्चा | बहुत मेहनत से लिंक्स लाई हैं आप, साथ ही सबके साथ आपकी राय भी | बहुत खूब |
    आभार | अभी तो सभी पोस्ट में जाना बाकी है |

    ReplyDelete
  2. आज के लिंक्स के साथ उनका प्रस्तुतिकरण भी शानदार हैं

    ReplyDelete
  3. सुन्दर व्यंजनाओं संग एक सुन्दर चर्चा और उसमे मेरी रचन्ना को शामिल करने हेतु आपका आभार राजेश जी !

    ReplyDelete
  4. आज तो एक अलग अंदाज दिखा है-

    मस्त चर्चा ।।

    ReplyDelete
  5. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  6. सभी रचनायें सराहनीय हैं ....पर मुझे 'यारी है ईमान-कहानी' विशेष प्रिय लगी।उम्मीद है मेरी रचनाओं(काली साड़ी) को भी आप चर्चामंच में स्थान देंगे,आभार!!

    ReplyDelete
  7. सुन्दर लिंक्स को सहेजे सार्थक चर्चा

    ReplyDelete
  8. बहुत ही खूब सजाया है आपने आज की चर्चा को। खास कर आपके द्वारा लिखे गये पोस्ट्स परिचय काफी अच्छे लगे। इंडियन ब्लोगर्स वर्ल्ड की हर पोस्ट जो की दुसरे ब्लोग्स के परिचय पर होती है वो मेरे दिल के करीब है।वो इसलिए की इसमें उस ब्लॉग का भला होता है। चर्चा मंच पर ये दूसरी ब्लॉग परिचय की पोस्ट चर्चा का विषय बनी, जो की मेरे लिए किसी सम्मान से कम नही।

    मोहब्बत नामा
    मास्टर्स टेक टिप्स
    इंडियन ब्लोगर्स वर्ल्ड

    ReplyDelete
  9. राजेश जी आपके द्वारा चर्चा प्रस्तुतीकरण का तरीका नायाब है .मैं पहले कई चर्चाकारों से ऐसा निवेदन कर चुकी हूँ जो आपने आज किया है मेरी पोस्ट को जो विचार व् स्थान आपने यहाँ दिया है उसके लिए मैं तहे दिल से आपकी आभारी हूँ.

    ReplyDelete
  10. Abhaar Rajesh ji....rachna ko sthan dene ke liye....din bhar ek ek kar ke sabhi rachnayein padhti rahugi....

    interesting mix of creations today....keep d good work going

    Regards

    naaz

    ReplyDelete

  11. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुत की है आपने .मेरे आलेख को यहाँ स्थान प्रदान करने हेतु हार्दिक आभार
    भारतीय नारी

    हम हिंदी चिट्ठाकार हैं

    ReplyDelete
  12. आदरणीय राजेश जी ..
    कलमदान को स्थान दे कर हौस्लाफ्जाही करने का आभार ..
    व सभी ब्लोग्स पर सुन्दर कृतियाँ हैं ..
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  13. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ..आभार

    ReplyDelete
  14. राजेश जी का मैं तहे दिल से धन्यवाद करता हूँ ..उन्होंने इतने अच्छे links में मेरी भी कविता शामिल की। ये मेरी दूसरी पोस्ट है जो चर्चा मंच पर लगाई गयी है ...इससे मेरा हौसला और भी बढ़ा है ..इस गजब की हौसला अफ्जाई के लिए एक बार फिर से उनका बहुत बहुत धन्यवाद करता हूँ...

    :)

    ReplyDelete
  15. आप सभी का दिल से आभार

    ReplyDelete
  16. स्तरीय पठनीय बढ़िया लिंक्स,,,,
    recent post: बात न करो,

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin