Followers

Thursday, December 27, 2012

आओ नव वर्ष को सार्थक बनाएं ( चर्चा - 1106 )

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
मेरी तरफ से वर्ष 2012 की यह अंतिम चर्चा है । नए वर्ष के स्वागत की तैयारियां जोरों पर हैं , एक- दूसरे को शुभकामनाएं देने का दौर अभी से शुरू हो गया है , लेकिन न बीते की चिंता है , न आने वाले के लिए चिंतन , तभी तो हर बीता वर्ष कुछ न कुछ जख्म ही देकर जाता है । नव वर्ष का  दिन सिर्फ जश्न का दिन है या कुछ अच्छा करने की प्रतिज्ञा करने का, हमें इसे पर गौर करना ही होगा । आओ नव वर्ष को सार्थक बनाएं ।
 अब चलते हैं चर्चा की ओर 
hover-style
Livefyre+Blogger
My Photo
मेरा फोटो
निरामिष
My Photo
मेरा काव्य-पिटारा
मेरा फोटो
***************
आज की चर्चा में बस इतना ही 
मिलते है वर्ष 2013 में 
धन्यवाद 
******************

12 comments:

  1. थोड़ी संजीदा मगर अच्छी चर्चा.....
    सभी लिंक्स सार्थक..

    आभार
    अनु

    ReplyDelete
  2. बहुत सार्थक चर्चा। दिलबाग जी ,जिन लिंक्स को आपने चर्चा में लिया उन्हें सूचित कर देना चाहिए। खैर , मोहब्बत नामा और मास्टर्स टैक दोनों ही की पोस्ट्स आज की चर्चा में मिल गयी। सच में अनायास ही देखा दिल बाग़ बाग़ हो गया। थैंक्स।

    ReplyDelete
  3. बढ़िया चर्चा । बहुत ही बढ़िया बढ़िया लिंक्स लेकर आये हैं आप । इस बिच मुझे भी स्थान देने के लिए हार्दिक आभार । नव वर्ष की शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर व संयत चर्चा

    ReplyDelete
  5. सुन्दर सार्थक चर्चा हार्दिक आभार नव वर्ष की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  6. चर्चामंच की गोद में,सुन्दर 'काव्य-प्रसून'|
    मिलते इसके काव्य में,अच्छे सब मजमून ||

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुंदर लिंकों की प्रस्तुति,,,,
    ==========================
    recent post : नववर्ष की बधाई

    ReplyDelete
  8. लिंक्स का चयन बेहतर है।

    ReplyDelete
  9. बढ़िया चर्चा दिलबाग विर्क जी | टिप्स हिंदी में ब्लॉग की पोस्ट को शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    नया ब्लॉग हिंदी टिप्स पर नयी पोस्ट : HOW TO ROTATE TEXT IN CSS3

    ReplyDelete
  10. बढ़िया चर्चा दिलबाग विर्क जी | टिप्स हिंदी में ब्लॉग की पोस्ट को शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    नया ब्लॉग हिंदी टिप्स पर नयी पोस्ट : HOW TO ROTATE TEXT IN CSS3

    ReplyDelete
  11. सुन्दर सूत्रों से सजी आज की चर्चा।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"लाचार हुआ सारा समाज" (चर्चा अंक-2820)

मित्रों! रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...