समर्थक

Tuesday, January 01, 2013

नववर्ष की अनन्त शुभकामनाएं : चर्चामंच-1111

दोस्तों! नववर्ष के प्रथम दिन प्रथमतः चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ का नमस्कार और नववर्ष की ढेर सारी शुभकामना स्वीकार करें! नववर्ष हम सभी के लिए सुख-समृद्धिपूर्ण कल्याणकारी हो एवं ईश्वर करे कि नये साल में हम निकट विगत में बच्ची दामिनी के साथ हुए जैसे तथा अनेक प्रकार के मानवकृत एवं प्राकृतिक हादिसों से महरूम रहें आमीन! अब पेश करते हैं आज की चर्चा का
 लिंक 1- 
_______________
लिंक 2-
_______________
लिंक 3-
_______________
लिंक 4-
मिट्टी -बेचैन आत्मा देवेन्द्र पाण्डेय
मेरा फोटो
_______________
लिंक 5-
नया साल मुबारक़! -कुंवर कुसुमेश
मेरा फोटो
_______________
लिंक 6-
तेरे बिन ज़िन्दगी -डॉ. निशा महाराणा
_______________
लिंक 7-
नए वर्ष से अनुनय -महेन्द्र वर्मा
My Photo
_______________
लिंक 8-
मेरा फोटो
_______________
लिंक 9-
नूतन वर्षाभिनन्दन -डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
_______________
लिंक 10-
कोमा में जा चुकी मन:स्थिति -निवेदिता श्रीवास्तव
मेरा फोटो
_______________
लिंक 11-
My Photo
_______________
लिंक 12-
_______________
लिंक 13-
एक तन्ज़ एक हक़ीक़त -डॉ. अनवर जमाल
_______________
लिंक 14-
पुरुष के नाम -आशा जोगळेकर
_______________
लिंक 15-
ओ भारत के नेताओं! -अरुना कपूर
_______________
लिंक 16-
नया साल तेरे बिन -आमिर अली दुबई
_______________
लिंक 17-
रख जूती पर पाँव सखी! -सोनल रस्तोगी
_______________
लिंक 18-
नव वर्ष कैसा हो -आशा सक्सेना
_______________
लिंक 19-
सूर्योदय होगा -संध्या शर्मा
मेरा फोटो
_______________
लिंक 20-
तुझ से इतने से चमत्कार की दरख़्वास्त है बस : एक चिंतन -नवीन सी. चतुर्वेदी
_______________
और अन्त में
लिंक 21-
________________
आज के लिए इतना ही, फिर मिलने तक नमस्कार!


कमेंट बाई फ़ेसबुक आई.डी.

20 comments:

  1. 1111 का अच्छा योग बना है आज की चर्चा में!
    नववर्ष की आप सबके हार्दिक शुभकामनाएँ...!

    ReplyDelete
  2. ☼ ¸.•*""*•.¸ ☼ ☼ ¸.•*""*•.¸ ☼ ¸.•*""*•.¸ ☼ ☼ ↓♥↓नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ! ↓♥↓☼ ☼ ¸.•*""*•.¸ ☼ ☼ ¸.•*""*•.¸ ☼ ¸.•*""*•.¸ ☼ ☼ ↓♥!

    ReplyDelete
  3. नव वर्ष पर हार्दिक शुभ कामनाएं |उम्दा चर्चा |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  4. मंगलमय नव वर्ष हो, फैले धवल उजास ।

    आस पूर्ण होवें सभी, बढ़े आत्म-विश्वास ।

    बढ़े आत्म-विश्वास, रास सन तेरह आये ।

    शुभ शुभ हो हर घड़ी, जिन्दगी नित मुस्काये ।

    रविकर की कामना, चतुर्दिक प्रेम हर्ष हो ।

    सुख-शान्ति सौहार्द, मंगलमय नव वर्ष हो ।।

    ReplyDelete
  5. पहली चर्चा नए साल की,
    टीका जैसे हो गुलाल की।

    कामना करें कि नए वर्ष में सब अच्छा ही अच्छा हो।

    ReplyDelete
  6. With prayers to God
    to made HER family
    able to bear the great pain

    with hope for the country
    to see the real change

    i wish everyone a very Happy New Year 2013.

    ReplyDelete
  7. बढ़ियाँ चर्चामंच ....
    आपको सहपरिवार नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ...
    :-)

    ReplyDelete
  8. आपको भी नया साल बहुत बहुत मुबारक। और मेरी तरफ से शुभकामना।

    ReplyDelete
  9. ...नए साल की ढेरों शुभकामनाएं और बधाइयां चंद्र भूषण जी!मेरी रचनाको आपने यहाँ महत्वपूर्ण स्थान दिया...धन्यवाद!...और मेरे सभी मित्रों को भी नए साल की ढेरों शुभकामनाएं और बधाइयां!...सभी के लिए नया साल मंगलमय हो...मनोकामनाओं की पूर्ति करने वाला हो!..सभी रचनाएँ अपने आप में अनोखी और नए साल के आगमन का हार्दिक स्वागत करने वाली है!

    ReplyDelete
  10. इस चिन्तन माला में सम्मिलित करने के लिए शुक्रिया ...
    अब तो बस यही कामना है कि ये वर्ष 2013 ,अपराधी प्रवृत्ति वालों की तेरही मना दे !!!

    ReplyDelete
  11. साल की पहली शानदार चर्चा के लिये बधाई।

    बस उसी दिन नव वर्ष की खुशियाँ सुकून पायेंगी
    जब इंसाफ़ की फ़सल लहलहायेगी
    और हर बेटी के मुख से डर की स्याही मिट जायेगी

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया नववर्ष का स्वागत करती चर्चा प्रस्तुति ..
    सभी को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  13. यदि सर्वोच्च न्यायलय बलात्कार या अन्य किसी अपराध के दोषी को
    निर्दोष निर्णित कर ससम्मान मुक्त कर दे तो हमारा उस (निर्णित)निर्दोष
    मानना अनिवार्य है बेशक निर्णित निर्दोष ने बलत्कार या अन्य कोई
    अपराध किया हो अथवा न किया हो,
    आज देश के सत्ताधारी नेता-मंत्री भ्रष्टाचार पर वार्त्तालाप
    करने से भी बचते हैं इस कारण कि भ्रष्टाचार ही उनके कुकर्मो का रक्षा-कवच
    है परिणामतस भ्रष्टाचार रूपी विषाणु द्रुत गति से संचारित हो कर महामारी
    का रूप धर चुका है जिससे की लगभग प्रत्येक नागरिक ग्रसित है ( कोई न्यूनतम
    तो कोई अधिकतम ),
    अब मुझे ये समझाइये ऐसी कौन सी सुई का आविष्कार हो गया
    या ऐसी कौन सी बूंदें बन गई कि जिसको लगाकर या पिलाकर सर्वोच्च-उच्च
    न्यायालयों के न्यायाधिशों या उसके अधिनस्थ न्यायालयों के न्यायाधिशों उक्त
    विषाणु का प्रभाव शुन्य हो जावे, यदि अविष्कार हो भी गया है तो क्यों न एक
    नए अभियान के अंतर्गत ये सूई ( या बुँदे ) भारत के सारे नागरिकों को लगा दें.....


    ReplyDelete
  14. उसे जिस्त की आरजू थी मैं भी ज़िंदा कहाँ हूँ..,
    शहरयारे-सदर हूँ शहरे-वाशिंदा कहाँ हूँ..,

    आइनी तारीखो-बर है मैं भी आइंदा कहाँ हूँ..,
    तारीकी शर्मशार मैं मगर शर्मिन्दा कहाँ हूँ.....

    ReplyDelete
  15. नव वर्ष की शुभ कामनाए । सुंदर लिंक्स से सजा चर्चमंच । जाती हूँ इन सब लिंक्स पर । मेरी रचना सम्मिलित करने का बहुत आभार ।

    ReplyDelete
  16. नव वर्ष पर हार्दिक शुभ कामनाएं... चर्चा में स्थान देने के लिए आपका आभार...

    ReplyDelete
  17. Gafil ji, thanks for providing great links.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin