चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Monday, January 07, 2013

मुझे सतनाम देना : चर्चामंच-1117

दोस्तों! चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ का नमस्कार! सोमवारीय चर्चामंच पर पेशे-ख़िदमत है आज की चर्चा का-
 लिंक 1- 
मुझे सतनाम देना -उदयवीर सिंह
_______________
लिंक 2-
हिमगिरि के ननिहाल में -प्रतिभा सक्सेना
मेरा फोटो
_______________
लिंक 3-
अहंकार -काली प्रसाद
My Photo
_______________
लिंक 4-
मेरी सदा-एक सजा -अनिल कुमार 'अलीन'
मेरी सदा-एक सजा
_______________
लिंक 5-
_______________
लिंक 6-
मेरा फोटो
_______________
लिंक 7-
जीवन मृत्यु -निरन्तर
मेरा फोटो
_______________
लिंक 8-
_______________
लिंक 9-
_______________
लिंक 10-
राम राम भाई! हाँ देह आगे होती है सम्बन्ध भावना पीछे -वीरेन्द्र कुमार शर्मा 'वीरू भाई'
मेरा फोटो
_______________
लिंक 11-
लल्ला पुराण ५६ -प्रो. ईश मिश्र
My Photo
_______________
लिंक 12-
आचरण -आशा सक्सेना
_______________
लिंक 13-
इक आस -रजनीश तिवारी
_______________
लिंक 14-
रेत सा रिश्ता -पल्लवी सक्सेना
_______________
लिंक 15-
दिल्ली की दरिंदगी -प्रेम सागर सिंह
_______________
लिंक 16-
_______________
लिंक 17-
_______________
लिंक 18-
नए साल का बयान -रामेश्वर काम्बोज हिमांशु
मेरा फोटो
_______________
लिंक 19-
जब जब देखा -शरद सिंह
मेरा फोटो
_______________
और अन्त में
लिंक 20-
ज़िन्दग़ी सस्ती हुई -डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
________________
आज के लिए इतना ही, फिर मिलने तक नमस्कार!


कमेंट बाई फ़ेसबुक आई.डी.

13 comments:

  1. अच्छे लिंकों के साथ सुन्दर चर्चा!
    आभार!

    ReplyDelete
  2. अच्छी रचनाओं का संकलन.

    ReplyDelete
  3. सुन्दर चर्चा है सजी, शुभकामना प्रणाम |
    रविकर मन हर्षित हुआ, देखा अपना नाम ||

    ReplyDelete
  4. अच्छे लिंकों के साथ सुन्दर चर्चा!

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete
  6. बढ़िया चर्चा, सुन्दर लिंक्स । आभार ।

    ReplyDelete
  7. क्या बात है वाह! रिकार्डतोड़ कमेंट वाह! वाह! आभार आप सुभेच्छुओं का

    ReplyDelete
    Replies
    1. ये तो ब्लॉग जगत का शिष्टाचार है गाफिल जी,कई बड़े ब्लोगर तो कमेंट्स करने के बाद भी पोस्टो पर नही आते,,आपके 9 कमेंट्स में से 5 कमेंट्स तो आपके टीम के ही है,
      शास्त्री जी,रविकर जी.राजेश कुमारी जी,,के अलावा बाकी लोग दुसरो के पोस्टो में बहुत कम नजर जाते है,,,,मेरे ख्याल शायद यही कारण है,कम से कम जो रेगुलर चर्चामंच के पाठक है उनकी पोस्ट में टीम के सभी लोगो को जाना चाहिए,,,,,ऐसा मेरा मानना,,,

      Delete
  8. करीब करीब सभी रचनाएँ सामयिक हैं और अच्छे हैं .
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए गाफिल जी आपको धन्यवाद.आभार

    ReplyDelete
  9. चर्चा के सभी लिंक अपने वक्त से बा -वास्ता हैं जीवंत हैं मौजू हैं .बधाई .

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया है गागर में सागर जैसे .

    लिंक 19-
    जब जब देखा -शरद सिंह

    ReplyDelete
  11. aadaraniy sampadak mahoday.............mere article ko is charcha men shamil karane ke liye hardik abhar...........

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin