चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Monday, March 18, 2013

सोमवारीय चर्चा : चर्चामंच-1187

दोस्तों 'ग़ाफ़िल' का आदाब क़ुबूल फ़रमाएं!
पेश हैं आज की चर्चा के लिंक-
'मयंक' कोना
मौसम होलीमय हुआ, ताऊ जी के साथ।
अच्छे-अच्छों को यहाँ, ताऊ मारे लात।।
और अन्त में कार्टून
आज के लिए इतना ही! फिर मिलने तक नमस्कार!

19 comments:

  1. ग़ाफिल जी, बहुत ही प्‍यारे-प्‍यारे लिंक आप हमारे लिए खोज कर लाए हैं। आभार।

    .......
    भारतीय वैज्ञानिक ने हासिल किया नया मुकाम...

    ReplyDelete
  2. कई सूत्रों से सजा आज का चर्चा मंच
    जैसे ही पढ़ने लगे मन हुआ प्रसन्न |
    आशा

    ReplyDelete
  3. महत्वपूर्ण लिंकों को समेटे हुए सुन्दर और उपयोगी चर्चा!
    आभार ग़ाफ़िल जी आपका!

    ReplyDelete
  4. बहुत ही बेहतरीन लिंकों को समेटे हुए सुन्दर और चर्चा!
    बहुत बहुत आभार ग़ाफ़िल जी आपका.... चर्चा का हिस्सा बनाने के लिए ..!!!

    ReplyDelete
  5. सुन्दर चर्चा, बढ़िया लिंक्स... स्थान देने के लिए आभार

    ReplyDelete
  6. चर्चामंच पर मेरी रचना को आपने स्थान दिया आभारी हूँ गाफिल जी ! अन्य सभी लिंक्स भी आकर्षक हैं ! धन्यवाद आपका !

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुन्दर चर्चा और सार्थक लिंक्स संयोजन,धन्यबाद.

    ReplyDelete
  8. बढ़िया चर्चा मंच-
    आभार भाई गाफिल जी-

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर और बेहतरीन लिंक्स, आभार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  10. गाफिल जी की का आदाब और अदा दोनों पसंद आयी

    ReplyDelete
  11. बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ....

    ReplyDelete
  12. बेहतरीन सेतु चयन किया गया है चर्चा मंच हेतु .शुक्रिया आरोग्य को शरीक करने के लिए .

    ReplyDelete

  13. स्वर और संगीत बंदिश का सभी उत्कृष्ट दर्जे का रहा .

    फागुन की फागुनिया लेकर, आया मधुमास! -डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  14. वाह सुंदर प्रस्तुति
    बधाई

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin