चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Monday, March 25, 2013

सोमवारीय चर्चा : चर्चामंच-1194

दोस्तों! ग़ाफ़िल का आदाब क़ुबूल फ़रमाएं! पेशे-ख़िदमत हैं आज की चर्चा के कुछ लिंक-
‘मयंक’ कोना
टोकरी चाट


आज के लिए इतना ही फिर मिलने तक नमस्कार!

21 comments:

  1. बहुत सुन्दर और पठनीय लिंकों के साथ स्तरीय चर्चा!
    आभार भाई ग़ाफ़िल जी!
    --
    सभी पाठकों को होली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  2. सराहनीय लिंक्स !`
    आभार !

    ReplyDelete
  3. उत्तम लिंक्स
    बिना पढ़े रहा नहीं जाता
    साधुवाद

    ReplyDelete
  4. बढिया लिंक्स, अच्छी चर्चा
    सभी को होली की ढेर सारी शुभकामनाएं..

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरे कुछ मित्रों ने मुझे मैसेज भेजा है, जिसमें कहा गया है कि मुझे चर्चामंच, ब्लाग बुलेटिन और ब्लाग4वार्ता के बारे में ऐसा कुछ नहीं लिखना चाहिए था।
      मुझे लगा रहा है कि शायद मेरे मित्रों ने केवल शीर्षक पढ कर मुझे मैसेज कर दिया है। होली का हुड़दंग है, मैं भी मजे ले रहा हूं और आप भी लीजिए।
      एक मित्र कह रहे हैं कि भाई श्रीवास्तव जी आपने होली को तो ढाल बनाया है, पर लिखा तो सही है। नहीं नहीं... बिल्कुल ऐसी बात नहीं है। इस पूरे लेख को हल्के फुल्के व्यंग में ही लेना चाहिए, जो मेरा मकसद है, वही आपका भी होना चाहिए। प्लीज...इसमें ज्यादा अर्थ निकालने की कोशिश बिल्कुल ना करें।

      Delete
  5. होली पर सुंदर रंग-रंगीला चर्चा मंच, पठनीय लिंक्स ...

    ReplyDelete
  6. बड़े ही सुन्दर और पठनीय सूत्र..

    ReplyDelete
  7. हिंदी के ज्ञान एंव अच्छे लिकों का प्रचार प्रसार आपके चर्चा मंच के माध्यम से होना एक बेहद सराहनीय कार्य है,इसके लिए आप एंव आपकी पूरी टीम को धन्यवाद।

    सभी को होली की ढेर सारी शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  8. आभारी हूँ गाफिल जी आपने मेरी पोस्ट को चर्चामंच पर स्थान दिया ! शास्त्री जी आपका भी बहुत-बहुत धन्यवाद ! सभी पाठकों को होली की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  9. होली के स्वागत में रंग रंगीला चर्चा,आभार.

    ReplyDelete
  10. खूबसूरत लिंक संयोजन ……………होली की ढेर सारी शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  11. चणक चून को घोरी देखो, बूंदी बूंदी उतरावै लड्डू ।
    केसरी के सिर रोरी देखो, अंग संग रंग जावै लड्डू ॥
    रस दालिकी कोरी देखो रसमस बस रसियावै लड्डू ।
    बरसाने की एक छोरी देखो, हथेरी गोल गुलावै लड्डू ॥

    ReplyDelete
  12. धन्‍यवाद आपका।

    ReplyDelete
  13. बढ़िया लिंक्स
    होली की ढेर सारी शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  14. बहुत बढ़िया लिक्स ...बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार..

    ReplyDelete
  15. बहुत उम्दा रगीन सराहनीय लिंक्स,,,

    होली की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाए,,,
    Recent post : होली में.

    ReplyDelete
  16. sunder link---shandar sanyojan
    holi ki bahut bahut shubhkamnayen

    ReplyDelete
  17. बहुत बारीक तंज है भीड़ को घूरती लाश .......

    बहुत बारीक तंज है भीड़ को घूरती लाश .......गाफिल साहब बहुत मार्मिक व्यंग्य विडंबन .

    ReplyDelete
  18. सेतु चयन होली के सतरंगी रंगों से रंगा है गजल गुजिया साथ साथ वाह क्या बात है .मेरे आदरणीय चिठ्ठों और चिठ्ठियों फाग मुबारक ,रागरंग मुबारक जीवन के ढंग मुबारक ,ब्लॉग के सबरस-रंग मुबारक .

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin