Followers

Saturday, March 23, 2013

अजब है जीवन का रंगों से नाता

ज़िन्दगी क्या है …………
मिलन विछोह का गीत ही तो है 
जिसमें कभी आशा के रंगों में 
हसरतें सराबोर होती हैं 
तो कभी निराशा के झूले में 
झूलते हीर रांझे होते हैं 
मगर रंग ना 
ज़िन्दगी से कम होते हैं 
कभी स्याह काले 
तो कभी उजले 
तो कभी कहीं कोई 
नीलकमल खिला मिलता है 
तो कहीं कोई प्रीतकमल 
मुस्कुराता झिलमिलाता दिखता है 
कहीं पतझड का पीलापन ठहरा होता है 
तो कहीं बसंत की फ़ागुनी बयार
 सरसों सी महका करती है 
आकाश का नीलापन 
धरा की हरियाली संग
 कहीं इंद्रधनुष बिखेरा करता है 
तो कहीं उम्र भर कोई एक रंग ही 
ज़िन्दगी में बना रहता है 
अजब है जीवन का रंगों से नाता 
एक रंग है आता तो दूजा है जाता 
और उसी का मिश्रण है आज की रंगमयी चर्चा में 


वास्तव में बसंती चोला जिसने पहना उस वीर को शत - शत नमन करते हुये चर्चा प्रारंभ करती हूँ क्योंकि हम सब नमन के सिवा और कर भी क्या सकते हैं 







Archana at मेरे मन की 







noreply@blogger.com (दिगम्बर नासवा) at स्वप्न मेरे..........







मनोज कुमार at विचार






संध्या शर्मा at मैं और मेरी कविताएं 







ana at कविता 












संजीव at आरंभ Aarambha



Madhavi Sharma Guleri at उसने कहा था... 


noreply@blogger.com (विष्णु बैरागी) at एकोऽहम्


केवल राम : at चलते -चलते...! 




Ashok Pande at कबाड़खाना 





ताऊ रामपुरिया at ताऊ डाट इन 





प्रतिभा सक्सेना at लालित्यम्




राजेश उत्‍साही at गुलमोहर 



SACCHAI at AAWAZ 













ये ही है ज़िन्दगी और उसके रंगों का सम्मिश्रण ………फिर मिलते हैं होली की शुभकामनाओं के साथ विदा लेती हूँ ।

आगे देखिए.."मयंक का कोना"
(1)
(2)
(3)

आयी होलीआई होली।
रंग-बिरंगी आई होली।...
(4)
(5)
मेरी दो लघुकथाओं  की प्रस्तुति 
मेरा फोटो
सुधा भार्गव
(5)

ग़ाफ़िल की अमानत

सड़क के किनारे

चिल्लाता रहा वह लहूलुहान,

गुज़र रही थी एक बारात

दब गयी उसकी आवाज

बैण्डबाजे के शोर में,
सुबह लोगों ने देखा
जमे ख़ून में लिपटी एक लाश
भीड़ को निहारती अपलक।

18 comments:

  1. उत्तम लिंक्स की हलचल
    मालामाल हो गई मैं


    सादर

    ReplyDelete
  2. इस रंग-बिरंगी चर्चा के लिए हार्दि बधाई एवं होली की शुभकामनाएं।

    ...........
    शुरू हो गया सम्‍मानों का सिलसिला...

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर चर्चा!
    आभार बन्दना गुप्ता जी!

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ..

    ReplyDelete
  5. उत्तम चर्चा,बेहतरीन पठनीय लिंक्स.

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन लिंक्स से भरपूर आज की चर्चा है
    शुक्रिया वंदना जी आपने मेरी पोस्ट को यहाँ बहुमूल्य स्थान जो दिया

    ReplyDelete
  7. आकर्षक चर्चा...स्थान देने के लिए शुक्रिया...

    ReplyDelete
  8. behtareen links....shamil kar kay liye shukriya...abhar

    ReplyDelete
  9. अच्छी कड़ियाँ जोड़ी हैं वंदना जी
    गुरु जी शुक्रिया हमें भी चर्चा मंच पर लाने के लिए

    ReplyDelete
  10. हमारी ब्लॉग पोस्ट शामिल करने के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद!



    सादर

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर लिंक्स...रोचक चर्चा...आभार

    ReplyDelete
  12. अच्छे लिंक्स! सार्थक चर्चा!!

    ReplyDelete
  13. सूत्रों का सुन्दर संकलन..

    ReplyDelete
  14. उत्तम चयन. धन्यवाद सहित...

    ReplyDelete
  15. वाह! बहुत ख़ूब! होली की हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  16. वाह ... बहुत ही अनमोल से लिंक ... उत्तम चर्चा ...
    शुक्रिया मुझे भी स्थान देने का ...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"राम तुम बन जाओगे" (चर्चा अंक-2821)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...