चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Tuesday, April 02, 2013

मंगलवारीय चर्चा--(1202)-'miss u'' अप्रैल फूल स्पेशल


आज की मंगलवारीय चर्चा में आप सब का स्वागत है राजेश कुमारी की आप सब को नमस्ते, कल मैंने आप सभी को मिस किया सच में, साबुन दाने  की बर्फी बनाई थी बड़ी मेहनत  से !!!!!आप सब का दिन मंगल मय हो अब चलते हैं आपके प्यारे ब्लॉग्स पर 


खामोश पन्ने।---बोलते नहीं सीधे दिल में उतरते  हैं 

''miss u'' अप्रैल फूल स्पेशल--हाँ आई टू मिस्स यू 
'मूर्ख दिवस '---मूर्ख बने क्या सच बताना 
इस जीवन में, उस जीवन में-बहुत अंतर है ना 
सतरंगी संसार---यही तो मैं भी कब से कह रही हूँ संसार सतरंगी है 
हुजूर ...आओ हुजूर तुमको सितारों में ले चलूँ 
हौसले के सलाम ! (१०)---मेरा भी दोनों हाथों  से 
अद्भुत रूप---सच है मैंने देखा है तुम्हें 
पूतो फलो मनीष, मनीषा अरुण मुबारक-रहो तुम सलामत दुआ है हमारी 
जोड़-गणित--बस दसवीं तक ही आसान था 
चले आओ हमसफ़र !क्यों कुछ खास डिश बनाई  है आज
जागते रहो----तो सोयेंगे कब ??
मूर्ख दिवस---अरे कल बीत गया आज तो बुद्धि  दिवस है  
और मैं बड़ी हो गयी …………मेरी नज़र से--वंदना जी  मैं तो आज तक नहीं हुई 
बावला बनने का सुख---किसी बात की चिंता नहीं जिओ बिंदास 
अलविदा .... दोस्तों ..........>>> संजय कुमार--ये क्या कह दिया अजी रूठ कर अब कहाँ जाइएगा 
कैंसर-कम्युनिज़्म-नवरात्र---विजय राजबली माथुर--बहुत अफसोसनाक भगवान् उसकी आत्मा को शांति दे 
जल तू जलाल तू---आई बला को टाल  तू 
जगता है जब भीतर प्रेम---सब प्रेममय हो जाता है 
सताया रौशनाई ने !---अगली बार रंगीन रोशनाई इस्तेमाल करके देखना 
मूर्ख ही तो हैं.....--जो मूर्ख भी बनते हैं और ट्रीट भी देते हैं और सेलिब्रेट करते हैं 
वमन (उलटी) से राहत के लिए आयुर्वेदिक उपाय !!--पहले खूब अनाप शनाप खाइये फिर नुस्खा आजमा के देखिये

shashi purwar at sapne - 
Anju (Anu) Chaudhary at अपनों का साथ - 
डॉ शिखा कौशिक ''नूतन '' at WORLD's WOMAN BLOGGERS ASSOCIATION
Aziz Jaunpuri at Zindagi se muthbhed
सरिता भाटिया at गुज़ारिश - 
सुज्ञ at सुज्ञ 
Maheshwari kaneri at अभिव्यंजना - 

उदय - uday at कडुवा सच 
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) at उच्चारण - 
रेखा श्रीवास्तव at मेरा सरोकार - 
त्रिवेणी at त्रिवेणी - 
Rajesh Kumari at HINDI KAVITAYEN ,AAPKE VICHAAR 
Ashok Vyas at Naya Din Nayee Kavita -
DR. ANWER JAMAL at Blog News - 
Shah Nawaz at छोटी बात 
डॉ. मोनिका शर्मा at परवाज़...शब्दों के पंख - 
संजय कुमार चौरसिया at " जीवन की आपाधापी 
विजय राज बली माथुर at क्रांति स्वर
Suresh Swapnil at साझा आसमान - 
Yashwant Mathur at जो मेरा मन कहे 
पूरण खण्डेलवाल at शंखनाद
आज की चर्चा यहीं समाप्त करती हूँ  फिर चर्चामंच पर हाजिर होऊँगी  कुछ नए सूत्रों के साथ तब तक के लिए शुभ विदा बाय बाय ||
आगे देखिए "मयंक का कोना"
(1)
(2)

भूत-प्रेत में विश्वास ना करने वालों के लिए ये खबर चौंकाने वाली हो सकती है। आपने प्रेतआत्माओं के बारे में सुना ही होगा। इनके बसेरों के बारे में भी सुना होगा या फिल्मों में देखा
होगा। वैसे तो दुनिया में रहस्य और डर से जुड़ी घटनाओं की कोई कमी नहीं है, लेकिन यहां हम आपको दुनिया की ऐसी खौफनाक जगहों पर ले जाने वाले हैं जो किसी फिल्मी कहानियों से एकदम अलग बिल्कुल सच के करीब है। इनकी सच्चाई जानेंगे तो आपकी रूह तक कांप जाएंगी, असल में ये जगहें रूहों और पिशाचों का निवास स्थान हैं। कमजोर दिल वालें, कृपया इसे ना पढ़े..
(3)


(4)

19 comments:

  1. बढ़िया प्रस्तुति |
    शुभकामनायें -

    ReplyDelete
  2. मैंने चर्चा जैसी सजाई थी और प्रीव्यू में दिख रही थी पब्लिश करने पर सब बदल गई मेहनत बेकार हो गई आज कल नेट में गड़बड़ चल रही है|

    ReplyDelete
  3. बढ़िया चर्चा ....शामिल करने का आभार

    ReplyDelete
  4. आपने चर्चा जैसी भी सजाई हो पर यह भी कम नहीं है बहु आयामी सूत्र |बढ़िया चर्चा |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  5. चुटकी लेती रोचक चर्चा के लिये बधाई राजेश कुमारी जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुश्री राजेश कुमारी जी का श्रेष्ठ पृष्ठ-संयोजन हेतु , तथा सभी चर्चाकार बंधुओं एवं पाठक-बंधुओं का हृदय से आभारी हूं। कृपया, स्नेह बनाए रखिए।

      Delete
  6. सुन्दर हलचल
    मेरी पसंद यहाँ सराही जा रही है
    आभार

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ....आभार...

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन बहुआयामी चर्चा,सादर आभार.

    ReplyDelete
  9. हमारी पोस्ट शामिल करने के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद!


    सादर

    ReplyDelete
  10. सुन्दर हलचल.. मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद!

    ReplyDelete
  11. आपका बहुत शुक्रिया राजेश जी
    अच्छी चर्चा के लिए बधाई

    ReplyDelete
  12. आप सब का हार्दिक आभार |

    ReplyDelete
  13. राजेश जी नेट वाकई बूहुत गड़बड़ कर सरहा है।
    मुझे तो बुधवार की चर्चा करने के लिए दोबारा मेहनत करनी पड़ी क्य़ेंकि पूरी पोस्च ही उड़ गयी थी।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin