समर्थक

Tuesday, April 23, 2013

मंगलवारीय चर्चा --(1223)"धरा दिवस"

आज की मंगलवारीय  चर्चा में आप सब का स्वागत है राजेश कुमारी की आप सब को नमस्ते , ,आप सब का दिन मंगल मय हो अब चलते हैं आपके प्यारे ब्लॉग्स पर 
  










Untitled

सदा at SADA




uthho deshwasiyo

rajinder sharma "raina" at mere man 








किताबों की दुनिया - 81

नीरज गोस्वामी at नीरज 







Untitled

swati at swat



आज की चर्चा यहीं समाप्त करती हूँ  फिर चर्चामंच पर हाजिर होऊँगी  कुछ नए सूत्रों के साथ तब तक के लिए शुभ विदा बाय बाय ||
आगे देखिए..."मयंक का कोना"
(1)
*जिन्दगी के टूटे सिरों को * *मैं फिर से जोड़ लेता हूँ, * 
*ग़मों के बिछोने पर * *ख़ुशी की चादर ओड़ लेता हूँ..
(2)
? न यहाँ कौरव थे , न शतरंज की बिसात  कातर  स्वर और पुकार  
क्यों कान्हा तुमने सुना नहीं? देह उघडी, हुई रूह छलनी , और  शर्मसार...
(3)
My Photo

* **..१----* *.मुमताज 'महल' में सोयी 'जहाँ' है ..........* *...एक शाह का जहाँ वहां है.........* 
*२-* *..श्वेत 'संग' की एक इमारत * *..'संग' त्तराश ने लिखी इबारत ...... *
*३-* *जीवन के कुछ लम्हे उदास हैं रहते दिल के बहुत पास हैं...
(4)
(5)
गर्मी की छुट्टी जब आये,
सब बच्चों का मन हर्षाये....

19 comments:

  1. आदरणीया बहन राजेश जी आपने मंगलवारीय चर्चा --(1223)"धरा दिवस" में बहुत सुन्दर लिंकों का समावेश किया है!
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ!
    आपका आभार!

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा -
    आभार दीदी-

    24 अप्रैल से 5 मई तक
    ब्लॉग-जगत से दूर
    अवकाश पर -रविकर

    ReplyDelete
  3. हर मछली को लील रहा
    shashi purwar at sapne



    छली जा रहीं नारियां, गली-गली में द्रोह ।
    नष्ट पुरुष से हो चुका, नारिजगत का मोह |

    नारिजगत का मोह, गोह सम नरपशु गोहन ।
    बनके गौं के यार, गोरि-गति गोही दोहन ।

    नरदारा नरभूमि, नराधम हरकत छिछली ।
    फेंके फ़न्दे-फाँस , फँसाये फुदकी मछली । ।

    गोहन = साथी-संगी
    गौं के यार=अपना अर्थ साधने वाला
    गोही = गुप्त
    नरदारा=नपुंसक
    नरभूमि=भारतवर्ष
    फुदकी=छोटी चिड़िया

    ReplyDelete
  4. सुंदर चर्चा...आभार । मैं पढूंगी आपके लगाए सारे लिंक्‍स आज

    ReplyDelete
  5. shukriya priye rajesh ji bahut sundar links hai , hamen bhi shamil karne ke liye abhaar aapka :) naye links bhi dekhe sundar lage .

    ReplyDelete
  6. बहुत बढिया लिंक्स संजोये हैं …………सार्थक चर्चा

    ReplyDelete
  7. अदरणीया राजेश कुमारी जी एवं संगीता जी सादर वन्दे !
    चर्चमंच से मासूम बच्चियों के हक और सुरक्षा की हर आवाज़ को पुरजोर उठाइए , हम जैसे मर्द , शर्मसार सही पर सदा साथ देंगे , ये वादा करते है | खुद से और अपनी बेटियों से भी ... जय माँ भवानी , शक्ति दे !

    ReplyDelete
    Replies
    1. तरुण जी आपकी इन भावनाओं का तहे दिल से स्वागत करते हैं हार्दिक आभार ।

      Delete
  8. बेहतरीन लिंक्‍स संयोजित किये हैं आपने ... आभार

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन सेतु चयन एवं संयोजन .शुक्रिया हमें चर्चा में बिठाने का .

    ReplyDelete
  10. (1)
    टूटे रिश्तों को...जोड़ लेता हूँ !!!

    *जिन्दगी के टूटे सिरों को * *मैं फिर से जोड़ लेता हूँ, *
    *ग़मों के बिछोने पर * *ख़ुशी की चादर ओड़ लेता हूँ..
    क्या बात है भाई साहब ! ज़िन्दगी की परवाज़ परों से नहीं हौसलों से ही भरी जाती है .

    ReplyDelete
  11. नमस्कार मित्रों .......मेरा प्रथम आगमन आप सबके बीच मुझे बहुत अच्छा लग रहा है ..........
    सुन्दर संयोजन है .........विशेष रूप से डा रूपचन्द्र शास्त्री जी का आभार प्रकट करना चाहूंगी ........मुझे यहाँ इस मंच पर आने का अवसर दिया ............सभी मित्रों को शुभकामनाएं .............

    ReplyDelete
  12. लिंकों का सुंदर संकलन,बढ़िया चर्चा,,,,
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए आभार,,,,शास्त्री जी,,,

    ReplyDelete
  13. चर्चा मंच के आँकड़े...
    --
    आज पृष्ठ देखे जाने की संख्या
    277
    बीते हुए कल में पृष्‍ठ देखे जाने की संख्‍या
    230
    पिछले माह पृष्ठ देखे जाने की संख्या
    7,807
    अब तक पृष्ठ देखे जाने की संख्या का इतिहास
    335,737

    ReplyDelete
  14. लिंकों की सुन्दर प्रस्तुति.
    मेरी पोस्ट भी शामिल करने हेतु आभार .

    ReplyDelete
  15. आपके स्नेह का ऋणी हूँ ......

    ReplyDelete
  16. sundar links se saji ye charcha manch hamesha hi achhe achhe blogs tak le jaata hai ...samay ki kami ke kaaran samay par nahi aa pai ..kintu aapki aabhari hun :-)

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin