Followers

Wednesday, April 24, 2013

बुधवारीय चर्चा ( 1224 ) ----- यह कैसी दरिंदगी घुली घुली फिजां में ..

 चर्चा मंच के पुरे परिवार और पाठक गन कोशशि पुरवार  का नमस्कार , 
हवा में भरा है रोष 
दर्द का बहाव 
दहशत और प्रश्न से भरा हुआ है 
 आज का वक़्त 
सीने  में खंजर मारता हुआ 
नन्ही कलियों को मसलता हुआ 
एक दानव ....क्या वह मानव ही है ? 
या फिर मानव की खाल  में ...............?
 ज्यादा न कहते हुए सीधे चलते है आपके प्यारे लिंक पर ...
आप का हर दिन मंगलमय हो . 

लोग पुराने अच्छे लगते हैं" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

गीत पुराने, नये तराने अच्छे लगते हैं।
हमको अब भी लोग पुराने अच्छे लगते हैं।



अल्पना वर्मा

उज्जवल प्रकाश की ओर......

अनुपमा त्रिपाठी 




जहाँ जोड़ना चाहिए 
वहाँ घटा देती हूँ 
जहाँ घटाना चाहिए 
वहाँ जोड़ देती हूँ ...

दिल्ली की दरिन्दगी
मेरा फोटो
अरविंद मिश्रा

बदलाव

आशा लता सक्सेना


मेरा फोटो
साधना वैद





  

मेरा फोटो









  





1.
सुहानी भोर 
सागर की लहरें 
मचाएँ शोर  ।...


  
"हनुमान जयन्ती" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
मित्रों!
25 अप्रैल को
हनुमान जयन्ती है!
लेकिन आज मंगलवार को ही

सभी भक्तों को हनुमान जयन्ती की 
अग्रिम शुभकामनाएँ प्रेषित कर रहा हूँ!
 
धीर-वीर, रक्षक प्रबल, बलशाली-हनुमान।
जिनके हृदय-अलिन्द में, रचे-बसे श्रीराम।।..



 क्रूर नियति
My Photo
 क्रूर नियति के निष्ठुर हाथों , यह कैसा अभिशाप लिखा है * 
* बचपन की स्वप्निल स्मृतिओं में यह कैसा संत्रास लिखा है..

आगे देखिए.."मयंक का कोना"
(1)
अब तो जो बचा है...
My Photo
डॉ.जेन्नी शबनम
दो राय नहीं 
अब तक कुछ नहीं बदला था  
न बदला है 
न बदलेगा, 
(2)
!!!! लुट गया हैं चमन मेरा ये खुशबू बांटते- बांटते !!!!
My Photo
रामकिशोर उपाध्याय
(3)
336 % बढ़ोतरी ,बच्चो पर बलात्कार मे

(4)
एक ही हल 'शून्य'

मीमांषा meemaanshaपरवनrashmi savita
(5)

30 comments:

  1. शशि पुरवार जी!
    आज बुधवार के बुधवारीय चर्चा ( 1224 ) ----- यह कैसी दरिंदगी घुली घुली फिजां में .. को पढ़कर अच्छा लगा! सभी लिंक बहुत सामयिक हैं। आपका चयन बहुत उत्तम है!
    सादर....।
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"

    ReplyDelete
    Replies
    1. tahe dil se abhaar aapka shashtri ji , bas ek prayas hai ek darpan accha bana saken .

      Delete
  2. मोती सजा दिया। आभार।

    ReplyDelete
  3. शशि जी कार्टून को भी चर्चा में सम्मिलित करने के लिए आपका विनम्र आभार

    ReplyDelete
  4. अच्छे लिंकों का सुन्दर संयोजन किया है आज की चर्चा में !!
    आभार !!

    ReplyDelete
  5. सार्थक एवँ सामयिक लिंक्स से सजा सुंदर चर्चामंच है आज का शशि जी ! मेरे आलेख को आपने इसमें शामिल किया आभारी हूँ !

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छे और सामयिक लिंक्स पढ़ने को मिले |आपका शुक्रिया |

    ReplyDelete
    Replies
    1. sabhi sadasyon ka tahe dil se abhaar aapko links pasand aaye hamari mehanat sarthak ho gayi .

      Delete
  7. सलीके से सजी एक सुंदर चर्चा बुधवार की
    दिख रही है कडी़ मेहनत शशि पुरवार की
    बह रही है यहाँ जब हवा निकाय चुनाव की
    आभार है लाई हैं खबर वो जब एक आज
    ताजा ताजा उल्लूक के अखबार की !

    ReplyDelete
    Replies
    1. bahut bahut abhaar sushil ji sundar shabdo se aapne sneh ki baujhar kar di , mehanat hab dikh rahi hai to sach aapke shabdo se sarthak ho gayi . shukriya

      Delete
  8. दिलकश रंगों के संयोजन के साथ ,अलग अलग विषय के लिंक्स ,वाकई काफी मेहनत की है।

    ReplyDelete
  9. cसशक्त और सार्थक
    सूत्रों से सज गया
    आज का चर्चा मंच
    आपकी सूझ बूझ का
    और अंदाज महानत का
    ले आया है रंग |
    शशी जी मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
    Replies
    1. shukriya asha ji sundar shabd aapke hamen muskaan de rahe .

      Delete
  10. बहुत बढ़िया चर्चा शशि....
    सभी लिंक्स शानदार..

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  11. बहुत बढिया चर्चा काफ़ी लिंक्स घूम आयी हूँ

    ReplyDelete
  12. सभी लिंक्स बहुत ही बढ़िया शशि जी ...........

    ReplyDelete
  13. बढिया चर्चा
    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  14. बढ़िया चर्चा ...!!मेरे आलेख को स्थान दिया ...ह्रदय से आभार शशि जी ....!!

    ReplyDelete
  15. बहुत अच्छे लिंक्स पढ़ने को मिले |आपका शुक्रिया |

    ReplyDelete
  16. sabhi sadayon aur pathak sabhi ka dhanvyavad , aap yahan aaye aur aapki links pasand aaye ,
    aapne apne anom shabdo apna sneh ham tak pahuchaya , hamara prayas rahega aapko sadaiv kuch naya de saken . :)

    ReplyDelete
  17. बहुत ही सुन्दर सूत्र..

    ReplyDelete
  18. कई लिंक पर जाकर टिपण्णी दी .......कई पर घूम कर आई हूँ ......
    ....सभी लिंक बहुत अच्छे .............

    ReplyDelete
  19. बढ़िया चर्चा ...सभी लिंक शानदार है ...पढ़कर मजा आया जानकारी भी मिली
    मेरी पोस्ट को स्थान देने के लिए तहे दिल से शुक्रिया आदरणीय शास्त्री जी

    ReplyDelete
  20. sarthak charcha ..thanks nd aabhar ....

    ReplyDelete
  21. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति .....आभार

    ReplyDelete
  22. एक से बढ़कर एक लिंक सहेजे गये हैं
    सुंदर संग्रह
    शानदार संयोजन
    सभी रचनाकारों को बधाई
    संयोजन का आभार

    ReplyDelete
  23. शशि जी मुझे सूचना दी गई थी
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (08-04-2013) के "http://charchamanch.blogspot.in/2013/04/1224.html"> पर भी होगी! आपके अनमोल विचार दीजिये , मंच पर आपकी प्रतीक्षा है .
    सूचनार्थ...सादर!
    लेकिन मे तो इसे चर्चा मंच पर ढूँढती ही रह गई
    बहुत अच्छे लिंक,हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  24. बहुत बढ़िया लिंक्स सहेजे हैं
    बधाई
    संयोजन का आभार

    ReplyDelete
  25. @shashi purwar ji -- meri rachna ko manch par sathan de kar mujhe sammanit karne ke apki bahut bahut aabhaari hu .. par der se ane ki maafi chahti hu mene aj triveni ka ye link khola to mujhe apka massage mila or uske baad apke is manch ka link khojne me bhi samay lag gaya .. ek baar punah maafi ke sath aabhar
    sabhi rachnaye adbhut hai ..p[adh kar bahut kuchh naya sikhne ko mila kuchh naye prasn bhi ubhare to kuchh purane prasno ke uttar bhi mile .. badhaayi :)

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...