Followers

Sunday, May 05, 2013

आ गये नेता नंगे: चर्चा मंच 1235

"जय माता दी" रु की ओर से आप सबको सादर प्रणाम. चलते हैं आप सभी के चुने हुए प्यारे लिंक्स पर.
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण)
पूरण खण्डेलवाल
संजय भास्कर
मीनाक्षी
Vandana Gupta
Rinku Siwan
Virendra Kumar Sharma
Anju
Ranjana Verma
VIJAY PATNI
Chavanni Chap
Arvind Mishra
Akshitaa (Pakhi)
Aamir Dubai
शिवम् मिश्रा
ब्लॉ.ललित शर्मा
संजय भास्कर
रश्मि शर्मा
Anita
Ayodhya Prasad
~अनु ~
Asha Saxena
Rekha Joshi
अरुन शर्मा 'अनन्त'
निवेदिता श्रीवास्तव
Rajendra Kumar
Dheerendra 'Dheer'
इसी के साथ आप सबको शुभविदा मिलते हैं रविवार को. आप सब चर्चामंच पर गुरुजनों एवं मित्रों के साथ बने रहें. आपका दिन मंगलमय हो
जारी है ..... "मयंक का कोना"
(1)
हाँ,जी का कमाल
मेरा फोटो
भारद्वाज ग्वालियर
(2)
साथ छूट गया बरसों के इंतजार का ........

नयी उड़ान पर उपासना सियाग
(3)
अंतर्राष्ट्रीय ब्लागर सम्मेलन में बाबाश्री का ब्लागिंग नशा मुक्ति शिविर

 अंतर्राष्ट्रीय ब्लागर सम्मेलन के ब्रह्म-कालीन सत्र में आपका स्वागत है. बाबाश्री ताऊ महाराज के पास इस सम्मेलन में एक नई विकट स्थिति खडी हो गई है. अनेकों महिलाएं और पुरूष भक्त, बाबाश्री के पास यह शिकायत करने आये कि इस ब्लागिंग की वजह से उनके घर बार तबाह हो रहे हैं. बाबा श्री ताऊ सरकार ने उनको सलाह दी कि वे अपनी रिपोर्ट ताऊगंज *थाने में दर्ज कराएं जहां से बाबा श्री जांच करवायेंगे. शिकायत करने वालों ने ब्लागिंग का नशा लगाने के लिये निम्न लोगों पर नामजद रिपोर्ट लिखाई है...
(4)
तुम्हारी आंखों में

जिस्म पर उभरी लकीरें गवाह हैं उन रास्तों की जिनसे होकर गुजरा हूं और बार बार असफल फिर फिर लौटा हूं तुम्हारे पास याचना लिए प्रेम के छांव की...
(5)
झूठी संवेदना मत जताया करो

झूठे  वादों  से   यूँ  न   लुभाया  करो
वादा कर ही लिया  तो निभाया करो |
अश्क़  हमने  हैं पहचाने, घड़ियाल  के
झूठी   संवेदना   मत   जताया  करो...
अरुण कुमार निगम (हिंदी कवितायेँ)

23 comments:

  1. भाई अरुण शर्मा जी।
    आपने बहुत सुन्दर प्रस्तुति दी है आज...! आ गये नेता नंगे: चर्चा मंच 1235 में आपका श्रम सराहनीय है!
    आशा है कि रविकर जी अपने प्रवास से लौटकर घर आ गये होंगे।
    आज मुझे भी 2 दिन के प्रवास पर जाना है। भानजी की शादी है बरेली में..उसमें जा रहा हूँ सपरिवार।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. गुरु जी को प्रणाम
    अरुण आपने ने बहुत सुंदर सूत्र जोड़े हैं ,बधाई
    गुरु जी आपका मयंक कोना हमेशा की तरह लाजवाब है

    ReplyDelete
  3. भरपूर लिंक्स -आभार

    ReplyDelete
  4. रोचक और पठनीय सूत्र..

    ReplyDelete
  5. अरून भाई बहुत सुन्दर और उपयोगी लिंक्स संजाए हैं आपने। इसके लिए आपका बहुत आभार!
    गुरूदेव ने मुझे भी इस अंक में स्थान दिया इसके लिए आभार!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर प्रस्तुति...!! मेरी रचना 'ओ बसंती हवा' को को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए आभार .

    ReplyDelete
  7. अच्छी चर्चा
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर और उपयोगी लिंक्स संजाए हैं आपने। इसके लिए आपका बहुत बहुत आभार!इस अंक में स्थान देने के लिए विशेष आभार!

    ReplyDelete
  9. बहुत उम्दा, सुंदर लिंकों की प्रस्तुति...!! मेरी रचना 'दीदार होता है ' को को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए बहुत२ आभार.,,,अरुन जी

    ReplyDelete
  10. अच्छी चर्चा संकलित की है ..... आभार !

    ReplyDelete
  11. बढ़िया चर्चा |आभार मेरी रचना शामिल करने के लिए |
    आशा

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ..आभार !

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर चर्चा,मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  14. सुन्दर चर्चा लिंक !!
    आभार !!

    ReplyDelete
  15. अरुणजी..पठनीय चर्चा क्यों कि मेरे लिए कई नए लिंक हैं यहाँ...शुभकामनाएँ और शुक्रिया

    ReplyDelete
  16. सुन्दर लिंक्स संजोये हैं …………बहुत बढिया चर्चा।

    ReplyDelete
  17. अरुण भाई , चर्चा मंच पर आपकी चर्चाएँ दिनों दिन निखरती जा रही हैं। आज भी लाजवाब चर्चा रही।

    ReplyDelete
  18. मेरी रचना शामि‍ल करने का शुक्रि‍या.....अच्‍छी चर्चा लगाई है आपने....इसके लि‍ए भी आपका धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  19. नमस्कार अरुण जी अच्‍छी चर्चा ...........

    ReplyDelete
  20. रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद अरुण जी ....

    ReplyDelete
  21. आभार ....इस हौसला अफजाई का अरुण जी ....सभी लिंक सुंदर ....अच्छा लगा इस मंच पर आना ....

    ReplyDelete
  22. बेहद उम्दा .........मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए आपका बहुत बहुत आभार !
    बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..!!!

    ReplyDelete
  23. bahut badhiya charcha...
    badhiya links.
    hamaari post ko sthan dene ka shukriya

    anu

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...