चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Tuesday, May 07, 2013

मंगलवारीय चर्चा---(1237)---काम आ जाएँ किसी के, इच्छा है दीवानों की!!


आज की मंगलवारीय  चर्चा में आप सब का स्वागत है राजेश कुमारी की आप सब को नमस्ते , ,आप सब का दिन मंगल मय हो अब चलते हैं आपके प्यारे ब्लॉग्स पर 
***********************************************************************
क्षणिकाएँ ... जैसे सूक्ष्म की शल्य-चिकित्सा का कोई विलिखित , विख्यायित प्रमाण नहीं है वैसे ही श्वास-सेतु से जुड़ा हरेक कण है कोई भी अज्ञात आयाम नहीं है *
***********************************************************************


.

भीनी यादें ... नाज़ुक सा था नाक हमेशा बहती थी पल्लू थामें रीं रीं रीं
रीं करता था धुँधला सा है याद मुझे अब भी अम्मा तेरे आगे पीछे
फिरता रहता था हलकी सी जब चो...

***********************************************************************



उनकी आँखों का तीर हो जाऊं दर्दमंदों का पीर हो जाऊं मेरे पिंजरे को

 तोड़ने वाले क्या मैं तेरा असीर हो जाऊं? न लियाक़त है ना हुनर कोई
सोचता हूँ वज़ीर हो जाऊं दौ
..



*********************************************************************

कोटगाड़ी मन्दिर महाकवि कालिदास की कथा में इस बात का विवरण 

है कि वे विवाह से पहले बुद्धू थे और राजपुत्री विद्योत्तमा से शास्त्रार्थ में




 हारे हुए विद्वानों ने चालबाजी से वि







...
**********************************************************************



एक पगली हंसी ऐसी चाहिए , ये जहान उसकी गूंज सुने | दर्द इतना
हो की इंसानी रूह भी धरधरा उठे | प्यार इतना चाहिए की कायनात

 उसमे समा जाये | आंसू इस कदर बहे की सागर क
..
*********************************************************************.

हे नीलकंठ मेरे!!  एक अंगारा उठाया

 था कर्तव्यों का जलती हुई जिन्दगी की आग 

से, हथेली में

 रख फोड़ा उसे फिर बिखेर दिया जमीन पर.

.. अपनी ही राह 

में, जिस पर...




***********************************************************************




साईकिल की सवारी .. -सोचिये तो बात बहुत छोटी सी है..और 

अगर विचार करें तो बात बहुत बड़ी, कम से कम मानसिकता

 का वृहत आकलन तो करती ही है, ये छोटी सी घटना... साल

 के, छः से सात महीने...

***********************************************************************



द्रौपदियों के चीरहरण के देश में द्रौपदियों के चीरहरण के देश में | 

दुर्योधन-दु:शासन है हर वेश में | एक की रक्षा कर लौटे कि दूजी पुकार | 

कृष्ण बेचारे पड़े हुए है क्लेश में | सत्ता भीष्...


**********************************************************************


सि‍वा प्‍यार के कुछ भी नहीं..... कभी नहीं कहा तुमने वो ढाई

 आखर जि‍से सुनकर दि‍ल भी एक बार धड़कना भूल जाए 

मगर जानती हूं 

मैं उन आंखों में बसा है सिर्फ मेरा अक्‍स, और वहां सि‍वा प्‍यार के क...

***********************************************************************

बेशर्मी पर उतर आई है सरकार !

महेन्द्र श्रीवास्तव at आधा सच.

***********************************************************************

छोटी छोटी सी बातें

VenuS "ज़ोया" at चाँद की सहेली**** -

**********************************************************************

संघात्मक समीक्षा.... पुस्तक ---अगीतमाला


**********************************************************************

मैं काँटा हूँ .....

Yashwant Mathur at जो मेरा मन कहे 

**********************************************************************

लहू के रंग

धीरेन्द्र अस्थाना at अन्तर्गगन
***********************************************************************

बिखरा है चहुँ ओर वही तो


***********************************************************************

छूटे हुए गाँव


**********************************************************************

सरबजीत की याद में

Deepti Sharma at स्पर्श - 

**********************************************************************

भीनी यादें ...

noreply@blogger.com (दिगम्बर नासवा) at स्वप्न मेरे...........
*********************************************************************** 
**********************************************************************

'वनफूल'

कालीपद प्रसाद at मेरे विचार मेरी अनुभूति - 
**********************************************************************

काश ! काम आ जाएँ किसी के, इच्छा है दीवानों की .. -सतीश सक्सेना

सतीश सक्सेना at मेरे गीत ! 

***********************************************************************

Vaijhnath temple & Kot bhramri temple कोट भ्रामरी मन्दिर

**********************************************************************

सांस लेने भर

Brijesh Singh at Voice of Silent Majority -
**********************************************************************

पीसते हैं चलो ताश की गड्डियां

नीरज गोस्वामी at नीरज -
**********************************************************************

चिड़िया

Asha Saxena at Akanksha - 
**********************************************************************

बनूं तो क्या बनूं

Ramakant Singh at ज़रूरत - 
**********************************************************************

(घनाक्षरी) प्रज्ञा पुंज

Rajesh Kumari at HINDI KAVITAYEN ,AAPKE VICHAAR
*****



आज की चर्चा यहीं समाप्त करती हूँ  फिर चर्चामंच पर हाजिर




होऊँगी  कुछ नए सूत्रों के साथ तब तक के लिए शुभ विदा बाय बाय ||
******************************************************************

23 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर और उपयोगी लिंक्स से सजी हुई चर्चा के लिए आपका आभार आदरणीया।
    इस चर्चा में मुझे भी स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार!

    ReplyDelete
  2. बढिया चर्चा, अच्छे लिंक्स

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी चर्चा मिली हम सबको।
    आपका आभार राजेश जी !

    ReplyDelete
  4. बहुत उपयोगी लिंक्स, आभार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. पठनीय सूत्रों से सजी सुन्दर चर्चा !!

    ReplyDelete
  6. सुन्दर चर्चा में सम्मिलित होकर सुन्दर अनुभूति हो रही है..आभार..

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया लिंक्स राजेश कुमारी जी , मेरी रचना हो शामिल करने के लिए धन्यवाद .

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन लिंक्‍स संयोजन ... आभार

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर लिंक्स प्रस्तुति,,,आभार राजेश जी,,

    RECENT POST: नूतनता और उर्वरा,

    ReplyDelete
  10. सुंदर सूत्रों से सजा बहुआयामी चर्चामंच ! बेहतरीन लिंक्स उपलब्ध कराने के लिये आपका शुक्रिया !

    ReplyDelete
  11. बहुत बढिया लिंक्स …………सार्थक चर्चा

    ReplyDelete
  12. सभी लिकं बहुत अच्छे ... सार्थक चर्चा ..
    शुक्रिया मुझे भी स्थान देने का ...

    ReplyDelete
  13. बेहतरीन लिंक्स उपलब्ध कराने के लिये आपका शुक्रिया ! मेरी रचना को शामिल करने के लिए धन्यवाद .सभी लिकं बहुत अच्छे ... सार्थक, सजी सुन्दर चर्चा .आभार

    ReplyDelete
  14. बहुत बढ़िया लिंक्स राजेश कुमारी जी , मेरी रचना हो शामिल करने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  15. बहुत बढ़िया चर्चा .....आभार ....

    ReplyDelete
  16. उम्दा चर्चा है राज कुमारी जी मेरी रचना को शामिल करने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  17. बढिया चर्चा, अच्छे लिंक्स

    ReplyDelete
  18. बढ़िया चर्चा ओर बढ़िया चर्चा मंच

    ReplyDelete
  19. मेरी रचना को चर्चा मंच में सम्मान देने का बहुत २ शुक्रिया |

    ReplyDelete
  20. आप सब का हार्दिक धन्यवाद

    ReplyDelete
  21. सुन्दर सूत्रों से सजी चर्चा..

    ReplyDelete
  22. बढ़िया लिंकों से सजी सुन्दर चर्चा!
    राजेश कुमारी जी आपका आभार!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin