Followers

Monday, May 13, 2013

माँ के लिए गुज़ारिश :चर्चामंच 1243

शुभम दोस्तो 
आज रविवार को जब चर्चा बनाने बैठी तो ब्लॉग ,फेसबुक और समाचार पत्र सबमें माँ ही माँ नजर आई तो हाजिर हूँ ...
मैं 
सरिता भाटिया  
मुनव्वर राना 

के कुछ चुनिंदा शेर लेकर 

1.
मैंने रोते हुए पोंछे थे किसी दिन आँसू 
मुद्दतों माँ ने नहीं धोया दुपट्टा अपना 
2.
अभी जिन्दा है माँ मेरी मुझे कुछ भी नहीं होगा 
मैं जब घर से निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती है 
3.
जरा सी बात है लेकिन हवा को कौन समझाए
दिये से मेरी माँ मेरे लिए काजल बनाती है  


तो करते हैं शुरुआत 
आज सबकी मैया
से 

शालिनी कौशिक 
Mother : illustration of mother embracing child in Mother s Day Card Stock Photo
सरिता भाटिया 
अरुण शर्मा अनंत 
सुशिल जोशी 

My Photo

महेन्द्र श्रीवास्तव 
रउफ अहमद सिद्दीकी 

मन्टू कुमार 

विकेश कुमार 
My Photo

रेखा श्रीवास्तव  
अपर्णा बोस
My Photo
विजय कुमार 
mothers-day-poster3b
माँ 
 
                                                                                                    हे भारत के माताओं 
कालिपद प्रसाद 

सुश्री शान्ति पुरोहित 

अजय कुमार झा 
अजय कुमार झा
टी एस दराल 
माँ से सजे चर्चामंच से 
अपनी 
सरिता भाटिया
को 
दीजिए इजाज़त
माँ को समर्पित एक गीत के साथ 

बड़ों को सादर नमस्कार 
छोटों को प्यार   
आगे देखिए..."मयंक का कोना"
(१)
बिन बुलाए तो कभी मान नहीं होता है..
--
ढल गयी उम्र तो फिर “रूप” दग़ा देता है
(२)
आ...एक बार तो... मनाने के लिए आ

रख बन्द जुबान अपनी, 
लगा ले बस चुप्पी के डेरे...
यादें...पर Ashok Saluja
(३)
माँ
एक ही दिन 
क्यों याद आती है वो ?
जो जन्म देती ! 
My Photo
- जेन्नी शबनम (12. 5. 2013)
(७)
मातृ दिवस ...
मेरा फोटो
दिगम्बर नासवा... 
स्वप्न मेरे...........

22 comments:

  1. सरिता जी शुभ प्रभात |आज की लिंक्स भी माँ को समर्पित अच्छी लगीं |गाना भी बढ़िया है |
    आशा

    ReplyDelete
  2. शुक्रिया सरिता जी ............आभार ........

    ReplyDelete
  3. कई नये सूत्र पढ़वाने का आभार

    ReplyDelete
  4. सरिता जी!
    आपने बहुत मोहक चर्चा की है..!
    दिन में फुरसत से बैठकर सभी लिंको को पढ़ूँगा!
    आभार!

    ReplyDelete
  5. shukriya sarita ji .

    bahut acchi post aur meri post bhi shaamil karne ke liye aabhar.
    dhanywaad.

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन संदेशो के सूत्रों से
    चर्चा है आज सरोबार
    उल्लूक का भी दिखा सूत्र
    शास्त्री का दिल से आभार !

    ReplyDelete
  7. माँ को समर्पित बेहतरीन लिंकों का सम्पादन,आपका आभार.

    ReplyDelete
  8. माँ तुझे सलाम -सुन्दर लिंक्स संजोये हैं आपने .आभार

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर व् सार्थक लिनक्स संजोये हैं सरिता जी मेरी पोस्ट को स्थान देने के लिए आभार .

    ReplyDelete
  10. "तुलसी "कहे
    "क्या लीखु मै "माँ" के बारे मे
    ना ही कोई शब्द बना है ऐसा
    ना ही कोई अलंकार बना है ऐसा
    जो कर सके " माँ " के मर्तबे की तारीफ "
    - तुलसीभाई पटेल

    ReplyDelete
  11. वाह आदरणीया सरिता जी वाह बहुत सुन्दर प्यारे प्यारे लिंक्स समावेश किये हैं आज की चर्चा में और प्रस्तुतिकरण भी अत्यंत सुन्दर है हार्दिक बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  12. क्या बात है, सामयिक विषय पर सार्थक चर्चा
    बहुत सुंदर
    मुझे शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete
  13. साफ़ सुथरी मनमोहक चर्चा

    ReplyDelete
  14. बहुत बढ़िया। धन्‍यवाद आपका।

    ReplyDelete
  15. प्रिय सरिता बहुत सुन्दर चर्चा सजाई है जहां देखूं माँ ही माँ नजर आई है सभी को हार्दिक बधाई है ,खुश हूँ मेरी रचना ने भी जगह पाई है सबको मातृ दिवस की बधाई है|

    ReplyDelete
  16. मुनव्वर राणा के लाजवाब शेरों के साथ ही उम्दा लिंक्स मिले, आभार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  17. माँ ही माँ सब जगह ..
    सुन्दर लिंक .. शुक्रिया मुझे शामिल करने का ...

    ReplyDelete
  18. माँ को याद करने वाले हर लिंक को संजो कर अपने उस माँ जैसे रिश्ते को पूरा पूरा मन दिया है . सब पढ़ा तो लगा की उसकी तो एक ही परिभाषा है - वो माँ है जो सन्तति रचती ही है , वह बात और है कि सन्तति एक माँ को नहीं संभाल पाती है . मेरे आलेख को शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  19. Maa ke lie itna sabkuch padhne ke baad bahut kuch baaki rah jaata hai...
    Badhiya links...aabhar...

    ReplyDelete
  20. माँ को समर्पित सभी लिंक
    मा तुझे सलाम :)

    ReplyDelete
  21. हर माँ को प्रणाम

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...