चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Tuesday, May 14, 2013

मंगलवारीय चर्चा --1244---हर दिवस ही मातृ दिवस है

आज की मंगलवारीय  चर्चा में आप सब का स्वागत है राजेश कुमारी की आप सब को नमस्ते , सोचती हूँ दोस्तों केवल एक दिन ही क्यों हर दिवस मातृ दिवस क्यों नहीं आपका क्या कहना है ?? आप सब का दिन मंगल मय हो अब चलते हैं आपके प्यारे ब्लॉग्स पर 
किन्तु उससे पहले मेरी ये पंक्तियाँ माँ को समर्पित ----

                       ‘तेरे होने का भान होता हवा के हर झोंके से 
              मुट्ठी से पकड़ लेती आँचल समझ के धोके से’ 
*********************************************************************************

एक यादगार दिवस (अखिल भारतीय महिला आश्रम में मनाया मातृ दिवस)

                                        माँ का आशीष :हाइकू



                                             सामयिकी --मातृ-दिवस |



                                                   मातृदिवस पर...

             निर्दोष दीक्षित at मीठा भी गप्प,कड़वा भी गप्प 
************************************************************************
                                      आ...एक बार तो... मनाने के लिए आ!!!

                                                     Untitled                                                                                          swati at swati



                                             अशोक महात्म्य - २

              noreply@blogger.com (पुरुषोत्तम पाण्डेय) at जाले
***********************************************************************

                                       तो अच्छा है -(500 वीं पोस्ट)

                                             Untitled

                          Dr. Sarika Mukesh at अंतर्मन की लहरें Antarman Ki Lehren
************************************************************************

                                           पति-पत्नी: आज की ज़रूरत


                                         किसे ढूंढते हैं, ये सूने नयन ?

                            धीरेन्द्र अस्थाना at अन्तर्गगन
************************************************************************************************************

                                                         सत्यं शिवं सुन्दरं


                                                  वफ़ा या बेवफा ..........

                           दिल की आवाज़ at दिल की आवाज
************************************************************************

                                                   कौन सी कविताएं



                                                 आँसुओ का दर्द

                        MANOJ KAYAL at RAAGDEVRAN
************************************************************************ 

                 वंदे मातरम्‘ के मुद्दे पर बसपा नेता शफ़ीक़ुर-रहमान बर्क़ की राजनीति


                                                अपना अपना महत्त्व

                                        सुज्ञ at सुज्ञ
************************************************************************

                                          September - Settembre - सितम्बर

                 sunil deepak at Chayachitrakar - छायाचित्रकार -

                               मेरा ब्लड ग्रुप है -वन्देमातरम और आपका ?

                      डॉ शिखा कौशिक ''नूतन '' at भारतीय नारी
***********************************************************************

                                                           ...यूं तलाफ़ी हुई

                        Suresh Swapnil at साझा आसमान
***********************************************************************

                                                    Junbishen 15

                                  Munkir at Junbishen
***********************************************************************



आज की चर्चा यहीं समाप्त करती हूँ  फिर चर्चामंच पर हाजिर होऊँगी  कुछ नए सूत्रों के साथ तब तक के लिए शुभ विदा बाय बाय ||




16 comments:

  1. बढ़िया चर्चा है राजकुमारी जी |
    आशा

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत धन्यवाद आंटी मेरी पोस्ट् का लिंक देने के लिये।

    एक खास दिन या खास अवसर का चुनाव / निर्धारण उसी प्रकार उचित है जिस प्रकार हम अपना जन्म दिन या त्योहार एक दिन को ही मनाते हैं। वैसे तो हर दिन त्योहार है और हर दिन मातृ दिवस आदि भी है।


    सादर

    ReplyDelete
  3. बिल्कुल सही कहा है आपने .मेरी पोस्ट् का लिंक देने के लिये आभार .

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर मंच सजा है
    बढिया

    ReplyDelete
  5. behatareen links se susajjit manch

    ReplyDelete
  6. सुन्दर और पठनीय सूत्र..

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ...आभार

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्‍दर चर्चा, बहुत सुन्‍दर सूत्र पिराये हैं
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र कुछ नया और रोचक पढने और जानने की इच्‍छा है तो इसे एक बार अवश्‍य देखें,
    लेख पसंद आने पर टिप्‍प्‍णी द्वारा अपनी बहुमूल्‍य राय से अवगत करायें, अनुसरण कर सहयोग भी प्रदान करें
    MY BIG GUIDE

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति!
    लगभग सभी लिंकों पर घूम आया हूँ!
    आभार बहन राजेश कुमारी जी!

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति,बहुत सुन्‍दर सूत्र पिराये हैं,सादर आभार.

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सफलता पूर्वक इस मंच पर मातृ दिवस मनाने हेतु वधाई !

    ReplyDelete
  12. 'चर्चा-मंच' पर मेरी दो रचनाएँ दो दिन में शामिल करने हेतु आप सभी साथियों का आभारी हूं। सभी पाठकों, साथी रचनाकारों एवं चर्चाकारों का बहुत-बहुत धन्यवाद। suhshri sarita bhatiya ji evam sushri raajesh kumari ji ka bahut- bahut aabhar.

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्‍दर सूत्र....बधाई और इसके साथ-साथ 'चर्चा-मंच' पर हमारी रचना शामिल करने हेतु आपका हार्दिक आभार।

    ReplyDelete
  14. सभी पठनीय सूत्र, शानदार चर्च, 'चर्चा-मंच' पर हमारी प्रस्तुति को स्थान देने के लिए आभार

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर ............

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin