Followers

Thursday, May 30, 2013

हिंसा किसी समस्या का समाधान नहीं ( चर्चा - 1260 )

आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 
कसली हिंसा हो या आतंकवाद का कोई अन्य रूप यह निंदनीय है । भले ही ये आतंकवादी संगठन अपनी कार्यवाही को उचित ठहराते रहें,  लेकिन हिंसा को उचित नहीं ठहराया जा सकता, हिंसा किसी समस्या का कोई समाधान नहीं । 
चलते है चर्चा की ओर
image
मेरा फोटो
My Photo
मेरा फोटो
कुछ रचनाएं फेसबुक से ( नया प्रयोग अगर अच्छा लगे तो सूचित करें ) -
आज की चर्चा में बस इतना ही 
धन्यवाद 
आगे देखिए..."मयंक का कोना"
(1)
हल्ला बोल हल्ला बोल आईपीएल की खुल गई पोल 
अन्दर खाने कित्त्ते हैं झोल हो रही सबकी सिट्टी गोल...
तमाशा-ए-जिंदगीपरतुषार राज रस्तोगी
(2)
(3)
आधा सच...पर महेन्द्र श्रीवास्तव 
(4)
चेहरे पर चेहरा** - ट्रिङ्ग ट्रिङ्ग - हॅलो? - 
नमस्ते जी! - नमस्ते की ऐसी-तैसी! 
बात करने की तमीज़ है कि नहीं....
(5)
अनजाने ही मिले अचान
क एक दोपहरी जेठ मास में 
खड़े रहे हम बरगद नीचे तपती गरमी जेठ मास में----- 
प्यास प्यार की लगी हुई होंठ मांगते पीना 
सरकी चुनरी ने पोंछा बहता हुआ पसीना 
रूप सांवला हवा छू रही बेला महकी जेठ मास में---
मेरी धरोहर पर yashoda agrawal

14 comments:

  1. आदरणीय भैय्या जी
    वन्दन
    सच में आज मेरा विश्राम करने का मन था
    सुकून से किताबें पढ़ूँगी सोची थी
    पड़ोस की एक लड़की आई
    कहने लगी काकी सा...
    मेरा रिजल्ट देखकर बताइये न
    सो कम्प्यूटर चालू करना पड़ा
    विधि का लिखा..
    आपके दर्शन होने थे
    सादर

    ReplyDelete
  2. आदरणीय दिलबाग विर्क जी!
    चर्चा मंच पर आपकी नियमितता का कायल हूँ।
    रात को 10 बजे चर्चा मंच का एडिट बाक्स देखा तो खाली था।
    मैंने सोचा कि विर्क जी को कोई काम आड़े आ गया होगा।
    विचार किया था कि सुबह उठते ही चर्चा लगा दूँगा।
    क्योंकि कल बाहर गया था 300 किमी की ड्राइविंग के बाद थक भी बहुत गया था।
    लेकिन सुबह देखा तो आपकी चर्चा लगी हुई थी।
    मुझे बहुत सुखद एहसास हुआ।
    आपका आभार!
    कभी खटीमा पधारे दर्शन दें।
    सुना है 15 जून को ओबीओ का कवि सममेलन हल्द्वानी में होने जा रहा है।
    रविकर जी ने बताया कि वो भाई अरुण कुमार निगम के साथ मेरे यहाँ 12-13 जून को आ रहे हैं।
    आप भी आइए। स्वागत है आपका!

    ReplyDelete
  3. दिलबाग जी लेखी जाय को पढकर लगा जैसे पढना सार्थक हो गया ………हार्दिक आभार ऐसी शख्सियत से मिलवाने के लिये ……………सुन्दर लिंक संयोजन

    ReplyDelete
  4. बहुत लाजबाब लिंकों की प्रस्तुति,,आभार दिलबाग जी,,,

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्‍दर चर्चा, चर्चामंच वाकई में एकता में अनेकता का प्रतीक है, इसमें हर बाग का पुष्‍प मिल जाता है आभार
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र की रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारियॉ प्राप्‍त करने के लिये एक बार अवश्‍य पधारें
    टिप्‍पणी के रूप में मार्गदर्शन प्रदान करने के साथ साथ पर अनुसरण कर अनुग्रहित करें
    MY BIG GUIDE
    नई पोस्‍ट
    अपने ब्‍लाग के लिये सर्च इंजन बनाइये
    अपनी इन्‍टरनेट स्‍पीड को कीजिये 100 गुना गूगल फाइबर से
    मोबाइल नम्‍बर की पूरी जानकारी केवल 1 सेकेण्‍ड में
    ऑनलाइन हिन्‍दी टाइप सीखें
    इन्‍टरनेट से कमाई कैसे करें

    ReplyDelete
  7. facebook se mera link shamil karne ke liye shukriya ...

    ReplyDelete
  8. चर्चा शानदार रही

    ReplyDelete
  9. आदरणीय दिलबाग जी, बहुत ही सुंदर चर्चा सजाई है. बधाई हो....

    ReplyDelete
  10. शानदार लिंक हैं चर्चा मंच पर ...........

    ReplyDelete
  11. बहुत से ब्लॉग पर आज-कल मेरी कई टिप्पणियाँ स्पेम हो रही हैं .......:(

    ReplyDelete
  12. सुंदर रचनाओं का सुंदर संग्रह
    शानदार संयोजन
    चर्चा मंच की पूरी टीम को साधुवाद

    मुझे सम्मलित करने का आभार

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...