साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Thursday, June 20, 2013

बारिश का कहर ( चर्चा - 1281 )

आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 
लू से बचने के लिए आसमान से बारिश की गुजारिश तो हम सबने की थी लेकिन इंद्र देवता ने कृपा के स्थान पर कहर बरसा दिया । जून के पहले पाक्षिक में उत्तरी भारत में बाढ़ के आसार कम ही होते हैं लेकिन प्रकृति की महिमा किसने जानी है । इस बाढ़ में प्रशासन की कमी ज्यादा है या कुदरत का कहर , यह सोचने के साथ ही हम सिर्फ बाढ़ में घिरे परिवारों की सुरक्षा की कामना ही कर सकते हैं । 
यहाँ पर सूची है केदार घाटी में बचाए गए लोगों की 
चलते हैं चर्चा की ओर 

खटीमा में बारिश का कहर
My Photo
My Photo
धन्यवाद 
दिलबाग 
आगे देखिए..."मयंक का कोना"
(1)
ब्लॉगिंग के लौहपुरुष कोपभवन में...

देशनामा पर Khushdeep Sehgal

(2)
यू.पी.की डबल ग्रुप बिजली

! कौशल ! पर Shalini Kaushik

(3)
जिसने द्वितीय विश्वयुद्ध में तबाही मचाई 

मुझे कुछ कहना है ....पर अरुणा

(4)
कुछ कविताएँ
एक वे दोनों वे जो अपने अपकृत्य का नाम दे रहे हैं परिवर्तन 
और वे जो परिवर्तन को कह रहे है कुकृत्य 
दोनों के साथ है कुछ लोग 
मचा हुआ है घमासान 
उनमें उछल रही हैं बदजुबानियाँ ...
अलक्षित पर रवीन्द्र दास

17 comments:

  1. भाई दिलबाग विर्क जी!
    आपने आज (20-06-2013) को बारिश का कहर ( चर्चा - 1281 ) में बहुत सुनदर और सामयिक लिंकों का समावेश किया है।
    आभार के साथ...सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. सुन्दर सूत्र, ईश्वर सबकी रक्षा करे।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सामयिक लिंक्स संजाए हैं आपने आज की चर्चा में। आपका साधुवाद!
    मेरी रचना को आज की चर्चा में स्थान देने के लिए हार्दिक आभार!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर चर्चा खासकर केदारघाटी से बचाये गये लोगों के बारे में सूचना को सूत्र सहित भी आपने यहाँ दिया ये बताता है कि आप किस गहनता से सुत्रों का संकलन करते हैं ! उल्लूक का भी आभार !

    ReplyDelete
  5. दिलबाग sir नमस्कार
    सामयिक सार्थक सूत्र देकर आपने चर्चामंच को उपयोगी बनाया है शुक्रिया जी

    ReplyDelete
  6. पठनीय और रोचक सूत्रों से सजी सुन्दर चर्चा !!

    ReplyDelete
  7. ्बढिया चर्चा

    ReplyDelete
  8. अच्छे लिंकों से सजा आज का चर्चा मंच बढ़िया लगा...

    ReplyDelete
  9. वाह बहुत से अच्‍छे लिंक देने के लि‍ए आभार

    ReplyDelete
  10. दिलबाग विर्क जी ...........बहुत शुक्रिया............. चर्चा मंच पे मेरी रचना का सूत्र देकर उसे विस्तृत पठन क्षेत्र प्रदान किया ....बाकी के लिन्क्स भी रोचक हैं

    ReplyDelete
  11. बहुत शुक्रि‍या आपका.....मेरी रचना शामि‍ल करने और संदर लिंक्‍स के संयोजन के लि‍ए..

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्‍दर चर्चा, आभार

    ReplyDelete
  13. .मेरी रचना शामि‍ल करने और संदर लिंक्‍स संयोजन हेतु आभार

    ReplyDelete
  14. .सार्थक व् सराहनीय लिंक्स संयोजन .मेरी पोस्ट को स्थान देने के लिए आभार . ये है मर्द की हकीकत आप भी जानें संपत्ति का अधिकार -४.नारी ब्लोगर्स के लिए एक नयी शुरुआत आप भी जुड़ें WOMAN ABOUT MAN

    ReplyDelete
  15. अच्छा लगता है जब कहीं चर्चा होती है ... आपका शुक्रिया

    ReplyDelete
  16. बहुत बढ़िया सूत्र जानकारी से भरे हुए हार्दिक बधाई दिलबाग जी

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"श्वेत कुहासा-बादल काले" (चर्चामंच 2851)

गीत   "श्वेत कुहासा-बादल काले"   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')    उच्चारण   बवाल जिन्दगी   ...