Followers

Sunday, June 23, 2013

मौत से लेते टक्कर : चर्चा मंच 1284

"जय माता दी" रु की ओर से आप सबको सादर प्रणाम. चलते हैं आप सभी के चुने हुए प्यारे लिंक्स पर.


प्रस्तुतकर्ता : Shikha Kaushik



प्रस्तुतकर्ता : (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


प्रस्तुतकर्ता : Kamla Singh
उसने कहा इंतज़ार करो
मैंने कहा आदत मेरी ।
उसने कहा भुला ना करो
मैंने कहा चाहत हो मेरी ।
उसने कहा पास आओ मेरे
मैंने कहा हसरत मेरी ।
उसने कहा तुम रूह हो मेरी
मैंने कहा वजूद हूँ तेरी ।
उसने कहा जिंदगी हो मेरी
मैंने कहा धडकनें हूँ तेरी ।
प्रस्तुतकर्ता : विशाल चर्चित


प्रस्तुतकर्ता : Yashoda Agrawal
प्रस्तुतकर्ता : Amrita Tanmay
प्रस्तुतकर्ता : ZEAL
प्रस्तुतकर्ता : Shashi Purwar
प्रस्तुतकर्ता : Virendra Kumar Sharma
प्रस्तुतकर्ता : सरिता भाटिया
प्रस्तुतकर्ता : राजेंद्र कुमार



प्रस्तुतकर्ता : Vandana



प्रस्तुतकर्ता : Archana



प्रस्तुतकर्ता : Pallavi Saxena



प्रस्तुतकर्ता : रश्मि शर्मा



प्रस्तुतकर्ता : Vibha Rani Shrivastava



प्रस्तुतकर्ता : ताऊ रामपुरिया


Shanti Purohit


आशा जोगळेकर
सुशील

इसी के साथ आप सबको शुभविदा मिलते हैं रविवार को. आप सब चर्चामंच पर गुरुजनों एवं मित्रों के साथ बने रहें. आपका दिन मंगलमय हो
जारी है... 'मयंक का कोना'
(1)
फेसबुक की गलती से लीक हुई 60 लाख लोगों की जानकारी

हिंदी पीसी दुनिया पर Darshan Jangara

(2)
क्या है चन्द्र इन्द्रधनुष What is Moon bow?

क्यों और कैसे विज्ञान में पर दर्शन लाल बवेजा 

(3)
सिद्धांत, शिष्टाचार और अवसरवादी-राजनीति

वसुधैव कुटुम्बकम_पर राजीव गुप्ता 

(4)
आवाज़ बुलंद अब करना है

कमाल है धमाल है लोकतंत्र बेमिसाल है 
जनता का बुरा हाल है ये सरकारी चाल है...
तमाशा-ए-जिंदगी पर तुषार राज रस्तोगी

(5)
संत कबीर

      कबीर जयंती पर
       "यहु ऐसा संसार है, जैसा सेमर फूल।        दिन दस के ब्यौहार कौं, झूठे रंग न भूल।।"        दस दिन के जीवन पर मानव नाहक ही मिथ्या अभिमान करता है। वह भूल जाता है कि जीवन तो सेमल के फूल के समान क्षणभंगुर है, जो रूई के समान सब जगह उड़ जाता है। इसलिए-"काल्ह करै सो आज कर, आज करै सो अब।पल में परलय होयगी, बहुरि करैगो कब।।"...

(6)
पाँच गज़ल ..... विलास पंडित
My Photo
हम और हमारी लेखनी पर गीता पंडित

(7)
चाफ़ेकर बंधु - पहले क्रांतिकारी

पिट्सबर्ग में एक भारतीय पर Anurag Sharma

(8)
कुछ नहीं कुछ बहुत कुछ
कुछ लोग बहुत थोडे़ शब्दों में 
बहुत कुछ कह ले जाते हैं 
उनके शब्द उनकी तरह सुंदर होते हैं 
उनके बारे में कुछ कहाँ बता जाते हैं 
शब्द मेरे पास भी नहीं होते हैं...
उल्लूक टाईम्स पर सुशील

(9)
ॐ शान्ति .
 ॐ शान्ति मेरा स्वधर्म है स्वमान है .निजरूप है .
ॐ शांति का ध्वनित अर्थ है 
मैं आत्मा शांत स्वरूप हूँ .आनंद स्वरूप हूँ .प्रेम स्वरूप हूँ .
शान्ति ,ख़ुशी मेरा निज धर्म है...
कबीरा खडा़ बाज़ार में पर Virendra Kumar Sharma 

(10)
अब तो नहीं जाओगे न पहाड़ों पर ? जाना भी नहीं, प्लीज !

हर उम्र के उन दिवंगतों को मेरी भावभीनी श्रृद्धांजली, जिन्होंने 16-17 जून, 2013 को आये पहाड़-प्रलय में न सिर्फ अपनी जान गंवाई अपितु बहुत ही कष्टकारी माहौल में अपनी अंतिम साँसे गिनी। अब ये चाहे मानव निर्मित हो या फिर दैविक प्रलय, किन्तु आपदा से उपजी विपदा की इस घड़ी में हर इंसान का यह पहला कर्तव्य बनता है कि पीड़ितों का दुःख-दर्द समझे और उन्हें हर संभव मदद पहुंचाए...
अंधड़ ! पर पी.सी.गोदियाल "परचेत" 

(11)
"आभासी दुनिया की मेरी भतीजी शशि पुरवार का जन्मदिन .."

 इस आभासी संसार में
आज मेरी भतीजी और चर्चा मंच की चर्चाकार 
"शशि पुरवार" का जन्मदिन है।
उपहारस्वरूप कुछ शब्द सजाये हैं!
जन्मदिन पुरवार शशि का आज आया।
आज बिटिया के लिए, आशीष का उपहार लाया।।

मन नवल उल्लास लेकर, नृत्य आँगन में करें,
धान्य-धन परिपूर्ण होवे, जगनियन्ता सुख भरें,
आपके सिर पर रहे, सौभाग्य का अनमोल साया।
आज बिटिया के लिए, आशीष का उपहार लाया।।

31 comments:

  1. शुभप्रभात बेटे
    शुक्रिया और आभार
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
    Replies
    1. arun ji bahut sundar links diye hai aapne .......mujhe shamil karne ke liye tahe dil se abhaar , sneh anmol hai

      Delete
  3. सुंदर चर्चा और बढ़िया लिंक्स
    शीर्षक मौत से टक्कर लेते भी बहुत बढ़िया

    छोटे लेकिन बहुत काम के सॉफ्टवेर

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर चर्चा अरुण जी!
    आज रविवार के लिए काफी लिंक दिये हैं आपने पढ़ने के लिए!
    आभार...!

    ReplyDelete
  5. सुंदर चर्चा और बढ़िया लिंक्स,आज की चर्चा का शीर्षक मन को उद्देलित कर गया,प्रकृति के कहर से न जाने कितने परिवार उजड़ गये,उन सभी महान आत्माओं को भावभीनी श्रधान्जली।

    ReplyDelete
  6. सुंदर और ढेरों लिंक्स के लिये आभार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  7. शशि पुरवार जी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  8. Aabhaar aapkaa Shashtri evam Aurn ji, is sundar charchaa ke liye !

    ReplyDelete
  9. सभी को सुप्रभात
    अरुण बहुत ही सामयिक लिंक्स लिए हैं आपने
    सभी पीड़ित परिवारों को मेरी संवेदनाएं
    गुरु जी को प्रणाम

    ReplyDelete
  10. शशि पुरवार जी जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  11. सुंदर चर्चा... जो लोग आपदा में फसे हैं उन की कुशलता की कामना...


    जय हिंद जय भारत...मैं ऐसा गीत बनाना चाहता हूं

    ReplyDelete
  12. nice presentation .nice title .nice links thanks .

    ReplyDelete
  13. अच्छे सूत्रों से सजी अच्छी चर्चा !!

    ReplyDelete
  14. सभी लिनक्स उपयोगी व् जानकारी बढ़ाने वाले हैं .मेरी पोस्ट को यहाँ स्थान प्रदान करने हेतु अरुण जी आपका हार्दिक आभार .

    ReplyDelete
  15. सुंदर चर्चा और बढ़िया लिंक्स

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर चर्चा सभी उपयोगी लिंक्स आभार .

    .मेरी पोस्ट को यहाँ स्थान प्रदान करने हेतु अरुण जी आपका हार्दिक आभार .

    ReplyDelete
  17. फूल खिलते रहें जिंदगी की राह में;
    हंसी चमकती रहे आपकी निगाह में;
    कदम कदम पर मिले ख़ुशी की बहार आपको;
    दिल देता है यही दुआ बार-बार आपको।

    शशि पुरवार जी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं,

    ReplyDelete
  18. ईश्वर सबकी रक्षा करे..सुन्दर सूत्रों से सजी हलचल..

    ReplyDelete
  19. बहुत बढ़िया सार्थक चर्चा प्रस्तुति में मेरी ब्लॉग पोस्ट शामिल करने हेतु आभार

    ReplyDelete
  20. नमस्कार अरुणजी
    इस सुन्दर चर्चा -मंच में मेरी रचना को स्थान देने के लिए आभार...
    देवगति को प्राप्त हुये भक्तों को श्रद्धा-सुमन .
    तन है मन है और सपने है ,संग आपके सब अपने है
    अनगिनत खुशियाँ हो सारी,है निरंतर दुआ हमारी
    शशिजी को जन्मदिन की ढेरों
    शुभकामना






    सादर

    ReplyDelete
  21. सुन्दर लिंक्स

    ReplyDelete
  22. अरुण जी मेरी पोस्ट को यहाँ स्थान देने के लिए आभार

    ReplyDelete
  23. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  24. हमेशा की तरह शानदार चर्चा में उल्लूक को स्थान देने के लिये आभार !
    जन्मदिन है आज चर्चाकारा का शुभकामनाऎं ढेर सारी शशि जी पुरवार !

    ReplyDelete
  25. सुंदर चर्चा और बढ़िया लिंक्स

    ReplyDelete
  26. सभी पीड़ित परिवारों को मेरी संवेदनाएं
    बहुत ही सामयिक लिंक्स लिए हैं आपने, मेरी रचना को स्‍थान देने का शुक्रि‍या..शशि जी को जन्‍मदि‍न की बधाई्...

    ReplyDelete
  27. कर्मों की गति न्यारी मरता है आम आदमी बचेगा नहीं बे -ईमान राजनीतिक धन्धेबाज़ भी आज नहीं तो कल कर्मों का खाता खुलेगा उसका भी हो सकता है पिछले जन्म की कमाई इस जन्म में खा रहा हो और आम आदमी इसीलिए पिस रहा है .चुक्तु कर्म सबका होना है आज नहीं तो कल .ॐ शान्ति .बढ़िया पोस्ट

    सवाल है ईश्वर से
    प्रस्तुतकर्ता : विशाल चर्चित

    शुक्रिया अनंत भाई अरुण म्हारी पोस्ट ॐ शान्ति शामिल करने के लिए एक बार फिर से आपका .बधाई खूबसूरत लिंक सजाने का .

    ReplyDelete
  28. कबीर जयंती पर
    "यहु ऐसा संसार है, जैसा सेमर फूल। दिन दस के ब्यौहार कौं, झूठे रंग न भूल।।" दस दिन के जीवन पर मानव नाहक ही मिथ्या अभिमान करता है। वह भूल जाता है कि जीवन तो सेमल के फूल के समान क्षणभंगुर है, जो रूई के समान सब जगह उड़ जाता है। इसलिए-"काल्ह करै सो आज कर, आज करै सो अब।पल में परलय होयगी, बहुरि करैगो कब।।"...
    कविता रावत


    दिन में माला जपत हैं ,रात हनत हैं गाय .....सामाजिक राजनीतिक विद्रूप से निजात के लिए कबीर आज भी प्रासंगिक हैं रहेंगें .....ढोंग और पाखंड की अर्थ और राजनीति ने ही सारा सामाजिक वैषम्य ,महाभारत विषमताओं का रचा है हर व्यक्ति दस विकार लिए है पांच नर के पांच मादा के इसीलिए दशानन है .

    ReplyDelete
  29. कविता रावत जी की कबीर चर्चा रोचक है। शशि पुरवार जी को जन्मदिन की शुभकामनाएं। उत्तराखंड के सेवाकार्य में जुटे सैनिकों को नमन! अमर शहीद चापेकर बंधुओं का लिंक जोड़ने के लिए शास्त्री जी का आभार!

    ReplyDelete
  30. इन सुंदर लिंक्स पर देर से आने के लिये क्षमा प्रार्थी हूँ । इन लिंक्स में मेरी रचना को स्थान देने के लिये आभार । पढते हैं इनको ।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...