चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Monday, June 24, 2013

अनसुनी गुज़ारिश और तांडव शिव का : चर्चामंच 1286

शुभम दोस्तों 
सबसे पहले मैं उन सब देशवासिओं को संवेदनाएं प्रेषित करती हूँ 
जिनके अपने उनसे बिछुड़ गए हैं 
और 
जिनके अपने इस भीष्म प्रलय में बच गए हैं  
उन सबकी सकुशल वापिसी की कामना 
करते हुए 
मैं 
सरिता भाटिया 
हाजिर हूँ 
आपके सामने 
''अनसुनी गुज़ारिश 
और 
तांडव शिव का'' 
लेकर 
यदा यदा ही धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत 
विकास की इबारत

सुनहरे पंख

पाखंडों का अजगर घूमे अपना अजगर फैलाकर 

हे शिव


उत्तराखंड आपदा या अपराध 

धरती का रुदन 

क्रिकेट


तबाही तबाही का मंजर

तांडव

यह भी दुनिया ने देखा है


छोटे लेकिन बहुत काम के सॉफ्टवेयर

प्रकोप शिव का 

मंदिर व जीवन 

Temples, Durbar square, Kathmandu, Nepal - images by Sunil Deepak, 2006

शिव का तांडव 
बयां करते करते 
एक ही गीत जहन में आ रहा है 
सुनिए ..


बड़ों को प्रणाम 
छोटों को प्यार 
शुभविदा ...
आगे देखिए..."मयंक का कोना"
(1)
कोल्हू का बैल औरत की जात

Rhythm पर Neelima 

(2)
इंटरनेट पर क्‍या सर्च करती है 6 करोड़ महिलाएं, गूगल ने किया खुलासा
मेरा फोटो
हिंदी पीसी दुनिया पर Darshan Jangara

(3)
हे केदार नाथ
हे केदार नाथ , तुम कैसे भगवान ? हम तुमसे मिलने आए थे , तुम्हारा आशीर्वाद लेने | आस्था के सागर मे डूब कर तुम्हारा प्रसाद लेने | पर यह क्या किया तुमने ?...
तीखी कलम से पर Naveen Mani Tripathi
 
(4)
काठ-घर बेतला में

काठ-घर बेतला में ठहरा हूँ संध्या उतर रही है पहाड़ी छोर पर सब ओर हिरण दौड़ रहे हैं नेशनल पार्क के खुले मैदान की ओर जबकि जाना चाहिए था उन्हें घने जंगलों में गाईड ने बताया शिकार के डर से हर शाम वे चले आते हैं यहाँ जहाँ फटक नहीं पाते शिकारी न तान पाते अपनी बंदूकें इन पर...
शब्द सक्रिय हैं पर सुशील कुमार 

(5)
उत्तराखंड की इस त्रासदी से क्या कुछ सीख लेंगे हम ?

मुसाफ़िर हूँ यारों ... पर Manish Kumar

(6)
विरह अगन सी तपन कहाँ है, दुनिया भर की आगों में

विरह अगन सी तपन कहाँ है, दुनिया भर की आगों में, 
पिरो लिए कंचन से मोती, प्यार के पक्के धागों में, 
भीग रही है धरती सारी, छलक रही इन बूँदों से, 
तुम कहते हो आँख के आंसू, सूख गये सब यादों में...
धुंधली यादें पर Nitish Srivastava

(7)
एक टीस (उत्तराखंड त्रासदी की )

वो आयी थी कुछ इस तरह क़यामत बनकर 
एक नहीं सौ बार मरें हम   बयानात सुनकर 
कांप  जाती थी रूह अपनी वो मंजर देखकर
एक तू ही खड़ा रह गया सिर्फ गवाह  बनकर.
..
Mera avyakta पर मेरा अव्यक्त --राम किशोर उपाध्याय 
(8)
इंग्लैण्ड को उसके घर में रौंद कर, 
भारत ने किया चैम्पियन ट्रॉफी पर कब्ज़ा .. बधाई बधाई बधाई

Albelakhatri.com पर Albela Khtari 

(9)
"छोटे पुत्र विनीत का जन्मदिन"

केक सलोना आप काटना,
हमें खिलाना, खुद भी खाना।

खुशियाँ पसरेंगी आँगन में,
जन्मदिवस हर साल मनाना।।

19 comments:

  1. सरिता भाटिया जी!
    आपने आज सोमवार (24-06-2013) को अनसुनी गुज़ारिश और तांडव शिव का : चर्चामंच 1286 में अद्यतन लिंकों के साथ चर्चा की बहुत सुन्दर प्रस्तुति दी है!
    आभार के साथ...सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. रोचक व पठनीय सूत्रों से भरी चर्चा।

    ReplyDelete
  3. पहाड़ों की त्रासदी को केंद्रित कर ढेर सारे सूत्र एक गुजारिश करते से लगते हैं- प्रकृति को मत छेड़ो. बहुत सुंदर संकलन इस नवीन अंक में. बधाई सरिता जी.

    मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिये शुक्रिया.

    ReplyDelete
  4. मार्मिक-
    ईश्वर रक्षा करे-

    ReplyDelete
  5. "छोटे पुत्र विनीत का जन्मदिन"
    शुभकामनायें प्रिय विनीत जी ||

    ReplyDelete
  6. इंटरनेट पर क्‍या सर्च करती है 6 करोड़ महिलाएं, गूगल ने किया खुलासा


    सुशील महिलाएं-
    शुभकामनायें-

    ReplyDelete
  7. प्रिय सरिता जी बहुत बढ़िया सूत्र सजा कर लायीं हैं चर्चा मंच पर बहुत-बहुत बधाई आदरणीय शास्त्री जी के पुत्र विनीत को हार्दिक शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब ..वं सुन्दर लिंक्स

    ReplyDelete
  9. सार्थक चर्चा प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर चर्चा,मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए हार्दिक आभार .

    ReplyDelete
  11. मंडुक मुख मोरिही मैं, टर टर करत सुहाए ।
    बाहन नीच कुचल मरे, गलियन बिच निकसाए ॥

    भावार्थ : -- मेडक का मुँह, नाली में ही टर टराते हुवे अच्छा लगता है ।
    गली में निकल कर बीच रस्ते उछल कूद करने से वाहन के नीचे आकर
    मरने का खतरा रहता है ॥

    ReplyDelete
  12. विनीत जी के जन्म दिन की बहुत बधाई,,,

    बहुत बढ़िया,सुंदर लिंक्स ,,,

    Recent post: एक हमसफर चाहिए.

    ReplyDelete
  13. बढ़िया लिंक्स ,

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर सूत्र सजा है आज...मेरी कवि‍ता शामि‍ल करने के लि‍ए आभार...

    ReplyDelete
  15. इस त्रासदी से जुड़ी भावनाओं को एक मंच पर लाने के लिए धन्यवाद !

    ReplyDelete
  16. मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिये शुक्रिया\बहुत सुन्दर लिंक्स

    ReplyDelete
  17. सुंदर लिंक्स । मेरी रचना सम्मिलित करने के लिये अनेक धन्यवाद ।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin