समर्थक

Sunday, June 30, 2013

"आज बहुत है शोक" : चर्चा मंच 1292

"जय माता दी" रु की ओर से आप सबको सादर प्रणाम. चलते हैं आप सभी के चुने हुए प्यारे लिंक्स पर.


(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
Aparna Bose
Kailash Sharma
रविकर
(आल्हा/वीर छंद पर आधारित )
Rajesh Kumari
सरिता भाटिया
Sushil Bakliwal
निवेदिता श्रीवास्तव
Ranjana Verma
उपासना सियाग
sushma 'आहुति'
Virendra Kumar Sharma
Aziz Jaunpuri
प्रवीण पाण्डेय
इसी के साथ आप सबको शुभविदा मिलते हैं रविवार को. आप सब चर्चामंच पर गुरुजनों एवं मित्रों के साथ बने रहें. आपका दिन मंगलमय हो
जारी है... "मयंक का कोना"
(1)
लाइटहाउस
*बस्ती से दूर* 
*कहीं एकांत में* 
*कोलाहल भरे* 
*वातावरण से दूर* 
*कहीं निर्जन* 
*और शांत में* 
*अंधेरे को चाटता* 
*रात भर* 
*अपनी जीभ* 
*लपलपाता हूँ* 
*मैं ही आपको* 
*आपका गंतव्य* 
*बताता हूँ* 
*मैं लाइटहाउस हूँ*...
अंतर्मन की लहरें  पर Dr. Sarika Mukesh 

(2)
राहुल विन्ची की नौटंकी से हुए २० जवान शहीद

राहुल गांधी के उत्तराखंड दौरे से राहत कार्यो में खलल पड़ने पर उठ रहे सवालों पर आइटीबीपी ने अपनी मुहर लगा दी है. आइटीबीपी के महानिदेशक अजय चढ्डा ने स्वीकार किया कि कांग्रेस उपाध्यक्ष के ठहरने के लिए गोचर स्थित आइटीबीपी कैंप के आफिसर्स मेस में जगह बनाई गई थी...
ZEAL पर ZEAL

(3)
यह भारत है देश मेरा

यह भारत है देश मेरा इस देश के लोग निराले हैं 
कुछ मरने मिटने वाले हैं कुछ करते घोटाले हैं 
कुछ देश के भक्त यहाँ कुछ के ठाठ निराले हैं...
तमाशा-ए-जिंदगी पर तुषार राज रस्तोगी 
(4)
एक महिला के दिमाग से वैज्ञानिकों ने तैयार किया 
दिमाग का थ्रीडी मैप

वैज्ञानिकों ने पहली बार इंसानी दिमाग का एक थ्रीडी खाका तैयार किया है। इससे वैज्ञानिकों को भावनाओं के बनने और बीमारियों के वजहों का अधिक गहराई से अध्ययन करने में मदद मिलेगी...
शब्द-शिखर पर Akanksha Yadav
(5)
"चापलूस बैंगन"


बैंगन का करना नहीं, कोई भी विश्वास।
माल-ताल जिस थाल में, जाते उसके पास।।
 --
कुछ बैंगन होते यहाँ, चतुर और चालाक।

छल से और फरेब से, खूब जमाते धाक...

31 comments:

  1. बहुत सुंदर चर्चा…………बढिया लिंक संयोजन

    ReplyDelete
  2. अरुण जी रविवार के लिए उपयोगी लिंकों के साथ सुन्दर चर्चा करने के लिए आपका आभार।।

    ReplyDelete
  3. बहुत सामयिक लिनक्स …. बधाई

    ReplyDelete
  4. उम्दा लिंकों के साथ सुन्दर चर्चा!आभार.

    ReplyDelete
  5. अरुण बहुत सुंदर और सामयिक प्रस्तुतीकरण मेरी रचना को लेने के लिए धन्यवाद
    गुरु जी को प्रणाम

    ReplyDelete
  6. पाप का बोझा हिमालय क्यों सहे?
    इसलिए घर-द्वार, देवालय बहे,
    ज़लज़ला-तूफान आया, अब पहाड़ी गाँव में।
    हो गये लाचार सारे, अब पहाड़ी गाँव में।।

    बहुत सटीक अर्थ पूर्ण भावपूरित प्रासंगिक रचना .

    "आज बहुत है शोक"
    (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
    उच्चारण

    ReplyDelete
  7. भारत की कहानी बैंगन की जुबानी भैया बैंगन राखिये ,बैंगन बिन सब सून ....

    ReplyDelete

  8. लीपो बेटा भूसे पे जितना लीप सकते हो .बात भी ठीक है अब असली वी आई पी हो आए अब कोई आए कोई जाए .मोदी असली वी आई पी नहीं थे शिंदे की नजर में .

    ReplyDelete
  9. बे -लेंस बनाके चलना पड़ता है चलना चाहिए लेकिन एक झख भी ज़िन्दगी को जीने के लिए ज़रूरी है खपत भी। उनसे ज्यादा इसे कौन जानता है जो अति वादी हैं .टोरियन हैं जैसे "मैं "बोले तो हम में से कई खुद .ॐ शान्ति .बढ़िया मसले उठाती चटपटी पोस्ट थाई भोजन सी ....महीने भर का ऱाशन या महीने भर का लेखन
    प्रवीण पाण्डेय
    न दैन्यं न पलायनम्

    ReplyDelete
  10. शानदार चेचा बे -जोड़ सेतु लेकर आये अनंत अरुण कुमार .बधाई शतश :

    ReplyDelete
  11. बहुत रोचक लिंक्स सजे..... मेरी पोस्ट को चर्चा मंच पर शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद !!

    ReplyDelete
  12. बहुत ही रोचक सूत्र, आभार

    ReplyDelete
  13. प्रिय अरुन बहुत बढ़िया सूत्रों से सजाया चर्चा मंच हार्दिक आभार मेरी रचना को शामिल करने के लिए कल से लाईट नहीं है थोड़ी देर के लिए इनवर्टर काम कर गया सो चर्चा मंच पर हूँ

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर चर्चा…………बहुत रोचक, बढिया लिंक्स संयोजन.... मेरी पोस्ट को चर्चा मंच पर शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद !!

    ReplyDelete
  15. अच्छी और सुन्दर चर्चा !!

    ReplyDelete
  16. बढ़िया चर्चा | मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार और धन्यवाद् | बाकि ब्लॉगर मित्रों के लिनक्स भी अच्छे हैं |

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर चर्चा…………बढिया लिंक संयोजन

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर चर्चा…………बढिया लिंक संयोजन

    ReplyDelete
  19. सुन्दर लिंक संयोजन

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर लिंक्स … मेरी रचना (मौन सिसकियाँ ) को यहाँ शामिल करने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया अरुण जी
    सादर
    अपर्णा

    ReplyDelete
  21. bahut dinon ke baada apni rachna चर्चा manch पर देख कर प्रसन्नता हुई
    आभर
    सुन्दर चर्चा प्रियवर-
    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  22. सुन्दर लिंक्स से सजी रोचक चर्चा...आभार

    ReplyDelete
  23. बहुत ही सुन्दर और सार्थक लिंक्स से सजी रोचक चर्चा , आभार ।

    ReplyDelete
  24. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ..आभार

    ReplyDelete
  25. बहुत ही खुबसूरत लिनक्स दिए है आपने....मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार...

    ReplyDelete
  26. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ..आभार

    ReplyDelete
  27. सुंदर लिंक्स से सजा है चर्चा मंच

    ReplyDelete
  28. इन जानकारीवर्द्धक लिंक्स के साथ मेरे ब्लाग नजरिया की लिंक को भी स्थान देने हेतु आपका आभार । नेट की प्राब्लम के कारण कल में इन्हें देख नहीं पाया था । आभार सहित...

    ReplyDelete
  29. दिवंगत श्रद्धालुओं और स्थानीय हताहत लोगों को विनम्र श्रद्धांजलि! केदारनाथ धाम की यात्रा शीघ्र शुरू हो और उत्तराखंड का विकास हो। -- हर हर महादेव !

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin